नदियों के प्रवाह की अनदेखी पड़ेगी भारी

Submitted by editorial on Sun, 10/07/2018 - 17:59
Printer Friendly, PDF & Email
Source
इण्डिया वाटर पोर्टल (हिन्दी)

कृष्ण गोपाल ‘व्यास’कृष्ण गोपाल ‘व्यास’धरती पर हमारे स्वस्थ बचे रहने के लिये नदियाँ बेहद आवश्यक हैं। यदि हमारी पीढ़ी ने नदियों के घटते प्रवाह की अनदेखी की तो आने वाली पीढ़ियाँ हमें नदियों के विनाश और पर्यावरण को गम्भीर नुकसान पहुँचाने वाले बेहद गैर-जिम्मेदार पूर्वजों के तौर पर याद करेंगी। इसलिये नदियों की बर्बादी को रोका जाना चाहिए। उनके प्रवाह की बहाली के लिये सार्थक प्रयास किया जाना चाहिए।

इस साक्षात्कार में कृष्णगोपाल व्यास नदियों के प्रवाह की बहाली के बारे में बता रहे हैं। वे कहते हैं कि नदियों के प्रवाह की बहाली के लिये सबसे पहले नदियों को समग्रता में समझना आवश्यक है। प्रवाह बहाली के लिये बहुआयामी नवाचारी तौर-तरीके अपनाना आवश्यक है। प्रवाह को टिकाऊ बनाए रखने के लिये समाज की भागीदारी से समाज सम्मत प्रबन्ध आवश्यक है।

कृष्णगोपाल व्यास वरिष्ठ भूजलविद हैं। वे राजीव गाँधी जल प्रबन्ध मिशन मध्य प्रदेश के सलाहकार तथा जल एवं भूमि प्रबन्ध संस्थान, मध्य प्रदेश के निदेशक रह चुके हैं। भूजल, जलग्रहण प्रबन्ध तथा नदी प्रवाह की बहाली उनके पसन्ददीदा विषय हैं। प्रस्तुत है इण्डिया वाटर पोर्टल के रमेश द्वारा नदियों के प्रवाह बहाली पर कृष्णगोपाल व्यास से साक्षात्कार।


नदी क्या है? देश में उनकी क्या हालत है?
प्रकृति द्वारा निर्धारित मार्ग पर कलकल कर बहती पानी की अविरल धारा ही नदी है। वह प्राकृतिक जलचक्र का अभिन्न अंग है। उसके पानी में जीवन पलता है। वह जैविक विविधता से परिपूर्ण होती है। यात्रा के दौरान वह अनेक सहायक नदियों से मिलती है। सहायक नदियों से मिला पानी उसके प्रवाह को बढ़ाता है और उसे जीवित रखता है।

मोटे तौर पर भारतीय नदियों की सेहत ठीक नहीं है। उनका बरसात के बाद का प्रवाह अप्रत्याशित तरीके से कम हो रहा है। उनके पानी में गन्दगी की मात्रा बढ़ रही है। उनके पानी का सुरक्षा कवच अर्थात रेत पर अवैज्ञानिक खनन का खतरा लगातर बढ़ रहा है।

भारतीय नदियों में प्रवाहित पानी का स्रोत क्या है?
भारतीय नदियों में पानी का प्रमुख स्रोत वर्षाजल है। उसके सहयोग के बिना नदी का अस्तित्व सम्भव नहीं।

क्या उत्तर भारत और दक्षिण भारत की नदियों में बुनियादी अन्तर है?
हाँ। उत्तर भारत और दक्षिण भारत की नदियों में बुनियादी अन्तर है। उत्तर भारत की नदियों (यथा गंगा, यमुना, सिन्धु, ब्रह्मपुत्र इत्यादि) को वर्षा और बर्फ के पिघलने से पानी मिलता है। वे मुख्यतः अविरल तथा बारहमासी हैं। दक्षिण भारत की नदियाँ (यथा कावेरी, कृष्णा, गोदावरी, नर्मदा इत्यादि) वर्षा आश्रित नदियाँ हैं। प्रमुख नदियों को छोड़कर दक्षिण भारत की अधिकांश नदियाँ मौसमी होती जा रही हैं।

नदियाँ क्यों बहती है?
बरसात की ऋतु में कछार पर बरसा पानी, छोटी-छोटी नदियों की मार्फत बड़ी नदी को मिलता है। उस पानी को समेटकर नदी बहती है। बरसात के मौसम में नदी तंत्र में पर्याप्त पानी बहता है।

वर्षा ऋतु बीतने के बाद नदियों में अपवाद छोड़कर, उथली परतों से मुक्त हुआ भूजल प्रवाहित होता है। उसकी निरन्तरता ही प्रवाह को जिन्दा रखती है। उसके खत्म होते ही नदी सूख जाती है। प्रवाह की बहाली दो स्थितियों में सम्भव होती है। पहली स्थिति के अनुसार यदि सूखती नदी को कृत्रिम तरीके से पानी मिल जाये तो नदी जिन्दा हो सकती है अथवा बरसात का सीजन आ जाये। इन दोनों ही परिस्थितियों में प्रवाह की बहाली सम्भव है।

पिछले कुछ सालों से नदी अस्मिता शब्द सुनने को मिल रहा है। यह नदी अस्मिता क्या है?
नदी अस्मिता शब्द मुख्यतः नदी की सेहत से सम्बद्ध शब्द है। मोटे तौर पर उसका अर्थ है - नदी अविरल है। वह प्रदूषण मुक्त है। उसकी जैवविविधता अक्षत है। उसके पानी में स्वतः ही शुद्ध होने का कुदरती गुण मौजूद है। वह अपनी कुदरती जिम्मेदारियों को बिना व्यवधान के पूरा कर रही है। वही नदी की अस्मिता है।

क्या आज की परिस्थितियों में नदी अस्मिता बहाल करना सम्भव है?
आज की परिस्थितियों में नदी अस्मिता को पूरी तरह बहाल करना सम्भव नहीं है पर उसकी बहाली के लिये प्रयास किया जाना सम्भव है।

स्वस्थ नदी की क्या पहचान है?
स्वस्थ नदी के कुछ संकेतक होते हैं। उन संकेतकों की मदद से स्वस्थ नदी को पहचाना जा सकता है। ये संकेतक हैं- अक्षत कैचमेंट, पर्याप्त अविरल प्रवाह, शुद्ध पानी, समृद्ध बायोडायवर्सिटी और कुदरती जिम्मेदारियों का अच्छी तरह निर्वाह। आज की परिस्थितियों में उन सभी पर संकट है।

इस साल केरल में औसत से अधिक पानी बरसा। इसके बावजूद बरसात बीतने के मात्र तीन सप्ताह के अन्दर नदियों का प्रवाह गम्भीर रूप से कम हो गया। कुएँ और तालाबों में पानी का स्तर आश्चर्यजनक तरीके से कम हो गया। आपके अनुसार ऐसा क्यों हो रहा है?
इस साल केरल में औसत से 36 प्रतिशत से भी अधिक पानी बरसा लेकिन उसकी गति तथा अवधि भूजल रीचार्ज के लिये उपयुक्त नहीं थी। इस कारण क्षेत्रीय भूजल स्तर में अपेक्षित इजाफा नहीं हुआ। उसके असर से नदियों का प्रवाह कम हुआ और कुओं का जलस्तर घटा।

केरल सरकार ने इस घटना के अध्ययन का आदेश दिया है। उम्मीद है, अवलोकन कुओं के भूजल स्तर की मदद से वास्तविकता सामने आएगी। मुझे लगता है कि प्रवाह का कम होना मानवीय हस्तक्षेप के कारण नहीं है। वह कुदरती पुनःभरण की कमी के कारण है।

क्या प्रवाह बहाली सम्भव है? क्या हमारे पास पर्याप्त पानी है?
हाँ। यह नदी कछार में उपलब्ध पानी की मात्रा पर निर्भर होता है। भारत में राजस्थान के रेगिस्तानी इलाके, खड़े तथा तीखे ढाल वाले भूभागों को छोड़कर बाकी जगह यह सम्भव है। प्रवाह बहाली सम्भव है क्योंकि भारत में पर्याप्त पानी बरसाता है। इसके लिये पूरे देश के सभी नदी तंत्रों में काम करना होगा। हमें केवल नदी मैनुअल की आवश्यकता होगी।

क्या सीवर ट्रीटमेंट प्लांट या नदी जोड़ योजना द्वारा नदियों के प्रवाह में हो रही अनापेक्षित कमी को कम किया जा सकता है?
नहीं। सीवर ट्रीटमेंट प्लांट का उद्देश्य पानी की गन्दगी को साफ करना है। नदी जोड़ योजना का उद्देश्य बरसाती पानी को जलाशयों में जमा करना है। इनमें से किसी भी योजना का उद्देश्य प्रवाह बहाली नहीं है।

यदि सीवर ट्रीटमेंट प्लांट के समूचे उपचारित पानी को नदी में डाल भी दिया जाये तो भी नदी अस्मिता बहाल नहीं होगी।

नदियों के प्रवाह की बहाली के लिये क्या किया जाना चाहिए?
नदियों के प्रवाह की बहाली के लिये सबसे पहले हमें नदियों को अच्छी तरह समझना होगा। इसके साथ-साथ प्रवाह और कछार के भूजल के स्तर के सम्बन्ध को समझना होगा। इसे समझने के बाद प्रवाह बहाली के लिये पानी की आवश्यकता का आकलन करना होगा। उपयुक्त क्षेत्र का चयन करना होगा। उस क्षेत्र के जल संचय तथा रीचार्ज सम्बन्धी कुदरती घटकों को ज्ञात करना होगा। यह एक्सरसाइज थोड़ी जटिल है। इसके लिये उपयुक्त टीम तथा नदी मैनुअल की आवश्यकता होगी।

इस मामले में आप पोर्टल को क्या सहायता दे सकते हैं?
मैं इस विषय पर पिछले 10 सालों से काम कर रहा हूँ। मैंने नदी मैनुअल विकसित किया है। मैं इण्डिया वाटर पोर्टल (हिन्दी) को नदी मैनुअल उपलब्ध करा सकता हूँ। यथासम्भव मदद कर सकता हूँ। पाठकों से आप मेरा ई-मेल साझा कर सकते हैं।

कृष्ण गोपाल व्यास

E-mail: kgvyas_jbp@rediffmail.com

 

 

 

TAGS

natural flow of rivers, ecology of rivers, dying rivers huge loss for environment, methods to maintain flow, source of freshwater, difference in rivers of south and north india, tributaries of rivers, mining in riverbed, biodiversity of river, groundwater recharge, catchment area of river, river manual, water conservation, international rivers environmental impacts of dams, damming a river, dams destroying ecosystems, building of dam impact on locals, dams and water quality, problems with dams, why hydroelectric dams are bad, what impacts do dams have on the biosphere, What are the four types of rivers?, What does a healthy river depend on?, Which direction do rivers flow?, What is natural flow?, What are the 4 types of transportation?, What are the 4 types of erosion?, What lives in a river?, How do rivers and streams change the surface of the earth?, Are rivers and streams freshwater or saltwater?, What rivers flow backwards?, Do rivers flow into lakes?, Do all rivers flow into the ocean?, What is forced flow?, Is flow caused by winds forced or natural flow?, what is a river, types of rivers, river examples, natural flow regime definition, parts of a river, four types of rivers, part of a river, changing the flow of water, Where can you find rivers and streams?, Can a river be a habitat?, What organisms live in rivers?, What kind of plants live in the river?, Which river carries the most water?, Is a stream a river?, What is the deadliest fish in the Amazon River?, Why are rivers important to habitats?, Is a river an ecosystem?, What fish are found in rivers?, Do Crocodiles live in rivers?, What are biotic factors in a river?, What plants live in the river?, What animals live in the Amazon River?, What plants grow next to rivers?, river ecosystem pdf, types of river ecosystem, river ecosystem project, importance of river ecosystem, river ecosystem ppt, river ecosystem biotic factors, river ecosystem project pdf, river ecosystem diagram, dying rivers of india, problems faced by rivers in india, article on dying rivers, essay on rivers of india are dying, effects of water pollution in india, name two dying rivers in india, water pollution in india facts, names of dying rivers in india, Methods of mountain flow, What are the main sources of fresh water?, What are the five sources of water?, What are the 3 main sources of water?, Where does freshwater come from?, What are the source of freshwater?, What are the main sources of water?, What are the 4 main sources of drinking water?, What is the main natural source of water?, What are man made sources of water?, What is the purest form of water?, What is the main source of water on Earth?, What are the main sources of freshwater?, Where is most freshwater found?, Can you drink fresh water?, Which country has the most fresh water in the world?, 6 sources of freshwater, sources of water, what is freshwater, percentage of freshwater on earth, freshwater resources, percentage of freshwater on earth surface, sources of water pdf, surface water, How is South India different from North India?, What is the biggest and most sacred river?, What are rainfed rivers?, Which river flows from south to north in India?, Is South India safe?, Is north or south India vegetarian?, What is the most holy river in India?, What is the old name of Ganga river?, What are the 7 holy rivers in Hinduism?, What is the difference between a tributary and a distributary?, Who is the largest river in India?, How many rivers flow north in the world?, Which state in India has the highest number of rivers?, north indian rivers map, southern rivers of india, information about north indian rivers, rivers of north india wikipedia, jhelum river north indian rivers, list of north flowing rivers in india, how are rivers of the southern plateau different from the northern plains, northern rivers of india map, Why is sand mining banned?, How does sand mining affect the environment?, What is illegal sand mining?, How does sand mining affect sand dunes?, Where does white silica sand come from?, How is sand formed?, What is sand used for?, What is sand frac mining?, Where silica sand is found?, What is silica sand used for?, Why can t plants grow in sand?, How can human activities destroy sand dunes?, How do sand dunes change over time?, environmental effects of river sand mining, heavy sand mining in riverbeds, advantages and disadvantages of sand mining, sand mining and salinity, sand mining methods, benefits of sand mining, impact of sand mining on environment, sand mining and river salinity, catchment area of rivers in india, What is the catchment area of a river?, What is catchment area in irrigation?, What is a catchment area in geography?, How many rivers in India and their names?, What is the difference between catchment and watershed?, Which river has the largest catchment area?, How is water catchment area calculated?, How is water stored?, Which is the largest river basin in the world?, What is a catchment area in hydrology?, What is difference between drainage basin and catchment area?, What is school catchment area?, Which is the oldest river in India?, Which state in India has the highest number of rivers?, Who is the biggest river in India?, india's largest river basin, second largest river basin in india, smallest river basin in india, largest river basin in peninsular india, river basin in india map, rivers of india, second largest river basin in peninsular india, which river has the largest catchment area.

 

 

 

Add new comment

This question is for testing whether or not you are a human visitor and to prevent automated spam submissions.

4 + 6 =
Solve this simple math problem and enter the result. E.g. for 1+3, enter 4.

More From Author

Related Articles (Topic wise)

Related Articles (District wise)

About the author

Latest