कैंसर, कैंसर के लक्षण और उपचार (Cancer, Cancer Symptoms and Treatment)

Submitted by Hindi on Fri, 08/18/2017 - 11:14
Source
विकासपीडिया, मेयो क्लीनिक

लगभग लाइलाज और दर्दनाक, बेहद ख़र्चीली बीमारी है कैंसर। नाम सुनते ही रोंगटे खड़े हो जाते हैं। अभी तक कोई मुकम्मल उपचार नहीं मिल पाया है। कैंसर किन कारणों से होता है, इस संदर्भ में ज़रूर कुछ-कुछ समझदारी विकसित हुई है। फिर भी ठीक-ठीक बता पाना अभी संभव नहीं है। गुटखा, पान-मसाला, अल्युमिनियम के बर्तन में खाना बनाना, प्लास्टिक के बर्तन में गर्म खाना परोसना, जल प्रदूषण, वायु प्रदूषण, जीवनशैली में बदलाव आदि हजारों कारण कोई भी कैंसर के लिये जिम्मेदार हो सकता है।

कैंसर क्या है?


कैंसर एक किस्म की बीमारी नहीं होती, बल्कि यह कई रूप में होता है। कैंसर के 100 से अधिक प्रकार होते हैं। अधिकतर कैंसरों के नाम उस अंग या कोशिकाओं के नाम पर रखे जाते हैं जिनमें वे शुरू होते हैं- उदाहरण के लिये, बृहदान्त्र में शुरू होने वाला कैंसर पेट का कैंसर कहा जाता है, कैंसर जो कि त्वचा की बेसल कोशिकाओं में शुरू होता है बेसल सेल कार्सिनोमा कहा जाता है।

कैंसर शब्द ऐसे रोगों के लिये प्रयुक्त किया जाता है जिसमें असामान्य कोशिकाएं बिना किसी नियंत्रण के विभाजित होती हैं और वे अन्य ऊतकों पर आक्रमण करने में सक्षम होती हैं। कैंसर की कोशिकाओं रक्त और लसीका प्रणाली के माध्यम से शरीर के अन्य भागों में फैल सकती हैं।

कैंसर के मुख्य श्रेणियां


कार्सिनोमा : ऐसा कैंसर जो कि त्वचा में या उन ऊतकों में उत्पन्न होता है, जो आंतरिक अंगों के स्तर या आवरण बनाते हैं।

सारकोमा : ऐसा कैंसर जो कि हड्डी, उपास्थि, वसा, मांसपेशियों, रक्त वाहिकाओं या अन्य संयोजी ऊतक या सहायक में शुरू होता है।

ल्युकेमिया : कैंसर जो कि रक्त बनाने वाले अस्थि मज्जा जैसे ऊतकों में शुरू होता है और असामान्य रक्त कोशिकाओं की भारी मात्रा में उत्पादन और रक्त में प्रवेश का कारण बनता है।

लिंफोमा और माएलोमा : ऐसा कैंसर जो कि प्रतिरक्षा प्रणाली की कोशिकाओं में शुरू होता है।
केन्द्रीय तंत्रिका तंत्र के कैंसर : कैंसर जो कि मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी के ऊतकों में शुरू होता हैं।

कैंसर की उत्पत्ति


सभी प्रकार के कैंसर कोशिकाओं में शुरू होते है, जो शरीर में जीवन की बुनियादी इकाई होती हैं। कैंसर को समझने के लिये, यह पता लगाना उपयोगी है कि सामान्य कोशिकाओं के कैंसर कोशिकाओं में परिणत होने पर क्या होता है।

शरीर कई प्रकार की कोशिकाओं से बना होता है। शरीर को स्वस्थ रखने के लिये ये कोशिकाओं वृद्धि करती हैं और नियंत्रित रूप से विभाजित होती हैं। कोशिकाएं जब पुरानी या क्षतिग्रस्त हो जाती हैं, तो वे मर जाती हैं और उनके स्थान पर नई कोशिकाएं आ जाती हैं।

हालांकि कभी कभी यह व्यवस्थित प्रक्रिया गलत हो जाती है। जब किसी सेल की आनुवंशिक सामग्री (डीएनए) क्षतिग्रस्त हो जाती है या वे बदल जाती हैं, तो उससे उत्परिवर्तन (म्युटेशन) पैदा होता है, जो कि सामान्य कोशिकाओं के विकास और विभाजन को प्रभावित करता है। जब ऐसा होता है, तब कोशिकाएं मरती नहीं, और उसकी बजाए नई कोशिकाएं पैदा होती हैं, जिसकी शरीर को जरूरत नहीं होती। ये अतिरिक्त कोशिकाएं बड़े पैमाने पर ऊतक रूप ग्रहण कर सकती हैं, जो ट्यूमर कहलाता है। हालांकि सभी ट्यूमर कैंसर नहीं होते, ट्यूमर सौम्य या घातक हो सकता हैं।

सौम्य ट्यूमर : ये कैंसर वाले ट्यूमर नहीं होते। अक्सर शरीर से हटाये जा सकते है और ज्यादातर मामलों में, वे फिर वापस नहीं आते। सौम्य ट्यूमर में कोशिकाएं शरीर के अन्य भागों में नहीं फैलते।

घातक ट्यूमर : ये कैंसर वाले ट्यूमर होते हैं, और इन ट्यूमर की कोशिकाएं आसपास के ऊतकों पर आक्रमण कर सकती हैं तथा शरीर के अन्य भागों में फैल सकती हैं। कैंसर के शरीर के एक भाग से दूसरे फेलने के प्रसार को मेटास्टेसिस कहा जाता है।

ल्युकेमिया : यह अस्थिमज्जा और रक्त का कैंसर है इसमें ट्यूमर नहीं।

कैंसर के कुछ लक्षण


- स्तन या शरीर के किसी अन्य भाग में कड़ापन या गांठ।
- एक नया तिल या मौजूदा तिल में परिवर्तन।
- कोई ख़राश जो ठीक नहीं हो पाती।
- स्वर बैठना या खाँसी ना हटना।
- आंत्र या मूत्राशय की आदतों में परिवर्तन।
- खाने के बाद असुविधा महसूस करना।
- निगलने के समय कठिनाई होना।
- वजन में बिना किसी कारण के वृद्धि या कमी।
- असामान्य रक्तस्राव या डिस्चार्ज।
- कमजोर लगना या बहुत थकावट महसूस करना।

आमतौर पर, यह लक्षण कैंसर के कारण उत्पन्न नहीं होते। ये सौम्य ट्यूमर या अन्य समस्याओं के कारण पैदा हो सकते हैं। केवल डॉक्टर ही इनके बारे में ठीक-ठीक बता सकते हैं। जिसे भी ये लक्षण या स्वास्थ्य के अन्य परिवर्तन आते हैं, इसका तुरंत पता लगाने के लिये डॉक्टर से दिखाना चाहिए। आमतौर पर शुरुआती कैंसर दर्द नहीं करता यदि आपको कैंसर के लक्षण हैं, तो डॉक्टर को दिखाने के लिये दर्द होने का इंतजार न करें।

कैंसर की रोकथाम?


कैंसर होने के खतरे को कम करने के कुछ तरीके इस प्रकार हैं:

- तंबाकू उत्पादों का प्रयोग न करें।
- कम वसा वाला भोजन करें तथा सब्जी, फलों और समूचे अनाजों का उपयोग अधिक करें।
- नियमित व्यायाम करें।

जांच


प्रयोगशाला परीक्षण

रक्त, मूत्र, या अन्य तरल पदार्थों की मदद से डॉक्टर इसकी जांच कर सकता है। इन परीक्षणों से अंग कितनी अच्छी तरह से कामकाज कर रहे हैं, इसका पता लगाया जा सकता है। इसके अलावा, कुछ पदार्थों की भारी मात्रा से भी कैंसर का संकेत मिलता है। इन पदार्थों को अक्सर ट्यूमर मार्कर कहा जाता है। हालांकि, प्रयोगशाला के असामान्य परिणाम कैंसर के निश्चित संकेत नहीं होते। कैंसर की जांच करने के लिये केवल प्रयोगशाला परीक्षणों पर भरोसा नहीं करना चाहिए ।

इमेजिंग प्रक्रिया


यह शरीर के अंदर क्षेत्रों की तस्वीरें बनाती है, या डॉक्टर को यह जानने में मदद करती है कि क्या शरीर में कोई ट्यूमर मौजूद है। ये इमेजिंग कई तरीके से लिये जा सकते हैं:

एक्स - रे : एक्स-रे शरीर के अंदर के अंगों और हड्डियों को देखने का सबसे आम तरीका हैं।

सीटी स्कैन : इस विधि में एक एक्स-रे मशीन एक कंप्यूटर से जुड़ी होती है, जो किसी कंट्रास्ट सामग्री के साथ अंगों (जैसे कि डाई के रूप में) के विस्तृत चित्रों की एक श्रृंखला बनाता है। इन चित्रों को पढ़ना आसान होता है।

रेडियोन्युक्लाइड स्कैन : इसमें रेडियोधर्मी सामग्री की एक छोटी मात्रा के इंजेक्शन के द्वारा इमेजिंग की जाती है। यह रक्त से होकर बहती है और कुछ हड्डियों या अंगों में जमा हो जाती है। एक मशीन जिसे स्कैनर कहते है, रेडियोधर्मिता को मापती और उसका पता लगाती है। स्कैनर कंप्यूटर स्क्रीन पर या फिल्म पर हड्डियों या अंगों के चित्र बनाता है। शरीर से जल्द ही रेडियोधर्मी पदार्थ बाहर निकल जाता है।

अल्ट्रासाउंड : इसमें कोई अल्ट्रासाउंड उपकरण ध्वनि तरंगें प्रेषित करता है जिन्हें लोग नहीं सुन सकते हैं। तरंगें शरीर के अंदर के ऊतकों पर प्रतिध्वनियों की तरह टकराकर वापस लौटती है। कंप्यूटर इन प्रतिध्वनियों का उपयोग चित्र बनाने के लिये करता है जिसे सोनोग्राम कहते हैं।

एमआरआई : एक मजबूत चुंबक से जुड़े कंप्यूटर से शरीर के हिस्सों के विस्तृत चित्र बनाने के लिये इसका प्रयोग किया जाता है। डॉक्टर एक मॉनिटर पर इन चित्रों को देख सकते हैं और उन्हें फिल्म पर मुद्रित कर सकते हैं।

पीईटी स्कैन : रेडियोधर्मी सामग्री की एक छोटी राशि इंजेक्शन लगाने के बाद, एक विशेष मशीन शरीर में रासायनिक गतिविधियों को दिखाने के लिये चित्र बनाती है। कैंसर की कोशिकाएं कभी-कभी उच्च गतिविधियों के क्षेत्रों के रूप में दिखती हैं।

ज्यादातर मामलों में, डॉक्टरों के लिये कैंसर कि जांच करने के लिये बायोप्सी करने कि जरूरत होती है। बायोप्सी के लिये, पहचान वाले ट्यूमर से ऊतक का एक नमूना लिया जाता है और उसे प्रयोगशाला में जांच के लिये भेजा जाता है। पैथॉलॉजिस्ट सूक्ष्मदर्शी की सहायता से उन ऊतकों को देखता है।

कैंसर के उपचार की प्रक्रिया?


कैंसर की चिकित्सा में शल्य चिकित्सा, रेडिएशन थेरेपी, किमोथेरेपी, जीवाणु थेरेपी तथा जैविक थेरेपी शामिल हैं। कैंसर की स्थिति के प्रकार के आधार पर डॉक्टर एक या संयुक्त प्रक्रिया अपना सकता है। बीमारी कितनी फैल चुकी है, रोगी की आयु तथा सामान्य स्वास्थ्य एवं अन्य तत्वों को भी ध्यान में रखना होता है।

बायोप्सी


नमूना कई विधियों से लिये जा सकते हैं :

सुई के जरिए : ऊतक या तरल पदार्थ निकालने के लिये डॉक्टर एक सुई का उपयोग करता है।
एंडोस्कोप के जरिए : शरीर के अंदर के क्षेत्रों को देखने के लिये डॉक्टर एक पतली, रोशन ट्यूब (एंडोस्कोप) का उपयोग करता है। डॉक्टर ट्यूब के माध्यम से ऊतक या कोशिकाओं को प्राप्त कर सकते हैं।
सर्जरी के जरिए : सर्जरी में काटना या चीरा लगाया जा सकता है।

1. काटे जाने वाली बायोप्सी में, सर्जन पूरा ट्यूमर को हटा है। अक्सर ट्यूमर के आसपास के सामान्य ऊतकों में से कुछ को हटा दिया जाता है।

2. चीरे वाली बायोप्सी में, सर्जन ट्यूमर का सिर्फ एक हिस्सा हटाता है। यदि लक्षण या जांच परिणाम से कैंसर का संकेत मिलता है, तो डॉक्टर यह पता लगाता है कि यह कैंसर की वजह से अथवा किसी और वजह से है।

18F सोडियम फ्लोराइड बोन स्कैन


18F सोडियम फ्लोराइड बोन स्कैन आधुनिक कंकाल साइंटिग्रफ़ी है, जो पीईटी - सीटी स्कैनर पर किया जाता है। परमाणु MDP बोन स्कैन की तुलना में यह एक बेहद संवेदनशील और बेहतर परीक्षण है, और इसका प्रयोग निम्नांकिंत बीमारियों की स्थिति में किया जा सकता है:

1. कैंसर की पहचान वाले रोगियों में कंकाल मेटास्टेसिस (हड्डी में कैंसर फेलना)।
2. हड्डी टूटने की जांच करना, जो नियमित रूप से एक्स - रे पर नहीं देखा जाता है।
3. हड्डी के संक्रमण की जांच, जो नियमित एक्स - रे पर स्पष्ट नहीं होते हैं।

कई अन्य आर्थोपेडिक अनुप्रयोगों जैसे खेल के दौरान चोट लगने, मेटाबोलिक हड्डी रोग, पेगेट रोग आदि।

यह कैसे पारंपरिक बोन स्कैन से अलग है?


यह दिखाने के लिये सबूत पर्याप्त लेखन सामग्री है कि 18 एफ सोडियम फ्लोराइड बोन स्कैन कंकाल के घावों का जल्दी पता लगाने में पारंपरिक MDP हड्डी स्कैन करने से बेहतर है।

18F बोन स्कैन के साथ उपलब्ध अतिरिक्त सीटी स्कैन डेटा संरचनात्मक जानकारी प्रदान करता है और एक सटीक जांच में मदद करता है, जो सही उपचार योजना में डॉक्टरों की सहायता करता है।

यह कैसे किया जाता है?


यह एक सरल जांच है जो एक छोटे, बहुत ही सुरक्षित 18F सोडियम फ्लोराइड के IV इंजेक्शन साथ किया जाता है और स्कैन इंजेक्शन के आधे घंटे के भीतर किया जाता है।

परीक्षण के लिये तैयारी ?


- बोन स्कैन के लिये कोई पूर्व तैयारी की आवश्यकता नही होती। स्कैन से पहले, और उसके बाद आप सामान्य रूप से खाना-पीना जारी रख सकते हैं। यदि आप कोई दवा लेते हैं, तो आप उन्हें लेना जारी रख सकते हैं।
- हालांकि मिलने से पहले समय तय करना अनिवार्य है।

चेतावनी


गर्भवती महिलाओं में यह स्कैन नहीं किया जा सकता जब तक इलाज सलाहकार यह संकेत न दे। परीक्षण से गुजरने से पहले आप सभी संबंधित कर्मियों को सूचित करें।

इंजेक्शन के बाद स्तनपान कराने वाली मां के लिये पूरे दिन बच्चे को दूध छुड़ाने की सलाह दी जाती है।

प्रक्रिया क्या है?


मरीज के हालत का संक्षिप्त इतिहास ले लिया जाता है और प्रासंगिक पिछली रिपोर्टों को एकत्र किया जाता है ।

- इस प्रक्रिया के लिये रोगी को एक आरामदायक पोशाक प्रदान की जाती है।
- IV केनोला लिया जाता है और आइसोटोप इंजेक्ट किया जाता है।
- फिर उन्हें 30 से 60 मिनट के लिये एक कमरे में इंतजार करने के लिये कहा जाता है।
- मूत्राशय खाली होने के बाद, रोगी को स्कैन के लिये लिया जाता है जो 20-25 मिनट लेता है।
- स्कैन के बाद IV केनोला हटा दिया जाता है, रोगी को कपड़े बदलने के लिये कहा जाता है और कुछ हल्का नाश्ता दिया जाता है।

पुरानी और नई रिपोर्ट नियत समय पर एकत्र की जा सकती है।

68 गैलियम


पीईटी / सीटी स्कैन

68 गैलियम DOTA पेप्टाइड पीईटी / सीटी स्कैन - न्यूरो Endocrine ट्यूमर (नेट) कि जांच और प्रबंधन में सबसे कारगर होता है।

न्यूरो एंडोक्राइन ट्यूमर क्या हैं?


वे ट्यूमर जो मुख्य रूप से GIT, अग्न्याशय, फेफड़ों जैसे अंगों को प्रभावित करते हैं। GIT और फेफड़ों के कारसीनॉयड ट्यूमर, अग्न्याशय के एनसुलीमनोमस, गेसट्रीनोमस कुछ ऐसे ही नाम हैं। इनमें से कुछ रोगियों में प्रचंड दस्त, फ़्लश आदि के लक्षण मौजूद होते हैं और चिकित्सा विज्ञान में इन्हें कार्सिनॉयड सिण्ड्रोम के रूप जाना जाता है।

68 गेलियम DOTA पेप्टाइड पीईटी स्कैन क्या है?


68 गेलियम DOTA पेप्टाइड एक अल्पकालिक (1 घंटा की अर्धायु) स्थिति है, जिसमें उत्सर्जित रेडियोनियुक्लाइड पेप्टाइड्स से टैग होते हैं, जो ट्यूमर के कुछ निश्चित समूह में मौजूद इन रिसेप्टर्स वाली कोशिकाओं बंध जाते हैं, जिन्हें न्यूरो एंडोक्राइन ट्यूमर कहा जाता है। इनका इस्तेमाल इन ट्यूमरों का पता लगाने में, उपचार के विकल्प तय करने से पहले इनकी अवस्था ज्ञात करने तथा उपचार का प्रभाव या पुनरावृत्ति के मूल्यांकन के लिये किया जाता है।

68 गेलियम DOTA पेप्टाइड के इंजेक्शन के बाद किया गया पीईटी / सीटी स्कैन 68Ga DOTA पेप्टाइल PET /CT स्कैन कहलाता है।

यह कैसे के साथ तुलनीय या सीटी स्कैन और एमआरआई से अलग है?


यह एक कार्यात्मक / चयापचय स्कैन है जो सीटी और एमआरआई जैसे नियमित रूप वाली पारंपरिक इमेजिंग से अधिक बहुत अधिक संवेदनशीलता और NET में विशिष्टता प्रदर्शित करता है। यह रोगियों में उपचार के विकल्प के बारे में निर्णय लेने में मदद करता है और उपचार की प्रतिक्रिया की जानकारी पाने में सहायता प्रदान करता है।

पूर्व परीक्षण सावधानियां क्या हैं?


अगर मरीज की पहले से नैदानिक सीटी हुई है, तो कोई तैयारी आवश्यक नही है। लेकिन अगर रोगी को 68 गेलियम पीईटी के साथ CECT की आवश्यकता है, तो 2घंटे का उपवास अनिवार्य है।

इसके दुष्प्रभाव क्या हैं?


68 गेलियम DOTA पेप्टाइड बिल्कुल सुरक्षित है। उसके कोई दुष्प्रभाव नही होते।

पीईटी - सीटी उपयोग के दिशा-निर्देश


पीईटी - सीटी उपयोग के दिशा-निर्देश

न्युट्रोपेनिया और संक्रमण के जोखिम


न्युट्रोपेनिया क्या है?

न्युट्रोपेनिया, नु-ट्रोह-पी-नी-उह (noo-troh-PEE-nee-uh), सफेद रक्त कोशिकाओं की संख्या की कमी है। ये कोशिकाएं शरीर को संक्रमण के बचाती हैं। कीमोथेरेपी प्राप्त करने के बाद न्युट्रोपेनिया आम है जो इससे संक्रमण की संभावना बढ़ती है।

कीमोथेरपी से न्युट्रोपेनिया हेने के क्या कारण है?


ये कैंसर से लड़ने वाली दवाएं शरीर में तेजी से बढ़ने वाली अच्छी और बुरी दोनों कोशिकाओं को मारती है। यह कैंसर कोशिकाओं के साथ ही साथ स्वस्थ सफेद रक्त कोशिकाओं को भी मारतीं है।

मुझे न्यूट्रोपीनिया है इसका मुझे कैसे पता चलेगा?


अपके चिकित्सक या नर्स आपको बता देंगे। क्योंकि कीमोथेरापी प्राप्त करने के बाद न्यूट्रोपीनिया होना आम है, आपके चिकित्सक आपके शरीर से कुछ रक्त खींचकर न्यूट्रोपीनिया का पता लगा सकते है।

मुझे न्यूट्रोपीनिया होने की सबसे अधिक संभावना कब है?


न्यूट्रोपीनिया अक्सर आपको कीमोथेरैपी प्राप्त करने के 7 और 12 दिनों के बीच होता है। यह अवधि अलग हो सकती है, जो आपकी कीमोथेरपी पर निर्भर करता हैं। आपके चिकित्सक या नर्स आपको बताएंगे है कि कब आपकी सफेद रक्त कोशिका की मात्रा के काफी कम होने की संभावना है। आपको उस समय के दौरान संक्रमण के लक्षण को ध्यान से देखना चाहिए।

मैं न्यूट्रोपीनिया कैसे रोक सकता हूं?


न्यूट्रोपीनिया को रोकने के लिये आप बहुत कुछ नहीं कर सकते हैं, लेकिन जब रक्त कोशिका कि गिनती कम हो, उस स्थिति में आप संक्रमण होने के जोखिम को कम कर सकते हैं।

मैं संक्रमण को कैसे रोक सकता हूं?


अपने चिकित्सक से उपचार प्राप्त करने के अलावा , निम्नलिखित सुझावों से संक्रमण को रोकने में मदद मिल सकती है:

- अपने हाथों को बार - बार साफ करें।
- भीड़ भरे स्थानों से बचें और जो लोग बीमार हैं उनके साथ संपर्क से बचने की कोशिश करें।
- भोजन, पीने के कप, बर्तन या अन्य व्यक्तिगत आइटम, टूथब्रश इत्यादि को साझा न करें।
- शॉवर या स्नान प्रतिदिन करें, तथा अपनी त्वचा को शुष्क और टूटने से बचाने के लिये एक बिना खुश्बू वाले लोशन का प्रयोग करें।
- मांस और अंडे को अचछी तरह से पकएं ताकि सभी कीटाणु मर जाएं।
- कच्चे फलों और सब्जियों को ध्यान से धोएं।
- अपनी त्वचा को पालतू जानवरों के अपशिष्ट (मूत्र या मल) के साथ सीधे संपर्क से आने से रोकें, इसके लिये आप जब भी पालतू जानवर की सफाई करें, विनाइल या घर सफाई के दस्ताने पहनें। फिर अपने हाथ तुरंत बाद धो लें।
- बागवानी के लिये दस्ताने का उपयोग करें।
- एक नरम टूथब्रश से अपने दाँतों और मसूड़ों को साफ करें, और यदि आपके डॉक्टर या नर्स सुझाव दें तो, मुँह के घावों को रोकने के लिये माउथवाश का उपयोग करें।
- अपने सभी घरेलू सतहों को साफ रखने की कोशिश करें।
- जितनी जल्दी हो सके उपलब्ध होते ही मौसमी फ्लू के डोज़ ले लें।

क्या होगा यदि मुझे आपातकालीन कक्ष में जाना पडा?


कैंसर रोगी जो कीमोथेरैपी ले रहे हैं, लंबे समय के लिये कमरे में बैठकर इंतजार नहीं करना चाहिए। जिस समय आप कीमोथेरैपी प्राप्त कर रहे हों, बुखार होना संक्रमण का संकेत हो सकता है। संक्रमण बहुत जल्द ही गंभीर बन सकता है। जब आप भीतर आते है तो आप चिकित्सक को उसी समय बताएं कि आप कीमोथेरैपी के लिये आए हैं और आपको बुखार है। यह संक्रमण का एक संकेत हो सकता है।

रक्त कैंसर


अधिस्वेद रक्तता (ल्यूकेमिया) रक्त या अस्थि मज्जा (बोन मैरो) का कैंसर है। इसमें रक्त कोशिकाएं असामान्य रूप से बढ़ने लगती है विशेषकर सफेद रक्त कोशिकाएं।

लक्षणः


- अत्यधिक खून बहना।
- अरक्तता (एनीमिआ)।
- बुखार, जड़ाई, रात्रि स्वेद (नाइट स्वेट) और फ्लू जैसे अन्य लक्षण
- कमजोरी और थकान।
- भूख न लगना और/वजन कम होना।
- मसूड़ों में सूजन होना या उनसे खून निकलना।
- तंत्रकीय लक्षण (सिर दर्द)।
- बढ़ा हुआ जिगर और प्लीहा(स्प्लीन)।
- आसानी से खरोंच लगना और अक्सर संक्रमण होना।
- जोड़ों में दर्द।
- सूजा हुआ गलतुंडिका (टांसिल)।

स्तन कैंसर


महिलाओं में स्तन कैंसर आम बात है। महिलाओं में कैंसर से मृत्यु इसका दूसरा कारण है। किसी महिला के जीवनकाल में स्तन कैंसर का अधिकतम औसत 9 में 1 होता है।

लक्षण


- स्तन में पिंड
- स्तनाग्र (निप्पल) से स्राव
- अंदर को धंसी स्तनाग्र
- लाल / सूजा स्तनाग्र
- स्तनों का बढ़ना
- स्तनों का सिकुंड़ना
- स्तनों का सख्त होना
- हड्डी में दर्द
- पीठ में दर्द

जोखिम कारकः


- स्तन कैंसर का पारिवारिक इतिहास।
- महिला की आयु बढ़ने के साथ साथ खतरा भी बढ़ता है।
- गर्भाशय कैंसर की कोई पूर्व घटना।
- पूर्व स्तन कैंसर, विशेष परिवर्तन तथा पहले की स्तन की बीमारी।
- आनुवांशिक खराबियां या परिवर्तन (बहुत कम अवसर)।
- 12 वर्ष से कम आयु में मासिक धर्म आरंभ होना।
- 50 वर्ष की आयु के बाद रजोनवृत्ति।
- संतानहीन।
- शराब, अति वसायुक्त भोजन, अधिक रेशेदार भोजन, धूम्रपान, मोटापा और पूर्व में गर्भाशय या कोलोन कैंसर।

उपचार­ :


स्तन कैंसर का उपचार तीन बातों पर निर्भर करता हैः

- यदि महिला रजोनोवृत हो चुकी हो।
- स्तन कैंसर कितना फैल चुका है।
- स्तन कैंसर की कोशिकाओं का प्रकार।

कैंसर का फैलाव का निम्नानुसार आकलन किया जाता हैः


- स्तन में कैंसर कहाँ हुआ है।
- लसीका गांठ (लिंफ नोड) में कैंसर किस दर से फैल रहा है।
- स्तन में गहरे मांस पेशियों में कैंसर कितना फैल चुका है।
- दूसरे स्तन में कैंसर कहाँ तक फैला है।
- अन्य इंद्रियों जैसे हड्डी या मस्तिष्क में कैंसर कहाँ तक फैला हुआ है।

कोशिकाओं के प्रकार में कुछ कोशिकाएं बहुत जल्दी फैलती हैं जब कि कुछ देरी से। इसके अतिरिक्त कोशिकाओं में ही अभिग्रहक (रिसेप्टर) होते हैं जो स्तन कैंसर के उपचार में सहायक होते हैं।

उपरोक्त बातों पर विचार कर लेने के बाद डॉक्टर निम्नलिखित में से एक निर्णय लेता हैः

- गांठ और स्थानीय कोशिकाओं को निकाल दिया जाए। साथ ही वह यह भी विचार करता है कि रोडिएशन दिया जाए या नहीं।
- पूरे स्तन को ही निकाल दिया जाए।

रोकथाम


- हर माह स्वयं स्तनों की परीक्षा करें।
- अपने चिकित्सक द्वारा वार्षिक स्तन परीक्षण।
- पौष्टिक पदार्थ का भोजन।

यदि आपको यह आशंका हो कि आपको स्तन कैंसर है तो तत्काल अपने डॉक्टर से परामर्श करें। स्तन कैंसर ठीक हो सकता है बशर्ते कि इसका उपचार शीघ्र हो और यदि इसके निदान में देरी हुई तो मृत्यु तक हो सकती है।

Disqus Comment