क्या है मानसून का अर्थ?

Submitted by UrbanWater on Mon, 07/08/2019 - 12:02
Source
झंकार, दैनिक जागरण, 7 जुलाई 2019

पर्यावरण संकट से मानसून भी बिगड़ने लगा है।पर्यावरण संकट से मानसून भी बिगड़ने लगा है।

एक भारतीय चीज ऐसी है जो गांव-शहर, गरीब-अमीर में बंटे सभी लोगों के बीच फैली है, वह है मानसून। जिसे हम हर वर्ष देखने के लिए बेसब्री से इंतजार करते हैं। तापमान का चढ़ना और मानसून का दस्तक देना, यह हर वर्ष बिना किसी बाधा के होता है। किसान बहुत ही बेसब्री से इसका इंतजार करते हैं क्योंकि उन्हें नई फसल की बुआई के लिए समय पर बारिश चाहिए। शहर के प्रबंधकों को भी मानसून का इंतजार होता है क्योंकि हर वर्ष मानसून की शुरुआत से पहले उनके जलाशय खाली होते हैं और शहर की जलापूर्ति सामान्य से कम होती है। हम सभी इंतजार करते हैं, इसके बावजूद इसके बावजूद कि हम वातानुकूलित कमरों और घरों में दुबके रहते हैं। बारिश हमें झुलसा देने वाली धूप और धूल से राहत दिलाती है। यह शायद ऐसा समय होता है जब पूरा देश एक तरह की मायूसी में होता है, बारिश होने तक सांसें थमी होती हैं।

आज जब बारिश नहीं होती है तो हम रोने लगते हैं। हम तब भी चिल्लाने लगते हैं जब बारिश की वजह से बाढ़ और बीमारियां आती हैं। शहरों में ट्रैफिक जाम होता है, जरा भयानक जल संकट और सालाना आने वाली बाढ़ का चक्र देखिए। इसमें 2016 की बाढ़ भी शामिल करिए, जब भारत ने हाल-फिलहाल के वर्षों की सबसे वीभत्स बाढ़ देखी। बदलाव सिर्फ तभी मुमकिन है जब हम दोबारा हर वर्ष गिरने वाली पानी के इस्तेमाल की कला सीख जाएं। 

हवा पर छिड़ी बहस 

जब मैं यह लिख रही हूं, कई तरह के सवाल मेरे दिमाग में आ रहे हैं। आखिर हम इस अवधारणा के बारे में कितना जानते हैं, जो हर एक भारतीय के लिए बेहद महत्वपूर्ण है। क्या हम वाकई जानते हैं कि बारिश क्यों होती है? क्या आपको पता है कि वैज्ञानिक खुद मानसून की परिभाषा को लेकर लड़ रहे हैं। उनके पास एकमात्र परिभाषा है जो कि एक मौसम मौसमी पवन पर आधारित है। यह पवन जब एक निश्चित दिशा में बहती है तब मानसून आता है। जैसे ही यह पवन अपना रास्ता बदलती है, वे भौंचक्के रह जाते हैं। 

बस कुछ घंटों की प्रक्रिया

क्या हम जानते हैं हमारा मानसून एक वैश्वीकृत अवधारणा है? सुदूर प्रशांत महासागर की समुद्री जलधाराएं हों या फिर तिब्बत के पठार का तापमान, यूरेशिया की बर्फ, यहां तक कि बंगाल की खाड़ी का ताजा पानी, मानसून इन सभी से जुड़ा और एकीकृत है। क्या हम यह भी जानते हैं कि भारतीय मानसून वैज्ञानिक अप्रत्याशित और विविधता वाले मानसून का ठीक से पीछा करने के लिए कितनी तल्लीनता से अध्ययन कर रहे हैं, शायद नहीं जानते। हमने स्कूल में कुछ विज्ञान पढ़ा था लेकिन असल जिंदगी में कभी नहीं। यह उपयोगिता वाले ज्ञान का हिस्सा नहीं है। हम यह सोचते हैं कि आज हमारी दुनिया को बचाए रखने के लिए जानने की बेहद जरूरत है लेकिन हम गलत हैं। भारतीय मानसून के बारे में एक बड़े जानकार और बुजुर्ग, जो अब दुनिया में नहीं है। पीआर पिशोरती ने बताया था कि सालाना घटने वाली इस घटना के तहत सिर्फ 100 औसत घंटों में समूची बारिश हो जाती है जबकि एक वर्ष में कुल प्रदूषण 8,765 घंटे होते हैं।

यही है मूल संकट

हमारी असल चुनौती यह है कि हम इस बारिश का प्रबंध किस तरह से करें। पर्यावरणविद् अनिल अग्रवाल ने मानसून इस घटना के बारे में विस्तार से बताया था कि कैसे प्रकृति इस काम के लिए अपने बल के बजाय कमजोर बल का इस्तेमाल करती है। जरा सोचिए, तापमान का छोटा-सा अंतर लगभग 40,000 अरब टन पानी समुद्रों से उठाकर पूरे भारत के हजारों किलोमीटर क्षेत्र में गिरा देता है। प्रकृति के प्रकृति के इस अनूठे ज्ञान से बेवाकिफ रहना ही आज के पर्यावरणीय संकट का मूल है।

मानसून सही मायने में अभी भारत का वित्त मंत्री है। मानसून सही मायने में अभी भारत का वित्त मंत्री है।

समझें इस मानसून को

इसे समझिए कि हम कोयला और ईंधन जैसे केंद्रित ऊर्जा स्रोतों का इस्तेमाल कर रहे हैं। इसकी वजह से स्थानीय वायु प्रदूषण और वैश्विक जलवायु परिवर्तन जैसी समस्याएं पैदा हो रही हैं यदि हम प्रकृति के रास्ते को समझें तो हम प्रकृति के ही कमजोर ऊर्जा स्रोतों का इस्तेमाल कर सकते हैं। जैसे सौर ऊर्जा और वर्षा के पानी का इस्तेमाल। हमें इंतजार नहीं करना चाहिए कि पानी बहकर नदियों और जलाशयों तक जाए। अग्रवाल अक्सर कहते थे कि बीते 100 सालों में मानव समाज केंद्रित जल स्रोतों जैसे नदियों और जलाशयों के इस्तेमाल पर ज्यादा आश्रित हुआ है। इनका ज्यादा इस्तेमाल ज्यादा दोहन बढ़ाएगा। वे जोर देते थे कि कि 21वीं शताब्दी में मानव को एक बार फिर कमजोर जल स्रोतों जैसे बारिश के पानी का इस्तेमाल करने की ओर बढ़ना होगा। दूसरे शब्दों में कहें तो जितना ज्यादा हम मानसून को समझेंगे उतना ज्यादा हम समावेशी विकास को समझेंगे।

रुक जाती हैं धड़कनें

एक और सवाल है मेरे पास? क्या हमें भी जानते हैं कि मानसून के बिना कैसे जीवित रहा जाए? मैं एकदम निश्चित हूं कि आपने यह तर्क भी जल्दी ही सुना होगा कि हम विकसित होंगे और मानसून की बिल्कुल जरूरत नहीं रहेगी। यहां आपको स्पष्ट कर दें यह किसी भी समय और जल्दी नहीं होने जा रहा। आजादी के इतने सालों बाद और सतह पर सिंचाई के लिए सूची निवेश के बाद भी बड़ी संख्या में किसान पानी को लेकर चिंतित है। इसका आशय है कि किसान इस मनमौजी और गैरभरोसेमंद देवता की दया पर निर्भर हैं लेकिन पूरी तस्वीर नहीं है। 60 से 80 फीसदी सिंचित क्षेत्र भू-जल पर निर्भर है। इस भू-जल को दोबारा इस्तेमाल करने के लिए बारिश के जरिए रिचार्ज करने की जरूरत होती है, इसलिए भी बारिश चाहिए। यही कारण है कि हर वर्ष जब मानसून केरल से कश्मीर या बंगाल से राजस्थान की ओर बढ़ता है और कहीं रुक जाता है तो हमारी धड़कनें थम जाती है या मंद पड़कर रुक भी जाती हैं। न्यून दबाव क्षेत्र और डिप्रेशन जैसे शब्द भारतीय शब्दकोश का ही हिस्सा हैं।

संबंध बना लें गहरा

मानसून सही मायने में अभी भारत का वित्त मंत्री है। इसलिए मैं मानती हूं कि मानसून पर निर्भरता खत्म करने की चाह की बजाए हमें मानसून का उत्सव मनाना चाहिए और उसके साथ अपने संबंधों को और गहरा करना चाहिए। हमारे मानसून कोश का भी जरूर विस्तार लेना चाहिए ताकि जहां और जब भी बारिश हो तो हम उसकी हर एक बूंद को इस्तेमाल में ला सकें। यह हमारा एक राष्ट्रीय जुनून होना चाहिए। बारिश की हर एक बूंद का मोल हमें समझना होगा। हमें अपने भविष्य को पानी पर निर्भरता के आधार पर बनाना होगा। चेक डैम, झील, कुएं, तालाब, घास और पेड़ हर चीज बारिश के पानी को समुद्र में जाने से रोक सकती है, उसके सफर को धीमा बना सकती है। यदि हम ऐसा कर पाए तो हमारे अंतिम और दर्द  भरे सवाल का जवाब शायद मिल जाए।

सीखनी होगी कला 

हमें अपने शहर और मैदानों में बारिश का उत्सव कैसे मनाना चाहिए? आज जब बारिश नहीं होती है तो हम रोने लगते हैं। हम तब भी चिल्लाने लगते हैं जब बारिश की वजह से बाढ़ और बीमारियां आती हैं। शहरों में ट्रैफिक जाम होता है, जरा भयानक जल संकट और सालाना आने वाली बाढ़ का चक्र देखिए। इसमें 2016 की बाढ़ भी शामिल करिए, जब भारत ने हाल-फिलहाल के वर्षों की सबसे वीभत्स बाढ़ देखी। बदलाव सिर्फ तभी मुमकिन है जब हम दोबारा हर वर्ष गिरने वाली पानी के इस्तेमाल की कला सीख जाएं। मानसून हम सभी का हिस्सा है, अब हमें इसे वास्तविक बनाना होगा।

Monsoon.jpg56.22 KB
Disqus Comment