सन्तुलित विकास की जरूरत

Submitted by RuralWater on Tue, 05/17/2016 - 16:09
Source
दैनिक जागरण, 16 मई, 2016

नदी, झील, नहर, तालाब, भूजल, सागर आदि के प्रदूषण को जल प्रदूषण कहा जाता है। प्रदूषित पानी का अर्थ है-सहने की क्षमता से अधिक मात्रा में रसायन का उसमें पाया जाना। प्रदूषित पानी इंसानों के साथ-साथ पेड़-पौधों पर भी प्रतिकूल प्रभाव डालता है। डब्लूएचओ द्वारा 2010 में जारी रिपोर्ट के अनुसार प्रदूषित पानी पीने से विश्व में 3.6 मिलियन लोग हर साल मर रहे हैं, जिसमें से बच्चों की संख्या 1.5 मिलियन है। आज चीन का 90 प्रतिशत पानी पीने योग्य नहीं है। 2007 में जारी अपनी एक रिपोर्ट में चीन के नेशनल डेवलपमेंट एजेंसी ने कहा था कि चीन की सात प्रमुख नदियों का पानी पूरी तरह से जहरीला हो चुका है। सन्तुलित पर्यावरण को आने वाली पीढ़ी के लिये बचाकर रखने के लिये हम तैयार नहीं हैं। पर्यावरण के मुख्य तत्व हैं, जल, वायु एवं भूमि। लेकिन विकास के रास्ते पर आगे बढ़ते हुए हम इनसे जुड़े प्रदूषण के दुष्परिणामों को गम्भीरता से नहीं ले रहे हैं, जिसके कारण आये दिन हमें बाढ़, सूखा, भूकम्प आदि का सामना करना पड़ रहा है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लूएचओ) ने अपने ताजा रिपोर्ट में दिल्ली को विश्व का सबसे प्रदूषित शहर बताया है। इस रिपोर्ट के मुताबिक विश्व के शीर्ष 20 प्रदूषित शहरों में से 13 भारत से हैं। बिहार की राजधानी पटना का इसमें छठा स्थान है। दि न्यूयार्क टाइम्स इंटरनेशनल वीकली ने अपने 2 फरवरी, 2014 के अंक में प्रकाशित किया था कि बीजिंग में बहने वाली हवा दिल्ली में बहने वाली हवा से ज्यादा स्वस्थ है।

वायुमंडल जटिल प्राकृतिक गैसों की एक सन्तुलित प्रणाली है, जो पृथ्वी पर जीवन को सम्भव बनाती है। एक लम्बे अरसे से यह सुचारू रूप से कार्य कर रही थी, लेकिन हमारे लालच की वजह से आज यह प्रदूषित हो गई है। वायु प्रदूषण से आशय है जटिल गैसों की संरचना में बिखराव आना।

वायु प्रदूषण का कारण सल्फर ऑक्साइड, नाइट्रोजन ऑक्साइड, कार्बन मोनो ऑक्साइड, वोलाटाइल आर्गेनिक कम्पाउंड, पार्टीकुलेट्स, परसिस्टेंट फ्री रेडिकल्स, टॉक्सिक मेटल्स ध्वनि आदि को माना जाता है। इस सम्बन्ध में सबसे बड़ा खतरा क्लोरोफ्लोरो कार्बन गैस के उत्सर्जन से है, जो मानव निर्मित उपकरणों जैसे एयर कंडीशन, फ्रिज, एयरोसेल स्प्रे आदि से उत्सर्जित होता है।

ओजोन लेयर के परत के छीजने का कारण क्लोरोफ्लोरो कार्बन गैस है। ओजोन लेयर अल्ट्रा वायलेट किरणों को धरती पर आने से रोकता है। अल्ट्रा वायलेट किरण से त्वचा कैंसर, आँख से सम्बन्धित बीमारियाँ आदि हो सकती हैं।

जीवित प्राणी को जीने के लिये एक निश्चित अन्तराल पर ऑक्सीजन ग्रहण करना होता है, लेकिन वायु प्रदूषित होने से वायुमण्डल से ऑक्सीजन की मात्रा आहिस्ता-आहिस्ता कम हो रही है, जिससे जीव-जन्तुओं को साँस लेने में कठिनाई का सामना करना पड़ रहा है। साथ ही लोग अस्थमा, फेफड़े से सम्बन्धित बीमारियाँ, कैंसर, सिस्टिक फाइब्रोसिस, कार्डियोवस्कुलर आदि बीमारियों से ग्रसित हो रहे हैं।

डब्लूएचओ ने 25 मार्च, 2014 को जारी अपनी एक रिपोर्ट में कहा था कि वायु प्रदूषण के कारण विश्व में हर साल 7 मिलियन लोग मर रहे हैं। अकेले भारत में वायु प्रदूषण के कारण वर्ष 2010 में 6,20,000 लोग अपनी जान गँवा चुके हैं।

नदी, झील, नहर, तालाब, भूजल, सागर आदि के प्रदूषण को जल प्रदूषण कहा जाता है। प्रदूषित पानी का अर्थ है-सहने की क्षमता से अधिक मात्रा में रसायन का उसमें पाया जाना। प्रदूषित पानी इंसानों के साथ-साथ पेड़-पौधों पर भी प्रतिकूल प्रभाव डालता है। डब्लूएचओ द्वारा 2010 में जारी रिपोर्ट के अनुसार प्रदूषित पानी पीने से विश्व में 3.6 मिलियन लोग हर साल मर रहे हैं, जिसमें से बच्चों की संख्या 1.5 मिलियन है।

आज चीन का 90 प्रतिशत पानी पीने योग्य नहीं है। 2007 में जारी अपनी एक रिपोर्ट में चीन के नेशनल डेवलपमेंट एजेंसी ने कहा था कि चीन की सात प्रमुख नदियों का पानी पूरी तरह से जहरीला हो चुका है। भारत की बड़ी नदियों में यमुना मर चुकी है। सरस्वती कब विलुप्त हुई, इसका ठीक से हमें पता नहीं है। गंगा भी मरने के कगार पर है।

कानपुर से पहले नरौरा परमाणु संयंत्र का अवशेष तो कानपुर में 400-500 कल-कारखानों का घातक रासायनिक अवशेष गंगा में रोज प्रवाहित किया जाता है। गन्दगी, दूषित और सूखती नदी के कारण गंगेटिक डाल्फिन लुप्त होने के कगार पर हैं। आमतौर पर सभी नदियों में पीएच, अल्केलिनिटी, डिजॉल्वड ऑक्सीजन (डीओ), टोटल डिजॉल्वड सॉलिड (टीडीएस), बीओडी, कैल्शियम, मैग्नीशियम और क्लोराइड जैसे तत्वों की मात्रा निर्धारित स्तर से ज्यादा पाई गई है।

जाहिर है इन तत्वों की उपस्थिति पानी में एक निश्चित स्तर पर होनी चाहिए। इनकी ज्यादा मात्रा स्वास्थ्य के लिये तो घातक है साथ-ही-साथ यह जलीय जीव-जन्तुओं के जीवन को भी खतरे में डालता है। भूगर्भीय प्रदूषण का मूल कारण मिट्टी एवं सतह पर मौजूद जल का प्रदूषित होना है। मिट्टी में घातक रासायनिक तत्वों के लगातार पेवस्त होते रहने से उनकी पहुँच भूजल तक हो जाती है।

इसी तरह मल-मूत्र और घातक रासायनिक तत्वों के नदी में प्रवाहित किये जाने से प्रदूषित नदी जल निकटवर्ती इलाकों के भूगर्भीय जल को भी प्रदूषित कर देता है। भूजल के प्रदूषित होने का एक बहुत बड़ा कारण कृषि कार्यों में उपयोग किया जाने वाला फर्टिलाइजर, हर्बीसाइड, इन्सेक्टीसाइड आदि भी है।

कचरा के असफल प्रबन्धन, कृषि कार्यों में पेस्टीसाइड, इंसेक्टीसाइड, फर्टिलाइजर आदि के उपयोग, मल, फसल एवं निर्माण से सम्बन्धित अवशेष, इंडस्ट्रियल अवशेष, जैसे, रसायन, मेटल्स, प्लास्टिक आदि खनिज पदार्थों के लिये पहाड़ों का खनन, पेड़ों की कटाई, रसायनिक एवं न्यूक्लियर प्लांट से निकलने वाले अवशेष, तेल शोधन कारखानों में प्रयोग किये जाने वाले पेट्रो, गैस व डीजल से उत्सर्जित होने वाले जानलेवा गैसों आदि के कारण भूमि में प्रदूषण का स्तर लगातार बढ़ रहा है।

प्रदूषित हो रहे भूमि का सबसे बड़ा कारण जंगल और पहाड़ की दुर्दशा को माना जा सकता है। मौजूदा समय में भारत में जंगल 64 मिलियन हेक्टेयर एरिया में या कुल भूमि के 19.5 प्रतिशत हिस्से में फैला है। इस सन्दर्भ में यदि आँकड़ों की बात करें तो फूड एवं कृषि संगठन द्वारा वर्ष 2010 में जारी एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत विश्व के उन 10 चुनिंदा देशों में शामिल है, जहाँ जंगल का फैलाव तुलनात्मक दृष्टिकोण से अभी भी सन्तोषजनक है।

पिछले 20 वर्षों में भारत में जंगल की भूमि में इजाफा हुआ है। फिर भी, स्थिति को बहुत सकारात्मक नहीं कहा जा सकता है। चिपको आन्दोलन का असर खत्म हो चुका है।

कहा जा सकता है कि प्रदूषण के कारण लोग अपनी स्वाभाविक जिन्दगी नहीं जी पा रहे हैं। प्रदूषित हो रहे पर्यावरण को बचाना हमारे लिये सबसे बड़ी चुनौती जरूर है, लेकिन इस पर विजय प्राप्त किया जा सकता है। इस आलोक में जन-जागरुकता अभियान चलाना मुफीद हो सकता है।

यदि वस्त्र, बोतल, रैपर, कागज, शॉपिंग बैग आदि की बार-बार खरीदारी नहीं की जाये, नष्ट होने वाली वस्तुओं का उपयोग किया जाये, पेस्टीसाइड और इंसेक्टीसाइड के उपयोग से तौबा की जाये, हरेक वस्तु के अधिकतम उपयोग करने की आदत को विकसित किया जाये, जल की महत्ता को समझा जाये, गाड़ियों का उपयोग कम किया जाये, सार्वजनिक वाहन से यात्रा करने की आदत डाली जाये, छोटी दूरी तय करने के लिये साइकिल का इस्तेमाल किया जाये, कम कचरा पैदा किया जाये, कचरा को कम्पोस्ट में तब्दील करने की कोशिश की जाये तो निश्चित रूप से प्रदूषण की रफ्तार धीमी पड़ सकती है। हम छोटी-छोटी कोशिशों के द्वारा भी अपेक्षित परिणाम प्राप्त कर सकते हैं।

(लेखक स्वतंत्र टिप्पणीकार हैं)

Disqus Comment

More From Author

Related Articles (Topic wise)

Related Articles (District wise)

About the author

नया ताजा