सूरज कुण्डः एक परिचय

Submitted by admin on Wed, 07/21/2010 - 13:01
सूरज कुण्ड मेरठ का अत्यधिक प्रसिद्ध एवं महत्वपूर्ण तालाब था। यद्यपि अब यह पूर्ण रूप से सूख चुका है परन्तु इसका गौरवशाली अतीत आज सोचने को विवश करता है कि हम विकास की ओर जा रहे हैं या विनाश की ओर। सूरज कुण्ड के इतिहास को हम तीन भागों में विभक्त कर सकते हैं।

1. प्रारम्भिक अथवा रामायणकालीन।

2. मध्य अथवा महाभारतकालीन।

3. अंगेजी काल से आज तक।

प्रारम्भिक अथवा रामायणकालीनः इस काल में मेरठ वास्तुकला के अदभुत विद्धान एवं राक्षसों के विश्वकर्ता मयदन्त की राजधानी मयराष्ट्र था। इसका महल पुरानी कोतवाली पर था। चारों ओर गहरी खाई थी जिसे अब खन्दक कहा जाता है। मयदन्त की पुत्री मन्दोदरी सुशिक्षित, सभ्य, सुशील, सुन्दर, राजनीतिज्ञ एवं शस्त्रज्ञ थी। दोनों पिता-पुत्री ने मेरठ के लगभग चारों ओर तालाब बनवाये थे। उस समय मेरठ के चारों ओर वन था। इस वन में अनेक तापस तपस्या करते थे। वन के इसी स्थान पर एक तालाब (कुण्ड) था। शुद्ध वातावरण, तपस्थली, वैदिक ऋचाओं की स्वर लहरियों से तरंगित वायु-मण्डल, जंगली जड़ी-बूटियों, सूर्य की किरणों एवं जल के स्रोत का प्रभाव था कि इस कुण्ड के जल से चर्मरोग ठीक होते थे। सूर्य देव को दाद व कुष्ठ जैसे भयंकर रोगों को ठीक करने वाला देव माना गया है, इसलिए इसका नाम सूर्य कुण्ड विख्यात हुआ। दृष्टव्य है

विवस्वानादि देवश्च देव देवो दिवाकरः।
धन्वन्तरिव्र्याधिहर्ता दद्रु कुष्ठ विनाशकः।।

सूर्य भगवान का निवास व प्रभाव स्थल मान कर मन्दोदरी ने यहां पक्का तालाब निर्माण करा कर शिव मन्दिर की स्थापना कराई थी। इसका वास्तु शिल्प बिल्वेश्वर नाथ मन्दिर जैसा है। इसे आज भी मन्दोदरी का मन्दिर कहा जाता है। जनश्रुतियों के अनुसार महात्मा अगस्त्य ने आदित्य हदय स्तोत्र की सिद्धि यहीं प्राप्त की थी। रावण से व्यथित हुए भगवान राम को अगस्त्य मुनि ने इसी शत्रु विनाशक आदित्य स्तोत्र की दीक्षा देकर रावण का अन्त कराया था। इसके विषय में कहा गया है

आदित्यहदयं पुण्यं सर्व शत्रु विनाशनम्।
जया वह जपन्नित्यम्क्षय परम् शिवम्।।

(वाल्मिकी रामायण)

मध्यकाल अथवा महाभारत कालः महाभारत काल में यह स्थान खाण्डवी वन के नाम से प्रसिद्ध रहा। महाभारत के अनुसार दुर्वासा मुनि ने कुन्ती को एक मंत्र देकर कहा था कि इस मन्त्र द्वारा जिस देवता का आहवान करोगी तो वह उपस्थित होकर आशीष देगा।

एक बार कुन्ती अपने परिवार सहित कुरू प्रदेश के भ्रमण काल में सूर्य कुण्ड पर आई। सूर्य कुण्ड की महिमा देख-सुन कर मन्त्र परिक्षार्थ उसने सूर्य देव का आहवान किया। सूर्य देव ने प्रकट होकर उसे पुत्रवती होने का आशीर्वाद दिया। यह आशीर्वाद ही कर्ण के रूप में प्रसिद्ध हुआ। इसीलिए कर्ण को सूर्य कुण्ड से विशेष लगाव था। विशेष उत्सवों पर आकर कर्ण यहां सूर्योपासना एवं दान करता था। अन्य राजा-महाराजा, साधु-सन्त एवं ऋषि मुनि भी आते जाते रहते थे। महाभारत के विनाशक युद्ध के पश्चात् यह काल के गर्त में खो गया।

अंग्रेजी काल से आज तकः सूर्य कुण्ड के वर्तमान का प्रारम्भ बाबा मनोहर नाथ से होता है। सूर्य कुण्ड के एक ओर महान तपस्वी एवं सिद्ध सन्त बाबा मनोहर नाथ रहते थे। बाबा मनोहर नाथ प्रसिद्ध सूफी सन्त शाहपीर के समकालीन थे। एक बार शाहपीर अपनी तपस्या का प्रभाव दिखाने शेर पर चढ़कर बाबा के पास आये। बाबा दीवार पर बैठे दातुन कर रहे थे। शाहपीर को देखकर बाबा ने कहा ‘चल री दीवार पीर साहब की अगवानी करनी है। दीवार चल पडी। इन्हीं बाबा के पास लगभग 300 वर्श पूर्व कस्बा लावड़ के प्रसिद्ध सेठ एवं किसी शासक के खजांची लाला जवाहरमल/सूरजमल आये और अपने कुष्ठ रोग का इलाज पूछा। बाबा ने पीने एवं स्नान के लिए सूरज कुण्ड के जल का प्रयोग बताया। कुछ दिनों में लाला ठीक हो गये तब सन् 1700 में लाला ने इस तालाब का विस्तार एवं जीर्णोद्धार कराया (मेरठ गजेटियर वोल्यूम प्ट)। यहां पर बन्दरों की बहुतायत थी इसीलिए अंग्रेज इसे मंकी टैंक कहते थे।

नौचन्दी स्मारिका 1992 के अनुसार 1865 ई में अंग्रेजों ने इसे नगर पालिका को सौंप दिया। बृहस्पति देव मन्दिर की दीवार पर 28 मई 1958 ई का एक शिलालेख लगा है जिसमें नारी तालाब में स्नान का समय एवं नियम लिखे हैं। इस पर नगरपालिका अध्यक्ष के रूप में पंडित गोपीनाथ सिन्हा का नाम लिखा है। खुदाई में यहां पर भगवान बुद्ध एवं खजुराहो काल की मूर्तिया आदि अवशेष निकले हैं जो इसे पुरातात्विक खोज का विशय बनाते हैं। पहले यहां हाथी-ऊंट-घोड़े आदि की मण्डी भी लगती थी। यहां पर एक बार सिखों के प्रथम गुरू श्री नानक देव के पुत्र श्रीचंद भी पधारे थे। उनके ठहरने के स्थान पर सन् 1937 में एक गुरूद्धारा भी स्थापित किया गया जो आज भी तालाब के नैर्ऋत्य कोण में स्थित है। यहां पर अनेक स्त्रियां सती भी हुई थीं। श्री ज्ञानों देवी का सती मन्दिर आज भी श्रद्धा का केन्द्र है। इसके पास अनेक मन्दिर बने हुए हैं। “मशान घाट भी बना है। यहां पर रहने वाले अघोरी साधु क्रान्ति की चिंगारी सुलगाया करते थे। यहां के वीराने में क्रांतिकारियों की गुप्त बैठकें भी हुआ करती थीं। इसके अन्दर बनी घूमने की पटटी लगभग 700 मीटर जबकि बाहरी परिधि और भी अधिक है।

मेरठ के प्रथम मेयर अरूण जैन के समय में इस कुण्ड को भरने की पुरी तैयारियां हो चुकी थीं। परन्तु मेरठ के कुछ प्रबुद्ध नागरिकों के विरोध में उठ खड़े होने के कारण वह योजना सफल नहीं हो सकी। इस कार्य में सनातन धर्म रक्षिणी सभा, श्री विष्णुदत्त एवं प्रकाशनिधि शर्मा, एडवोकेट आदि का मुख्य सहयोग रहा। सन 1962 में कुछ समय पूर्व तक पानी से लबालब भरे सूरज कुण्ड में शहर के अनेक प्रतिष्ठित नागरिक नित्यप्रति नौका विहार के लिए आते थे। उस समय नौका का किराया पच्चीस (चवन्नी) पैसे मात्र हुआ करता था। उसके बाद इसमें कमल खिलने लगे और कमल ककड़ी, कमलपुष्प एवं कमल गट्टों का व्यापार होने लगा। कुछ समय पश्चात् जल कुम्भी ने अपना साम्राज्य स्थापित कर लिया। बाद में यह कतई सूख गया। भू-माफियाओं की नजर से बचना इसका सौभाग्य ही कहा जायेगा। कुछ वर्ष पूर्व इसकी कीमत छः अरब रूपये आंकी गई थी। वर्तमान में पर्यटन विभाग इसका विकास पार्क के रूप में कर रहा है। गंग नहर बनने के पश्चात् यह नहर से भरा जाने लगा। बाद में जब सम्पर्क रजवाहे का आबू नाला बन गया तो इसमें शहर का गन्दा पानी आने लगा। नगरवासियों के विरोध के कारण वह बन्द कर दिया गया। इस प्रकार खुशी से लहलहाते इस तालाब की मौत होना शहरवासियों के लिए एक चुनौती है। सूर्य कुण्ड की एक विशेषता यह है कि 22 जून को जब सूर्य दक्षिणायन होता है तो वह पहले तालाब के ठीक उत्तर-पूर्वी (छम्) कोने में दिखाई देता है और फिर धीरे-धीरे दक्षिण की ओर दिखाई देने लगता है। सूर्य की विशेष कृपा दृष्टि के कारण ही इसका नाम सूरज कुण्ड विख्यात हुआ। पंडित महेन्द्र पाल मुकुट इसकी दूसरी विशेषता बताते हैं कि पानी भरते ही

इसमें बिना बीज डाले ही कमल उग आते हैं। पहले यह एक मील क्षेत्र में फैला हुआ था। पुरुष-महिलाओं के स्नानार्थ एवं पशुओं के पीने के पृथक-पृथक घाट बने थे। “मशान के कारण तांत्रिक-अघोरी एवं जंगल के कारण नागा साधुओं का यह प्रिय स्थल था।

सूरज कुण्ड ही क्यों सूरज अथवा सूर्य तालाब क्यों नहीं? क्या है इसका रहस्य? यद्यपि कुण्ड शब्द तालाब का ही पर्यायवाची है लेकिन यह शब्द स्वयं में विशिष्ट है। जिस प्रकार विशाल तालाब को भी झील नहीं काहा जा सकता उसी प्रकार किसी भी तालाब को कुण्ड नहीं कहा जा सकता। कुण्ड प्राकृतिक होते हैं। जबकि तालाब मानव निर्मित (बाद में चाहे उन्हें पक्का करा कर तालाब का रूप दे दिया जाये) इनका आकार भी कुण्ड के आकार का होता है। कभी-कभी यह एक दम गहरा होता है तो कभी-कभी धीरे-धीरे गहराई की ओर चलता है। कांधला हरियाणा एवं हरिद्वार में मंशा देवी से लगभग दो किलोमीटर आगे भी सूरज कुण्ड है। अन्य स्थानों पर भी हो सकते हैं। तीनों के गुण-धर्म समान हैं। अर्थात् तीनों ही चर्म रोग नाशक हैं। इसका तात्पर्य यह हुआ कि इसके पानी में विशिष्टता है। इसके दो कारण हो सकते हैं। पहला यह कि इनके भूमिगत पानी के स्रोत में ही विशिष्टता है। दूसरा यह कि इन पर सूर्य की कुछ विषेश किरणों का प्रभाव हो। यह सभी जानते हैं कि सूर्य के सात घोड़े सूर्य की सात रंगों की किरणें ही हैं। अर्थात् ऋषि-मुनियों ने सूर्य की किरणों के प्रभाव क्षेत्र का पता लगा लिया था और यह कार्य कर्ण से सम्पन्न करा कर उनके कुण्डों का विस्तार किया। इसलिए इनके कुण्डों का नाम सूर्य कुण्ड पड़ा। एक बात अवष्य है कि कर्ण और इन सूर्य कुण्डों का सम्बन्ध किसी न किसी रूप में अवश्य रहा है। इसलिए इस कुण्ड का सूखना इस क्षेत्र का दुर्भाग्य ही कहा जाएगा।

Disqus Comment

More From Author

Related Articles (Topic wise)

Related Articles (District wise)

About the author

नया ताजा