अंतर्वेद

Submitted by Hindi on Tue, 10/26/2010 - 09:43
Printer Friendly, PDF & Email
अंतर्वेद से अभिप्राय गंगा और यमुना के बीच के उस विस्तृत भूखंड से था जो हरिद्वार से प्रयाग तक फैला हुआ है। इस द्वाब में वैदिक काल से बहुत पीछे तक निरंतर यज्ञादि होते आए हैं। वैदिक काल में वहाँ उशीनर, पंचाल तथा वत्स अथवा वंश बसते थे। इसी से पूर्व की ओर लगे कोसल तथा काशी जनपद थे। अंतर्वेद को पश्चिमी तथा दक्षिणी सीमाओं पर कुरु, शूरसेन, चेदि आदि का आवास था। ऐतिहासिक युग में इस प्रदेश में कई अश्वमेघ यज्ञ हुए जिनमें समुद्र गुप्त का यज्ञ बड़े महत्व का था।

गुप्तकालीन शासन व्यवस्था के अनुसार अंतर्वेद साम्राज्य का विषय या जिला था। स्कंद गुप्त के समय उसका विषयपति शर्वनाग स्वयं सम्राट द्वारा नियुक्त किया गया था। (चं. म.)

Hindi Title

अंतर्वेद