अपलेशियन

Submitted by Hindi on Wed, 10/27/2010 - 11:05
अपलेशियन पर्वत उत्तरी अमरीका की एक पर्वतश्रेणी है जिसका कुछ भाग कैनाडा में और अधिकांश संयुक्त राज्य में है। यह उत्तर में न्यूफाउंडलैंड से गैस्पे प्रायद्वीप और नयू ब्रंजविक होकर दक्षिण-पश्चिम की ओर मध्य अलाबामा तक १,५०० मील की लंबाई में फैला हैं। इस पर्वतमाला की चौड़ाई उत्तर में २५० मील से लेकर दक्षिण में १५० मील तक हैं। इसकी समुद्रतल से औसत ऊँचाई साधारण है और इसका उच्चतम शिखर ब्लैक पर्वत पर स्थित माउंट माइकेल (६,७११ फुट) है। अपलेशियन के शिखर साधारणत: गुंबदाकर हैं, जिनमें रॉकी पर्वत या पश्चिमी संयुक्त राज्य के अन्य नवीन पर्वतों की भाँति नोकीलेपन का अभाव है।

इस प्रणाली का भूवैज्ञानिक इतिहास अत्यंत जटिल है। इसके मोलिक उत्थान (अपलिफट) और भंजन (फ़ोल्डिंग) की क्रिया पुराकल्प (पैलिओज़ोइक) में, विशेषकर गिरियुग (परमियन युग) में, आरंभ हुई। भंजन-क्रिया तीव्रतापूर्वक पश्चिम से पूर्व की ओर बढ़ती गई, जिसके फलस्वरूप पूर्वी क्षेत्र भंजन तथा विभंजन (फॉल्डिग) द्वारा अधिक प्रभावित हुए हैं।

इस महत्वपूर्ण गिरि-निर्माण-काल के पश्चात्‌ अपलेशियन प्रदेश क्रमश: अपक्षरण और उत्थानकालों से प्रभावित होता रहा हैं निकट पूर्वकाल में, संभवत: तृतीयक कल्प (टर्शियरी एरा) के अंत में, इस प्रदेश ने एक निम्नस्तरीय प्राचीन अपक्षरित मैदान (लो ओन्ड-एज एराज़्हनल प्लेन) का रूप धारण कर लिया । इसके पश्चात्‌ पुनरुत्थान के कारण समुद्रतल से ऊँचाई में वृद्धि हुई और फलस्वरूप नदियों में महत्वपूर्ण ऊर्ध्वाधर अपक्षरण हुआ । धरातलीय शिलाओं की कठोरता सर्वत्र समान न होने के कारण यह अपक्षरण असमान गति से होता रहा और परिणामस्वरूप वर्तमान काल में दृष्टिगोचर विविध भूदृश्यों की उत्पति हुई।

भूम्यकारीय दृष्टि से अपलेशियन श्रेणी तीन समांतर भागों में विभक्त हो जाती है जो क्रमानुसार पश्चिम से पूर्व की ओर इस प्रकार है।

(१) अलधनी-कंगरलैंड-क्षेत्र अथवा अपलेशियन पठार, जो मुख्यत: क्षैतिज जलज शिलाओं द्वारा निर्मित एक बहु-शाखा-युक्त अपक्षरित पहाड़ी प्रदेश है। इसका उत्तरी भाग हिमनदियों के द्वारा प्रभावित हुआ है। (२) मध्यस्थ 'रीढ़ तथा घाटी खंड' (रिज ऐंड वैली सेक्शन), जहाँ शृृंखलाओं और घाटियों का समांतर क्रम अत्यधिक भंजित शिलाओं पर स्थित है। यहाँ घाटियों में सबसे अधिक महत्वपूर्ण 'महान्‌ घाटी' (ग्रेट वैली) है जो न्यूयार्क से अलाबामा तक फैली है। (३) ब्लू रिज क्षेत्र जो आग्नेय और परिवर्तित मिश्रित मणिभीय शिलाओं की अपक्षरित पहाड़ियों और नीचे पर्वतों का क्रम है। इसके अंतर्गत पीडमॉण्ट पठार भी आता है।

अपलेशियन प्रणाली के पूर्व में अटलांटिक समुद्रतटीय मैदान स्थित है। अपलेशियन से पूर्व की ओर प्रवाहित नदियाँ पीडमॉण्ट पठार से प्रपातों के रूप में उस मैदान उतरती हैं। इन प्रपातों को मिलानेवाली कल्पित रेखा को प्रपातरेखा कहते हैं। जलशक्ति की विशेष सुविधा के करण प्रपातरेखा के नगर महत्वपूर्ण औद्योगिक केंद्र हैं, जैसे फिलाडेलफिया, बाल्टीमोर, इत्यादि।

भूविज्ञानअपलेशियन प्रदेश की शिलाएँ दो प्राकृतिक भागों में विभक्त हो जाती हैं : (क) प्राचीन (कैंब्रियन-पूर्व) मणिभीय शिलाएँ : जैसे, संगमरमर, शिस्ट, नाइस, ग्रैनाइट, इत्यादि और (ख) पुराकल्पीय अवसादों (पैलियोजोइक सेडिमेंट्स) का एक विशाल क्रम जिसके अंतर्गत कैंब्रियन से लेकर गिरियुग (सैंडस्टोन), शेल, चूने का पत्थर और कोयला। परंतु स्थानीय परिवर्तनों के कारण शेल स्लेट में, और विटयूमिनस कोयला ऐं्थ्राासाइट में (जैसे उत्तरी पेनसिलवेनिया में), या ग्रैफाइट में (जैसे रोड द्वीप में) परिवर्तित हो गया है। अपलेशियन के मुख्य खनिज कोयला ओर लोहा हैं। (रा.ना.मा.)

Hindi Title

अपलेशियन


Disqus Comment