सूचना के अधिकार का ऑनलाइन करें अपील या शिकायत (How to file RTI Online Appeal or Complaint)

Submitted by Hindi on Sat, 10/30/2010 - 10:53
Printer Friendly, PDF & Email
Source
चौथी दुनिया ब्यूरो
क्या लोक सूचना अधिकारी ने आपको जवाब नहीं दिया या दिया भी तो ग़लत और आधा-अधूरा? क्या प्रथम अपीलीय अधिकारी ने भी आपकी बात नहीं सुनी? ज़ाहिर है, अब आप प्रथम अपील या शिकायत करने की सोच रहे होंगे। अगर मामला केंद्रीय विभाग से जुड़ा हो तो इसके लिए आपको केंद्रीय सूचना आयोग आना पड़ेगा। आप अगर बिहार, उत्तर प्रदेश या देश के अन्य किसी दूरदराज के इलाक़े के रहने वाले हैं तो बार-बार दिल्ली आना आपके लिए मुश्किल भरा काम हो सकता है। लेकिन अब आपको द्वितीय अपील या शिकायत दर्ज कराने के लिए केंद्रीय सूचना आयोग के दफ्तर के चक्कर नहीं काटने पड़ेंगे। अब आप सीधे सीआईसी में ऑनलाइन द्वितीय अपील या शिकायत कर सकते हैं। सीआईसी में शिकायत या द्वितीय अपील दर्ज कराने के लिए हीं http:rti.india.gov.in में दिया गया फार्म भरकर जमा करना है। क्लिक करते ही आपकी शिकायत या अपील दर्ज हो जाती है।

दरअसल यह व्यवस्था भारत सरकार की ई-गवर्नेंस योजना का एक हिस्सा है। अब वेबसाइट के माध्यम से केंद्रीय सूचना आयोग में शिकायत या द्वितीय अपील भी दर्ज की जा सकती है। इतना ही नहीं, आपकी अपील या शिकायत की वर्तमान स्थिति क्या है, उस पर क्या कार्रवाई की गई है, यह जानकारी भी आप घर बैठे ही पा सकते हैं। सीआईसी में द्वितीय अपील दर्ज कराने के लिए वेबसाइट में प्रोविजनल संख्या पूछी जाती है। वेबसाइट पर जाकर आप सीआईसी के निर्णय, वाद सूची, अपनी अपील या शिकायत की स्थिति भी जांच सकते हैं। इस पहल को सरकारी कार्यों में पारदर्शिता और जवाबदेही की दिशा में एक महत्वपूर्ण क़दम माना जा रहा है। सूचना का अधिकार क़ानून लागू होने के बाद से लगातार यह मांग की जा रही थी कि आरटीआई आवेदन एवं अपील ऑनलाइन करने की व्यवस्था की जाए, जिससे सूचना का अधिकार आसानी से लोगों तक अपनी पहुंच बना सके और आवेदक को सूचना प्राप्त करने में ज़्यादा द़िक्क़त न उठानी पड़े।

आरटीआई ने दिलाई आज़ादी


मुंगेर (बिहार) से अधिवक्ता एवं आरटीआई कार्यकर्ता ओम प्रकाश पोद्दार ने हमें सूचित किया है कि सूचना का अधिकार क़ानून की बदौलत बिहार में एक ऐसा काम हुआ है, जिसने सूचना क़ानून की ताक़त से आम आदमी को तो परिचित कराया ही, साथ में राज्य की अ़फसरशाही को भी सबक सिखाने का काम किया। दरअसल राज्य की अलग-अलग जेलों में आजीवन कारावास की सज़ा काट रहे 106 क़ैदियों की सज़ा पूरी तो हो चुकी थी, फिर भी उन्हें रिहा नहीं किया जा रहा था। यह जानकारी सूचना क़ानून के तहत ही निकल कर आई थी। इसके बाद पोद्दार ने इस मामले में एक लोकहित याचिका दायर की। मार्च 2010 में हाईकोर्ट के आदेश पर ससमय परिहार परिषद की बैठक शुरू हुई, जिसमें उन क़ैदियों की मुक्ति का मार्ग खुला, जो अपनी सज़ा पूरी करने के बावजूद रिहा नहीं हो पा रहे थे।

यदि आपने सूचना क़ानून का इस्तेमाल किया है और अगर कोई सूचना आपके पास है, जिसे आप हमारे साथ बांटना चाहते हैं तो हमें वह सूचना निम्न पते पर भेजें। हम उसे प्रकाशित करेंगे। इसके अलावा सूचना का अधिकार क़ानून से संबंधित किसी भी सुझाव या परामर्श के लिए आप हमें ई-मेल कर सकते हैं या हमें पत्र लिख सकते हैं। हमारा पता है :

चौथी दुनिया, एफ-2, सेक्टर-11, नोएडा (गौतमबुद्ध नगर) उत्तर प्रदेश, पिन -201301, ई-मेल rti@chauthiduniya।com

Comments

Submitted by sneha devgune (not verified) on Sun, 03/13/2016 - 10:25

Permalink

meri shadi k 10 dino me hi mere pati ne aur sasural walo ne paiso k liye muze torcher krna shuru kr diya tha Maine smjhane ki bahot koshish ki lekin vo log nhi mane ab unke upar 498A ka case chal raha hai aur Maine maintainance ka case bhi dala h lekin vo log court me bhi nhi ate mai apne pati k sath comprise kr k rahna chahti hu lekin court me bhi kuch nhi ho pa raha hai meri help kijiye mai Maharashtra Nagpur se hu

Submitted by sneha devgune (not verified) on Sun, 03/13/2016 - 10:27

Permalink

meri shadi k 10 dino me hi mere pati ne aur sasural walo ne paiso k liye muze torcher krna shuru kr diya tha Maine smjhane ki bahot koshish ki lekin vo log nhi mane ab unke upar 498A ka case chal raha hai aur Maine maintainance ka case bhi dala h lekin vo log court me bhi nhi ate mai apne pati k sath comprise kr k rahna chahti hu lekin court me bhi kuch nhi ho pa raha hai meri help kijiye mai Maharashtra Nagpur se hu

Submitted by randeep singh (not verified) on Mon, 03/14/2016 - 15:48

Permalink

गांव 34 ps ग्राम पंचायत सावतसर तहसील रायसिंहनगर जिला श्रीगंगानगर राजस्थान के गांव के चौक में अवैध कब्जा लोगों ने घर बना रखे हैं उसको हटाने के लिए योगदान

Submitted by afsar ali (not verified) on Fri, 03/25/2016 - 09:26

Permalink

sir me gram panwari dist mahoba ka rahne wala hu or mere muhal me 5 saal se pani nhi a raha h kai bar sikayat ki lekin kuchh nhi hua bolte h ho jayga or bill brabar a rha h sir jald jald is par karbahi kare apki mahan kerpa hogi

Submitted by नरेश (not verified) on Sat, 04/02/2016 - 10:32

Permalink

सर मैं गांव मिताथल जिला भिवानी हरियाणा का रहने वाला हूं सर जी मेरे गांव में चार सफाई कर्मचारी हैं लेकिन फिर भी पुरे गांव में सभी नालियों में रुकावट के कारण गंदा पानी नालियों से बाहर ही रहता है सभी नाली किचड़ ओर गंदगी से पुरी तरह से भरी हुई हैं जो सफाई कर्मचारी हैं वो सारा दिन केवल गांव के मोजुदा सरपंच के घर ओर ओफिस में ही सफाई तथा चाय ओर खाना वगैरा बनाने का काम करते रहते है ओर सरपंच के खेत में ही कार्य करते हैं ओर कीसी की भी नहीं सुनते क्यो की उनके सिर पर सरपंच का हाथ है आप अपने स्तर पर जांच करवा कर पता करें की ये सब सच है सिर्फ कुछ सरपंच के चहेते लोगों के घर के आसपास की नालियों की ही सफाई होती है सर पुरे गांव में नालियों में गंदगी के कारण मच्छर ही मच्छर पैदा हो गये है ओर बुखार का प्रकोप फैला हुआ है मेरी आप से विनती है की इस बात की जांच करवा के सरपंच के घर ओर खेतों में काम करने की बजाए कर्मचारियों से गांव की सफाई करवाई जाए आपकी बहुत मेहरबानी होगी धन्यवाद

Submitted by praveen (not verified) on Sat, 04/16/2016 - 18:12

Permalink

Respected sirआज के विकासशील भारत देश में हम लोग रोड के लिए तरस रहें हैं जो की बुनियादी श्रेणी में हैं कृपा करके जल्द से जल्द हम लोगो को बीमारी से बचाने के लिए प्रयास करें ॥सधन्यवाद

सेवा में,

माननीय मुखयमंत्री

जिला लखनऊ उत्तर प्रदेश -२२६००२

 

विषय :- हरिहरपुर मुख्य मार्ग से कच्ची गली तक १५० मीटर की आरसीसी की सड़क वा नली के निर्माण के सन्दर् हेतु प्रार्थना पत्र  .

महोदया,

        सवनिया निवेदन यह है की मैं कन्हैया लाल गुप्ता पुत्र श्री राजदेव गुप्ता निवासी हरिहरपुर ग्राम सभा क्षेत्र  का मूल निवासी हु अतः आप से यह विनम् निवेदन है की मेरी मोहल्ले से हरिहरपुर मैन रोड तक जिसकी चौरई १८ फुट और लम्बाई १५० मीटर की दुरी पर है जोकि कच्ची गली है, जिसमे मोहल्ले का सारा गन्दा पानी भर जाता है कीचड़ रहता है जिसके कारण मोहल्ले के लोगो को आने जाने में काफी परेशानियां का सामना करना पड़ता है,अतः आप से निवेदन है की समस्या को जनहित में धयान रखते हुए आरसीसी की सड़क तथा सड़क के दोनों और नाली बनवानी का कास्ट करे आपकी महान दया होगी क्योकि ये मुख्य मार्ग होने के कारण हरिहर के लोगो को काफी दिक्कतें का सामना करना पड़ता है .

अतः आप से यह पुनः विनम् निवेदन है की हमारी समस्याओं का निदान जल्द से जल्द करने का कास्ट करें आपकी महान दया होगी.

दिनांक:-

 

प्रतिलिपि                                                                                                           (प्राथी)

जिला पंचायत अध्यछ                                                                                     कन्हैया लाल                                                                                 

जिला अधिकारी                                                                                          हरिहरपुर ग्राम सभा

माननीय मुख्यमंत्री                                                                                          7052508192

 

Submitted by rahul singh yadav (not verified) on Mon, 04/18/2016 - 11:57

Permalink

sir

 

mai gram panchayat dhamni post chakarbhata teh bilha dist bilaspur cg me suchna ka adhikar ke tahat sachiv se gram panchayat me kitna aavk javak ki jankari maga tha nahi mila

 

                                                                                          parthi

                                                                                RAHUL SINGH YADAV

                                                                    DHAMNI POST CHAKARBHAT 495220

Submitted by rahul singh yadav (not verified) on Mon, 04/18/2016 - 11:58

Permalink

sir

 

mai gram panchayat dhamni post chakarbhata teh bilha dist bilaspur cg me suchna ka adhikar ke tahat sachiv se gram panchayat me kitna aavk javak ki jankari maga tha nahi mila

 

                                                                                          parthi

                                                                                RAHUL SINGH YADAV

                                                                    DHAMNI POST CHAKARBHAT 495220

Submitted by atul singh(saurabh) (not verified) on Mon, 05/02/2016 - 04:18

Permalink

मै इलाहाबादकर्नेलगंज202/170उत्तर प्रदेशका निवासी हूँ मेरे ठीक बगल में एक बडे रेस्टोरेंट का निर्माण हुआ हैजो मानक के पूर्ण विपरीत है।यह आवासीय क्षेत्र है और जीस भवन मे इसका निर्माणहुआ है वह भी आवासीय है।तीसरे तल का निर्माण भी हुआ है जो इस क्षेत्र में नहींहो सकता है आन्नद भवन(धरोहर) की वजह से।संवैधानिक रूप से दो तल की ही अनुमति है।पार्किंग की कोइ जगह नही है इनके पास।फुटपाथ की जगह का अतिक्रमण कर वहाँ पर सिमेन्टेड ईटो को बीछा दिया गया है।प्रदूषण एसी जनरेटर बिल्कुल दरवाजे के बगल मे लगायागया है। एसी की गर्म हवा सीधे दरवाजे सेअन्दर आती है। जनरेटर के चलने पे कमपन्न व्झनझनाहट होती हैरेस्टोरेंट में से चार टीन के मोटे मोटे पाईप बनाके उपर छत पे ले जाया गया है । जिनसे बहुतही तीव्र आवाज आती है। और कमपन्न भी होता है।यह सब 9बजे से रात 12 1 बजे तक चलता रहता हैन दिन मे आराम है न रात की नीद ।रेस्टोरेंट के ठीक बगल इलाहाबाद विश्वविद्यालय काहास्टल भी है। १००गज के अन्दर ही कई कोचिंगसंस्थान व बालभवन भी हैफैक्ट्री ऐक्ट 1948एनवायरमेन्ट ऐक्ट 1986ध्वनि प्रदूषण नियम 2000और भी कई संवैधानिक नियमों व् कानून कीअनदेखी की जा रही है धनबल के आधार पर।हम लोग इनका खुलकर विरोध नहीं कर सकतेधनबल और अधिकारियों की धमकी दी जाती हैमहोदय नाम गुप्त रखियेगा।इन सब कारणो से मानसिक उलझन से गुजर रहेहै हम लोग। पढाई भी नहीं हो पा रही हैआप से विनम्र व करबद्द निवेदन है की इसप्रार्थना पर कुछ करने की क्रपा करे। मजबूर नागरिक

Submitted by manoj chauhan (not verified) on Thu, 05/05/2016 - 15:52

Permalink

Sir hamara pradhan koi bhi skim ati hai to uski jankari nahi deta hai aur kuch logo ka chori chori kam kark band kar deta hai Sir gram kandheli post. Mirjajamalpur ghosi dist. Mau up

Submitted by sahdev (not verified) on Sun, 05/15/2016 - 08:52

Permalink

सेवा श्री मान महोदय जी सविनय निवेदन है क़ि हमारे ग्राम बैदोरा तहसील मोंठ जिला झाँसी में आवास बितरण किये जा रहे है आवास उन लोगों को दिए जा रहे है जो उनके पात्रनहीं महोदय जी से निवेदन है की आवास उन्ही लोगों को दिए जाये जो पात्र हो आप मेरे निवेदन को स्वीकार कर मेरी मदद करें तो आपकी हम पर महान क्रपा होगी धन्यवाद प्राथी सहदेव बैदोरा तहसील मोंठ जिला झाँसी उत्तर प्रदेश

Submitted by vrijbabu132326… (not verified) on Thu, 01/01/1970 - 05:30

Permalink

सर/महोदया हमारे ग्राम पन्चायत-कवलपुरवा माफ़ी जिला-chandauli pin-232118. निवासी हूँ मेरे गाँव के एक। दलित महिला को समाजवादी पेन्शन के लिए चुना गया है पर प्रधान और उसके सहयोगी के वजह इस औरत के बेन्क खाते की जगह किसी और का खाता नम्बर देकर लाभ उठाया जा रहा है शिकायत करने पर कुछ सुनवाई नहीं कर रहे उचित राय दें।',Vrijesh kumar"

Submitted by Kishan Singh Bisht (not verified) on Thu, 05/19/2016 - 14:38

Permalink

श्री मान जी          हमारा पडोसी  हमारी  जमीन पर कबजा करना चाहते है और ग्राम प्रधान उनका सपोटर है और वो चाहते है कि  हमारी जमीन उसकी पार्टी को मिल जाये और हमारी  जमीन पर उनका कबजा हो जाये! स्थानीय प्रशासन कोई मदद नहीं कर रहा है, ग्राम प्रधान दवारा मेरा रास्ते को भी बंद किया जा रहा है,  श्री मान जी से निवेदन है कि हमे हमारा जमीन नाप कर हमे दिला दे! किशन सिंह बिष्ट ग्राम तल्ली बमौरी बंदोबस्ती हल्द्वानी नैनीताल (उत्तराखंड)

Submitted by Ubaidurrahman (not verified) on Sun, 05/22/2016 - 17:15

Permalink

महोदया निवेदन है कि मेरे पिता द्वारा 1967 मे बैनमे के साथ खरीदा गया मकान का कार्य रुकवा दिया गया है और मै 03-08-2015 से तह्सील का चक्कर काट्ते काट्ते थक गया हु मुझे जवाब मिल्ता है अभी जांच चल रही मेरे पिता जी शरीरिक रूप से विक्लंग है 
अब आप हि हमारी मदत करे

                                                  उबैदुर्रहमान पुत्र मोहम्मद इसराईल अन्सासारी

                                                         ग्राम व पोस्ट - शहाब पुर
                                                         तह्सील - नवाब गंज 
                                                         जिला - बाराबंकी 225001  
                                                           
                                                           मो.न.-   9305858944

Submitted by Saroj Rani (not verified) on Fri, 05/27/2016 - 14:47

Permalink

lsokesa]

            Jheku~ lfpo ckyfodkl efgyk ,oa ckyfodkl

            ea=ky; Hkkjr ljdkj ubZ fnYyhA

 

fo'k;%&      vkWaxuckM+h dsUnz pd 5 ch NksVh rglhy o ftyk Jhxaxkuxj ¼jkt0½ esa fof/k fo:) dh xbZ fu;qfDr fujLr djus gsrq o dkuwuh dk;Zokgh djus gsrw o eqdnek dk;e djok;s tkus gsrw o foHkkxh; dk;Zokgh djokus gsrq izkFkZuk i= A

            Fkkuk iqfyl lnj] JhxaxkuxjA

 

izlax%&      Jheku~th dh lsok esa fnuakd 22&10&2015 ,oe~ blls iwoZ fofHkUu fnukdkas dks izkFkZuk i= fn;s gq, gS ysfdu dk;Zokgh ugha gqbZ gS] dk;Zokgh ugha gksus ls {kqC/k gksdj eSa o esjk ifjokj vfr'kh?kz Jheku~th ds dk;kZy; ds ckgj vkej.k vu'ku Lo;a] cPpksa lfgr o vius i'kq/ku lfgr cSBus tk jgk gS] esa jkgr gsrwA  

Jheku~th]

            lknj fuosnu gS fd izkFkhZ;k ljkst jkuh iq=h Jh cyohj falg iRuh Jh nqykjke tkfr uk;d fuoklh xkao 5 ch NksVh rglhy o ftyk Jhxaxkuxj ¼jkt0½ dh jgus okyh gS vuqlwfpr tkfr dh lnL; gS] f'kf{kr csjkstxkj gSA

1&    ;g fd pd 5 ch NksVh fLFkr vkWaxuckM+h dsUnz esa dk;ZdrkZ dk in fnuakd 11&09&2014 ls fjDr pyk vk jgk gS ftlds fy, eSaus xzke iapk;r esa fu;ekuqlkj vkosnu fd;k A avkosnu ds lkFk vius reke nLrkost layXu fd;s A mijksDr in dsoy vuqlwfpr tkfr dh efgyk ds fy, vkjf{kr gS ftlds fy, gh eSaus vius reke nLrkostksa ds lkFk vius izek.k i=ksa ds lkFk fof/k vuqlkj le; ij vkosnu fd;k A

2&    ;g fd vkWaxuckM+h dssUnz 5 ch NksVh esa fu;eksa dks /kRrk crkdj fof/k fo:) rjhds ls Jhefr vatuh iRuh Jh lk/kqjke tkfr lqFkkj fuoklh xkao 5 ch NksVh rglhy o ftyk Jhxaxkuxj tks fd vU; fiNM+h tkfr dh Js.kh esa vkrh gS mldk p;u fof/k fo:) o xqi&pqi rjhds ls iapk;r ds inkf/kdkfj;ksa us dj fn;k] mldks fu;qfDr ns nh tcfd dkuwuu vuqlwfpr tkfr dh vkjf{kr lhV ij vks ch lh ds fdlh Hkh lnL; dks fdlh Hkh rjg ls p;u ugha fd;k tk ldrk A bl ckr dh tkudkjh gksus ds ckotwn Hkh iapk;r }kjk xyr izLrko ysdj vuqlwfpr tkfr dh lhV ij vks ch lh tkfr ds lnL; dks fu;qfDr nh xbZ gS A Jhefr vatuh ds ikl o mlds ifjokj ds ikl viuk Lo;a dk edku]tehu tk;nkn o vU; gj izdkj dh lqfo/kk,a ekSdk ij gS bu lc ckrksa dh tkudkjh gksus ds ckotwn Hkh xqi pqi rjhds ls iapk;r ds inkf/kdkfj;ksa }kjk fu;qfDr dh xbZ gSA

3&    ;g fd eSaus bl lEcU/k esa ekuuh; mifuns'kd efgyk ,oa cky fodkl foHkkx] Jhxaxkuxj dh lsok esa fnuakd 08&10&2014 dks ,oe~ blds ckn fnukad 22&04&2015] o 22&10&2015 dks ,oe~ ekuuh; ftyk dySDVj egksn;] Jhxaxkuxj dh lsok esa izkFkZuk i= is'k dj fn;s gS ftlesa vHkh rd fdlh Hkh izdkj dh dskbZ dk;Zokgh ugha gqbZ gSA dkuwuu vuqlwfpr tkfr dh vkjf{kr lhV ij fdlh Hkh rjg ls fdlh fnXxj tkfr ds lnL; dks fdlh Hkh rjg ls fu;qfDr nsus dk dskbZ izko/kku ugha gS] ysfdu bl ckr dh tkudkjh gksus ds ckotwn Hkh ncko esa vkdj fof/k fo:) xyr dk;Zokgh dh xbZ gS] tks fd tkWap ds ;ksX; gSA Jheku~th ;g in vuqlwfpr tkfr dh efgyk ds fy, vkjf{kr gS xzke iapk;r 9 tSM }kjk bl fu;qfDr ds lEcU/k esa iapk;r ds vUnj fdlh Hkh rjg ls izpkj izlkj ugha fd;k x;k gS pwafd vxj izpkj izlkj fd;k tkrk rks esjs vykok xkao dh vU; Hkh dkQh i<h fy[kh efgyk,a fu;ekuqlkj vkosnu dj ldrh Fkh] ysfdu Jhefr vatuh dks ykHk igqapkus dh fu;r ls iapk;r }kjk dqN Hkh ugha fd;k x;k A eSa bl lEcU/k esa djhc 20&25 efgykvksa ds C;ku djokus ds fy, rS;kj gWwaA Jheku~th xzke iapk;r 9 tSM ds fjdkWMZ ds vUnj iapk;r ljiap }kjk dkQh /kka/kyhckth dh xbZ gS fjdkWMZ esa xM+cM+h gS] ljdkjh /ku dk nq:i;ksx fd;k x;k gS]ftldk fjdkWMZ ds vUnj ys[kk tks[kk ugha gS] mldk fcy mBk;k gS] izdj.k dh tkWap dh tkosA

              ;g fd vc esjs dks fo'oLr lw=ksa ls tkudkjh feyh gS fd fuokZfpr ljiap vuqiek fc'uksbZ dk p;u ljdkjh rkSj ls fdlh cM+s in ij gksus tk jgk gS ;k gks x;k gS rFkkdfFkr ljiap }kjk vc Hkh Jhefr vuqiek fc'uksbZ Lo;a cudj mlds gLrk{kj dj jgk gS] mlds ysVj isM dk nq:i;ksx dj jgk gS] bl ckjs esa esjk vkils fuosnu gS fd Jheku~th Lo;a xkao esa igqapdj yksxksa ds C;ku yssaos rks lkjh lPpkbZ lkeus vk tk;sxhA

&&2

 

 

&2&

              Jheku~th dh lsok esa fnuakd 22&10&2015 ,oe~ blls iwoZ fofHkUu fnukdkas dks izkFkZuk i= fn;s gq, gS ysfdu dk;Zokgh ugha gqbZ gS] dk;Zokgh ugha gksus ls {kqC/k gksdj eSa o esjk ifjokj vfr'kh?kz Jheku~th ds dk;kZy; ds ckgj vkej.k vu'ku Lo;a] cPpksa lfgr o vius i'kq/ku lfgr cSBus tk jgk gSA

            bl lEcU/k esa ekuuh; ,u ,p vkj lh foHkkx] ubZ fnYyh }kjk esjh f'kdk;r dk jftLVªs'ku uEcj 2882@20@26@2015 ij ntZ fd;k x;k gS ysfdu blds ckotwn Hkh dksbZ dk;Zokgh ugha gqbZ gSA  

              fygktk Jheku~th dh lsok esa iqu% izkFkZuk i= is'k djds djc) fuosnu gS fd rqjUr izHkko ls vkWaxuckM+h dsUnz pd 5 ch NksVh Jhxaxkuxj esa dh xbZ xyr fu;qfDr dks rqjUr izHkko ls fujLr fd;k tkos] o mDr ekeys dh tkWap dh tkos] eqdnek Hkh dk;e djok;k tkos] dh xbZ dk;Zokgh ls voxr djok;k tkos] eSa bl fu;qfDr dh ik= gWwa] esjh fu;qfDr djokbZ tkos] vxj ,slk ugha fd;k x;k rks eSa vius cPpksa o ifjokj lfgr Jheku~th ds dk;kZy; ds ckgj vkej.k vu'ku djus tk jgh gWwa] ftldh leLr ftEesokjh xzke iapk;r 9 tSM ds ljiap vuqiek fc'uksbZ o iz'kklu o rFkkdfFkr QthZ ljiap yhyk/kj fc'uksbZ tks vuqiek fc'uksbZ dk firk gS] dh gksxhA

              Jheku~th dh vfr esgjckuh gksxhA

                                  l/kU;okn~

fnukad%&08&02&2016                                           izkFkhZ;k

 

 

ljkst nsoh iRuh Jh nqykjke tkfr uk;d fuoklh xkao 5 ch NksVh] rglhy o ftyk Jhxaxkuxj

eks-u-&9509059071

izfrfyfi lwpukFkZ%&

1&    ekuuh; jk'Vªifr egksn;] Hkkjr ljdkj ubZ fnYyhA

2&    ekuuh; Jhefr lksfu;k xka/kh] jk'Vªh; v/;{k&dkaxzsl ikVhZ] ubZ fnYyhA

3&    ekuuh;k eq[;eU=h egksn;k] izHkkjh eU=h efgyk ,oa cky fodkl foHkkx] jktLFkku ljdkj] t;iqjA

4&    vfrfjDr eq[; lfpo] efgyk ,oa cky fodkl foHkkx] jktLFkku ljdkj t;iqjA

5&    izeq[k 'kklu lfpo] iapk;rh jkt ,oa xzkeh.k fodkl foHkkx] jktLFkku ljdkj t;iqja

6&    vk;qDr iapk;r jkt ,oa xzkeh.k fodkl foHkkx] t;iqjA

7&    ftyk dySDVj egksn;] JhxaxkuxjA

8&    ftyk izeq[k] JhxaxkuxjA

9&    ekuuh;k fodkl vf/kdkjh egksn;k] ia-l-JhxaxkuxjA

10&   eq[; dk;Zdkjh vf/kdkjh] ftyk ifj'kn] JhxaxkuxjA

11&   mifuns'kd efgyk ,oa cky fodkl foHkkx] JhxaxkuxjA

12&   iz/kku egksn;] iapk;r lfefr] JhxaxkuxjA

13&   mifuns'kd egksn;] cky fodkl ifj;kstuk vf/kdkjh lesfdr cky fodkl] Jhxaxkuxj

14&   ekuuh; fo/kk;d egksn;] fo/kkulHkk {ks= lknqy'kgj] ftyk JhxaxkuxjA

15&   Jheku~ ,l ,p vks egksn;] iqfyl Fkkuk lnj] JhxaxkuxjA

16&   ljiap xzke iapk;r 9 tSM ¼vuqiek fc'uksbZ½] ia-l- Jhxakxuxj

17&   Jheku~ vfrfjDr iqfyl v/kh{kd egksn;]¼Hkz'Vkpkj fujks/kd foHkkx½]Jhxaxkuxj

18&   Jhefr dkfeuh ftUny] fo/kk;d JhxaxkuxjA

19&   Jheku~ iz/kku lEiknd egksn;] nSfud HkkLdj] nSfud jktLFkku if=dk] Jhxaxkuxj] iz/kku lEikndA lsokesa]

            Jheku~ lfpo ckyfodkl efgyk ,oa ckyfodkl

            ea=ky; Hkkjr ljdkj ubZ fnYyhA

 

fo'k;%&      vkWaxuckM+h dsUnz pd 5 ch NksVh rglhy o ftyk Jhxaxkuxj ¼jkt0½ esa fof/k fo:) dh xbZ fu;qfDr fujLr djus gsrq o dkuwuh dk;Zokgh djus gsrw o eqdnek dk;e djok;s tkus gsrw o foHkkxh; dk;Zokgh djokus gsrq izkFkZuk i= A

            Fkkuk iqfyl lnj] JhxaxkuxjA

 

izlax%&      Jheku~th dh lsok esa fnuakd 22&10&2015 ,oe~ blls iwoZ fofHkUu fnukdkas dks izkFkZuk i= fn;s gq, gS ysfdu dk;Zokgh ugha gqbZ gS] dk;Zokgh ugha gksus ls {kqC/k gksdj eSa o esjk ifjokj vfr'kh?kz Jheku~th ds dk;kZy; ds ckgj vkej.k vu'ku Lo;a] cPpksa lfgr o vius i'kq/ku lfgr cSBus tk jgk gS] esa jkgr gsrwA  

Jheku~th]

            lknj fuosnu gS fd izkFkhZ;k ljkst jkuh iq=h Jh cyohj falg iRuh Jh nqykjke tkfr uk;d fuoklh xkao 5 ch NksVh rglhy o ftyk Jhxaxkuxj ¼jkt0½ dh jgus okyh gS vuqlwfpr tkfr dh lnL; gS] f'kf{kr csjkstxkj gSA

1&    ;g fd pd 5 ch NksVh fLFkr vkWaxuckM+h dsUnz esa dk;ZdrkZ dk in fnuakd 11&09&2014 ls fjDr pyk vk jgk gS ftlds fy, eSaus xzke iapk;r esa fu;ekuqlkj vkosnu fd;k A avkosnu ds lkFk vius reke nLrkost layXu fd;s A mijksDr in dsoy vuqlwfpr tkfr dh efgyk ds fy, vkjf{kr gS ftlds fy, gh eSaus vius reke nLrkostksa ds lkFk vius izek.k i=ksa ds lkFk fof/k vuqlkj le; ij vkosnu fd;k A

2&    ;g fd vkWaxuckM+h dssUnz 5 ch NksVh esa fu;eksa dks /kRrk crkdj fof/k fo:) rjhds ls Jhefr vatuh iRuh Jh lk/kqjke tkfr lqFkkj fuoklh xkao 5 ch NksVh rglhy o ftyk Jhxaxkuxj tks fd vU; fiNM+h tkfr dh Js.kh esa vkrh gS mldk p;u fof/k fo:) o xqi&pqi rjhds ls iapk;r ds inkf/kdkfj;ksa us dj fn;k] mldks fu;qfDr ns nh tcfd dkuwuu vuqlwfpr tkfr dh vkjf{kr lhV ij vks ch lh ds fdlh Hkh lnL; dks fdlh Hkh rjg ls p;u ugha fd;k tk ldrk A bl ckr dh tkudkjh gksus ds ckotwn Hkh iapk;r }kjk xyr izLrko ysdj vuqlwfpr tkfr dh lhV ij vks ch lh tkfr ds lnL; dks fu;qfDr nh xbZ gS A Jhefr vatuh ds ikl o mlds ifjokj ds ikl viuk Lo;a dk edku]tehu tk;nkn o vU; gj izdkj dh lqfo/kk,a ekSdk ij gS bu lc ckrksa dh tkudkjh gksus ds ckotwn Hkh xqi pqi rjhds ls iapk;r ds inkf/kdkfj;ksa }kjk fu;qfDr dh xbZ gSA

3&    ;g fd eSaus bl lEcU/k esa ekuuh; mifuns'kd efgyk ,oa cky fodkl foHkkx] Jhxaxkuxj dh lsok esa fnuakd 08&10&2014 dks ,oe~ blds ckn fnukad 22&04&2015] o 22&10&2015 dks ,oe~ ekuuh; ftyk dySDVj egksn;] Jhxaxkuxj dh lsok esa izkFkZuk i= is'k dj fn;s gS ftlesa vHkh rd fdlh Hkh izdkj dh dskbZ dk;Zokgh ugha gqbZ gSA dkuwuu vuqlwfpr tkfr dh vkjf{kr lhV ij fdlh Hkh rjg ls fdlh fnXxj tkfr ds lnL; dks fdlh Hkh rjg ls fu;qfDr nsus dk dskbZ izko/kku ugha gS] ysfdu bl ckr dh tkudkjh gksus ds ckotwn Hkh ncko esa vkdj fof/k fo:) xyr dk;Zokgh dh xbZ gS] tks fd tkWap ds ;ksX; gSA Jheku~th ;g in vuqlwfpr tkfr dh efgyk ds fy, vkjf{kr gS xzke iapk;r 9 tSM }kjk bl fu;qfDr ds lEcU/k esa iapk;r ds vUnj fdlh Hkh rjg ls izpkj izlkj ugha fd;k x;k gS pwafd vxj izpkj izlkj fd;k tkrk rks esjs vykok xkao dh vU; Hkh dkQh i<h fy[kh efgyk,a fu;ekuqlkj vkosnu dj ldrh Fkh] ysfdu Jhefr vatuh dks ykHk igqapkus dh fu;r ls iapk;r }kjk dqN Hkh ugha fd;k x;k A eSa bl lEcU/k esa djhc 20&25 efgykvksa ds C;ku djokus ds fy, rS;kj gWwaA Jheku~th xzke iapk;r 9 tSM ds fjdkWMZ ds vUnj iapk;r ljiap }kjk dkQh /kka/kyhckth dh xbZ gS fjdkWMZ esa xM+cM+h gS] ljdkjh /ku dk nq:i;ksx fd;k x;k gS]ftldk fjdkWMZ ds vUnj ys[kk tks[kk ugha gS] mldk fcy mBk;k gS] izdj.k dh tkWap dh tkosA

              ;g fd vc esjs dks fo'oLr lw=ksa ls tkudkjh feyh gS fd fuokZfpr ljiap vuqiek fc'uksbZ dk p;u ljdkjh rkSj ls fdlh cM+s in ij gksus tk jgk gS ;k gks x;k gS rFkkdfFkr ljiap }kjk vc Hkh Jhefr vuqiek fc'uksbZ Lo;a cudj mlds gLrk{kj dj jgk gS] mlds ysVj isM dk nq:i;ksx dj jgk gS] bl ckjs esa esjk vkils fuosnu gS fd Jheku~th Lo;a xkao esa igqapdj yksxksa ds C;ku yssaos rks lkjh lPpkbZ lkeus vk tk;sxhA

&&2

 

 

&2&

              Jheku~th dh lsok esa fnuakd 22&10&2015 ,oe~ blls iwoZ fofHkUu fnukdkas dks izkFkZuk i= fn;s gq, gS ysfdu dk;Zokgh ugha gqbZ gS] dk;Zokgh ugha gksus ls {kqC/k gksdj eSa o esjk ifjokj vfr'kh?kz Jheku~th ds dk;kZy; ds ckgj vkej.k vu'ku Lo;a] cPpksa lfgr o vius i'kq/ku lfgr cSBus tk jgk gSA

            bl lEcU/k esa ekuuh; ,u ,p vkj lh foHkkx] ubZ fnYyh }kjk esjh f'kdk;r dk jftLVªs'ku uEcj 2882@20@26@2015 ij ntZ fd;k x;k gS ysfdu blds ckotwn Hkh dksbZ dk;Zokgh ugha gqbZ gSA  

              fygktk Jheku~th dh lsok esa iqu% izkFkZuk i= is'k djds djc) fuosnu gS fd rqjUr izHkko ls vkWaxuckM+h dsUnz pd 5 ch NksVh Jhxaxkuxj esa dh xbZ xyr fu;qfDr dks rqjUr izHkko ls fujLr fd;k tkos] o mDr ekeys dh tkWap dh tkos] eqdnek Hkh dk;e djok;k tkos] dh xbZ dk;Zokgh ls voxr djok;k tkos] eSa bl fu;qfDr dh ik= gWwa] esjh fu;qfDr djokbZ tkos] vxj ,slk ugha fd;k x;k rks eSa vius cPpksa o ifjokj lfgr Jheku~th ds dk;kZy; ds ckgj vkej.k vu'ku djus tk jgh gWwa] ftldh leLr ftEesokjh xzke iapk;r 9 tSM ds ljiap vuqiek fc'uksbZ o iz'kklu o rFkkdfFkr QthZ ljiap yhyk/kj fc'uksbZ tks vuqiek fc'uksbZ dk firk gS] dh gksxhA

              Jheku~th dh vfr esgjckuh gksxhA

                                  l/kU;okn~

fnukad%&08&02&2016                                           izkFkhZ;k

 

 

ljkst nsoh iRuh Jh nqykjke tkfr uk;d fuoklh xkao 5 ch NksVh] rglhy o ftyk Jhxaxkuxj

eks-u-&9509059071

izfrfyfi lwpukFkZ%&

1&    ekuuh; jk'Vªifr egksn;] Hkkjr ljdkj ubZ fnYyhA

2&    ekuuh; Jhefr lksfu;k xka/kh] jk'Vªh; v/;{k&dkaxzsl ikVhZ] ubZ fnYyhA

3&    ekuuh;k eq[;eU=h egksn;k] izHkkjh eU=h efgyk ,oa cky fodkl foHkkx] jktLFkku ljdkj] t;iqjA

4&    vfrfjDr eq[; lfpo] efgyk ,oa cky fodkl foHkkx] jktLFkku ljdkj t;iqjA

5&    izeq[k 'kklu lfpo] iapk;rh jkt ,oa xzkeh.k fodkl foHkkx] jktLFkku ljdkj t;iqja

6&    vk;qDr iapk;r jkt ,oa xzkeh.k fodkl foHkkx] t;iqjA

7&    ftyk dySDVj egksn;] JhxaxkuxjA

8&    ftyk izeq[k] JhxaxkuxjA

9&    ekuuh;k fodkl vf/kdkjh egksn;k] ia-l-JhxaxkuxjA

10&   eq[; dk;Zdkjh vf/kdkjh] ftyk ifj'kn] JhxaxkuxjA

11&   mifuns'kd efgyk ,oa cky fodkl foHkkx] JhxaxkuxjA

12&   iz/kku egksn;] iapk;r lfefr] JhxaxkuxjA

13&   mifuns'kd egksn;] cky fodkl ifj;kstuk vf/kdkjh lesfdr cky fodkl] Jhxaxkuxj

14&   ekuuh; fo/kk;d egksn;] fo/kkulHkk {ks= lknqy'kgj] ftyk JhxaxkuxjA

15&   Jheku~ ,l ,p vks egksn;] iqfyl Fkkuk lnj] JhxaxkuxjA

16&   ljiap xzke iapk;r 9 tSM ¼vuqiek fc'uksbZ½] ia-l- Jhxakxuxj

17&   Jheku~ vfrfjDr iqfyl v/kh{kd egksn;]¼Hkz'Vkpkj fujks/kd foHkkx½]Jhxaxkuxj

18&   Jhefr dkfeuh ftUny] fo/kk;d JhxaxkuxjA

19&   Jheku~ iz/kku lEiknd egksn;] nSfud HkkLdj] nSfud jktLFkku if=dk] Jhxaxkuxj] iz/kku lEikndA 

Submitted by Saroj Rani (not verified) on Fri, 05/27/2016 - 14:49

Permalink

lsokesa]

            Jheku~ lfpo ckyfodkl efgyk ,oa ckyfodkl

            ea=ky; Hkkjr ljdkj ubZ fnYyhA

 

fo'k;%&      vkWaxuckM+h dsUnz pd 5 ch NksVh rglhy o ftyk Jhxaxkuxj ¼jkt0½ esa fof/k fo:) dh xbZ fu;qfDr fujLr djus gsrq o dkuwuh dk;Zokgh djus gsrw o eqdnek dk;e djok;s tkus gsrw o foHkkxh; dk;Zokgh djokus gsrq izkFkZuk i= A

            Fkkuk iqfyl lnj] JhxaxkuxjA

 

izlax%&      Jheku~th dh lsok esa fnuakd 22&10&2015 ,oe~ blls iwoZ fofHkUu fnukdkas dks izkFkZuk i= fn;s gq, gS ysfdu dk;Zokgh ugha gqbZ gS] dk;Zokgh ugha gksus ls {kqC/k gksdj eSa o esjk ifjokj vfr'kh?kz Jheku~th ds dk;kZy; ds ckgj vkej.k vu'ku Lo;a] cPpksa lfgr o vius i'kq/ku lfgr cSBus tk jgk gS] esa jkgr gsrwA  

Jheku~th]

            lknj fuosnu gS fd izkFkhZ;k ljkst jkuh iq=h Jh cyohj falg iRuh Jh nqykjke tkfr uk;d fuoklh xkao 5 ch NksVh rglhy o ftyk Jhxaxkuxj ¼jkt0½ dh jgus okyh gS vuqlwfpr tkfr dh lnL; gS] f'kf{kr csjkstxkj gSA

1&    ;g fd pd 5 ch NksVh fLFkr vkWaxuckM+h dsUnz esa dk;ZdrkZ dk in fnuakd 11&09&2014 ls fjDr pyk vk jgk gS ftlds fy, eSaus xzke iapk;r esa fu;ekuqlkj vkosnu fd;k A avkosnu ds lkFk vius reke nLrkost layXu fd;s A mijksDr in dsoy vuqlwfpr tkfr dh efgyk ds fy, vkjf{kr gS ftlds fy, gh eSaus vius reke nLrkostksa ds lkFk vius izek.k i=ksa ds lkFk fof/k vuqlkj le; ij vkosnu fd;k A

2&    ;g fd vkWaxuckM+h dssUnz 5 ch NksVh esa fu;eksa dks /kRrk crkdj fof/k fo:) rjhds ls Jhefr vatuh iRuh Jh lk/kqjke tkfr lqFkkj fuoklh xkao 5 ch NksVh rglhy o ftyk Jhxaxkuxj tks fd vU; fiNM+h tkfr dh Js.kh esa vkrh gS mldk p;u fof/k fo:) o xqi&pqi rjhds ls iapk;r ds inkf/kdkfj;ksa us dj fn;k] mldks fu;qfDr ns nh tcfd dkuwuu vuqlwfpr tkfr dh vkjf{kr lhV ij vks ch lh ds fdlh Hkh lnL; dks fdlh Hkh rjg ls p;u ugha fd;k tk ldrk A bl ckr dh tkudkjh gksus ds ckotwn Hkh iapk;r }kjk xyr izLrko ysdj vuqlwfpr tkfr dh lhV ij vks ch lh tkfr ds lnL; dks fu;qfDr nh xbZ gS A Jhefr vatuh ds ikl o mlds ifjokj ds ikl viuk Lo;a dk edku]tehu tk;nkn o vU; gj izdkj dh lqfo/kk,a ekSdk ij gS bu lc ckrksa dh tkudkjh gksus ds ckotwn Hkh xqi pqi rjhds ls iapk;r ds inkf/kdkfj;ksa }kjk fu;qfDr dh xbZ gSA

3&    ;g fd eSaus bl lEcU/k esa ekuuh; mifuns'kd efgyk ,oa cky fodkl foHkkx] Jhxaxkuxj dh lsok esa fnuakd 08&10&2014 dks ,oe~ blds ckn fnukad 22&04&2015] o 22&10&2015 dks ,oe~ ekuuh; ftyk dySDVj egksn;] Jhxaxkuxj dh lsok esa izkFkZuk i= is'k dj fn;s gS ftlesa vHkh rd fdlh Hkh izdkj dh dskbZ dk;Zokgh ugha gqbZ gSA dkuwuu vuqlwfpr tkfr dh vkjf{kr lhV ij fdlh Hkh rjg ls fdlh fnXxj tkfr ds lnL; dks fdlh Hkh rjg ls fu;qfDr nsus dk dskbZ izko/kku ugha gS] ysfdu bl ckr dh tkudkjh gksus ds ckotwn Hkh ncko esa vkdj fof/k fo:) xyr dk;Zokgh dh xbZ gS] tks fd tkWap ds ;ksX; gSA Jheku~th ;g in vuqlwfpr tkfr dh efgyk ds fy, vkjf{kr gS xzke iapk;r 9 tSM }kjk bl fu;qfDr ds lEcU/k esa iapk;r ds vUnj fdlh Hkh rjg ls izpkj izlkj ugha fd;k x;k gS pwafd vxj izpkj izlkj fd;k tkrk rks esjs vykok xkao dh vU; Hkh dkQh i<h fy[kh efgyk,a fu;ekuqlkj vkosnu dj ldrh Fkh] ysfdu Jhefr vatuh dks ykHk igqapkus dh fu;r ls iapk;r }kjk dqN Hkh ugha fd;k x;k A eSa bl lEcU/k esa djhc 20&25 efgykvksa ds C;ku djokus ds fy, rS;kj gWwaA Jheku~th xzke iapk;r 9 tSM ds fjdkWMZ ds vUnj iapk;r ljiap }kjk dkQh /kka/kyhckth dh xbZ gS fjdkWMZ esa xM+cM+h gS] ljdkjh /ku dk nq:i;ksx fd;k x;k gS]ftldk fjdkWMZ ds vUnj ys[kk tks[kk ugha gS] mldk fcy mBk;k gS] izdj.k dh tkWap dh tkosA

              ;g fd vc esjs dks fo'oLr lw=ksa ls tkudkjh feyh gS fd fuokZfpr ljiap vuqiek fc'uksbZ dk p;u ljdkjh rkSj ls fdlh cM+s in ij gksus tk jgk gS ;k gks x;k gS rFkkdfFkr ljiap }kjk vc Hkh Jhefr vuqiek fc'uksbZ Lo;a cudj mlds gLrk{kj dj jgk gS] mlds ysVj isM dk nq:i;ksx dj jgk gS] bl ckjs esa esjk vkils fuosnu gS fd Jheku~th Lo;a xkao esa igqapdj yksxksa ds C;ku yssaos rks lkjh lPpkbZ lkeus vk tk;sxhA

&&2

 

 

&2&

              Jheku~th dh lsok esa fnuakd 22&10&2015 ,oe~ blls iwoZ fofHkUu fnukdkas dks izkFkZuk i= fn;s gq, gS ysfdu dk;Zokgh ugha gqbZ gS] dk;Zokgh ugha gksus ls {kqC/k gksdj eSa o esjk ifjokj vfr'kh?kz Jheku~th ds dk;kZy; ds ckgj vkej.k vu'ku Lo;a] cPpksa lfgr o vius i'kq/ku lfgr cSBus tk jgk gSA

            bl lEcU/k esa ekuuh; ,u ,p vkj lh foHkkx] ubZ fnYyh }kjk esjh f'kdk;r dk jftLVªs'ku uEcj 2882@20@26@2015 ij ntZ fd;k x;k gS ysfdu blds ckotwn Hkh dksbZ dk;Zokgh ugha gqbZ gSA  

              fygktk Jheku~th dh lsok esa iqu% izkFkZuk i= is'k djds djc) fuosnu gS fd rqjUr izHkko ls vkWaxuckM+h dsUnz pd 5 ch NksVh Jhxaxkuxj esa dh xbZ xyr fu;qfDr dks rqjUr izHkko ls fujLr fd;k tkos] o mDr ekeys dh tkWap dh tkos] eqdnek Hkh dk;e djok;k tkos] dh xbZ dk;Zokgh ls voxr djok;k tkos] eSa bl fu;qfDr dh ik= gWwa] esjh fu;qfDr djokbZ tkos] vxj ,slk ugha fd;k x;k rks eSa vius cPpksa o ifjokj lfgr Jheku~th ds dk;kZy; ds ckgj vkej.k vu'ku djus tk jgh gWwa] ftldh leLr ftEesokjh xzke iapk;r 9 tSM ds ljiap vuqiek fc'uksbZ o iz'kklu o rFkkdfFkr QthZ ljiap yhyk/kj fc'uksbZ tks vuqiek fc'uksbZ dk firk gS] dh gksxhA

              Jheku~th dh vfr esgjckuh gksxhA

                                  l/kU;okn~

fnukad%&08&02&2016                                           izkFkhZ;k

 

 

ljkst nsoh iRuh Jh nqykjke tkfr uk;d fuoklh xkao 5 ch NksVh] rglhy o ftyk Jhxaxkuxj

eks-u-&9509059071

izfrfyfi lwpukFkZ%&

1&    ekuuh; jk'Vªifr egksn;] Hkkjr ljdkj ubZ fnYyhA

2&    ekuuh; Jhefr lksfu;k xka/kh] jk'Vªh; v/;{k&dkaxzsl ikVhZ] ubZ fnYyhA

3&    ekuuh;k eq[;eU=h egksn;k] izHkkjh eU=h efgyk ,oa cky fodkl foHkkx] jktLFkku ljdkj] t;iqjA

4&    vfrfjDr eq[; lfpo] efgyk ,oa cky fodkl foHkkx] jktLFkku ljdkj t;iqjA

5&    izeq[k 'kklu lfpo] iapk;rh jkt ,oa xzkeh.k fodkl foHkkx] jktLFkku ljdkj t;iqja

6&    vk;qDr iapk;r jkt ,oa xzkeh.k fodkl foHkkx] t;iqjA

7&    ftyk dySDVj egksn;] JhxaxkuxjA

8&    ftyk izeq[k] JhxaxkuxjA

9&    ekuuh;k fodkl vf/kdkjh egksn;k] ia-l-JhxaxkuxjA

10&   eq[; dk;Zdkjh vf/kdkjh] ftyk ifj'kn] JhxaxkuxjA

11&   mifuns'kd efgyk ,oa cky fodkl foHkkx] JhxaxkuxjA

12&   iz/kku egksn;] iapk;r lfefr] JhxaxkuxjA

13&   mifuns'kd egksn;] cky fodkl ifj;kstuk vf/kdkjh lesfdr cky fodkl] Jhxaxkuxj

14&   ekuuh; fo/kk;d egksn;] fo/kkulHkk {ks= lknqy'kgj] ftyk JhxaxkuxjA

15&   Jheku~ ,l ,p vks egksn;] iqfyl Fkkuk lnj] JhxaxkuxjA

16&   ljiap xzke iapk;r 9 tSM ¼vuqiek fc'uksbZ½] ia-l- Jhxakxuxj

17&   Jheku~ vfrfjDr iqfyl v/kh{kd egksn;]¼Hkz'Vkpkj fujks/kd foHkkx½]Jhxaxkuxj

18&   Jhefr dkfeuh ftUny] fo/kk;d JhxaxkuxjA

19&   Jheku~ iz/kku lEiknd egksn;] nSfud HkkLdj] nSfud jktLFkku if=dk] Jhxaxkuxj] iz/kku lEikndA 

Submitted by kodu (not verified) on Mon, 05/30/2016 - 15:17

Permalink

] lwpuk ,oa brykgh fjiksZV ]

 

] lsok esa

 

]     Jh eku~ egksn; th

]             चौथी दुनिया izHkkjh vf/kdkjh

 

]   foi;-----eSa dksnw yky ceZu firk eoklh yky ceZu mez 30 oiZ ds n`kjk ;g lwfpr fd;k tkrk gS fd xzke iapk;r Ngjh ds in vf/kdkjh;ksa ls 07-05-2016 dks lwpuk ds vf/kdkj ds rgr tkWc dkMZ lecaf/k lwpuk ekWaxh xbZ Fkh ysfdu vkosnu ugha fy;s tkus ij dVuh tuin ds n`kjk vkosnu fy;k x;k Fkk ftlds pyrs 27-05-2016 dks buds n`kjk esjs lkFk ekjihV dj tku ls ekjus dh /kedh Hkh nh xbZ gS vkSj esjs ifjokj dks Hkh tku ls [kRe djus dh Hkh /kedh nh xbZ gS esjs vkSj esjs ifjokj dks vxj dqN gksrk gS rks blds tckcnkj xzke iapk;r o xzke iapk;r ds lHkh vf/kdkjh tu gksxsa ]

 

]   vr-a –vkils fuosnu gS fd esjs n`kjk nh xbZ lwpuk dks iDdh dkih ij uksV dj yh tkos rFkk lwpuk fjiksZV dh iDdh dkih eq>s Hksth nh tkos ]-                        /kU;okn      

]

 

  fnukWd--------

 

uke-a  dksnw yky ceZu tu lsod

irk-a  33][ktqjh ftyk dVuh rg-dVuh iks-cM[ksjk e-iz-483442

eksa0----9644204538

Submitted by mukesh dhaka (not verified) on Sun, 06/12/2016 - 23:04

Permalink

Sir me gav dabriyani post ren teh. Merta city dist.nagaur rajasthan ka hu hmare khet k aas pas 2km area me pine k pani ki suvidha nhi h

Submitted by anoop pandey (not verified) on Fri, 06/17/2016 - 07:33

Permalink

sir mera name anoop kumar pandey hai.mai gram shuklapur post rudauli majre firojpur makhdumi dist faizabad utter pradesh ka nivasi hu.sir mere nya ration card nhi ban pa rha h maine ration card online april 2016 me karva diya tha lekin ab bhi mujhe ration nhi mil rha h please mery madat kijiye .mere kotedar ka name babadeen hai .

Submitted by Satish dewasi (not verified) on Fri, 06/17/2016 - 20:20

Permalink

Sir mere gav me gouchar bhumi par kuch logo ne kabja kr rakha hai aur vaha kheti kar rahe hai sir batahiye ki atikarman hatane ke liye kya karyvai krni padegi plz detail me batahiye

Submitted by Nisharraza (not verified) on Tue, 06/21/2016 - 13:04

Permalink

क्षेंत्र में ईट भट्टों द्वारा हो रहे प्रदूषण के सन्दभ्र में 

निसार रजा पुत्र अब्दुल सतार अहमद मो0 सरोजनीनगर कस्बा खुटार जनपद शाहजहांपुर उ0प्र0 242405 सम्पर्क सूत्र- 9455772427               थाना क्षेत्र में लगभग 14 ईट भट्टे हैं जिन में कुछ ईट भट्टे नगर के बीचो बीच हैं कुछ ईट भट्टे  सरकारी स्कूलों के पास हैं कुछ वन क्षेत्र में स्थित हैं नगर के बीचों बीच स्थित वी0डी0आर0 भट्टs हैं जिससे नगर में प्रदूषण हो रहा हैं और लोगों को टी0वी0,सास आदि की बीमारी हो रही हैं कुद भट्टों के पास लाई सेस भी नहीं हैं पर न्तु प्रशासन की मिलीभगत के चलते इन पर कोई कार्यवाही भी नहीं होती हैं स्कूलों के पास स्थित भट्टों से बच्चों को प्रदूषण की मार झेलनी पडती हें जिससे कोई अनहोनी की घटना से कतई इंकार नहीं किया जा सकता हैं ईट भट्टे प्रशासन की आंखें में धूल झोक रहे हैं 

Submitted by Mr vipin kumar (not verified) on Sat, 06/25/2016 - 08:05

Permalink

block hathvant k pratappur village ka panchayat mitra majdooro dwara kam krawata h jiske avas m unko pese deta to h lekin kam 1 din karwata h aur pese 6 day k nikalta h ye pese majdooro se niklwakr khud rakhatah h is tarah lagbhag 1 week me 50000 thousands rs kmata h

Submitted by Vikkas tthakur (not verified) on Fri, 07/01/2016 - 12:53

Permalink

सर मैं इलाहाबाद रामबाग सिटी स्टेशन के सामने एक नाला है जो की तारा होटल के बगल से होते हुए पराग डेरी के सामने जाता है सर इसकी बॉउंड्री सटी हुई है सेवा समिति विद्या मंदिर स्कूल से सर इस पर पूरा अधिक्रमण हो गया है एक देसी शराब की दुकान पराग डेरी के सामने खुली है सर इसकी कंप्लेन हम लोगों ने सभासद महोदय जी से कर रखी है और नगर निगमरजिस्टर्ड कर रखी है बारिश के समय में गर्म पानी भर जाता है सर कृपया इसको खुलवाने का कष्ट करें

Submitted by Vikkas tthakur (not verified) on Fri, 07/01/2016 - 12:57

Permalink

सर मैं इलाहाबाद रामबाग सिटी स्टेशन के सामने एक नाला है जो की तारा होटल के बगल से होते हुए पराग डेरी के सामने जाता है सर इसकी बॉउंड्री सटी हुई है सेवा समिति विद्या मंदिर स्कूल से सर इस पर पूरा अधिक्रमण हो गया है एक देसी शराब की दुकान पराग डेरी के सामने खुली है सर इसकी कंप्लेन हम लोगों ने सभासद महोदय जी से कर रखी है और नगर निगमरजिस्टर्ड कर रखी है बारिश के समय में गर्म पानी भर जाता है सर कृपया इसको खुलवाने का कष्ट करें

Submitted by Vikkas tthakur (not verified) on Fri, 07/01/2016 - 13:00

Permalink

सर मैं इलाहाबाद रामबाग सिटी स्टेशन के सामने एक नाला है जो की तारा होटल के बगल से होते हुए पराग डेरी के सामने जाता है सर इसकी बॉउंड्री सटी हुई है सेवा समिति विद्या मंदिर स्कूल से सर इस पर पूरा अधिक्रमण हो गया है एक देसी शराब की दुकान पराग डेरी के सामने खुली है सर इसकी कंप्लेन हम लोगों ने सभासद महोदय जी से कर रखी है और नगर निगमरजिस्टर्ड कर रखी है बारिश के समय में गर्म पानी भर जाता है सर कृपया इसको खुलवाने का कष्ट करें

Submitted by Vikkas tthakur (not verified) on Fri, 07/01/2016 - 13:01

Permalink

सर मैं इलाहाबाद रामबाग सिटी स्टेशन के सामने एक नाला है जो की तारा होटल के बगल से होते हुए पराग डेरी के सामने जाता है सर इसकी बॉउंड्री सटी हुई है सेवा समिति विद्या मंदिर स्कूल से सर इस पर पूरा अधिक्रमण हो गया है एक देसी शराब की दुकान पराग डेरी के सामने खुली है सर इसकी कंप्लेन हम लोगों ने सभासद महोदय जी से कर रखी है और नगर निगमरजिस्टर्ड कर रखी है बारिश के समय में गर्म पानी भर जाता है सर कृपया इसको खुलवाने का कष्ट करें

Submitted by LAL JI VERMA (not verified) on Sun, 07/03/2016 - 10:53

Permalink

sir yaha par sadak par pani bhara hua hai jisse logo ko aane jane me taklif ho rahi hai aap se nivedan hai ki isse nidan dilaye 

 

Submitted by ravindra baranwal (not verified) on Fri, 07/08/2016 - 15:31

Permalink

Sir hmare gaaw me sadak pass ho chuki he.lekin pichhle 10 saal se sadak nhi bni he or hmare bachhoko,gaawvaloko scool,hospital,market,city Jana possible nhi hora.jgha jgha pe kichad he pathhar he .krupa krke hmari gaaw ki sadak ka kam jald se jald chalu kijiye hmari sikayat ap me pass jald pahuche.

Submitted by Haseeb khan (not verified) on Sun, 07/10/2016 - 11:36

Permalink

ग्राम महोली से रोडिया की ओर कच्ची सड़क हे जो की बहुत ही ख़राब इस्थति में हे इस रास्ते से 6 ग्राम की जनता रोज़ निकल ती हे ओर उनको बहुत कठिनाही का सामना करना पड़ता है । अतः निवेदन है कि इस सड़क को जल्द से जल्द पक्का बनाया जाये ताकि यहाँ की जनता को शहर आने जाने में कोई कठिना ई नहो सके । यह सड़क मुख्य सड़क हे महोली आने जाने के लिए।जनपद पंचायत बैरसिया जिला भोपाल

Submitted by no name (not verified) on Sun, 07/10/2016 - 14:15

Permalink

Sir i am from sakoli chamunda in my village there is very bad condition of kaccha rasta it was very bad condition people of my village throw all there waste field product on the 1 metre road now it is difficult to walk to school and work

Submitted by मुश्ताक अली (not verified) on Tue, 07/12/2016 - 00:07

Permalink

सेवा में श्रीमान महोदय --------विषय बाजदारी टोला खैराबाद स्थित यूनुस कोटेदार की अनियमितता तथा मनमानी एवं दबंगई और राशन ना देने के संबंध में_______ महोदय निवेदन है कि प्रार्थी मुस्ताक अली पुत्र स्वर्गीय शाकिर अली निवासी शेख सराय खैराबाद जिला सीतापुर उत्तर प्रदेश का निवासी है प्रार्थी का एपीएल राशन कार्ड संख्या 1488 89 है प्रार्थी को बाज़दारी टोला स्थिति यूनुस कोटेदार के यहां से राशन मिलता है लेकिन कोटेदार ने पिछले 3 माह से मिट्टी का तेल और राशन इत्यादि कुछ भी नहीं दिया है जब कि प्रार्थी राशन कार्ड आनलाईन की सारी प्रक्रिया पूर्ण करा चुका है कोटेदार प्रत्येक महीने की 10 तारीख के अलावा किसी भी दिन मिट्टी का तेल आवंटित नहीं करता कोटेदार की दबंगई और मनमानी के कारण प्रार्थी को तथा कोटे से संबंधित अन्य उपभोक्ताओं को भी काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है कोटेदार जितना राशन नहीं देता है उससे कहीं ज्यादा उपभोक्ताओं का समय बर्बाद करवाता है और गरीब बेचारे अपनी मजदूरी और काम-धंधा छोड़कर कोटे के चक्कर लगाने को मजबूर रहते हैं ज्ञात हो कि इन्हीं अनियमितताओं और दबंगई के कारण पूर्व में यूनिस कोटेदार का कोटा निरस्त कर दिया गया था लेकिन फिर भी अपनी अच्छी ऊंची पहुंच के कारण उपभोक्ताओं पर रौब झाड़ते हुए यूनुस कोटेदार कहता है कि जहां चाहो शिकायत करो मेरे ऊपर प्रशासन कोई कार्रवाई नहीं करेगा अतः श्रीमानजी से निवेदन है कि कोटेदार की जांच करा कर नियमित कोटा खुलवाने तथा राशन आवंटित करवाने के साथ-साथ कोटेदार पर सख्त कार्यवाही करने का कष्ट करें आप की महान कृपा होगी

Submitted by मुश्ताक अली (not verified) on Tue, 07/12/2016 - 00:10

Permalink

सेवा में श्रीमान महोदय --------विषय बाजदारी टोला खैराबाद स्थित यूनुस कोटेदार की अनियमितता तथा मनमानी एवं दबंगई और राशन ना देने के संबंध में_______ महोदय निवेदन है कि प्रार्थी मुस्ताक अली पुत्र स्वर्गीय शाकिर अली निवासी शेख सराय खैराबाद जिला सीतापुर उत्तर प्रदेश का निवासी है प्रार्थी का एपीएल राशन कार्ड संख्या 1488 89 है प्रार्थी को बाज़दारी टोला स्थिति यूनुस कोटेदार के यहां से राशन मिलता है लेकिन कोटेदार ने पिछले 3 माह से मिट्टी का तेल और राशन इत्यादि कुछ भी नहीं दिया है जब कि प्रार्थी राशन कार्ड आनलाईन की सारी प्रक्रिया पूर्ण करा चुका है कोटेदार प्रत्येक महीने की 10 तारीख के अलावा किसी भी दिन मिट्टी का तेल आवंटित नहीं करता कोटेदार की दबंगई और मनमानी के कारण प्रार्थी को तथा कोटे से संबंधित अन्य उपभोक्ताओं को भी काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है कोटेदार जितना राशन नहीं देता है उससे कहीं ज्यादा उपभोक्ताओं का समय बर्बाद करवाता है और गरीब बेचारे अपनी मजदूरी और काम-धंधा छोड़कर कोटे के चक्कर लगाने को मजबूर रहते हैं ज्ञात हो कि इन्हीं अनियमितताओं और दबंगई के कारण पूर्व में यूनिस कोटेदार का कोटा निरस्त कर दिया गया था लेकिन फिर भी अपनी अच्छी ऊंची पहुंच के कारण उपभोक्ताओं पर रौब झाड़ते हुए यूनुस कोटेदार कहता है कि जहां चाहो शिकायत करो मेरे ऊपर प्रशासन कोई कार्रवाई नहीं करेगा अतः श्रीमानजी से निवेदन है कि कोटेदार की जांच करा कर नियमित कोटा खुलवाने तथा राशन आवंटित करवाने के साथ-साथ कोटेदार पर सख्त कार्यवाही करने का कष्ट करें आप की महान कृपा होगी

Submitted by Pavan Pandey (not verified) on Tue, 07/12/2016 - 13:32

Permalink

Sir mera gao me Abhi tak ek Bhi shauchalaya nahi banaya gaya hai jisase gao walo ko khule maidan me hi shauch ke liye jana padata hai. gai pradhan ne sirf register me shauchalaya banvakar report bhej di hai. jabki sachchai yah hai ki abhi tak village and post Bhatpura - Lalapur Block Shankargarh Tahsil. Bara District. Allahabad uttar pradesh me shauchalaya nahi banaya gaya hai. Eki janch kar ligal action lena chayen.

Submitted by parvin shukla (not verified) on Thu, 07/14/2016 - 10:52

Permalink

सर ग्राम हिसरा बरवाडीह थाना पाटन जिला पलामू टोला जामुन तर मे पानी की बहुत समस्या है २कीलो मिटर से पानी लाना पडता है इसके बारे मे मूखीया से भी कहा गया लेकीन ध्यान दे ते हो जाएगा कहते है सर पानि कि ऊपाय कि जाऐ मैं श्री मान का सदा अभारि रहूँगा

Submitted by satrughan saxean (not verified) on Fri, 07/15/2016 - 12:00

Permalink

sir mai nankari iit kanpur ka niwasi hu...mere ghr k road bhat khrab sthti mai hai...uski naali sb toot gai hai kyonki usme tractor wa 4 vlure jane ki itni jagah ni hai..phir bhi logo n apne tractor nikal kr wo sadak tod di aun naali bhi..aur hammare town mai baki sb gali aur naali ban jati hai per hamari sadak nhi banti aur na nali...krpya jald s jald is smshya ka hal nikal k solve kre thank u so much

Submitted by Anonymous (not verified) on Sat, 07/16/2016 - 13:26

Permalink

सेवा में ,माननीय मुखयमंत्रीजिला लखनऊ उत्तर प्रदेश -२२६००२ विषय :- लोनी 25 फुट मार्ग को कच्ची गली तक 900 मीटर की. आरसीसी की सड़क वा नली के निर्माण के सन्दर् हेतु प्रार्थना पत्र .महोदया, सवनिया निवेदन यह है की मैं अमित कुमार पुत्र श्री ईश्वर दयाल निवासी लोनी नगर सभा क्षेत्र का मूल निवासी हु अतः आप से यह विनम् निवेदन है की मेरी मोहल्ले प्रकाश विहार गली और 25 फुट सड़क से मैन रोड तक जिसकी चौरई 25 फुट और लम्बाई 900 मीटर की दुरी है जोकि कच्ची गली है, जिसमे मोहल्ले सारा गन्दा पानी भर जाता है कीचड़ रहता जिसके कारण मोहल्ले के लोगो को आने जाने में काफी परेशानियां का सामना करना पड़ता है,अतः आप से निवेदन है की समस्या को जनहित में धयान रखते हुए आरसीसी की सड़क तथा सड़क के दोनों और नाली बनवानी का कास्ट करे आपकी महान दया होगी क्योकि ये मुख्य मार्ग होने के कारण लोनी 25 फुट सड़क के लोगो को काफी दिक्कतें का सामना करना पड़ता है .अतः आप से यह पुनः विनम् निवेदन है की हमारी समस्याओं का निदान जल्द से जल्द करने का कास्ट करें आपकी महान दया होगी.दिनांक:- प्रतिलिपि (प्राथी) अमित कुमार,25 फुट सड़क सभी निवासी

Submitted by Abhishek singh (not verified) on Sat, 07/16/2016 - 18:21

Permalink

I am resident of sanjay nagar bharatpur. Here drainage system is 0%. Residents of my colony are very upset because of squalor here. Roads are very dirty. We are not able to walk. Nagar parishad/nagar nigam is not looking at us. no clean up form are here.I am requesting you to please take a legal action against this. Dream of our Mr modi clean up India is sucked here

Submitted by Udai bhan (not verified) on Sat, 07/16/2016 - 22:43

Permalink

Dear sir- :gram sabha jamin khatoni no.37 37ka 37kha 37ga jabaran karib 14 bighe par surendar yadav jAbaran kabja kiye huye hai khatauni no.588 591 592 par jabaran kabja omprakash mishra jo ki karib 60 bighe k malik hai ne kabja kiya hua hai khali karwaye Vill-gaura po.belawa bajar tahshill-mariahu dist-jaunpur up pin no.222161 Mon 9819655634 Email udaybhanmishra23@gmail.com

Submitted by MANVENDRA SINGH (not verified) on Mon, 07/18/2016 - 22:14

Permalink

seva me shri maan ji, 

    nivedan yaha h ki mere gao , Jareliya jattari me beech gao me 1talab h, jo barish k paani se pura bhar gya ,  talab k kinare base gharo me paani aagya h,  kyo ki jaha se talab k paani ka nikash h jo pulia h,  use logo k band kiya hua h,  or  lana bhi band h,  jisase talab ka paani bahar nhi nikal paa rha h. jisase bahut paresani ho rha h, or gandgi bhi bahut h talab me jisase gao me bimari bhi ho rhi h. 

   mera nivedan ki jaldi se jaldi mere gao ki is samsya ko dur karne gujarish.

                    

                                                                       Gao - Jareliya Jattari 

                                                                        post - Hetal pur

                                                                        khana tappal

                                                                        tahsheel - khair  Aligarh 

                                                                           Uttar pradesh. 202137.

Submitted by bhupendra kumar (not verified) on Fri, 07/22/2016 - 10:46

Permalink

Mananiya sakcham adhikari Gram Kheriya kalan gram panchayat jirsami block shitalpur jila Etah ps. Etah .mere gaon me ek sadak banai gayi hai .joki bahut hi kharab banai hai na to uski patri bani gayi haior nahi us par dabar Dali hai or jagah jagah par ukhad gayi hai or is sadak ko up state infrastructure construction dwara banai gayi hai .kripya shriman ji se anurodh hai Ki contractor ke khilap karyvahi karne kikripa kare.apki Mahan kripa hogi.. . Bhupendra Kumar . vill.kheriya kalan. . mob9720238871

Submitted by bhupendra kumar (not verified) on Fri, 07/22/2016 - 11:01

Permalink

Mananiya sakcham adhikari mahoday Mere gram Kheriya kalan gram panchayat Jirsmi blok shitalpur jila Etah .me ek sadak ka nirmad Hua hai lekin us sadak ko bahut hi karab banaya Gaya hai or na to us par dabar lagai gayi hai or na hi uski patari banayi hai or sadak 2 mahine me hi ukhad gayi haior jagah jagah par gahre gadde go Gaye gain.or us sadak ko up infrastructure state sanstha ke dwaraba aya Gaya hai.shriman jise nivedan hai Ki contractor ke khilap karyavahi karne Ki kripa kare.apki Mahan kripa hogi. . Bhupendra Kumar . vill.kheriya kalan . mob.9720238871

Submitted by अभिषेक सक्सेना (not verified) on Wed, 07/27/2016 - 16:04

Permalink

सर मे kashpur रोड नियर बीएसएनएल एक्सचेंज के पास बलि गली दातागंज (badaun, up) मे रहता हु। मेरे घर के सामने राजीव नाम के ब्यक्ति की जगह है जिसमे बह गोबर डालता है। जिसकी बजेह से घर के सामने काफी गंदगी रहती है। और बो रोड पर अपनी गाडी खड़ी करता है। जिससे रोड पर निकलने की जगह नही बचती है। और उसके चाचा रोड पर अपनी बुग्गी और घोडा badhata है। जिससे रोड पर बुल्कुल भी निकलने की जगह नही बचती है। अगर उससे इस बारे में कुछ बोलू तोह उसकी पत्नी गाली गलोच करते है। सर कुछ इस समस्या का समाधान कीजिये।

सर मेरे गावं में वेसे तो बहुँत ज्यादा अतिक्रमण ह मगर यह मामला लोगो के स्वास्थ्य से भी जुड़ा ह। श्री खाजु राम मीणा गाँव के पनघट पर जानवरों का गोबर डाल रहा ह। जो पानी को दूषित क्र रहा ह। क्रप्या मेरा नाम गुप्त रखे।

Sir Nivedan yah h ki mene meri sadak app pr bhi apne gaon ki sadako ki halat post ki h lekin koi sunvai nhi hue h isliye m apse anurod krta hu ki hm sab gramvasiyo ko sadako ke kharab hone se bhut presani h tatha hmare bchche bhi school nhi ja parhe h plz hmari is sansya ka jald se jald kre to apki ati ktapa hogi ThanksHarendra singhVillages-auhawa. Post-surirTehsil-mant. District-mathuraUP. 281205

सर मेरे गावं में वेसे तो बहुँत ज्यादा अतिक्रमण ह मगर यह मामला लोगो के स्वास्थ्य से भी जुड़ा ह। श्री खाजु राम मीणा गाँव के पनघट पर जानवरों का गोबर डाल रहा ह। जो पानी को दूषित क्र रहा ह। क्रप्या मेरा नाम गुप्त रखे।

Submitted by Pankaj Kumar (not verified) on Thu, 07/28/2016 - 17:45

Permalink

सेवा में श्री मान्य मुख्यमंत्री/प्रधानमंत्रीसविनय निवेदन यह की मै पंकज कुमार और तमाम ग्राम वाशी ग्राम दाहु भरना वार्ड न 05 पोस्ट काँप बाजार भाया थाना सौर बाजार जिला सहरसा 85221बिहार का निवाशी हूँ।और हमारे गांव में अभी तक कोई नेता नहीं सड़क और स्कूल बनवाये है,जबकि हमलोगो को काँप बाजार जाने में भी काफी दिक्कत होता है और हमारे गाँव से 4 कि0मी है और बर्षात के महीना में और काफी दिक्कत होता है चारो तरफ पानी रहता है हमारे गाँव के आगे में एक कोशी नदी है और आजकल कोशी नदी का पानी चारो तरफ फैल गया है और हमलोगो को कही जाने में भी पानी तड़प कर जाना पड़ता है।और गाड़ी सब घर पर छोड़ देते है और पैदल जाना पड़ता है 4किमी बाजार । अतः श्री मान से हमलोगो का प्राथना है की इस पत्र को मंजूर किया जाय। पंकज कुमार सभी ग्राम वाशी 9534321353

Add new comment

This question is for testing whether or not you are a human visitor and to prevent automated spam submissions.

16 + 4 =
Solve this simple math problem and enter the result. E.g. for 1+3, enter 4.

More From Author

Related Articles (Topic wise)

Related Articles (District wise)

About the author

नया ताजा