मानव जीवन पर असर

Submitted by admin on Wed, 12/08/2010 - 14:36
Source
जनसत्ता, रविवारी, 5 दिसम्बर-2010
यह बात सौ फीसद सही है कि मोबाइल फोन, लैपटॉप, कंप्यूटर, एमपी थ्री प्लेयर और टीवी हमारी जिंदगी को अहम हिस्सा बन चुका है। महानगरों और छोटे शहरों की बात तो जाने दें, गांव-कस्बों तक में इनका चलन आम हो गया है। इलेक्ट्रानिक के ये सामान लोगों को न सिर्फ उनके कामकाज को आसान बनाते हैं बल्कि मनोरंजन का जरिया भी हैं। इन इलेक्ट्रानिक सामानों की खरीदारी करते वक्त हम में से शायद ही कोई सोचता होगा कि जिन उपकरणों को वह खरीद रहा है टूटने या बेकार होने के बाद उनकी क्या उपयोगिता रह जाती होगी। भारत ही नहीं दूसरे देशों में भी इलेक्ट्रॉनिक कचरा (ई-कचरा) से आम जीवन और पर्यावरण पर क्या प्रभाव पड़ता है, यह भी हम नहीं जानते।

सिर्फ अकेले अमेरिका में हर साल तीस लाख टन ई-कचरा फेंका जाता है। सवाल यह है कि आखिरकार यह ई-कचरा जाता कहां है। रिसाइकिलिंग की परेशानियों और लगने वाली लागत के साथ-साथ ई-कचरा की निर्यात में दी गई रिआयत की वजह से इनमें से ज्यादातर ई-कचरे को भारत, केन्या और चीन भेज दिया जाता है। भारत में पर्यावरण के निचले स्तर के मानदंड और काम करने का स्तर की वजह से रिसाइकिलिंग का धंधा ज्यादा मुनाफे वाला है।

हालांकि ऐसा करना खतरनाक है और आम जीवन पर ही नहीं पर्यावरण पर भी इसका प्रभाव पड़ता है। इसके बावजूद भारत में अमेरिका से आयातित कचरे की रिसाइकिलिंग धड़ल्ले से हो रही है। भारत में इस तरह का कानून भी नहीं है जो ई-कचरे के रिसाइकिलिंग पर रोक लगा सके। हालांकि पर्यावरणविद् ई-कचरे से होने वाले नुकसान पर चिंता भी जता चुके हैं।

चिंता की बात यह है कि ई-कचरे को रिसाइकिलिंग करते हुए अगर ध्यान नहीं दिया गया तो उससे निकलने वाली टाक्सिन व दूसरी गैसें सेहत और पर्यावरण दोनों के लिए नुकसानदेह हैं। दरअसल ई-कचरा खरीदने वाले इन्हें दोबारा इस्तेमाल के लायक बनाने के लिए बिना किसी तरह की सावधानी बरते उसे जला कर उससे काम की चीजें निकालते हैं लेकिन ऐसा करते हुए किसी तरह की सावधानी नहीं बरती जाती।

घरेलू उत्पाद के कचरों में बड़ी मात्रा में पारा, जस्ता, कैडमियम सहित दूसरे रसायनिक तत्व होते हैं जो सेहत के लिए ठीक नहीं होते हैं। इनमें टाक्सिन की मात्रा बड़ी तादाद में होती है। अगर इन्हें ठीक ढंग से इस्तेमाल नहीं किया गया तो इनके खाने-पीने के सामना व पानी घुलने का खतरा भी रहता रहता है। इसके अलावा ओजोन पर भी इसका प्रभाव पड़ने का अंदेशा होता है।

इनमें कैंसर, स्नायु तंत्र और आंत की बीमारी हो सकती है। इसलिए जरूरी है कि ई-कचरे के दोबारा इस्तेमाल के दौरान बहुत ही सावधानी बरतने की जरूरत है। सरकार को भी इसके लिए ठोस नीति बनाने की जरूरत है ताकि ई-कचरे का दोबारा इस्तेमाल करने वाला इंसानी जिंदगी से खिलवाड़ न कर सके।

Disqus Comment