केंचुआ खाद बनाना वर्मी कम्पोस्टिंग

Submitted by Hindi on Sat, 08/13/2011 - 09:54
Printer Friendly, PDF & Email
Source
जय भोजपुरी

केंचुआ द्वारा जैव- विघटनशील व्यर्थ पदार्थों के भक्षण तथा उत्सर्जन से उत्कृष्ट कोटि की कम्पोस्ट (खाद) बनाने को वर्मीकम्पोस्टिंग कहते हैं। वर्मी कम्पोस्ट को मिट्टी में मिलाने से मिट्टी की उर्वरा शक्ति तो बढ़ती ही है, साथ ही साथ फसलों की पैदावार व गुणवत्ता में भी बढ़ोत्तरी होती है। रासायनिक उर्वरकों के अत्यधिक इस्तेमाल से मृदा पर होने वाले दुष्प्रभावों का वर्मी कम्पोस्ट के उपयोग से सुधार होता है। इस प्रकार वर्मी कम्पोस्ट भूमि की भौतिक, रासायनिक व जैविक दशा में सुधार कर मिट्टी की उपजाऊ शक्ति को टिकाऊ करने में भी महत्वपूर्ण योगदान देता है। अनुमानत: 1 कि.ग्रा. भार में 1000 से 1500 केंचुए होते हैं। प्राय:1 केंचुआ 2 से 3 कोकून प्रति सप्ताह पैदा करता है। तत्पश्चात हर कोकून से 3-4 सप्ताह में 1 से 3 केंचुए निकलते हैं। एक केंचुआ अपने जीवन में लगभग 250 केंचुए पैदा करने की क्षमता रखता है। नवजात केंचुआ लगभग 6-8 सप्ताह पर प्रजननशील अवस्था में आ जाता है। प्रतिदिन एक केंचुआ लगभग अपने भार के बराबर मिट्टी, खाकर कम्पोस्ट में परिवर्तित कर देता है। एक कि.ग्रा. केंचुए एक वर्ग मीटर क्षेत्र में 45 किलोग्राम अपघटनशील पदार्थों से 25 से 30 किग्रा. वर्मी कम्पोस्ट 60 से 70 दिनों में तैयार कर देते हैं।
 

वर्मी कम्पोस्ट के लाभ:


• वर्मी कम्पास्ट, सामान्य कम्पोस्टिंग विधि से एक तिहाई समय (2 से 3 माह) में ही तैयार हो जाता है।
• वर्मी कम्पोस्ट में गोबर की खाद (एफ.वाई.एम.) की अपेक्षा नाइट्रोजन, फास्फोरस, पोटाश तथा अन्य सूक्ष्म तत्व अधिक मात्रा में पाये जाते हैं।
• वर्मी कम्पोस्ट के सूक्ष्म जीव, एन्जाइम्स, विटामिन तथा वृद्विवर्धक हार्मोन प्रचुर मात्रा में पाये जाते हैं।
• केंचुआ द्वारा निर्मित खाद को मिट्टी में मिलाने से मिट्टी की उपजाऊ एवं उर्वरा शक्ति बढ़ती है, जिसका प्रत्यक्ष प्रभाव पौधों की वृद्धि पर पड़ता है।
• वर्मी कम्पोस्ट वाली मिट्टी में भू-क्षरण कम होता है तथा मिट्टी की जलधारण क्षमता में सुधार होता है।
• खेतों में केंचुओं द्वारा निर्मित खाद के उपयोग से खरपतवार व कीड़ो का प्रकोप कम होता है तथा पौधों की रोग रोधक क्षमता भी बढ़ती है।
• वर्मी कम्पास्ट के उपयोग से फसलों पर रासायनिक उर्वरकों तथा कीटनाशकों की मांग कम होती है जिससे किसानों का इन पर व्यय कम होता है।
• वर्मी कम्पोस्ट से प्राकृतिक संतुलन बना रहता है, साथ ही भूमि, पौधों या अन्य प्राणियों पर कोई दुष्प्रभाव नहीं पड़ता।

 

 

वर्मी कम्पोस्ट बनाने की विधि:


1. केंचुओं का चयनः- वर्मी कम्पोस्टिंग में केंचुओं की उन प्रजातियों का चयन किया जाता है जिनमें प्रजनन व वृद्धि दर तीव्र हो, प्राकृतिक तापमान के उतार चढ़ाव सहने की क्षमता हो तथा कार्बनिक पदार्थों को शीघ्रता से कम्पोस्ट में परिवर्तित करने की क्षमता हो। उदाहरणतया आइसीनियाँ फीटिडा, यूडिलस, यूजेनी तथा पेरियोनिक्स एकस्केवेटस। उन्नाव जनपद के आस-पास के क्षेत्रों में आइसीनियाँ फीटिडा वर्मी कम्पोस्टिंग के लिए उपयोगी पाये गये हैं।
2. वर्मी कम्पोस्टिंग योग्य पदार्थ:- इस प्रक्रिया के लिए समस्त प्रकार के जैव-क्षतिशील कार्बनिक पदार्थ जैसे गाय, भैस, भेड़, गधा, सुअर तथा मुर्गियों आदि का मल, बायोगैस स्लरी, शहरी कूड़ा, प्रौद्योगिक खाद्यान्न व्यर्थ पदार्थ, फसल अवशेष, घास-फूस व पत्तियाँ, रसोई घर का कचरा आदि का उपयोग किया जा सकता है।
3. कम्पोस्टिंगः- कम्पोस्टिंग किसी भी प्रकार के पात्र जैसे मिट्टी या चीनी के बर्तन, वाश वेसिन, लकड़ी के बक्से, सीमेन्ट के टैंक इत्यादि में किया जा सकता है। गड्ढों या बेड की लम्बाई-चौड़ाई उपलब्ध स्थान के अनुसार निर्धारित करें इनकी गहराई या ऊंचाई 50 से.मी. से अधिक न रखें। कम्पोस्टिंग के लिए सबसे नीचे की सतह 5 से.मी. मोटे कचरे (घास-फूस,केले के पत्ते, नारियल के पत्ते, फसलों के डंठल आदि) की तह बिछायें। इसे तह पर सड़े हुए गोबर की 5 से.मी. की तह बनायें तथा पानी छिड़क 1000-1500 केंचुए प्रति मीटर की दर से छोड़े। इसके ऊपर सड़ा गोबर और विभिन्न व्यर्थ पदार्थ जिनसे खाद बनाना चाहते (10:3 के अनुपात में) आंशिक रूप से सड़ाने के बाद डालें तथा टाट या बोरी से ढक दें। इस पर पानी का प्रतिदिन आवश्यकतानुसार छिड़काव करें ताकि नमी का स्तर 40 प्रतिशत से ज्यादा रहे। कम्पोस्टिंग हेतु छायादार स्थान का चुनाव करें जहाँ पानी न ठहरता हों।
4. कम्पोस्ट एकत्रीकरण:- साधारणतया 60 से 70 दिन में कम्पोस्ट बन कर तैयार हों जाती है। इस अवस्था में पानी देना बन्द कर दें जिससे केंचुए नीचे चले जायें तब कम्पोस्ट को एकत्र कर, छान कर केंचुए अलग करें तथा छाया में सुखाकर प्लास्टिक की थैलियों मे भरकर सील कर दें।

 

 

 

 

वर्मी कम्पोस्ट का उपयोग


• वर्मी कम्पोस्ट कों खेत तैयार करते समय मिट्टी में मिलायें।
• खाद्यान्न फसलों में वर्मी कम्पोस्ट 5 टन प्रति हेक्टेयर की दर से उपयोग करें।
• सब्जी वाली फसलों में वर्मी कम्पोस्ट का उपयोग 10-12 टन प्रति हेक्टेयर करें।
• फलदार वृक्षों में 1 से 10 किग्रा. आयु व आवश्यकतानुसार तने के चारों तरफ घेरा बनाकर डालें।
• गमलों में 100 ग्राम प्रति गमले की दर से उपयोग करें।

 

 

 

 

वर्मी कम्पोस्टिंग में विशेष सावधानियाँ


• आंशिक रूप से सड़े कार्बनिक व्यर्थ पदार्थों का उपयोग ही करें क्योंकि इस कम्पोस्टिंग प्रकिया में तेजी आती है।
• कम्पोस्टिंग बेड में मौसम के अनुसार नमी का स्तर बनाए रखें।
• कम्पोस्टिंग बेड या गड्ढे को धूप व वर्षा से बचायें।
• कल्चर बेड को जूट की बोरी या पुआल से ढक कर रखें।

 

 

 

 

इस खबर के स्रोत का लिंक:

Comments

Submitted by Anonymous (not verified) on Thu, 01/22/2015 - 16:57

Permalink

केंचुआ खाद बनाने के लिए मुझे नजदीक मे जानकारी कहा मिलेगी कि हम अपने लिए यह खाद तैयार कर सके और हमे केंचुआ कहा मिलेगी बारे मे जानकारी देवेharish.khichar@Gmail. com

Submitted by kailash lunawat (not verified) on Mon, 03/09/2015 - 18:20

Permalink

Hello

Submitted by Naveen Jain (not verified) on Sat, 05/23/2015 - 21:28

Permalink

please details of kenchua supplier and address and process 

 

 

Submitted by mukesh patidar (not verified) on Fri, 07/10/2015 - 11:14

Permalink

Varmi kampost khad me anudan k bare me bataye

Submitted by Anonymous (not verified) on Fri, 08/07/2015 - 20:35

Permalink

मित्रो इस वर्षा ऋतु में केचुए प्रचुर मात्रअ में सर्वत्र मिलते है आप मेरी तरह अपने गांव के बच्चों को 50 पैसे प्रति केचुए की दर से देने का ऑफर दे ना माने तो 1 रूपया

Submitted by सूरज मिश्रा (not verified) on Fri, 08/07/2015 - 20:36

Permalink

मित्रो इस वर्षा ऋतु में केचुए प्रचुर मात्रअ में सर्वत्र मिलते है आप मेरी तरह अपने गांव के बच्चों को 50 पैसे प्रति केचुए की दर से देने का ऑफर दे ना माने तो 1 रूपया

Submitted by Ghanshyam Parmar (not verified) on Sun, 10/25/2015 - 10:14

Permalink

Mujhy apne ganv mai khad shiru karne hai please aap mujhay proper process bataye and kachui kaha se milte hai

Submitted by Naresh kumar kumawat (not verified) on Wed, 11/25/2015 - 13:32

Permalink

केंचुआ खाद बनाने के लिए मुझे नजदीक मे जानकारी कहा मिलेगी कि हम अपने लिए यह खाद तैयार कर सके और हमे केंचुआ कहा मिलेगी इसके बारे मे पूरी जानकारी देवे

केंचुआ खाद बनाने के लिए कि हम अपने लिए यह खाद तैयार कर सके इसके बारे मे कृपया पूरी जानकारी देवे धन्यवाद

Dear Sir ,

 

Please send me full process of kechua khad made process.

 

                           Thanking you

                          Akhilesh Patel

Submitted by Mohit Saroha (not verified) on Tue, 12/15/2015 - 12:34

Permalink

pls give me full information to making kenchua khad

Submitted by Harish patidar (not verified) on Thu, 12/24/2015 - 19:16

Permalink

Varmi kampost banane ke liye

Submitted by Ramesh Panwar (not verified) on Thu, 12/31/2015 - 15:32

Permalink

Shri maan jiM haryana kurukehetra se hu mujhe jaivek khad ke unit lgani hai kripya kr ke mujhe keechuwe khan se uplbdh hoge kripya btaye

Submitted by Ramesh Panwar (not verified) on Thu, 12/31/2015 - 15:33

Permalink

Shri maan jiM haryana kurukehetra se hu mujhe jaivek khad ke unit lgani hai kripya kr ke mujhe keechuwe khan se uplbdh hoge kripya btaye

Submitted by Naveen (not verified) on Sun, 01/10/2016 - 22:29

Permalink

केंचुआ खाद बनाने के लिए मुझे नजदीक मे जानकारी कहा मिलेगी कि हम अपने लिए यह खाद तैयार कर सके और हमे केंचुआ कहा मिलेगी इसके बारे मे पूरी जानकारी देवे

Submitted by sonu (not verified) on Fri, 03/25/2016 - 15:04

In reply to by Surjit Kumar Suman (not verified)

Permalink

 am from bihar n want to know where do i get the information about prepration of vermicmpost.

Submitted by Sachin kumar mishra (not verified) on Fri, 04/27/2018 - 17:47

In reply to by ramesh (not verified)

Permalink

Sampark karein kechua khareed hetu avum khaad banane hetu...Gamlo k liye b uplabdh home delivery only lucknow city 9598946640Whatsapp nu.9452332825

Submitted by surendra kumar (not verified) on Sat, 01/16/2016 - 12:52

Permalink

 sir,

kheti karne ke kuch uphay kya hai. tamater ki kheth karne ke liye jamin ko kis tarah banana chahiye. 

Submitted by surendra kumar (not verified) on Sat, 01/16/2016 - 12:53

Permalink

 sir,

kheti karne ke kuch uphay kya hai. tamater ki kheth karne ke liye jamin ko kis tarah banana chahiye. 

Submitted by avnish raghav (not verified) on Tue, 02/02/2016 - 14:03

Permalink

Kanchuye kanha se aur kya rate milenge

Submitted by MOHIT KUMAR (not verified) on Tue, 03/01/2016 - 17:55

Permalink

श्री मान जी,

                    मैं केचुआ खाद का काम करना चाहता हु, कृपया करके मुझे केचुआ PURCHASE केन्द्र के बारे में बता दे आपकी अति कृपया होंगी

 

धन्यवाद

 

मोहित कुमार

गाव  गलोली

पोस्ट ऑफिस  हरनौल

जिला  यमुना नगर

हरयाणा

 

Submitted by ntin (not verified) on Mon, 03/28/2016 - 12:27

Permalink

aap ye batay ki isko banane ke liye  kya tempreture hona chahiye.

aur market kaise kar sakte hai hum iski.

market ke liye hum isko kis tem. par kitne time tak surachit rakh sakte hai

 

 

Submitted by विनोद मिश्र (not verified) on Tue, 03/29/2016 - 20:33

Permalink

महोदय; मैं जिला देवरिया,(गोरखपुर) उ.प्र. का रहनेवाला हूँ मैं वर्मी कम्पोस्ट खाद पहली बार बनाने जा रहा हूँ अपने खेतो में इस्तेमाल के लिए,जिसके लिए उन्नत प्रकार के केचुए की आवश्यकता है। अतः आप श्रीमान कृपा करके स्थान क्षेत्र के अनुसार केंचुआ हमे कहाँ उपलब्ध होगा बताने का कष्ट करे। Email-vndkmrmshr@gmail.com विनोद मिश्र देवरिया (उ.प्र.)

I am from churu i want start kechwa khad paroject for my frout plants please buid me how posibal it

kechua kharidne ke liye sampark kare 

Farm name - Amogh shakti bio fartilizer(kechua Fectory)

Address - Village Shakrauli

District - Etah (Near By Agra District)

State - U.P.

Mobile No- 9837412990

Whatshap No - 9639563456

Submitted by Pradip Kodwate (not verified) on Thu, 03/31/2016 - 08:01

Permalink

Organic farming Jankari ke liye kodwatepradip@gmail.com Par apni koi bhi samsya Mobile no. Sahit bheje

Add new comment

This question is for testing whether or not you are a human visitor and to prevent automated spam submissions.

7 + 7 =
Solve this simple math problem and enter the result. E.g. for 1+3, enter 4.

More From Author

Related Articles (Topic wise)

Related Articles (District wise)

About the author

Latest