मानसी गंगा की सफाई पर पानी में बहाए गए करोड़ों रुपए

Submitted by Hindi on Fri, 09/02/2011 - 13:49
Source
आईबीएन-7, 14 जून 2011


मथुरा। पानी इंसान की जिदगी की सबसे अहम जरूरत है। अगर इसी पानी को धर्म से जोड़ दिया जाए, तो उसे अमृत समझा जाता है। लेकिन भ्रष्टाचारियों की नजर में ना तो इंसान की कोई अहमियत है और ना ही धर्म के लिए कोई सम्मान। मथुरा के सिटिजन जर्नलिस्ट हरि ओम शर्मा उन लोगों को बेनकाब कर रहे हैं जिन्होंने अपनी जेबें भरने के लिये एक ऐतिहासिक कुंड को बर्बाद होने के लिए मजबूर कर दिया है।
 

इस खबर के स्रोत का लिंक:
Disqus Comment