ग्रहण मिथक और यथार्थ

Submitted by Hindi on Sat, 09/17/2011 - 13:17
Source
विज्ञान प्रसार
सूर्य ग्रहणसूर्य ग्रहणसूर्यग्रहण उन प्राकृतिक घटनाओं में से हैं जिन्हें सबसे पहले समझा गया और अंधविश्वास की परिधि से बाहर निकालकर विज्ञान के परिक्षेत्र में लाया गया फिर भी यह आश्चर्यजनक है कि गहणों से जुड़े कुछ अंधविश्वास आज भी मौजूद हैं। जिन लोगों ने ग्रहण को ठीक से देखा है, उनमें निश्चय ही ग्रहण के प्रति भय या बेचैनी अब कम हो गई होगी। ग्रहण संबंधी मिथकों और अंधविश्वासों पर उनकी ‘विश्वसनीयता’ भी कम हुई होगी, भले ही यह पूरी तरह खत्म न हुई हो। ये लोग अपने निकटवर्ती को भयमुक्त करने में काफी मदद कर सकते हैं।

अक्टूबर 1995 के पूर्ण सूर्यग्रहण पर विज्ञान प्रसार ने जितनी सामग्री प्रकाशित की है, यह पुस्तिका उनमें से एक है। इस सूर्यग्रहण को भारत के कई भागों में देखा गया था। इस पुस्तिका में प्रोफेसर रामा में विभिन्न संस्कृतियों और धार्मिक परंपराओं में ग्रहणों से जुड़े अंधविश्वास, मिथक और यथार्थ को समेटने का प्रयास किया है। उन्होंने इनसे संबंधित ‘तर्कों’ को भी ढूंढ़ने की कोशिश की है। उन्होंने यह भी बताया है कि कब और किन परिस्थितियों में इनका जन्म हुआ लेकिन इन सबका मकसद अंधविश्वासों को उचित ठहराना कतई नहीं है। निश्चय ही लेखक की ऐसी कोई मंशा नहीं है।

पूरा कॉपी पढ़ने के लिए अटैचमेंट देखें

Disqus Comment

Related Articles (Topic wise)

Related Articles (District wise)

About the author

नया ताजा