दिल्ली के पानी के समाधान के लिए दृढ़ इच्छाशक्ति चाहिए

Submitted by Hindi on Fri, 07/27/2012 - 09:42
Source
दैनिक जागरण, 17 जून 2012
दिल्ली में पानी के समाधान के लिए लोगों को दृढ़ इच्छाशक्ति की जरूरत है। दिल्लीवासीयों को पानी के समस्या से निबटने के लिए अपने घरों के छतों पर रेनवाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम लगाना होगा। जिससे पानी की कुछ चिंता खत्म हो सके। वीके जैन तपस संगठन से जुड़े हुए हैं। यमुना जो दिल्ली की लाइफलाइन है साथ ही दिल्ली की झीलों तालाबों को बचाने के लिए वीके जैन और उनका संगठन न्यायालय से लेकर सड़क तक संघर्ष कर रहा है।

वी.के. जैनवी.के. जैनघोर जल संकट चिंता का विषय है। आखिर करें तो क्या करें। वर्षा जल संचय का मतलब बरसात के पानी को एकत्र करके जमीन में वापस ले जाया जाए। 28 जुलाई 2001 को दिल्ली के लिए तपस की याचिका पर अदालत ने 100 वर्गमीटर प्लॉट पर रेनवाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम [आरडब्ल्यूएच] अनिवार्य कर दिया। उसके बाद फ्लाईओवर और सड़कों पर 2005 में इस प्रणाली को लगाना जरूरी बनाया गया। लेकिन हकीकत में कोई सामाजिक संस्था इसको लागू करने के लिए खुद को जिम्मेदार नहीं मानती है।

सीजीडब्ल्यूए को नोडल एजेंसी बनाया गया था लेकिन उनके पास कर्मचारी और इच्छाशक्ति में कमी है। इस संस्था ने अधिसूचना जारी करने और कुछ आरडब्ल्यूएच के डिजाइन देने के अलावा कुछ नहीं किया है। एमसीडी, एनडीएमसी के पास इस बारे में तकनीकी ज्ञान नहीं है। दिल्ली जलबोर्ड में इच्छाशक्ति की कमी है। वे सीजीडब्ल्यूए को दोष देकर अपनी खानापूर्ति करते हैं।

हमारे पूर्वजों ने बावड़ियां बनवाई थी। तालाब बनवाए थे। जिन्हें कुदरती रूप से आरडब्ल्यूएच के लिए इस्तेमाल किया जाता था। सरकार चाहे तो इनसे सीख ले सकती है। आज 12 साल बाद भी सरकार के पास रेनवाटर हार्वेस्टिंग को लेकर कोई ठोस आंकड़ा नहीं उपलब्ध है। सरकार को नहीं पता है कि कितनी जगह ऐसी प्रणाली काम कर रही है। केवल कुछ आर्थिक सहायता देने से ये कहानी आगे नहीं बढ़ेगी। इच्छाशक्ति होगी तो रास्ता भी आगे निकल आएगा। किसी एक संस्था को जिम्मेदार बनाना पड़ेगा और कानून को सख्त करने की जरूरत होगी। एक ऐसी एजेंसी अनिवार्य रूप से बनाई जानी चाहिए जहां से जनता रेनवाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम से जुड़ी सभी जानकारियां ले सके। जागरूकता ही सफलता हासिल होगी।

वीके जैन (चेयरमैन, तपस- गैर सरकारी संगठन)

Disqus Comment