ठंड में ही सूख गई महानदी

Submitted by Hindi on Thu, 01/31/2013 - 10:06
Printer Friendly, PDF & Email
Source
दैनिक भास्कर, 28 जनवरी 2013

नदी के पास अवैध बोर कर जमकर पानी का दोहन किए जाने का असर

 

गर्मी में पानी की समस्या विकराल होने की आशंका से लोग चिंतित


गर्मी शुरू होने से पहले ही ऐसी दिखने लगी महानदीगर्मी शुरू होने से पहले ही ऐसी दिखने लगी महानदीकभी साल भर पानी से लबालब रहने महानदी इन दिनों नदी किनारे खेती करने वाले किसानों के जमकर पानी दोहन के कारण गर्मी शुरू होने के पूर्व ही सूख गई है।

जनवरी में हालात ऐसे हो गए हैं की महानदी किनारे बसे सैकड़ों गांव के लोगों को निस्तार के लिए पानी नहीं मिल पा रहा है। महानदी किनारे बसने वाले सभी गांव के ग्रामीण निस्तारी के लिए महानदी पर ही आश्रित है। मवेशियों को धोने, नहाने, कपड़े धोने, शादी विवाह में नहाने, मृतक कार्यों में अधिकांश लोग महानदी में ही अस्थि विसर्जित करते हैं। सरंगपाल से लेकर हाराडूला करिहा तक धड़ल्ले से महानदी में किसानों द्वारा अवैध रूप से बुक्की बोर कर अनवरत पम्प चलाने से महानदी की धारा उनके पंपों की ओर मुड़ गई।

महानदी के ऊपरी सतह में बहने वाली धारा बोर में समा कर ऊपरी सतह से गायब हो गई। जनवरी जैसे ठंड के महीने में कहीं भी पानी नजर नहीं आ रहा है। गर्मी शुरू होने पर स्थिति विकराल होने की आशंका है। कुरना घाट महानदी पुल से लेकर टांहकापार हाराडूला तक सैकड़ों की तादाद में महानदी के बीचोंबीच बोर ही बोर नजर आते हैं। इन बोर तक बिजली विभाग द्वारा धड़ल्ले से कनेक्शन दिए जा रहे है, जबकि गांवों के कई किसानों ने 3-4 साल से हजारों की लागत से बोर करवाए हैं लेकिन उन्हें बिजली कनेक्शन के लिए चक्कर लगाने पड़ रहे हैं। किसानों ने कहा दुधावा बांध से महानदी में पानी खोला जाए ताकि लोगों को निस्तारी के लिए पानी मिल सके साथ ही अवैध रूप से महानदी में किए गए बोर व बिजली कनेक्शन की जांच करते दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करते अवैध पानी दोहन रोका जाए।

 

 

 

More From Author

Related Articles (Topic wise)

Related Articles (District wise)

About the author

नया ताजा