जैविक खेती से मड़िया की पैदावार दोगुनी

Submitted by admin on Thu, 07/18/2013 - 09:55

मड़िया सरसों की तरह छोटा अनाज होता है। इसे रागी, नाचनी और मड़ुआ नाम से भी जाना जाता है। इसे हाथ की चक्की में दर कर खिचड़ी या भात बनाया जा सकता है। इसके आटे की रोटी भी बनाई जा सकती हैं। खुरमी या लड्डू भी बना सकते हैं। इसमें चूना (कैल्शियम) भरपूर मात्रा में होता है और कुछ मात्रा में लौह तत्व भी पाए जाते हैं। जन स्वास्थ्य सहयोग के परिसर में देशी बीजों के संरक्षण व जैविक खेती का यह प्रयोग करीब एक दशक पहले से शुरू हुआ है।

स्कूल में पढ़ने वाली छोटी लड़की की तरह बालों की बनी सुंदर चोटियां लटक रही हैं, यह दरअसल लड़की नहीं, खेत में लहलहाती मड़िया की फसल है। लेकिन सिर्फ इसका प्राकृतिक सौंदर्य ही नहीं, यह पौष्टिकता से भरपूर है जिससे कुपोषण दूर किया जा सकता है। यह परंपरागत खेती में नया प्रयोग छत्तीसगढ़ के बिलासपुर जिले के एक छोटे कस्बे गनियारी में किया जा रहा है। जन स्वास्थ्य सहयोग, जो मुख्य रूप से स्वास्थ्य के क्षेत्र में सक्रिय है, अपने खेती कार्यक्रम में देशी बीजों के संरक्षण व संवर्धन के काम में संलग्न है। यहां देशी धान की डेढ़ सौ किस्में, देशी गेहूं की छह, मुंगलानी (राजगिर) की दो, ज्वार की दो और मड़िया की छह किस्में उपलब्ध हैं। परंपरागत खेती में मड़िया की खेती जंगल व पहाड़ वाले क्षेत्र में होती है। छत्तीसगढ़ में बस्तर और मध्य प्रदेश के मंडला-डिण्डौरी में आदिवासी मड़िया की खेती को बेंवर खेती के माध्यम से करते आ रहे हैं।

मड़िया सरसों की तरह छोटा अनाज होता है। इसे रागी, नाचनी और मड़ुआ नाम से भी जाना जाता है। इसे हाथ की चक्की में दर कर खिचड़ी या भात बनाया जा सकता है। इसके आटे की रोटी भी बनाई जा सकती हैं। खुरमी या लड्डू भी बना सकते हैं। इसमें चूना (कैल्शियम) भरपूर मात्रा में होता है और कुछ मात्रा में लौह तत्व भी पाए जाते हैं। जन स्वास्थ्य सहयोग के परिसर में देशी बीजों के संरक्षण व जैविक खेती का यह प्रयोग करीब एक दशक पहले से शुरू हुआ है। सबसे पहले धान में श्री पद्धति का प्रयोग हुआ है जिसमें औसत उत्पादन से दोगुना उत्पादन हासिल किया गया। इसके बाद गेहूं की इस पद्धति से खेती की गई और अब मड़िया में इस पद्धति का इस्तेमाल किया जा रहा है।

मड़िया की खेतीधान में श्री पद्धति (मेडागास्कर पद्धति) मशहूर है और अब तक काफी देशों में फैल चुकी है। गेहूं में भी इसका प्रयोग हुआ है लेकिन मड़िया में शायद यह प्रयोग पहली बार हुआ है। कर्नाटक में किसानों द्वारा गुलीरागी पद्धति प्रचलन में है, जो श्री पद्धति से मिलती-जुलती है। श्री पद्धति में मड़िया की खेती इसलिए भी जरूरी है कि कमजोर जमीन में और कम पानी में, कम खाद में यह संभव है। कमजोर जमीन में अधिक पैदावार संभव है और यहां हुए प्रयोग में प्रति एकड़ 10 से 13 क्विंटल उत्पादन हुआ है।

देशी बीजों के संरक्षण में जुटे ओम प्रकाश का कहना है कि मड़िया भाटा व कमजोर जमीन में भी होती है। इसके लिए कम पानी की जरूरत होती है। यानी अगर खेत में ज्यादा पानी रूकता है तो पानी की निकासी होनी चाहिए। उन्होंने खुद अपनी भाटा जमीन में इसका प्रयोग किया है। वे हर साल हरी खाद डालकर अपनी जमीन को उत्तरोत्तर उर्वर बना रहे हैं। सबसे पहले थरहा या नर्सरी तैयार करनी चाहिए। इसके लिए खेत में गोबर खाद डालकर दो बार जुताई करनी चाहिए। उसके बाद बीज डालकर हल्की मिट्टी और पैरा से ढक देना चाहिए जिससे चिड़िया वगैरह से बीज बच सकें। एक एकड़ खेत के लिए 3-4 सौ ग्राम बीज पर्याप्त हैं।

ओमप्रकाश का कहना है कि जिस खेत में मड़िया लगाना है उसमें 6 से 8 बैलगाड़ी पकी गोबर की खाद डालकर उसकी दो बार जुताई करनी चाहिए। इसके बाद 10-10 इंच की दूरी के निशान वाली दतारी को खड़ी और आड़ी चलाकर उसके मिलन बिंदु पर मड़िया के पौधे की रोपाई करनी चाहिए। पौधे के बाजू में कम्पोस्ट खाद या केंचुआ खाद को भी डाला जा सकता है।

मड़िया की खेती का गुड़ाई करता किसानइसके बाद 20-25 दिन में पहली गुड़ाई करनी चाहिए और हल्के हाथ से पौधे को सुला देना चाहिए। इससे कंसा ज्यादा निकलते हैं और बालियां ज्यादा आती हैं। यही गुड़ाई की प्रक्रिया 10-12 दिन बाद फिर दोहराई जानी चाहिए। साइकिल व्हील या कुदाली से गुड़ाई की जा सकती है।

इस पूरे प्रयोग में बाहरी निवेश करने की जरूरत नहीं है। अमृत पानी का छिड़काव अगर तीन बार किया जाए तो फसल की बढ़वार अच्छी होगी और पैदावार भी अच्छी होगी। अमृत पानी को जीवामृत भी कहा जाता है।

ओमप्रकाश बताते हैं इसे खेत में या घर में ही तैयार किया जा सकता है। गोबर, गोमूत्र, गुड़, बेसन और पानी मिलाकर इसे बनाया जाता है और फिर खेत में इसका छिड़काव किया जाता है। अमृत पानी से पौधे व जड़ों को पोषण मिलता है। जैविक खेती के प्रयोग से बरसों से जुड़े जेकब नेल्लीथानम का कहना है कि हमारे देश में और खासतौर से छत्तीसगढ़ जैसे राज्य में कुपोषण बहुत है। अगर मड़िया की खेती को प्रोत्साहित किया जाए और सार्वजनिक वितरण प्रणाली में मड़िया को भी शामिल किया जाए तो कुपोषण कम हो सकता है। आजकल इसके बिस्किट बाजार में उपलब्ध है, जिनकी काफी मांग है। वे बताते हैं कि प्रयोग से यह साबित होता है कि प्रति हेक्टेयर 50 क्विंटल तक उत्पादन संभव है जो सरकारी आंकड़ों के हिसाब से दोगुना है। मड़िया की खेती कुपोषण को दूर करने के लिए भी उपयोगी होगी। इसकी मार्केटिंग भी की जा सकती है। अगर सार्वजनिक वितरण प्रणाली में भी इसे शामिल कर लिया जाए तो कुपोषण से निजात मिल सकेगी।

(लेखक स्वतंत्र पत्रकार हैं)

Disqus Comment

More From Author

Related Articles (Topic wise)

Related Articles (District wise)

About the author

बाबा मायारामबाबा मायारामबाबा मायाराम लोकनीति नेटवर्क के सदस्य हैं। वे स्वतंत्र पत्रकार व शोधकर्ता हैं। उन्होंने देवी अहिल्या विश्वविद्यालय, इन्दौर से 1989 में बी.ए.

नया ताजा