तापमान के तेवर

Submitted by admin on Sun, 12/08/2013 - 13:20
Source
राज्यसभा टीवी, 23 सितंबर 2013

प्रकृति के साथ रचनात्मक संघर्ष करके मानव दुनिया को जीने लायक बनाता है जब हम इसकी सीमा लांघने लगते हैं तो प्रकृति भी नष्ट होने लगती है। कल-कारखाने, सड़कें, यातायात, कंप्यूटर, फ्रिज, रेफ्रिजरेटर आराम के सारे साधन पहले प्रदूषण फैलाते हैं फिर मौसम के चक्र को प्रभावित करने लगते हैं और उसके बाद आशंका होने लगती है जलवायु परिवर्तन के खतरे। जलवायु परिवर्तन पर आधारित यह एपिसोड।

इस फिल्म को यहां भी देखा जा सकता है।

Disqus Comment