सड़क किनारे जंग खा रहे पाइप, कैसे मिलेगी फ्लोराइड से मुक्ति

Submitted by admin on Wed, 02/05/2014 - 16:00
Source
नई दुनिया

करीब 40 ग्रामों की बसाहटों में नहीं पहुंच रहा है स्वच्छ पानी


गौरतलब है कि मनावर तहसील के अनेक ग्राम में फ्लोराइड की समस्या है। जमीन से अधिक गहराई से पानी निकालने पर यहां फ्लोराइड पांच पीपीएम से भी अधिक मिलता है। जबकि 1.5 पीपीएम फ्लोराइड की मात्रा सामान्य मानी जाती है। इससे सिद्ध होता है कि क्षेत्र में निर्धारित मात्रा से कई गुना अधिक फ्लोराइड पाया जाता है। धार। फ्लोराइड युक्त पानी पीने के कारण लोग अभी भी परेशान हो रहे हैं। खासकर बच्चों के दांत व हड्डी खराब हो रहे है। दरअसल मनावर तहसील के जीराबाद सहित आसपास के ग्रामीण क्षेत्र में अभी तक लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग द्वारा स्वच्छ पानी उपलब्ध कराने के लिए पाइप लाइन बिछाने का काम पूरा नहीं किया जा सका है।

करीब 40 ग्रामों में पानी पहुंचाने की योजना पिछड़ गई है। इन ग्रामों में फिलहाल स्वच्छ पानी मिलना तो दूर लोगों को भीषण गर्मी में पीने के पानी के लिए ही परेशान होना पड़ रहा है। यदि योजना समय पर पूरी हो जाती तो पानी उपलब्ध होने के साथ-साथ उसमें फ्लोराइड से भी मुक्ति मिल जाएगी।

गौरतलब है कि धार जिले में फ्लोराइड की मात्रा जमीन में अधिक मात्रा में पाई जाती है। जिला मुख्यालय पर भले ही कलेक्टर बैठक लेकर लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग को फ्लोराइड प्रभावित क्षेत्रों में स्वच्छ पानी उपलब्ध कराने के लिए तेजी से निर्देश देते हों किंतु उसका कितना क्रियान्वयन मैदानी स्तर पर हो रहा है यह मनावर क्षेत्र में देखा जा सकता है।

नई दुनिया ने विभिन्ना ग्रामों की स्थिति देखी तो उसमें इस बात का खुलासा हुआ कि जीराबाद से बड़िया, इडरियापुरा सहित अन्य कई गांवों में पाइप लाइन भंगार की तरह रखे हुए हैं। सड़क पर रखे इन पाइप में टूट-फूट हो चुकी है।

पूरी सड़क किनारे जुड़ाई नहीं हुई


गौरतलब है कि मनावर तहसील के अनेक ग्राम में फ्लोराइड की समस्या है। जमीन से अधिक गहराई से पानी निकालने पर यहां फ्लोराइड पांच पीपीएम से भी अधिक मिलता है। जबकि 1.5 पीपीएम फ्लोराइड की मात्रा सामान्य मानी जाती है।

इससे सिद्ध होता है कि क्षेत्र में निर्धारित मात्रा से कई गुना अधिक फ्लोराइड पाया जाता है। ऐसे में पाइप लाइन बिछाकर स्वच्छ पानी उपलब्ध कराना शासन व प्रशासन की जिम्मेदारी है।

शासन ने इसके लिए बड़ी रकम भी मुहैया करा रखी है। मुख्य मार्गों पर ही पाइप लाइन जहां-तहां बिखरी पड़ी हुई है। इनको ठीक तरह से जोड़ा भी नहीं गया है। ऐसे में पानी पहुंचना संभव ही नहीं है।

मान नदी से लेना था पानी


दरअसल जीराबाद से दो किमी दूर मान नदी पर एक बड़ा बांध बना हुआ है। इस बांध के माध्यम से 40 ग्राम की बसाहटों में पानी उपलब्ध कराने का प्रावधान किया गया है। ऐसे में इस समय मान नदी में पानी होने के बावजूद भी लोग पाइप लाइन के अभाव में न केवल स्वच्छ पानी के लिए तरस रहे हैं बल्कि भीषण गर्मी में मजबूरन फ्लोराइडल युक्त पानी पी रहे हैं।

इसकी वजह यह है कि पानी के अन्य स्रोतों में पानी की कमी हो चुकी है। इस लिहाज से अवल्दामान, बड़िया, इडरियापुरा, जीराबाद आदि क्षेत्रों में लोग परेशान हो रहे हैं। वहीं जिन ग्रामों में पाइप लाइन बिछा दी गई है वहां पर भी पानी इसलिए नहीं पहुंच पा रहा है क्योंकि कनेक्शन वाली लाइन से पानी पहुंचना है।

जब तक मान बांध से जीराबाद होते हुए पानी नहीं ले जाया जाएगा तब तक पाइप लाइन बिछाने वाले क्षेत्रों में भी पानी की उपलब्धता सुनिश्चित नहीं हो सकती।

सड़क खुदाई कार्य चल रहा है। ऐसे में कुछ क्षेत्रों में पाइप लाइन बिछाने में दिक्कत आ रही है। इस बारे में सड़क विकास निगम से पत्राचार भी किया जा रहा है। जैसे ही पाइप लाइन बिछाने की स्थिति में आ जाएंगे, लोगों को पीने का स्वच्छ पानी उपलब्ध कराया जाएगा।

राजीव खुराना, कार्यपालन यंत्री लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग धार


Disqus Comment