जल स्वराज अभियान के पहल-प्रयास

Submitted by Hindi on Thu, 12/31/2009 - 19:24
पानी पर कार्यशाला

कानपुर आधारित एक गैर-सरकारी संगठन ‘इको फ्रेंड्स’ ने पानी के कई सवालों को लेकर 27-28 सितम्बर 2003 के बीच एक दो दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया, जिसमें कानपुर के 29 स्कूलों के 10वीं से लेकर 12वीं कक्षा तक के 80 से ज्यादा छात्रों के साथ-साथ अध्यापकों ने भी भाग लिया।

इस कार्यशाला में सीएसई जल स्वराज के सदस्यों समेत अनेक गणमान्य व्यक्तियों ने इस विषयों पर अपने-अपने विचार व्यक्त किए।
 

जल जागरूकता के कार्यक्रम

13 से 15 अक्टूबर 2003 के बीच एक श्रृंखला में मुम्बई के विभिन्न स्थलों पर जल जागरूकता के आयोजन किए गए, जैसे ‘ब्रिहन मुम्बई लाइसेंस्ड प्लम्बर्स एसोसिएशन’ ने 15 अक्टूबर 2003 के दिन मुम्बई के 70 प्लंम्बरों के लिए एक दिन की कार्यशाला का आयोजन किया। यह कार्यक्रम मुम्बई के जुहु जागृति हाल में https://hindi.indiawaterportal.org/node/4684/edit#संपन्न हुआ।

सीएसई के कार्यकर्ताओं ने अपनी प्रस्तुति में विभिन्न तरह के वर्षाजल संग्रहण ढांचों और उनके निर्माण की विधि का खुलासा किया। साथ ही उन्होंने दिल्ली की आदर्श वर्षाजल संग्रहण व्यवस्थाओं और भूजल पर इनके प्रभावों की जानकारी दी।

इसी क्रम में 13-15 अक्टूबर 2002 के बीच सीएसई और जमनाबाई नर्सरी स्कूल के मिले-जुले प्रयास से वर्षा जल संग्रहण व्यवस्था पर प्रदर्शनी और भाषण का दौर चला। इस कार्यक्रम में विद्यार्थी और उनके अभिभावक दोनों शरीक हुए।

इसकी अगली कड़ी में मुम्बई स्थित एडवांस्ड लोकलिटी मैनेजमेंट ग्रुप (एएलएम) और यूनाइटेड स्टेट्स एशिया इन्वायरन्मेंटल पार्टनरशिप प्रोग्राम द्वारा एएलएम के लिए एक कार्यशाला आयोजित हुई।

इस कार्यशाला में मुम्बई के विभिन्न हिस्सों के करीब 50 एएलएम ने हिस्सा लिया। सीएसई के कार्यकर्ताओं ने अपनी प्रस्तुति में मुम्बई के जल संकट का ब्यौरा पेश किया और साथ ही उन्होंने दिल्ली के कुछ केस अध्ययनों का हवाला देते हुए वर्षाजल संग्रहण व्यवस्था का पूरा ब्यौरा प्रस्तुत किया।
 

जल जागरूकता का प्रयास

दक्षिण दिल्ली स्थित सरिता विहार कॉलोनी के निवासी पानी के घोर संकट का सामना कर रहे हैं। इस स्थिति से निपटने के लिए एक दिल्ली आधारित गैर-सरकारी संगठन ‘डेलही इन्वायरोन्मेंटल एजुकेशन प्रोजेक्ट’ ( डीप) ने जल संकट के मूल कारणों और उनसे उबरने में वर्षाजल संग्रहण के उपायों की जागरूकता फैलाने के लिए 14 सितम्बर को एक बैठक का आयोजन किया।

इस बैठक में केंद्रीय भूजल बोर्ड के अधिकारियों और ‘इंस्टीट्यूट आफ इकोलॉजी एण्ड इन्वायन्मेंट’ के अध्यक्ष डॉ. प्रियरंजन त्रिवेदी समेत सीएसई के कार्यकर्ता ने अपनी प्रस्तुति की, जिसमें समुदाय आधारित वर्षाजल संग्रहण पर विशेष जोर दिया गया, क्योंकि व्यक्तिगत आवास में यह व्यवस्था बनाना काफी खर्चीला होता है।
 

नई दिल्ली नगर पालिका

सीएसई ने अपने जल स्वराज अभियान के तहत नई दिल्ली नगर पालिका के इंजीनियरों के लिए एक प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया। यह प्रशिक्षण कार्यक्रम 25 सितम्बर, 2003 के दिन दिल्ली के तालकटोरा इंडोर स्टेडियम में आयोजित हुआ। इंजीनियरों को जल संरक्षण के तकनीकी पक्षों की जानकारी देना ही इस कार्यक्रम का लक्ष्य था। सीएसई ने नगर पालिका के अधिकारियों को पहले भी वर्षाजल संग्रहण संबंधी प्रशिक्षण दिया था और यह उसी श्रृंखला की दूसरी कड़ी थी। इस कार्यशाला में नगरपालिका के समूचे 42 वर्ग किलो मीटर में वर्षाजल संग्रहण व्यवस्था की एक योजना बनकर तैयार हुई।

अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें : सुमिता दासगुप्ता/एकलव्य प्रसाद आर के श्री निवासन, सीएसई ईमेल: water@cseindia.org

Disqus Comment