देनवा नदी के किनारे

Submitted by HindiWater on Tue, 10/21/2014 - 15:28

होशंगाबाद जिले में दक्षिण में पूर्व से पश्चिम तक सतपुड़ा की लम्बवत की खूबसूरत पहाड़ियां हैं। देनवा में दूर-दूर तक नीला पानी। यानी जहां-जहां तक नजरें जाती, पानी का संसार। उधर गहरे पानी में लहरें उठती दिखतीं और मेरे अंदर भी। यहां तवा बांध की ठेल थी। हम सोहागपुर की जंगल पट्टी के स्कूल देखने जा रहे थे। कल हम मटकुली के आसपास वनांचल में गए थे। यह दौरा एकलव्य संस्था के साथ सतपुड़ा टाइगर रिजर्व के क्षेत्र के स्कूलों का जायजा लेने के लिए किया गया था। आज के दौरे में विकासखंड शिक्षा अधिकारी तिवारी जी भी थे। एकलव्य पिपरिया के गोपाल राठी और कमलेष भार्गव भी थे।

जब हमारी गाड़ी हरे-भरे जंगल के बीच से गुजर रही थी तो दूर-दूर तक खंबे की तरह खड़े पेड़ों को देखकर दिल उछल-उछल पड़ रहा है। चारों तरफ शांत वातावरण, ठंडी हवा, रंग-बिरंगे पक्षी और गाय-बैलों को टिटकारते चरवाहे।

होशंगाबाद जिले में दक्षिण में पूर्व से पश्चिम तक सतपुड़ा की लम्बवत की खूबसूरत पहाड़ियां हैं। देनवा में दूर-दूर तक नीला पानी। यानी जहां-जहां तक नजरें जाती, पानी का संसार। उधर गहरे पानी में लहरें उठती दिखतीं और मेरे अंदर भी। यहां तवा बांध की ठेल थी।

हम सोहागपुर की जंगल पट्टी के स्कूल देखने जा रहे थे। कल हम मटकुली के आसपास वनांचल में गए थे। यह दौरा एकलव्य संस्था के साथ सतपुड़ा टाइगर रिजर्व के क्षेत्र के स्कूलों का जायजा लेने के लिए किया गया था। आज के दौरे में विकासखंड शिक्षा अधिकारी तिवारी जी भी थे। एकलव्य पिपरिया के गोपाल राठी और कमलेष भार्गव भी थे।

पहला स्कूल मगरिया का देखा। यहां एक स्वयंसेवी संस्था ने शैक्षणिक सामग्री और पाठयक्रम को सरल ढंग से पढ़ाने के लिए प्रोजेक्टर दिए हैं। खापा, घोघरी, पाठई, टेकापार और सेहरा के स्कूलों का भ्रमण किया।

स्कूल में एक तो शिक्षकों की कमी दिखाई दी और जो हैं, वे अन्य कामों में संलग्न रहते हैं। कल सेमरी में कोई शिक्षकों की बैठक थी जिसमें शिक्षक गए थे। जब शिक्षक नहीं है, या जो वे अतिथि शिक्षक हैं,क्या वे प्रशिक्षित हैं, यह सवाल है। यह विडंबना भी थी कि जिन स्कूलों में स्वयंसेवी संस्था ने मदद की थी वहां तो फर्नीचर और शैक्षणिक सामग्री थी पर जहां उन्होंने मदद नहीं की वहां स्कूलों में ढंग की टाटपट्टी भी नहीं थी।

यह अत्यंत निर्धन इलाका है। यहां गोंड और कोरकू आदिवासी निवास करते हैं। देनवा नदी के किनारे गांव बसे हैं। इनमें से ज्यादातर तवा बांध से विस्थापित हैं। तवा और देनवा के संगम पर बांद्राभान में तवा बांध बना है।

यहां के शिक्षक ने बताया कि यहां के आदिवासी बहुत सीधे-सादे और मददगार हैं। पर हैं बहुत गरीब। गरीब महिलाएं मूढ़गट्ठा (जलाऊ लकड़ी) बेचकर बच्चों का पेट पालती हैं। उन्हें मूढगट्ठा के लिए दो दिन श्रम करना पड़ता है। एक दिन वे जंगल जाती हैं, सूखी लकड़ियां बीनती हैं और गट्ठा बनाकर रखकर आ जाती हैं।

फिर दूसरे दिन सुबह-सबेरे जंगल जाती हैं, उसे लेकर नजदीक के कस्बे सोहागपुर जाती हैं, बेचती है और उन पैसों से राशन व जरूरत की चीजें लाती हैं। मूढ़गट्ठा की कीमत 100 रु से लेकर 150 रु. तक होती है।

खापा में स्कूल देखने के बाद गांव घूमने निकल गए। वहां कुछ घरों के आंगन में धान की दावन (धान की बालियों से दाना निकालने के लिए बैलों को घुमाया जाता है) की जा रही थी, जो लंबे अरसे बाद मैंने देखी। बहुत अच्छा लगा। बचपन में अपने गांव में खूब देखते थे।

जब ट्रैक्टर व हार्वेस्टर नहीं थे तब ऐसे ही सब खेती के काम हाथ से किए जाते थे। दावन से धान अलग और उसके ठंडल जिसे पुआल कहते थे, वो अलग। धान से दाने निकालकर उन्हें ओखली में कूटते हैं। सूपा में फटखते हैं जिससे दाना और उसका कोड़ा भूसा अलग किया जाता है। फिर मिट्टी की हांडी में भात पकता था जिसकी खदबद सुनकर ही भूखे बच्चों की आंखें चमक जाती थी।

गोंड आदिवासियों के घरों में लकड़ी से बनी दीवारें भी देखीं। इसके पहले खेतों में बागड़ देखी जो लकड़ी के खंबों व कंटीले वृक्षों की टहनियों से बनी थी। क्योंकि यहां जंगली जानवर फसलों को बहुत नुकसान पहुंचाते हैं।

जंगली सुअर, हिरण, चीतल, सांभर, नीलगाय और बंदर फसलों को चौपट करते हैं। इसलिए खेतों में बागड़ बनाई जाती है। मचान बनाए जाते हैं, जिस पर बैठकर खेती की रखवाली की जाती है। जंगलों से भोजन की तलाश में ये जानवर खेतों और मैदानी क्षेत्रों की ओर आ जाते हैं। किसान परेशान हैं।

खेतों में बक्खर चलाते किसान और उनके संग देती महिलाएं भी दिखी। खेती में महिलाओं का योगदान महत्वपूर्ण है। वे बीज भंडारण से लेकर निंदाई, गुडाई, फसल कटाई जैसे कई काम करती हैं।

गांव के कुछ स्कूलों में शैक्षणिक सामग्री की कमी तो थी ही, कहीं टाटपट्टी की व्यवस्था भी नहीं थी। पाठई का स्कूल एक संकरे कमरे में लगा था, जिसमें सभी प्राथमिक कक्षा के बच्चे एक साथ बैठे थे। बाहर दरी पर आंगनबाड़ी लगी थी जिसमें तीन चार छोटी बच्चियां बैठी थी।

अब शाम हो गई थी। जंगल में संध्या के पहले लोग घरों को लौट आते हैं। जंगल में जानवरों का भय तो रहता ही है। हमारी गाड़ी अब उची-नीची सड़क से पक्की सड़क पर आ गई थी। आते ही फर्राटेदार एक पीली गाड़ी दिखी जो शायद पर्यटन के लिए मढ़ई जा रही थी। जंगली जानवरों और प्राकृतिक सौंदर्य देखने।

सोहागपुर के नजदीक लालिमा लिए सूरज डूबने को हो रहा था। सामने से साइकिलों से स्कूली लड़कियों की टोली दिखाई दी जिसे देख बहुत ही अच्छा लगा। यह बदलाव का प्रतीक तो है ही, लड़कियों की आजादी का प्रतीक भी है। एक समय ऐसा था कि लड़कियों का घर से निकलना मुश्किल था। अब वे स्कूल जा रही हैं। कॉलेज जा रही हैं। सरकार की लड़कियों को साइकिल देने की योजना की जितनी तारीफ की जाए उतनी कम है। घर आते-आते मेरे मन में एक तरफ तो अपूर्व प्राकृतिक सौंदर्य से भरपूर क्षेत्र के भ्रमण का आनंद था, वहीं दूसरी तरफ वहां के लोगों की स्थिति, अभाव और कष्ट देखकर वह आनंद कम हो गया लगता है।

Disqus Comment