नर्मदा घाटी का परिचय

Submitted by RuralWater on Tue, 09/15/2015 - 14:39
Source
प्रकृति के रहस्य खोलते नर्मदा घाटी के जीवाश्म (पुस्तक)
नर्मदा घाटी के जीवाश्मों का तिलिस्म अभी तक पूरी तरह तो किसी को समझ में नहीं आ सका है परन्तु इसकी थोड़ी-बहुत थाह लेने के लिये भी विंध्य और सतपुड़ा की प्राचीरों से घिरे नौका के आकार वाले इस अति प्राचीन क्षेत्र का पुराना और नया भुगोल दोनों ही जानना अपरिहार्य हैं। नर्मदा और इसकी सहायक नदियों के अंचल में तरह-तरह के जीवाश्मों के रूप में प्रकृति कौन-कौन से रहस्य कहाँ-कहाँ से मिले हैं इस बारे में विस्तार से चर्चा करने से पहले इस क्षेत्र की भौगोलिक बनावट, भूगर्भ व शैल संरचना, नदियों, पहाड़ों और वनों के विस्तार का संक्षिप्त परिचय दे रहे हैं श्री पंकज श्रीवास्तव।

.
सामान्य रूप में ‘नर्मदा बेसिन’ या ‘नर्मदा कछार’ तकनीकी रूप से उस जलग्रहण क्षेत्र को कहा जाता जिसमें गिरने वाला वर्षा का जल नदी-नालों के तंत्र से होकर अन्ततः नर्मदा में जा मिलता है। जल ग्रहण क्षेत्र एक कटोरे की तरह होता है जिसके ऊपरी किनारे पर्वतों की ऊँची कगारों के रूप में और तली नदी घाटियों के रूप में होती है।

इस दृष्टि से देखें तो हर नदी का कछार या नदी बेसिन पर्वतों और घाटियों से मिलकर बनता है। तकनीकी शब्दावली की जटिलता में न जाया जाये तो बोलचाल की सामान्य भाषा में ‘नर्मदा घाटी’ से आशय बेसिन के पर्वतीय क्षेत्र से शेष रहे मैदानी और निचले क्षेत्र से लगाया जाता है।

नर्मदा के सन्दर्भ में कछार का स्वरूप एक लम्बी नौका जैसा है जिसके सतही भूगोल को देखें तो उत्तरी कगार विंध्याचल पर्वत श्रेणी की पहाड़ियों और दक्षिणी कगार सतपुड़ा पर्वतमाला की शृंखलाबद्ध पहाड़ियों से बनता है। विंध्याचल पर्वत श्रेणी नर्मदा के उत्तरी और सतपुड़ा श्रेणी दक्षिणी किनारे पर प्राय समानान्तर चलती है। विंध्याचल पर्वत अनेक पठारों से मिलकर बना है जो पूर्व में बिहार के सासाराम से लेकर पश्चिम में गुजरात के निकट जोबट तक फैले हैं।

नर्मदा घाटी में इनका विस्तार मैकल पर्वत के कगार से लेकर नर्मदा के उत्तरी तट के साथ-साथ चलता है। सामान्यतः इनकी ऊँचाई (450 से 600 मी. तक है परन्तु कुछ भाग 900 मी. तक ऊँचे हैं। ये पूर्वी भाग में दक्कन ट्रैप्स की आग्नेय चट्टानों से ढँके हुए, हैं जबकि पश्चिमी भाग में चूना पत्थर तथा बलुआ पत्थर की प्रधानता है।

भारत में नर्मदा बेसिन की स्थिति तथा म.प्र. व गुजरात में नर्मदा का प्रवाह पथसतपुड़ा पर्वत श्रेणी नर्मदा के दक्षिण में है जिसकी शृंखला पूर्व में मैकल से लेकर पचमढ़ी में उच्चतम चोटी धृपगढ़ (1352 मी.) से होती हुई पश्चिम में राज़पीपला तक जाती है। सतपुड़ा श्रेणी 7 पर्वतों से मिलकर बनी है जिनके नाम हैं- मैकल, महादेव, कालीभीत, असीरगढ़, बीजागढ़, बड़वानी तथा अखरानी (उन्नी, 1996)। इनकी औसत ऊँचाई लगभग 1220 मी. है। नर्मदा का उद्गम मैकल पर्वत अमरकंटक में है जो विंध्य और सतपुड़ा को एक चिमटे के दो फाँकों की तरह आपस में जोड़ता है।

विंध्य पर्वत को धरती के प्राचीनतम पर्वतों में गिना जा सकता है। शास्त्रीय धारणा के अनुसार यह आर्यावर्त और दक्षिणावर्त के बीच सीमा बनाता है। भूगर्भशास्त्र की अवधारणा के अनुसार विंध्याचल पर्वतमाला पश्चिम में मध्य प्रदेश के नवगठित अलीराजपुर जिले के जोबट नामक स्थान से प्रारम्भ होकर पूर्व में बिहार राज्य के दक्षिण-पश्चिम भाग में स्थित सासाराम नगर तक प्रायः 1135 किलोमीटर लम्बाई में फैली है नवीनतम विश्लेषणों के आधार पर विंध्य पर्वतमाला के कुछ भागों की आयु 172 करोड़ वर्ष तक आँकी गई है (रे, 2006) जबकि सतपुड़ा पर्वत शृंखला की पर्वतन क्रिया 105 से 95 करोड़ वर्ष पूर्व के बीच हुए होने का अनुमान है।

महज 4-5 करोड़ वर्ष पुराने हिमालय पर्वत की तुलना में विंध्य और सतपुड़ा पर्वत बहुत-बहुत पुराने हैं और धरती पर हुई अनेक भूगर्भीय, हलचलों, जलवायु के विध्वंसकारी उतार-चढ़ावों और जीवन के पनपने तथा विलुप्त होने के गवाह रहे हैं। विंध्य और सतपुड़ा पर्वतों की इन चट्टानों से बनी विशाल द्रोणी के आकार की नर्मदा घाटी पूर्व में समुद्र तल से 3407 फीट की ऊँचाई पर अमरकंटक (220 40’ 20” N अक्षांश व 810 46’ 24” E देशान्तर) से लेकर गुजरात राज्य में भरूच (210 36’ 04” N अक्षांश व 720 35’ 48” E देशान्तर) के निकट अरब सागर तक फैली है। नर्मदा के उद्गम से सागर संगम तक कुल लम्बाई 1312 किमी है व इसका कुल जलग्रहण क्षेत्र 98796 वर्ग किमी. है।

नर्मदा उद्गम व अमरकंटक पठार का उपग्रह चित्रअपने प्रवाह पथ में नर्मदा पूर्व से पश्चिम की ओर म.प्र. में अनूपपुर, डिंडोरी, मण्डला, जबलपुर, सिवनी, नरसिंहपुर, रायसेन, सीहोर, होशंगाबाद, हरदा, देवास, खण्डवा, खरगौन, बड़वानी, धार व झाबुआ, महाराष्ट्र में नंदुरबार व गुजरात राज्य में नर्मदा तथा भरूच जिलों से होकर बहती है। भारत में नर्मदा बेसिन की स्थिति तथा मध्य प्रदेश व गुजरात में नर्मदा का प्रवाह पथ चित्र- 1.1 अ. में दिखाया गया है। चित्र 1.1 ब. में गूगल अर्थ से लिया गया नर्मदा उद्गम का उपग्रह चित्र दिखाया गया है। चित्र 1.2 में नर्मदा उद्गम कुण्ड व नदी से सम्बन्धित कुछ महत्त्वपूर्ण तथ्य दिये गए हैं। चित्र ‘1.3 अ. में सर्वे ऑफ इण्डिया द्वारा जारी उन मानचित्रों (1.2,50,000) के टोपोशीट क्रमांक दर्शाए गए हैं जिनमें नर्मदा बेसिन का क्षेत्र आता है और जिनमें नर्मदा घाटी के जीवाश्म खोज स्थल स्थित हैं।

नर्मदा बेसिन का सामान्य भूगोल दर्शाता प्राकृतिक नक्शा चित्र- 1.3 ब. में तथा बेसिन की शैल संरचना चित्र 1.3 स में दर्शाई गई है। चित्र- 1.4 अ. में नर्मदा की प्रमुख सहायक नदियाँ व अपवाह तंत्र, चित्र- 1.4 ब. में वनों के प्रकार तथा विस्तार और चित्र 1.4 स. में भूकम्प संवेदी क्षेत्र दर्शाए गए हैं। भूकम्प की दृष्टि से संवेदनशीलता नर्मदा घाटी के भूगर्भ और भूगोल का एक महत्त्वपूर्ण पहलू है। यह घाटी धरती की सतह में हुए भ्रंशन के कारण ही बनी है अतः यहाँ भूकम्प की दृष्टि से संवेदनशील क्षेत्र है। प्राचीन काल में दक्कन ट्रैप्स के बनने के समय तो यहाँ लम्बे समय तक भूकम्प आते रहे।

नर्मदा घाटी में बने नए बाँधों के परिप्रेक्ष्य में भी इस क्षेत्र की भूकम्पों की दृष्टि से संवेदनशीलता को लेकर सवाल उठाए जाते रहे हैं। चित्र- 1.4 में विगत 100 वर्षों में नर्मदा घाटी में आये भूकम्पों को दर्शाया गया है जिससे यहाँ भूकम्प की तीव्रता और आवृत्ति का अनुमान लगाया जा सकता है। चित्र- 1.5 में नर्मदा घाटी में प्रमुख जीवाश्म खोज स्थल मोटे तौर पर दिखाए गए हैं।

नर्मदा घाटी की परतदार चट्टानों के समग्र समुच्चय में पिछले है 1.7 अरब वर्ष से लेकर कुछ हजार वर्ष पहले तक के जीवों के अवशेष मिलते हैं। यहाँ वनस्पतियों में समुद्री, स्वच्छ जलीय और थलीय वनस्पतियाँ आवृतबीजी-अनावृतबीजी, पुष्पधारी--पुष्परहित पौधे, झाड़ी से लेकर गगनचुम्बी अनावृतबीजी, शंकुधारी वृक्षों के जीवाश्म मिलते हैं। जन्तुओं में समुद्री सीपी-शंख, जमीनी कीड़े-मकोड़ों से लेकर अनेक वन्यप्राणियों सहित दैत्याकार डायनासोरों के अनेक जीवाश्म भी मिले हैं।

अ : नर्मदा उद्गम कुण्ड, अमरकंटक जीवाश्मों की दृष्टि से नर्मदा के उद्गम से लेकर सागर संगम तक अनेक महत्त्वपूर्ण खण्ड हैं जिनमें प्राणियों के जीवाश्मों की विविधता मध्य नर्मदा घाटी में मौजूद चतुर्थक कल्प के अवसादी जमावों में सबसे अधिक है जो मुख्यतः जबलपुर से हंडिया तक फैले हैं। डिंडोरी, मण्डला के पादप व शंख जीवाश्म हों, जबलपुर व बाग के डायनासोर जीवाश्म हों, जीराबाद, मनावर के इन्फ्राट्रैपियन पादप जीवाश्म हों, ,नरसिंहपुर में देवाकछार व गाडरवारा से खोजे गए वन्य प्राणियों के विविध जीवाश्म हों, सीहोर व होशंगाबाद जिलों में सूरजकुण्ड व अन्य फार्मेशन से मिले स्टेगोडॉन, शुतुरमुर्ग, हिप्पोपोटेमस जैसे पशुओं के जीवाश्म हो या हथनौरा से खेाजे गए मानव कपाल व पसली और हँसली के जीवाश्म, ये सभी यहाँ की पुरा जैव विविधता के प्रमाण हैं।

युगों-युगों से नर्मदा क्षेत्र की जलवायु सुखद रहे होने के कारण वैज्ञानिकों ने इस अंचल को जीवन के लिये प्रागैतिहासिक स्वर्ग (Prehistoric Heaven) की उपमा दी है। आगे के अध्ययन में हमें नर्मदा घाटी के भूगोल और भूगर्भ की इस पृष्ठभूमि को ध्यान में रखना पड़ेगा तभी विभिन्न जीवाश्मों के बारे में ठीक से समझा जा सकेगा जिससे पूरी नर्मदा घाटी के जीवाश्म खजाने पर एक समग्र दृष्टि डालना सम्भव होगा जो इस पुस्तक की रचना का मुख्य उद्देश्य है।

ब : नर्मदा नदी-कुछ महत्त्वपूर्ण आँकड़े

अ. नर्मदा बेसिन की टोपो मैंपिंग (सर्वे ऑफ इण्डिया के मानचित्रों के शीट क्रमांक)

ब. नर्मदा बेसिन का सामान्य भूगोल दर्शाता प्राकृतिक नक्शा

स. नर्मदा बेसिन की शैल संरचना

अ. नर्मदा की प्रमुख नदियाँ व अपवाह तंत्र

ब. नर्मदा बेसिन में वनों का वितरण

नर्मदा बेसिन में भूकम्प के केन्द्र

नर्मदा बेसिन में महत्तवपूर्ण जीवाश्म खोज अंचल

Disqus Comment