जल स्रोतों में तालाबों का महत्त्व

Submitted by Hindi on Thu, 01/07/2016 - 13:50
Source
जल चेतना तकनीकी पत्रिका, जुलाई 2012

मोतिया तालाबमहाभारतकालीन तालाबों में कुरुक्षेत्र का ब्रह्म सरोवर, करनाल की कर्ण झील और मेरठ के पास हस्तिनापुर का शुक्र ताल आज भी है रामायण और महाभारत काल को छोड़ दें तो पाँचवीं सदी से पंद्रहवीं सदी तक देश में तालाब बनते ही जा रहे थे। रीवा रियासत में पिछली सदी में 5,000 तालाब थे। वर्ष 1847 तक मद्रास प्रेसीडेंसी में 53,000 तालाब थे। वर्ष 1980 तक मैसूर राज्य में 39,000 तालाब थे। अंग्रेजों के आने से पहले दिल्ली में 350 तालाब थे, जिनमें से अधिकांश अब लुप्त हो चुके हैं। भोपाल का तालाब अपनी विशालता के कारण देश में मशहूर था। इसे ग्यारहवीं सदी में राजा भोज ने बनवाया था। पच्चीस वर्ग मील में फैले इस तालाब में 365 नालों-नदियों का पानी भरता था।

मालवा के शाह होशंगशाह ने 15वीं सदी में इसे सामरिक कारणों से तुड़वाया तो तीन वर्ष तक पानी निकाले जाने के बाद उसका तल दिखाई दिया। इसके बाद दलदल 30 वर्षों तक बना रहा। जब यह सूख गया, तब इसमें खेती आरम्भ की गई। वर्ष 1335 में महाराज घड़सी ने जैसलमेर में 120 वर्ग मील लम्बा-चौड़ा घड़सीसर खुदवाया था। बंगाल में पोखरों की उज्वल परम्परा हैं। उन पोखरों में मछलियाँ भी पाली जाती हैं। हालाँकि अब वहाँ भी पोखर कम होते जा रहे हैं, जिस कारण मछली उत्पादन भी प्रभावित हुआ है। एक समय था, जब देश में तालाब बनाने की होड़-सी लगी रहती थी। तालाब की जगह का चुनाव बुलई करते थे। गजधर जमीन की पैमाइश करते थे।

यही कारण है कि तालाब खुदवाने की जगह पाटने की सूचनाएँ ज्यादा मिलती हैं। लोग पीने तथा सिंचाई के लिये ट्यूबवेेल, पम्पसेट, हैण्डपम्प आदि पर जोर देते हैं, लेकिन तालाब का महत्त्व नहीं समझते।

जल स्रोत नष्ट होते जा रहे हैं। इस समय देश में पानी की भारी कमी है। यदि सरकार और जनता तालाब निर्माण की ओर एक बार जागृत हो जाए तो सम्भवतः पानी की कमी दूर की जा सकती है। मत्स्यपुराण में कहा गया है- दस कुओं के बराबर एक बावड़ी, दस बावड़ियों के बराबर एक तालाब, दस तालाबों के बराबर एक पुत्र और दस पुत्रों के बराबर एक वृक्ष होता है।

बुद्धा तालाबजल स्रोतों में नदियों के बाद तालाबों का सबसे ज्यादा महत्त्व है। तालाबों से सभी जीव-जन्तु अपनी प्यास बुझाते हैं। किसान तालाबों से खेतों की सिंचाई करते रहे हैं। हमारे देश में आज भी सिंचाई के आधुनिकतम संसाधनों की भारी कमी है। ऐसे में किसान वर्षा और तालाब के जल पर निर्भर हैं, लेकिन तालाबों की निरन्तर कमी होती जा रही है। लगता है कि हम तालाबों के महत्त्व को भूलते जा रहे हैं। देश में 6,38,368 गाँव हैं। इनमें से डेढ़ लाख से भी अधिक गाँवों में पेयजल की किल्लत है। लगभग 72 प्रतिशत छोटे और सीमांत किसानों की फसलें पानी की कमी के कारण ठीक तरह फल-फूल नहीं पातीं।

नदियों से निकलने वाली नहरों को न तो चौड़ा किया जा रहा है और न ही उनकी साफ-सफाई हो रही है। नतीजतन उनका वजूद मिटता जा रहा है। इसके अलावा देश में कई राज्य और पहाड़ी क्षेत्र ऐसे हैं, जहाँ नहरें हैं ही नहीं। हैं भी तो अपर्याप्त। वर्षाजल या किसी झरने के पानी को रोकने के लिये बनाए जाने वाले तालाबों का प्रचलन अत्यधिक प्राचीन है। निचली धरती पर पानी भर जाने से कुछ तालाब अपने आप बन जाते रहे हैं। रामायण काल के तालाबों में श्रृंगवेरपुर का तालाब प्रसिद्ध रहा है। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के निदेशक डाॅ. बी.वी. लाल ने पुराने साक्ष्य के आधार पर इलाहाबाद से 60 किलोमीटर दूर खुदाई कर इस तालाब को खोजा है। यह तालाब ईसा पूर्व सातवीं सदी का बना हुआ है।

संजय गोस्वामी
डब्ल्यू. आई.पी., बी.ए.आर.सी., मुम्बई-85

Disqus Comment

More From Author

Related Articles (Topic wise)

Related Articles (District wise)

About the author

नया ताजा