पर्यावरण के हित में है जल व अन्य संसाधनों का विवेकपूर्ण उपयोग

Submitted by Hindi on Thu, 03/17/2016 - 11:53
Source
जल चेतना - तकनीकी पत्रिका, जुलाई 2015

जलकुछ दिन पहले एक विवाहोत्सव में जाना हुआ। भव्य आयोजन था। खाना शुरू करने से पहले हाथ धोने के लिये पानी की तलाश की लेकिन कहीं पर भी पानी नहीं रखा गया था जहाँ सुविधापूर्वक हाथ धोए जा सकें। सब कुछ था सिवाय पानी के। पानी कहीं किसी जग या टंकी में उपलब्ध नहीं था लेकिन पानी की प्लास्टिक की बोतलें जरूर रखी थीं। 200 मिली लीटर पानी से लेकर दो लीटर पानी तक की प्लास्टिक की बोतलें पर्याप्त संख्या में कई काउंटरों पर सजी थीं। जिसको हाथ धोने होते वो सुविधानुसार हाथ बढ़ाकर कोई एक बोतल उठाता, ढक्कन की सील तोड़ता और हाथों पर कुछ पानी डालकर शेष पानी से भरी बोतल वहीं रखे बड़े-बड़े टबों में फेंक देता।

टबों में ही नहीं चारों तरफ ढेर लगा था आंशिक रूप से प्रयुक्त पानी की बोतलों का। उनमें से निकल-निकल कर पानी चारों तरफ फैल रहा था और कीचड़ भी हो रही थी। आजकल जहाँ जाओ कमोबेश यही स्थिति दिखलाई पड़ती है। पानी और पीने योग्य पानी का ये हश्र देखकर जी दुखी हो जाता है। क्या पानी की इस बर्बादी, इस अविवेकपूर्ण उपयोग को रोका नहीं जा सकता? क्या हाथ धोने के लिये सामान्य स्वच्छ जल टोंटी लगे जग अथवा टंकियों में उपलब्ध नहीं कराया जा सकता? यह असम्भव नहीं लेकिन इसके सम्भव न होने के पीछे कई कारण हैं जो भयंकर हैं।

पेयजल का तो दुरुपयोग होता ही है साथ ही प्लास्टिक की बोतलों का भी बेतहाशा इस्तेमाल किया जा रहा है। हाथ धोने हैं तो एक बोतल, कुल्ला करना है तो दूसरी बोतल, भोजन के बीच में पानी पीना है तो तीसरी बोतल, भोजनोपरान्त हाथ साफ करने हैं या पानी पीना है तो चौथी व पाँचवीं बोतल इस तरह एक आदमी के लिये पाँच-सात बोतलों की सील तोड़ना व उनमें उपलब्ध पानी की क्षमता का अत्यल्प प्रयोग अथवा दुरुपयोग करना सामान्य सी बात है। प्लास्टिक की बोतलों व गिलासों का प्रयोग करना न केवल पर्यावरण के लिये घातक है अपितु इस्तेमाल करने वाले के लिये भी अस्वास्थ्यकर है इसीलिये प्लास्टिक के उपयोग को हतोत्साहित किया जाना अनिवार्य है।

आज हर जगह प्लास्टिक की बोतलों व गिलासों में बन्द पानी को प्रोत्साहित किया जा रहा है। आज प्लास्टिक की बोतलों व गिलासों पर कहीं भी कोई रोक-टोक नहीं। प्लास्टिक की बोतलों व गिलासों में बन्द पानी के प्रयोग को प्रतिष्ठा का प्रतीक या स्टैंडर्ड माना जा रहा है। प्लास्टिक, थर्मोकोल अथवा एल्युमीनियम फाॅयल से निर्मित यूज एंड थ्रो पात्रों को प्रतिष्ठित किया जा रहा है। एक-एक फंक्शन में कई-कई टैम्पों या ट्रक भरकर प्लास्टिक की पानी की बोतलें व गिलास तथा प्लास्टिक, थर्मोकोल अथवा एल्युमीनियम फाॅयल से निर्मित यूज एंड थ्रो पात्र प्रयोग में लाये जाते हैं। फंक्शन खत्म होते-होते इस घातक कचरे के ढेर लग जाते हैं। यह कचरा वजन में अत्यन्त हल्का होता है अतः इधर-उधर उड़ता-फिरता रहता है।

जलशहरों, कस्बों, गाँवों व समस्त पृथ्वी के सौन्दर्य पर कलंक-सा यह कचरा सचमुच त्याज्य है। आज बड़े-बड़े शहरों में ही नहीं कस्बों और गाँवों तक में कूड़े का सही ढंग से निपटारा करना एक बड़ी समस्या हो गई है। कुछ आर्थिक व औद्योगिक विकास की आवश्यकता तथा कुछ बढ़ते बाजारवाद के कारण आज हमारे उपभोग की मात्रा लगातार बढ़ती जा रही है। वस्तुओं की संख्या और मात्र दोनों में बेतहाशा बढ़ोतरी हो रही है। यूज एंड थ्रो संस्कृति के कारण तो स्थिति और भी भयावह होती जा रही है। बढ़ते औद्योगीकरण के कारण संसाधनों का अपरिमित दोहन किया जा रहा है जो हमारे परिवेश और प्राकृतिक सन्तुलन के लिये घातक है।

क्या प्लास्टिक, थर्मोकोल अथवा एल्युमीनियम फाॅयल से निर्मित यूज एंड थ्रो पात्रों की जगह धातु, चीनी मिट्टी अथवा काँच के सुन्दर व टिकाऊ, खाने-पीने में सुविधाजनक बर्तनों का इस्तेमाल नहीं किया जा सकता? क्या प्लास्टिक, थर्मोकोल अथवा एल्युमीनियम फाॅयल से निर्मित यूज एंड थ्रो पात्रों की जगह प्राकृतिक सामग्री जैसे पत्तों से निर्मित पत्तल व दोनों का प्रयोग सम्भव नहीं? क्या पत्तों से निर्मित पत्तल व दोनों का प्रयोग परिवेश के लिये अनुकूल व सुरक्षित नहीं? क्या इससे ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार का सृजन सम्भव नहीं? क्या इससे प्राकृतिक संसाधनों के दोहन में कमी द्वारा औद्योगीकरण के दुष्परिणामों को कम करना सम्भव नहीं? क्या इससे अजैविक अथवा नष्ट न होने वाले कूड़े-कचरे के अम्बार से मुक्ति सम्भव नहीं? कुछ भी असम्भव नहीं यदि सन्तुलित दृष्टि व नेक इरादे से कार्य किया जाये।

क्या प्लास्टिक की बोतलों या गिलासों में बन्द पानी की जगह टोंटी वाले जगों या टंकियों में शुद्ध पेयजल उपलब्ध नहीं कराया जा सकता? कराया जा सकता है लेकिन दो सौ, तीन सौ या हद-से-हद पाँच सौ रुपए के पानी के बीस-पच्चीस हजार रुपए तो नहीं बनाए जा सकते। ये घोर बाज़ारवाद, औद्योगीकरण व व्यावसायीकरण का परिणाम है जिसके कारण लगभग बिना कीमत वाला पानी जैसा पदार्थ भी न केवल सौ गुना से ज्यादा कीमत पर बेचा जा रहा है अपितु पानी जैसे बेशकीमती पदार्थ की बर्बादी व प्रदूषण के स्तर में बेतहाशा वृद्धि हो रही है और लोगों के स्वास्थ्य से भी खिलवाड़ किया जा रहा है।

कई बार शुद्ध स्वच्छ जल अथवा मिनरल वाॅटर के नाम पर जो बोतलबन्द पानी परोसा जाता है वास्तव में वह पीने के योग्य भी नहीं होता। उसमें से न केवल दुर्गंध आती है अपितु कई बार खारापन अथवा स्वाद भी अजीब-सा होता है। शुद्ध स्वच्छ जल तो गंधहीन, रंगहीन व किसी भी प्रकार के स्वाद से रहित तथा पारदर्शी होता है। शुद्ध जल अथवा मिनरल वाॅटर के नाम पर प्रायः बोतल में बन्द पानी ही होता है जिसकी गुणवत्ता का कोई भरोसा नहीं। कई बार सीधे जमीन का कच्चा पानी जो पीना तो दूर अन्य प्रयोग के लिये भी उचित नहीं होता बोतलों में भर दिया जाता है।

कई बार बोतलबन्द पानी इतना खराब होता है कि जो भी बोतल या गिलास खोलकर घूँट भरता है वह उसे गले से नीचे उतारने में असमर्थ होता है। वह न केवल भरी बोतल या गिलास डस्टबिन में फेंकने को विवश होता है अपितु मुँह में लिये पानी को कुल्ला करके बाहर फेंकना भी उसके लिये जरूरी हो जाता है। यह न केवल लोगों के स्वास्थ्य से खिलवाड़ है अपितु अनैतिकता व साफ-साफ बेईमानी भी है। यह पानी का ही नहीं अन्य संसाधनों का भी दुरुपयोग है और प्रकृति व पर्यावरण के प्रति लापरवाही ही नहीं, गम्भीर अपराध भी है।

जलदेश में ही नहीं पूरे विश्व में पर्यावरण की स्थिति लगातार बदतर होती जा रही है। ऐसे में हमारे लिये अपने उपभोग को सीमित व नियंत्रित करना ही नहीं अपने उपभोग की दशा व दिशा को बदलना भी अनिवार्य प्रतीत होता है। यह हर तरह से हमारे हित में ही होगा। वस्तुओं का सही व सन्तुलित प्रयोग ही नहीं पुनर्प्रयोग भी समय की माँग है। जल का विवेकपूर्ण उपयोग तो और भी महत्त्वपूर्ण हो जाता है। जल व अन्य संसाधनों के विवेकपूर्ण उपयोग में ही निहित है प्रकृति का बचाव और पर्यावरण प्रदूषण से मुक्ति। यह तभी सम्भव है जब हम अपने व्यवहार के साथ-साथ अपनी मानसिकता को बदलकर उसे भी अधिकाधिक सन्तुलित व सकारात्मक बनाएँ।

सम्पर्क करें
सीताराम गुप्ता, ए. डी. 106-सी, पीतमपुरा, दिल्ली - 110034, फोन नं 09555562232, ईमेल : srgupta54@yahoo.co.in

Disqus Comment