अब देखने भर के लिये रह गये हैं घराट

Submitted by Hindi on Sat, 03/26/2016 - 12:28


Aata_ChakkiWater Mill

ना कोई जेनरेटर, बिजली, टनल, डीपीआर, ब्लास्टर और ना ही प्राकृतिक संसाधनों का दोहन, बल्कि प्राकृतिक संसाधनो के लिये संरक्षण कार्यों के साथ-साथ एक ऐसी मशीन का आविष्कार है जो सिर्फ पानी से चलती है और लोगों को स्वावलम्बी बनाती थी, लोगों में परस्परता को बढावा देती थी, पहाड़ की घराट नाम की यह मशीन। अब इतने नजर नहीं आते हैं घराट! फिर भी जब आप उत्तराखण्ड राज्य के पहाड़ी गाँव की तरफ जा रहे होंगे तो किसी नदी व नाले पर घराट/पनचक्की; बंजर नजर जरूर आ रहे होंगे, परन्तु यह एक ऐसा लोक विज्ञान था, जिसे लोग अपने ही आस-पास के प्राकृतिक संसाधनों से बनाते थे और अनाज पिसाई के सारे काम इस घराट के बिना असम्भव थे। परस्परता इतनी थी कि अनाज पिसाई के बदले घराट मालिक को थोड़ा सा अनाज दिया जाता था। घराट बिन पानी नहीं चल सकता था, तो लोग जल संरक्षण के भी उपादान करते थे। फलस्वरूप इसको घराट तक लाया जाने वाला पानी भी निरन्तर अपने आगोश में बहता रहता था।

देश के अन्य भागों में लोगों को घराट शब्द अपरिचित हो परन्तु उत्तराखण्ड के पहाड़ी लोगों को इससे गहरा सम्बन्ध है। घराट न केवल स्थानीय रोजगार का साधन है, बल्कि पहाड़ी लोक जीवन और परम्पराओं से भी कहीं गहरे तक जुड़ा है। घराट वास्तव में अनाज पिसाई की पुरानी चक्की का नाम है, जो सिर्फ पानी के बहाव से ही चलती है। पानी का बहाव जितना तेज होगा चक्की उतनी ही तीव्र गति से घूमती है। नदी अथवा नालों से चक्की तक पानी गूल की सहायता से लाया जाता है। इस तरह घराट चलाने वाली गूल से सिंचाई व पेयजल इत्यादि के कामों में भी लाया जाता है। यह भी खास है कि घराट उसी नदी नाले के किनारे पर बनाया जाता है जहाँ पानी वर्षभर रहता है। घराट ऐसी लोक तकनिकी है जो पानी से ही चालित होती है। घराट का ताना-बाना प्राकृतिक संसाधनों से विकसित किया जाता है।

हालाँकि घराट बाहर से देखने में कोई झोपड़ीनुमा ही लगता है। इसकी दिवारें मिट्टी व पत्थरों तथा छत भी पत्थरों एवं टीन से बनी होती है। मगर इसके भीतर की दुनियाँ बड़ी ही निराली होती है। भीतर पाँच फुट गहरा गड्ढा होता है, जिसके ऊपर की तरफ तली व पत्थर का गोल पहिया स्थापित होता है। इसकी तली स्थिर होती है, पर इसके नीचे लगी पुली पानी के बहाव से घूमती है। पानी का वेग घटाने व बढ़ाने के लिये गूल पर मुंगेर का इस्तेमाल किया जाता है। पानी घराट के निचले हिस्से में लगी पुली पर डाला जाता है। ऊँचाई से पानी गिरने से पुली घूमने लगती है और पुली के घूमने से घराट के भीतर स्थित आटा पिसने वाला गोल पत्थर ‘वट’ (पत्थर का चक्का) भी घूमने लगता है। वट के ऊपर गोल व तिकोने आकार का बाँस या लकड़ी से बना डिब्बा लगा रहता है। जिसे स्थानीय भाषा में ‘ओडली’ कहा जाता है। इस डिब्बे में पीसने वाला अनाज डाला जाता है। ओडली के नीचे एक छोटा सा लकड़ी का डंडा लगा रहता है। जो बार-बार वट को छूता रहता है। इसकी सहायता से अनाज के दाने ओडली से धीरे-धीरे वट के मध्य गिरते हैं और इनकी इस तरह पिसाई होती है।

 

 

घराट पर संकट


मौजूदा समय बाजार में आटे की थैलियाँ उपलब्ध होने और गाँवों में भी बिजली, डिजल चालित चक्कियाँ स्थापित होने से घराटों के अस्तित्व पर संकट मंडराने लग गया है। इतना भर ही नहीं सरकारों की उदासीनता के कारण इस तरह की सस्ती और परम्परागत जैसी तकनीकी समाप्त होती जा रही है। जबकि राज्य बनने के दो वर्ष बाद सरकार ने घराट के नवीनीकरण बावत बाकायदा ‘उतरा विकास समिति’ का गठन किया था। यह समिति घराटों का अध्ययन करेगी और साथ ही साथ घराट को विद्युत उत्पादन के लिये विकसित करना समिति का प्रमुख कार्य था। समिति ने तत्काल घराटों का सर्वेक्षण कर दिया और इसके बाद से यह समिति सिर्फ व सिर्फ कागजों की धूल चाटती रह गयी।

 

 

 

 

विद्युत उत्पादन का भी यन्त्र है घराट


अक्षय ऊर्जा विकास अभिकरण के मुताबिक एक घराट से पाँच से पन्द्रह किलोवाट बिजली पैदा की जा सकती है। सरकार के आँकड़े गवाह हैं कि राज्य में अभी भी लगभग 22 हजार घराट मौजूद है। यदि उरेडा की तकनीकी पर गौर फरमायें तो इन पनचक्कीयों से लगभग एक हजार मेगावाट से लेकर तीन हजार मेगावाट तक की बिजली उत्पादित की जा सकती है। अकेला उत्तरकाशी जनपद में 2075 घराट मौजूद हैं। इनमें से मात्र 35 घराटों का उच्चीकरण करवाया जा रहा है, जिनमें 25 इलेक्ट्रिकल घराट है। बता दें कि इलेक्ट्रिकल घराट के लिये डेढ लाख और मैकनिकल घराट के लिये 50 हजार रु. की अनुदान धनराशि सरकार द्वारा दी जाती है। उत्तरकाशी में उरेडा के परियोजना अधिकारी मनोज कुमार का कहना है कि घराट को विकसित करने के लिये सरकार 90 फीसदी अनुदान देती है। लोग अनुदान का फायदा उठाकर बहुउद्देशीय घराट चलायें तो यह कमाई का अच्छा जरिया बन सकता है।

 

 

 

 

पहले भी घराट से हो चुका है विद्युत उत्पादन


80 के दशक में लोक जीवन विकास भारती बूढ़ा केदारनाथ, दशोली ग्राम स्वराज मण्डल चमोली और बाद में हिमालयी पर्यावरण शिक्षा संस्थान उत्तरकाशी, हेस्को संस्था देहरादून ने भी अपने-अपने कार्य क्षेत्र में घराट पद्धति को विद्युत उत्पादन के लिये विकसित किया है, जो आज बहुपयोगी है। बता दें कि रामदेव भी इन्हीं घराटों से पीसे हुये अनाज को बाजार में उपलब्ध करवा रहे हैं।

 

 

 

 

Disqus Comment

More From Author

Related Articles (Topic wise)

Related Articles (District wise)

About the author

.
प्रेम पेशे से स्वतंत्र पत्रकार और जुझारु व्यक्ति हैं, विभिन्न संस्थानों और संगठनों के साथ काम करते हुए बहुत से जमीनी अनुभवों से रूबरू हुए। उन्होंने बहुत सी उपलब्धियाँ हासिल की।

 

नया ताजा