सूचना का अधिकार क्या है (Right to Information)

Submitted by Hindi on Mon, 06/06/2016 - 09:54
Printer Friendly, PDF & Email

सूचना का अधिकार एक मौलिक अधिकार है जो विभिन्न अधिकारों तथा दायित्वों से अस्तित्व में आता है। वे हैः

हर व्यक्ति का सरकार – बल्कि कुछ मामलों में निजी संस्थाओं तक – से सूचनाएँ मांगने का निवेदन करने का अधिकार;

सरकार का निवेदित सूचनाओं को उपलब्ध कराने का कर्तव्य, बशर्ते उन सूचनाओं को सार्वजनिक न करने वाली सूचनाओं की श्रेणी में न रखा गया हो; और

नागरिकों द्वारा निवेदन किये बिना ही सामान्य जनहित की सूचनाओं को स्वयं अपनी पहल पर सार्वजनिक करने का सरकार का कर्तव्य।

भारतीय संविधान विशिष्ट रूप से सूचना के अधिकार का उल्लेख नहीं करता, लेकिन सर्वोच्च न्यायालय ने काफी पहले इसे एक ऐसे मौलिक अधिकार के रूप में मान्यता दे दी थी जो लोकतांत्रिक कार्य संचालन के लिये जरूरी है। विशिष्ट रूप से कहें तो सर्वोच्च न्यायालय ने सूचना के अधिकार को भारतीय संविधान के अनुच्छेद 19(1)(ए) द्वारा गारंटी प्राप्त बोलने व अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के अभिन्न अंग और अनुच्छेद 21 द्वारा गारंटी प्राप्त जीवन के अधिकार के एक आवश्यक अंग के रूप में मान्यता दी है।

सूचना तक पहुँच बनाने का अधिकार वस्तुतः इस तथ्य को दर्शाता है कि सूचनाएँ जनता की धरोहर होती हैं, न कि उस सरकारी संस्था की जिसके पास ये मौजूद होती हैं। सूचना पर किसी विभाग या तत्कालीन सरकार का ‘स्वामित्व’ नहीं होता। सूचनाओं को जन सेवकों द्वारा जनता के पैसे से एकत्रित किया जाता है, उनके लिये सार्वजनिक कोष से पैसा अदा किया जाता है और उन्हें जनता के लिये उनकी धरोहर के रूप में संभाल कर रखा जाता है। इसका अर्थ है कि आपको सरकारी कार्रवाइयों, निर्णयों, नीतियों, निर्णय प्रक्रियाओं और यहाँ तक कि कुछ मामलों में निजी संस्थानों व व्यक्तियों के पास उपलब्ध सूचनाएँ मांगने/पाने का अधिकार है।

सूचना का अधिकार एक असीम अधिकार नहीं है। जहाँ सूचनाओं को उपलब्ध कराए जाने से जनहित को नुकसान पहुँच सकता है, वहाँ कुछ सूचनाओं को गुप्त रखा जा सकता है। उदाहरण के लिये, युद्ध के दौरान सैनिकों की तैनाती या आने वाले साल में कर की दरों में बढ़ोतरी या कटौती से सम्बन्धित जानकारी तब तक नहीं बतायी जानी चाहिए जब तक ऐसे खुलासे का फायदा गलत तत्वों को होने की अधिक सम्भावना रहे। इसके बावजूद, मुख्य सवाल हमेशा एक ही रहेगाः क्या सूचना को सार्वजनिक हित में उजागर करना जन हित में है या उसे गुप्त रखना?

5बेनेट कॉलमैन एंड कं. बनाम भारतीय संघ, एआईआर एससी 783, न्यायमूर्ति केके मैथ्यू का असहमतिपूर्ण निर्णय; उ.प्र. राज्य बनाम राज नारायण, एआईआर 1975 एससी 865; एस.पी. गुप्ता बनाम भारतीय संघ, एआईआर 1982 एससी 149; इंडियन एक्सप्रेस न्यूजपेपर्स (बांबे) प्रा.लि. बनाम भारत (1985) 1 एससीसी 641; डी.के. बासु बनाम पं. बंगाल राज्य (1997) 1 एससीसी 216; रिलायंस पेट्रोकेमिकल्स लि. बनाम इंडियन एक्सप्रेस न्यूजपेपर्स (बांबे) प्रा. लि. के स्वामी, एआईआर 1989 एससी 190

Comments

Submitted by khiyaram paliw… (not verified) on Wed, 06/22/2016 - 22:33

Permalink

govt.giral.sr.sec.school.baytu barmer rajasthan ki niman susna sahiye.1-sarkari building bina parmision koi sanstha thor sakti he.2-baytu bhopaji sarpanch ne bhawan banne par purane ko torne ki parmision li he to order coppy mujhe sahiye.3.pament bhawan girane or mal metrial ka kitna kimat aanka he.rate list sahiye.4-karaykari sanstha baytu bhopaji grampansayat ko kitna pement diya he kitna baki he ,building ki quawaliti kesi he ,satigrasth mal bhawan me kitna lagaya.5-pement wousar par kiske sinne he.

Submitted by dhira (not verified) on Tue, 06/28/2016 - 05:13

Permalink

To My deyar sir sabinya niwedan hai ki hamare gaw me bajar jamin sarkari sampati khadgada khalihan jila gorakhpur post pasurampur thana pipraich balock bhatahat hamare yeha cort me sikayat darj karne par koi acson nahi liya gaya kirpya aap se nivedan hai ki hamari sikayat ko acson le dhanywad Pathi dhira Deta 28/6/2016

Submitted by KAUSHLENDRA KUMAR (not verified) on Sun, 09/04/2016 - 20:00

Permalink

To My dear sir Sabniye nibedan he ki gram ahrawan post jodhanbigha PS. Belchhi distt patna (bihar ) 803110 ka nibasi hu Sir mere gram me zilaparisad aur sanjay YADAV ne fish ka jira talab me de diya he jisase animal or gram ke logo ko vahari paresani ka samna karan par raha he Aap se anurodh he ki is samsya ka nidan kare Ahrawan Patna 4-9-2016

Submitted by kashi ram (not verified) on Sun, 09/25/2016 - 15:23

Permalink

Sir, I Kashiram ,i had submitted assignment in march IGNOU via study center .i have complete all cradit rule of unversity. But less marks in assignment pending my result .i contact th reginal center IGNOU adminstration he is told me make a new assignment. then I prepared a new assignment and got passed but my regional centre is not updating the assignment marks in July session. They are saying they will update it in December and I ll get a degree in december session. Sir this process is ruining my one whole year .just of single assignment. So please sir kindly look into the matter to save my one year and suggest me . I obligate to you

Submitted by Digvijay (not verified) on Sun, 03/12/2017 - 06:29

Permalink

Kya ham apne gram pradhan se unke kam k bare me hisab ya jankari le sakte hai kyon ki kya hota hai ki gram pradhan kya karte hai kisi ko jan kari nahi hoti aur wo apani manmani karte hai

Submitted by Digvijay (not verified) on Sun, 03/12/2017 - 06:33

Permalink

Sir Mai UP ke DEORIA district ka rahne wala hu kya mai apne gram pradhan ke kam ki jankari le sakte hai aur kaise . Kya hota h ki gaw me unse koi hisab nahi lete hai aur wo manmani karte hai.

Submitted by bansilalgupta (not verified) on Tue, 04/04/2017 - 20:02

Permalink

mujhse pradhan manti abas yojna ki jankari chaiye iska chain ki adhar per kiya ja raha hai

Submitted by Kamlawati devi (not verified) on Fri, 05/19/2017 - 20:27

Permalink

दिनांक ---०११/०५/२०१७सेवा मे---- श्री मान पुलिस अधिय्क्ष्क महोदय गाजीपुर उत्तर प्रदेश !विषय— अपने जमीन व रास्ते से अवैध कब्जा हटाने हेतु ( थानाध्यक्ष महोद्य द्वारा गलत रिपोर्ट लगाये गये सम्बन्ध मे ) !महोदय --- सविनय निवेदन है कि मै प्राथिनी कमलावती देवी पत्नी राम सुचित यादव ग्राम जसोली पो० जलालाबाद जि० गाजीपुर कि मूल निवासी हु मै अपनी जमीन व रास्ते से अवैध कब्ज़ा हटाने हेतु शिकायत पत्र दि थी जिसमे थानाध्यक्ष द्वारा अभियुक्त गण से घुस लेकर विना जाचं किये ही आख्या अनुमोदित कि गई हमे थाना द्वारा नहीं बुलाया गया थानाध्यक्ष द्वार आख्या मे लिखा जा रहा है दोनों पछो को थाने मे बुलाया गया हमे तो सुचना तक नहीं दी गई .हाला कि मेरा मोबाईल नम्बर भी सिकायत पत्र मे अंकित है अभियुक्त गण कि पकड़ सपा सरकार मे नेताओ से अच्छी पकड़ थी जिसके कारण कई बार इनके द्वारा हमे व हमारे परिवार को मारा गया जिसकी शिकायत थाना दुल्लहपुर मे कि थी जिस्का साक्ष्य हमारे पास है इन लोगो कि प्रताड़ना व जान से मारे जाने के डर से ग्राम सिरसा मऊ मे भी घर बनाया है वहा भी हम रहते है जिसका फायदा उठाकर मेरी जमीन व रास्ते मे खुटा नाद लगाकर हडपना चाहते है परन्तु ग्राम जसोली मे पुस्तेनी जमीन है व मेरे पति द्वारा बनाया गया मकान भी मौउजुद है जिसमे हम रहते है मेरे पति व लडके बाहर रहते है ! मै अपने अबोध बच्चो के साथ घर पर रहती हु मेरे अकेले का फ़ायदा उठाकर मेरे पटीदार लालचन्द, बालचन वीरबल पुत्र गण स्व० सन्तु यादव व लालचन्द के पुत्र रामअवध, रामचंद्र, रामदर्शन यादव मेरे जमीन व रास्ते मे खुटा व् नाद लगाकर जमीन हड्पना चाहते है इनके साथ ही मिलकर रामा केदार, सुब्बा, सुबचन पुत्र गण स्व० लुरखुर यादव , हरेंद्र, कन्हैया पुत्र राम यादव एवम् रामप्यारे पुत्र बेजनाथ यादव अपराधी एवम् दबंग भू माफिया किस्म के लोग है स्व० लुरखुर यादव, बेजनाथ यादव व मेरे ससुर स्व ० झुन्खुन यादव सगे भाई है जिसके कारण पैत्रिक सम्पति मे १/३ का हिसेदार है व १/३ का बटवारा के साथ रास्ते के लिए भी जमीन छोड़ा गया था | जिसे अभियुक्त गण हडपने कि कोशिस कर रहे है इन लोगो का प्रभाव थाना दुल्लहपुर पुलिस तक है इसी का फायदा उठाकर मेरे जमीन व रास्ते मे खुटा नाद लगा कर कब्ब्जा कर रहे है व मेरा रास्ता बंद करके मेरी जमीन भी हड़पना चाहते है दिनांकः २७/०२/२०१७ को दोपहर लगभग २ बजे नाद रखने के लिए मना किया तो अभियुक्त गण मुझे गन्दी गन्दी गालिया देने लगे व मारने लगे तो १०० न० पर फ़ोन किया तो पुलिस आयी तो कुछ अभियुक्त भाग गए व कुछ पकड़े गए पकडे गये अभियुक्त के साथ हमें भी पुलिस लेकर थाना दुल्लहपुर गई ! वहा थाना प्रभारी द्वारा अभियुक्तओ को नाद व खुटा हटाने के लिए तिन दिन का समय दिया हमने एफ आई आर दर्ज करने को कहा थाना प्रभारी ने मना कर दिया कहने लगे अब तुमको नहीं मारेगे व तिन दिन के अन्दर नाद व खुटा हटा लेगे नहीं हटायेगे तो हमें बताना ! जब तिन दिन हो गए तो रामअवध से पूछा आपलोग मेरे जमीन से खुटा व नाद हटाने के लिया थाना मे बोल के आये थे ! इसी बात पर रामअवध गन्दी गन्दी गाली देने लगा व् जान से मारने कि धमकीं दे कर कहने लगा अब तेरी सुनवाई थाने पर भी नहीं होगी २०००० रूपया दिया हु नहीं हटाउगा ! फिर पुनः मै थाने गई पत्र लेकर तो थाना प्रभारी महोद्य कहने लगे तुम कुछ रूपये दो हमे तो मै स्वयं चल के हटवा दूगां मैंने कहा मै गरीब हु मेरे पास रुपया नहीं है तो कहने लगे भागजा यहा से ए थाना तुम्हारे बाप का है जो खाली हाथ चली आती हो ! अभी तुम्हारे खिलाप लिख कर जेल मे बंद कर दुँगा ! अभियुक्त गण पर अभी तक कोई करवाई नहीं हुई है जिसके कारन हमारे व हमारे परिवार के जान माल पर खतरा बना हुआ है ! (रामा व लालचन्द ग्राम सभा जमीन स्वरिहा व हढोर के जमीन पर भी कब्ब्जा कर रखा है जिसकी नक़ल पत्र के साथ भेज रही हु) अभियुक्त गण इतने बाहुबली है कि ग्राम सभा के जमीन पर भी कब्ज़ा कर रखा है लेकिन इनके खिलाफ बोलने कि हिम्मत कोई भी गांव का आदमी नहीं कर पाता है ! (अभियुक्त गण द्वारा धमकी दी जा रही है कि जान से मार देगे या एक्सीडेंट करवा देगे अगर मेरी व मेरे परिवार मे किसी भी सदस्य का एक्सीडेंट व हत्या होती है तो उसका जिमेदार अभियुक्त गण होगे ) अतः श्री मान पुलिस अधिय्क्ष्क महोदय से विनम्र निवेदन करती हु उचधिकारी द्वार इसकी जाच कराई जाय व लिखित रूप से उन गवाहों के भी हस्ताक्षर लिए जाय जो कहते है यहा से चली गई है उसका कुछ नहीं है ये एक समजी बुझी अभियुक्त गण कि चाल है जिसके तहत हमारी जमीन हड़प सके ! सर मेरी रक्षा करते हुए मेरे जमीन जायदाद हड़पने से रोका जाय रास्ते से खुटा नाद हटवाने कि कृपा करे ! (एक महीने से थाना का चक्कर लगा रही हु लेकिन हमे न्याय नहीं मिला अभीतक !) प्राथिनी : कमलावती देवी पत्नी रामसुचित यादव ग्राम : जसौली पो० : जलालाबाद जिला : गाजीपुर, उत्तर प्रदेश मो न० : 7565021661

Sir mai uttar pradesh ghazipur ka rahne wala hu hmare gaav me kuch jamin hai government ki sour v pedal Lagane ka jija par gaav ke kuch dabng log kabja kya hai Kya mai usaki likhit rup me kisi vibhag se jankari mang sacta hu ki kiska kabja hai ya khali hai please hamara marg Darsham Kare

Submitted by Kamlawati devi (not verified) on Fri, 05/19/2017 - 20:28

Permalink

दिनांक ---०११/०५/२०१७सेवा मे---- श्री मान पुलिस अधिय्क्ष्क महोदय गाजीपुर उत्तर प्रदेश !विषय— अपने जमीन व रास्ते से अवैध कब्जा हटाने हेतु ( थानाध्यक्ष महोद्य द्वारा गलत रिपोर्ट लगाये गये सम्बन्ध मे ) !महोदय --- सविनय निवेदन है कि मै प्राथिनी कमलावती देवी पत्नी राम सुचित यादव ग्राम जसोली पो० जलालाबाद जि० गाजीपुर कि मूल निवासी हु मै अपनी जमीन व रास्ते से अवैध कब्ज़ा हटाने हेतु शिकायत पत्र दि थी जिसमे थानाध्यक्ष द्वारा अभियुक्त गण से घुस लेकर विना जाचं किये ही आख्या अनुमोदित कि गई हमे थाना द्वारा नहीं बुलाया गया थानाध्यक्ष द्वार आख्या मे लिखा जा रहा है दोनों पछो को थाने मे बुलाया गया हमे तो सुचना तक नहीं दी गई .हाला कि मेरा मोबाईल नम्बर भी सिकायत पत्र मे अंकित है अभियुक्त गण कि पकड़ सपा सरकार मे नेताओ से अच्छी पकड़ थी जिसके कारण कई बार इनके द्वारा हमे व हमारे परिवार को मारा गया जिसकी शिकायत थाना दुल्लहपुर मे कि थी जिस्का साक्ष्य हमारे पास है इन लोगो कि प्रताड़ना व जान से मारे जाने के डर से ग्राम सिरसा मऊ मे भी घर बनाया है वहा भी हम रहते है जिसका फायदा उठाकर मेरी जमीन व रास्ते मे खुटा नाद लगाकर हडपना चाहते है परन्तु ग्राम जसोली मे पुस्तेनी जमीन है व मेरे पति द्वारा बनाया गया मकान भी मौउजुद है जिसमे हम रहते है मेरे पति व लडके बाहर रहते है ! मै अपने अबोध बच्चो के साथ घर पर रहती हु मेरे अकेले का फ़ायदा उठाकर मेरे पटीदार लालचन्द, बालचन वीरबल पुत्र गण स्व० सन्तु यादव व लालचन्द के पुत्र रामअवध, रामचंद्र, रामदर्शन यादव मेरे जमीन व रास्ते मे खुटा व् नाद लगाकर जमीन हड्पना चाहते है इनके साथ ही मिलकर रामा केदार, सुब्बा, सुबचन पुत्र गण स्व० लुरखुर यादव , हरेंद्र, कन्हैया पुत्र राम यादव एवम् रामप्यारे पुत्र बेजनाथ यादव अपराधी एवम् दबंग भू माफिया किस्म के लोग है स्व० लुरखुर यादव, बेजनाथ यादव व मेरे ससुर स्व ० झुन्खुन यादव सगे भाई है जिसके कारण पैत्रिक सम्पति मे १/३ का हिसेदार है व १/३ का बटवारा के साथ रास्ते के लिए भी जमीन छोड़ा गया था | जिसे अभियुक्त गण हडपने कि कोशिस कर रहे है इन लोगो का प्रभाव थाना दुल्लहपुर पुलिस तक है इसी का फायदा उठाकर मेरे जमीन व रास्ते मे खुटा नाद लगा कर कब्ब्जा कर रहे है व मेरा रास्ता बंद करके मेरी जमीन भी हड़पना चाहते है दिनांकः २७/०२/२०१७ को दोपहर लगभग २ बजे नाद रखने के लिए मना किया तो अभियुक्त गण मुझे गन्दी गन्दी गालिया देने लगे व मारने लगे तो १०० न० पर फ़ोन किया तो पुलिस आयी तो कुछ अभियुक्त भाग गए व कुछ पकड़े गए पकडे गये अभियुक्त के साथ हमें भी पुलिस लेकर थाना दुल्लहपुर गई ! वहा थाना प्रभारी द्वारा अभियुक्तओ को नाद व खुटा हटाने के लिए तिन दिन का समय दिया हमने एफ आई आर दर्ज करने को कहा थाना प्रभारी ने मना कर दिया कहने लगे अब तुमको नहीं मारेगे व तिन दिन के अन्दर नाद व खुटा हटा लेगे नहीं हटायेगे तो हमें बताना ! जब तिन दिन हो गए तो रामअवध से पूछा आपलोग मेरे जमीन से खुटा व नाद हटाने के लिया थाना मे बोल के आये थे ! इसी बात पर रामअवध गन्दी गन्दी गाली देने लगा व् जान से मारने कि धमकीं दे कर कहने लगा अब तेरी सुनवाई थाने पर भी नहीं होगी २०००० रूपया दिया हु नहीं हटाउगा ! फिर पुनः मै थाने गई पत्र लेकर तो थाना प्रभारी महोद्य कहने लगे तुम कुछ रूपये दो हमे तो मै स्वयं चल के हटवा दूगां मैंने कहा मै गरीब हु मेरे पास रुपया नहीं है तो कहने लगे भागजा यहा से ए थाना तुम्हारे बाप का है जो खाली हाथ चली आती हो ! अभी तुम्हारे खिलाप लिख कर जेल मे बंद कर दुँगा ! अभियुक्त गण पर अभी तक कोई करवाई नहीं हुई है जिसके कारन हमारे व हमारे परिवार के जान माल पर खतरा बना हुआ है ! (रामा व लालचन्द ग्राम सभा जमीन स्वरिहा व हढोर के जमीन पर भी कब्ब्जा कर रखा है जिसकी नक़ल पत्र के साथ भेज रही हु) अभियुक्त गण इतने बाहुबली है कि ग्राम सभा के जमीन पर भी कब्ज़ा कर रखा है लेकिन इनके खिलाफ बोलने कि हिम्मत कोई भी गांव का आदमी नहीं कर पाता है ! (अभियुक्त गण द्वारा धमकी दी जा रही है कि जान से मार देगे या एक्सीडेंट करवा देगे अगर मेरी व मेरे परिवार मे किसी भी सदस्य का एक्सीडेंट व हत्या होती है तो उसका जिमेदार अभियुक्त गण होगे ) अतः श्री मान पुलिस अधिय्क्ष्क महोदय से विनम्र निवेदन करती हु उचधिकारी द्वार इसकी जाच कराई जाय व लिखित रूप से उन गवाहों के भी हस्ताक्षर लिए जाय जो कहते है यहा से चली गई है उसका कुछ नहीं है ये एक समजी बुझी अभियुक्त गण कि चाल है जिसके तहत हमारी जमीन हड़प सके ! सर मेरी रक्षा करते हुए मेरे जमीन जायदाद हड़पने से रोका जाय रास्ते से खुटा नाद हटवाने कि कृपा करे ! (एक महीने से थाना का चक्कर लगा रही हु लेकिन हमे न्याय नहीं मिला अभीतक !) प्राथिनी : कमलावती देवी पत्नी रामसुचित यादव ग्राम : जसौली पो० : जलालाबाद जिला : गाजीपुर, उत्तर प्रदेश मो न० : 7565021661

Submitted by Gyan Prakash t… (not verified) on Fri, 01/26/2018 - 00:02

Permalink

Sir Mere father ka sbi bhelupur Varanasi Me account hai jisko ki kisi Anya branch Se account ko hold Kar Diya gya jiski jankariMujhe nhi Di gyi Iske khilaf mai koi legal action le Sakta hu??

Submitted by Anonymous (not verified) on Mon, 05/21/2018 - 15:37

Permalink

प्रिय सर जी,

बिजली वालों को घर पर इलेक्ट्रिक चेक करने के लिए क्या परमिशन होना जरुरी है यह बातये.

 

 35/5000प्रार्थी शाहनवाज़9670350957 झाँसी

 

Add new comment

This question is for testing whether or not you are a human visitor and to prevent automated spam submissions.

1 + 7 =
Solve this simple math problem and enter the result. E.g. for 1+3, enter 4.

More From Author

Related Articles (Topic wise)

Related Articles (District wise)

About the author

Latest