मृदुजलीय कैटफिश हेट्रोप्न्यूस्टिस फासिलिस (सिंघी) के रक्त यूरिया स्तर पर निराहारता का प्रभाव (Impact of starvation on blood urea level of freshwater catfish Heteropneustes fossilis)

Submitted by Hindi on Tue, 07/26/2016 - 12:16
Printer Friendly, PDF & Email
Source
अनुसंधान (विज्ञान शोध पत्रिका), 2015

सारांश


.मृदुजलीय मीन हेट्रोप्न्यूस्टिस फासिलिस (सिंघी) में निराहारता के फलस्वरूप, शारीरिक उपापचय के प्रमुख जैव रसायनिक द्योतक रक्त यूरिया स्तर पर घटित प्रभाव का अध्ययन किया गया। निराहारता के प्रथम मास से ही रक्त यूरिया स्तर में क्षरण (11.63%) प्रदर्शित हुआ जो निरंतर बढ़ते निराहारता काल के सापेक्ष चौथे मास के अंत तक 64.19% इंगित हुआ। सिंघी मीन में यह परिवर्तन निराहारता के कारण सतत घटते उपापचय क्रियाओं से संबंधित थे, जो प्राय: जलीय वातावरण में चक्रीय परिवर्तनों के कारण घटित होती हैं।

Abstract


Studies were made to observe impact of starvation on blood urea levels, a potent biochemical indicator of body metabolism, of freshwater catfish H. fossilis. The level started decreasing from the initial month (11.63%) and declined sharply up to 64.19% after four months, gradually with increasing starvation period. The alterations were correlated with declining metabolic rate of the fish following starvation, a situation often prevails in aquatic environment due to cyclic changes.

प्रस्तावना


विभिन्न ऋतुओं के चिरपरिचित जलीय वातावरण, जहाँ नित्यप्रति प्राकृतिक, भौतिक, रासायनिक व जैविक उच्चवचन घटित होते रहते हैं, मछलियाँ अपने व्यवहार, शारीरिक वृद्धि, उपापचय क्रियाओं व प्रतिरोधक क्षमता में व्यापक परिवर्तन प्रदर्शित करती हैं। वातावरणीय क्षोभ अस्थायी मीनों में प्राय: प्रभावी व प्रतिपूर्तिकारक स्थिति उत्पन्न करते हैं। वर्ष के अल्पाधिक अवधि में वातावरण जनित प्रतिकूल परिस्थितिवश बुभुक्षण की स्थिति भी अनिवार्य रूप से मछलियों को अंगीकृत करना पड़ता है, जिससे उनके शारीरिक उपापचय क्रियाओं पर निश्चित प्रभाव पड़ता है (क्रीच व सरफटी, 1965; जोशी, 1974; चन्द्र, 1980, 2009)। ऐसे अपवर्तकों का जलीय वातावरण में आहार की उपलब्धता, गुणवत्ता व मात्रा पर संज्ञानीय प्रभाव निर्विवाद है। उपरोक्त परिस्थितियों में मछलियों को अनुकूलन हेतु व्यापक आंतरिक परिवर्तनों से सज्ज होना आवश्यक हो जाता है, जिसका प्रत्यक्ष प्रभाव उनके विभिन्न रक्त घटकों में स्वाभाविक रूप से दृष्टिगोचर होता है (जोशी, 1980; चन्द्र, 1982; ग्रैमपर्ल, 1994; शफी, 2000; नेगी व मलिक, 2004)। प्रस्तुत लेख में इस क्षेत्र की एक महत्त्वपूर्ण, उच्चपोषणज गुणता एवं औषधीय गुणों से युक्त बहुमूल्य खाद्यमीन हेट्रोप्न्यूस्टिस फासिलिस (सिंघी) में निराहारता के फलस्वरूप रक्त यूरिया स्तर पर घटित प्रभाव का अध्ययन प्रस्तुत किया गया है।

प्रयुक्त सामग्री व विधियाँ


मत्स्यपालकों की सहायता से लखनऊ व समीपस्थ प्राकृतिक जलाशयों से मछलियाँ एकत्रित कर, प्रयोगशाला में लाने व जलगृह में अनुकूलन, टंडन एवं चन्द्र (1979) द्वारा पूर्व वर्णित विधि अनुसार संपन्न किया गया। तत्पश्चात लगभग समभार की स्वस्थ मछलियों का चयन कर 2 प्रतिशत पोटैशियम परमैग्नेट विलयन में स्नानोपरांत ‘‘अध्ययन’’ व ‘‘नियंत्रण’’ जलगृहों में अलग-अलग रखा गया। नियंत्रण जलगृह की मछलियों को समयानुसार भेड़ का यकृत व जीवित केचुयें के सूक्ष्म टुकड़े, घोघियों व जलीय कीटों का आहार नियमित रूप से उपलब्ध कराया जाता रहा, जबकि ‘‘अध्ययन’’ जलगृह की मछलियों को निरंतर निराहार रखा गया।

दोनों ही जलगृहों का जल दिवसीय अंतराल पर परिवर्तित किया जाता रहा तथा मछलियों के व्यवहार पर दृष्टि रखी गई। प्रत्येक माह के अंत में नियंत्रण तथा प्रयोग अध्ययन जल गृहों से मछलियाँ निकालकर, प्रत्येक को रोयेंदार मुलायम तौलिये से सुखाकर, पुच्छदंड काटकर स्वच्छ व शुष्क रक्त स्कंदन रोधी पदार्थयुक्त शीशी में बहता रक्त एकत्रित कर अध्ययन काल तक फ्रिज में रखा गया। प्रत्येक मछली का भार लेकर, तथा विच्छेदन कर किसी संभावित आंतरिक परजीवी संक्रमण का भी अवलोकन किया गया। नैटेल्सन (1957) द्वारा प्रतिपादित जीवरासायनिक विधि द्वारा, स्पेकाल स्पेक्ट्रोफोटोमीटर की सहायता से सभी नमूनों में रक्त यूरिया स्तर का आंकलन किया गया।

परिणाम


‘‘प्रयोग’’ तथा ‘‘नियंत्रण’’ जलगृहों की सिंघी मछलियों में प्रयोगानुसार प्राप्त रक्त यूरिया स्तर सारिणी-1 में दर्शाया गया है। अध्ययन अवधि में निराहारता के कारण एच. फासिलिस मीन के रक्त यूरिया स्तर में सतत व निरंतर क्षरण प्रदर्शित हुआ। निराहारता के प्रथम मासोपरांत नियंत्रण की अपेक्षा प्रयोगरत मीन के रक्त यूरिया सतर में 11.63 प्रतिशत की न्यूनता पाई गई, जो द्वितीय मास में बढ़कर 30.23 प्रतिशत थी। मीन के रक्त यूरिया सतर पर प्रभावी क्षरण तृतीय व चतुर्थ माह के अंत में सुस्पष्ट था जो क्रमश: 51.16 प्रतिशत व 64.19 प्रतिशत इंगित हुआ। चतुर्थ माह के अंत तक केवल तीन मछलियाँ ही जीवित रह सकीं। स्पष्ट है कि निराहारता का सर्वाधिक प्रभाव तीसरे व चौथे मास में रहा, जो सांख्यिकीय दृष्टि से उल्लेखनीय (पी.

 

सारिणी-1 निराहारता के कारण सिंघी मछली में विभिन्न स्थितियों पर रक्त यूरिया स्तर

निराहारता की स्थिति

प्रेक्षण संख्या

रक्त यूरिया स्तर (मि.ग्रा./100 एमएल) माध्य + मानक विचलन (परास)

नियंत्रण

(भारत परास- 170-200 ग्राम)

20

4.30 + 1.22 (3.60 - 6.00)

एक माह

4

3.80 + 0.86 (3.00 – 4.66)

दो माह

4

3.00 + 0.52 (2.40 – 3.70)

तीन माह

4

2.10 + 0.54 (1.60 – 2.60)

चार माह

3

1.50 + 0.40 (1.14 – 1.60)

 

विवेचना


मछलियाँ प्राय: परिस्थितिजन्य बुभुक्षण की स्थिति में दीर्घकाल तक बिना आहार के भी जीवन निर्वाह में सक्षम है (स्मॉलवुड, 1966; बोटियस व बोटियस, 1967; विलकिन्स, 1967), तथापि निराहारता की स्थिति में अतिजीविता की दर (सरवायवल रेट) विभिन्न मीन प्रजातियों में अलग-अलग होती है (लव, 1970)। आहार के माध्यम से शरीर में मेटाबोलाइट्स की आपूर्ति न हो पाने की स्थिति में शारीरिक उपापचय क्रियाएं अव्यवस्थित हो जाती है, फलस्वरूप विभिन्न जैविक प्रक्रियाओं का प्रभावित होना स्वाभाविक है। आहाराभाव की ऐसी ही परिस्थितियों में अनेकानेक मछलियों के विभिन्न अंगों व रक्त के जैव रासायनिक अवयवों में प्रभावी उच्चावचन अंकित किये गये हैं (लव, 1958; सीवर्ट आदि, 1964; कुलीकोवा, 1966; नोडा, 1967; टंडन व चन्द्र, 1979; चन्द्र, 2002)।

निराहारता की स्थिति में सामान्य शारीरिक कार्यप्रणाली संचालन के लिये आवश्यक ऊर्जा हेतु मछलियाँ प्राय: संचित कार्बनिक ऊर्जा श्रोतों का प्रारंभिक उपयोग करती हैं, जो उनके विभिन्न रक्त अवयवों के बढ़ते या घटते स्तर से स्पष्ट है (पारकर व वैनस्टोन, 1966; वेलास व सरफटी, 1967; जोशी, 1974; चन्द्र, 1982, 2002)। निराहारता काल में सतत वृद्धि के सादृश सिंघी मीन के शारीरिक भार, क्षीणता व रक्त यूरिया स्तर में क्रमश: उत्तरोत्तर क्षय उपरोक्त वैज्ञानिकों द्वारा अंकित प्रेक्षण के अनुरूप है। अध्ययन अवधि के अंतिम माह में कुछ मछलियों में कशेरूक दण्डीय विकृति भी अवलोकित हुई, जो संभवत: समस्थैतिकता समन्वयन हेतु अकार्बनिक शारीरिक तत्वों के शनै: क्षरण से सहसंबंधित प्रतीत होती है। विलेन्यूव आदि (2005) एवं केसरवानी आदि (2007) ने भी व्याक्षिप्त वातावरणीय प्रबल स्थिति में मछलियों में विभिन्न शारीरिक विकृतियाँ इंगित की हैं।

स्पष्ट है, ऋतुजनित परिवर्तित जलीय वातावरण में भोजन अनुपलब्धता की स्थिति में मछलियाँ जीवन निर्वहनार्थ स्वयं के अनुकूलन में सक्षम है, परंतु जलाशयों में उत्तरोत्तर बढ़ता अप्राकृतिक प्रदूषण, पारिस्थितिकी की गुणवत्ता को व्यापक रूप से अपक्षीण कर निरंतर बुभुक्षुण की स्थिति उत्पन्न कर रहा है, जिसका निश्चित प्रभाव मत्स्य जीवन उनके पालन व उत्पादन पर पड़ना स्वाभाविक है। अस्तु इनका निदान अपेक्षित है।

संदर्भ


1. बोटियस, आई. एवं बोटियस, जे. (1967) स्टडीज आन यूरोपियन ईल एन्ग्युला: एक्सपेरिमेंटल इंडक्शन आफ द मेल सेक्सुअल सायकल, इट्स रिलेशन टू टेम्परेचर एण्ड अदर फैक्टर, मेड. डैम. फिस्क हावन्डर्स, खण्ड-4 मु.पृ. 339-405।

2. चंद्र, एस. (1980) इफेक्ट आफ स्टार्वेशन आन सीरम कोलेस्ट्रॉल लेवल आफ मरेल चन्ना पंक्टे्टस, कान. यूनि. रिसर्च जर्नल, खण्ड-1 मु.पृ. 23-26।

3. चंद्र, एस. (1982) इफेक्ट आफ स्टार्वेशन आन सीरम एसिड फॉस्फेटेज लेवेल अॉफ फ्रेशवाटर कैटफिश क्लैरियस बट्रेकस, एक्सपेरियेन्सिया, खण्ड-38, मु.पृ. 827-828।

4. चंद्र, एस. (2002) इफेक्ट आफ स्टार्वेशन आन सीरम कोलेस्ट्रॉल एण्ड टोटल सीरम प्रोटीन लेवल अॉफ द कैटफिश हेटरोप्न्यूस्टीस फासिलिस, हिमा. ज. एनवा. जूलॉजी, खण्ड-16, मुपृ. 227-230।

5. चंद्र, एस. (2009) इंपैक्ट आफ चेजिंग इकोफिजियोलॉजिकल कंडीशंस इन ब्लड यूरिया लेवल आफ फ्रेशवाटर फिश वैलेगो अट्टू, ज. एप्ला. व नेचुरल साइंस, खण्ड-1, मु.पृ. 47-49।

6. क्रीच, वाई. एवं सरफैटी, ए. (1965) प्रोटियोलिसिस इन कॉमन कॉर्प (सीप्रिनस कॉर्पियो) इन द कोर्स आफ स्टार्वेशन इंपार्टेन्स एण्ड लोकेलाइजेशन, सीआरसीनसोस बायो, खण्ड-150, मु.पृ. 483-486।

7. ग्रैमपर्ल, एके, विजयन, एमएम एवं बोटिलियर, आरजी (1994) एक्सपेरिमेंटल कंट्रोल आफ स्ट्रेस हारमोन लेवेल इन फिशेज- टेक्नीक्स एण्ड एप्लीकेशन, रिव्यू फिश बायो फिश, खण्ड-4, मु.पृ. 215-255।

8. जोशी, बीडी (1974) इफेक्ट आफ स्टार्वेशन आन कैट फिश क्लेरियस बट्रेकस, एक्सपेरियेन्सिया, खण्ड- 30, मु.पृ. 372-373।

9. जोशी, बीडी (1980) इफेक्ट आफ स्टार्वेशन आन सम बायोकेमिकल कम्पाउंड्स आफ लिवर एण्ड ओवरी आफ फ्रेशवाटर फिश हेटरोप्न्यूस्टिस फॉसिलिस, साइंस व कल्चर, खण्ड-46, मु.पृ. 112-114।

10. केसरवानी, डी. वर्मा, आरएस, शुक्ल, एस एवं शर्मा, यूडी (2007) कैडमियम इन्ड्यूज्ड स्केलिटल डिफार्मिटीज इन फ्रेशवाटर कैटफिश हेटरोप्नयूस्टिस फासिलिस, एन्वायरमेंट इकोलॉजी, खण्ड-25, मु.पृ. 348-351।

11. कुलीकोवा, एनए (1966) एक्टिविटी आफ ब्लड एण्ड ट्रांसएमिनेजेस ड्यूरिंग मस्कुलर एक्टिविटी आफ वैरियस ड्यूरेशन, यूकेर बायो ज, खण्ड-38, मु.पृ. 247-251।

12. लव, आरएम (1958) स्टडीज आन द नॉर्थ सी काड: III इफेक्ट आफ स्टार्वेशन, ज. साइंस फूड एग्री., खण्ड-9, मु.पृ. 195-198।

13. लव, आरएम (1970) ‘‘केमिकल बायलोजी आफ फिशेज’’, एकेडेमिक प्रेस, लंदन।

14. नैटेल्सन, एस (1957) ‘‘माइक्रोटेव्नीक्स इन क्लीनिकल केमिस्ट्री फॉर द रूटीन लैबोरेटरी’’, सीसी थॉमस, स्प्रिंगल।

15. नेगी, केएस एवं मलिक, डीएस (2004) फूड एण्ड फीडिंग बिहेवियर आफ महासीर टार पुटीटोरा इन गंगा रिवर, एक्वाकल्ट, खण्ड-5, मु.पृ. 59-64।

16. नोडा, एच (1967) स्टडीज आन वैरियस फॉस्फेटेजेस आफ फिशेज IV वैरियेशंस इन फोर फॉस्फेटेजेस एक्टिविटी ड्यूरिंग फास्टिंग अॉफ रेनबो ट्रउट साल्मो इरीडियस, ज. फैस. फिश ग्रीफ. यूनि. टी माई सू, खण्ड-7, मु. पृ. 65-71।

17. नोडा, एच (1968) स्टीडीज आन वैरियस फॉस्फेटेज आफ रेनबो ट्रउट, साल्मो इरीडियस, ज फैस फिश प्रीफ यूनि टी माई सू, खण्ड-8, मु.पृ. 73-80।

18. पारकर, आरआर एवं वानस्टोन, डब्ल्यू ई. (1966) चेंजेज इन केमिकल कम्पोजीशन आफ सेंट्रल ब्रिटिश कोलम्बिया पिंक साल्मन ड्यूरिंग अर्ली सी लाइफ, ज फिश रिसर्च बोर्ड, कनाडा, खण्ड-23, मु.पृ. 1353-1384।

19. सीबर्ट, जी शीमिट, ए एवं बाटके, आई (1964) इंजाइम आफ द एमिनो एसिड मेटाबोलिज्म इन काड मस्कुलेचर, आर्चीव फिश विज, खण्ड-15 मु.पृ. 223-244।

20. शफी, एस एम (2002) ‘‘मॉडर्न इक्थियोलॉजी’’ इंटर इण्डिया पब्लिकेशंस, नई दिल्ली।

21. स्मालवुड, डब्ल्यू एम (1966) टवेंटी मंथ्स आफ स्टार्वेशन इन एमिया काल्वा, बाय माट बायलो लैब बुड होल, खण्ड-31, मु.पृ. 453-464।

22. टंडन, आर एस एवं चंद्र, एस (1979) इकोफिजियोलॉजी आफ फिशेज इफेक्ट आफ स्टार्वेशन आन ब्लड यूरिया लेवल्स आफ फ्रेशवाटर कैटफिश क्लेरियस बट्रेकस, जेड टीरफिजियाल टियर फिटर मिटेल, खण्ड-41, मु.पृ. 310-313।

23. वेलास, ई एवं सरफेटी, ए (1967) यूरिया एक्सक्रीसन इन कार्प सिप्रिनस कार्पियो, आर्की साइंस, फिजियोलॉजी, खण्ड-21, मु.पृ. 185-192।

24. विलेन्यूब, डी एल कर्टिस, एल आर, जेनकिंस, जेजे, वारनर, के ई, टिल्टन, एफ, केंट एम एल (2005) एनवायरमेंटल स्ट्रेस एण्ड स्केलिटल डीफार्मिटीज इन फिश फ्राम विलामेटे रिवर आर्गन, एनवायरंमेंट साइंस टेक्नो., खण्ड-39, मु. पृ. 3495-3506।

25. विलकिन्स, एनपी (1967) स्टार्वेशन आफ द हेरिंग क्लूपिया हैरेन्गस सरवाइवल एण्ड सम बायोकेमिकल चैंजेज, कम्परे. बायोके. फिजियो. खण्ड-23, मु.पृ. 503-518।

सुधीश चन्द्र
एसोसिएट प्रोफेसर, परास्रातक प्राणि विज्ञान विभाग, बीएसएनवी पीजी कॉलेज, लखनऊ-226001, यूपी, भारत, Sudhish1953@gmail.com

Sudhish Chandra
Associate Professor, P.G. Department of Zoology, B.S.N.V.P.G. College, Lucknow-226001, U.P., India, Sudhish1953@gmail.com

प्राप्त तिथि : 31.07.2015, स्वीकृत तिथि : 15.09.2015

Add new comment

This question is for testing whether or not you are a human visitor and to prevent automated spam submissions.

11 + 7 =
Solve this simple math problem and enter the result. E.g. for 1+3, enter 4.

More From Author

Related Articles (Topic wise)

Related Articles (District wise)

About the author

Latest