आप भी कूल डाइट से कर सकते हैं : हीट को बीट

Submitted by Hindi on Sun, 05/14/2017 - 11:30
Printer Friendly, PDF & Email
Source
राजस्थान पत्रिका, 14 मई 2017

गर्मियों में फूड प्वाइजनिंग की आशंका ज्यादा रहती है। फ्राइड फूड में तेल होता है, जो स्किन को आॅइली बनाता है और पाचन क्रिया पर प्रभाव डालता है। गर्मियों में जंक फूड पचाना भी मुश्किल होता है। ऐसे में प्रोसेस्ड फूड की जगह ताजा फलों का सेवन करें और स्वस्थ रहें।


हल्का खाना खाएँ और फलों का जूस पीएँ। सुबह का नाश्ता या खाना स्किप न करें। कम कैलोरी वाला, लेकिन न्यूट्रीशियस खाना खाएँ। पानी के साथ नींबू पानी, छाछ, नारियल पानी आदि भी पीएँ। रोजाना अपनी डाइट में दो मौसमी फल और हरी सब्जी को शामिल करें। फलों का सेवन मिल्कशेक और स्मूदी के तौर पर किया जा सकता है।

शरीर में पानी की कमी पूरी करने के लिये रोजाना कम से कम आठ गिलास पानी पीना चाहिये। वास्तव में यह थ्योरी कितने लोग फाॅलो करते हैं गर्मी के इस मौसम में? अगर आप भी पानी की मात्रा को लेकर लापरवाही करते हैं तो जरूरी है कि खान-पान में बदलाव करें। अपनी डाइट से कुछ चीजों को हटाएँ और कुछ ऐसी चीजों को शामिल करें जिसमें पानी की अधिकता हो और जो हमें हाइड्रेट रखे।

मौसमी फलों से पाएँ ठंडक


तेज धूप और गर्मी शरीर को काफी नुकसान पहुँचा सकती है। डीहाइड्रेशन, स्किन बर्न, लू लगना, नींद की कमी, थकान आदि इस मौसम की आम समस्याएँ हैं। इनसे बचने के लिये मौसमी चीजों का सेवन करें, जो ताजा होने के साथ ही न्यूट्रीशन से भी भरपूर होता है। गर्मियों में हमें ऐसे खाने की जरूरत होती है, जो पानी और इलेक्ट्रोलाइट से भरपूर हो और हमारा एनर्जी लेवल स्थिर बनाए रखें। मौसमी फल और सब्जी में विटामिन, मिनरल्स, एंजाइम्स, एंटीआॅक्सीडेंट्स और फाइटोकैमिकल्स होते हैं, जो हमारे शरीर के प्राकृतिक तौर पर अंदरूनी सफाई करने के साथ ही हीलिंग क्षमता भी विकसित करते हैं।

इनसे करें परहेज
स्पाइसी फूड


पूरी गर्मी स्पाइसी खाना से दूर रहें और मिर्च, अदरक, काली मिर्च, जीरा और दालचीनी आदि मसालों की अधिकता से परहेज करें। यह शरीर में गर्मी करते हैं और मेटाबॉलिज्म की रेट को बढ़ाते हैं। इसी तरह रोस्टेड और तंदूरी चाजों से भी बचना चाहिये क्योंकि इससे गर्मी होने के साथ गैस्टिक प्रॉब्लम भी होती है।

सॉस


चीज सॉस से गर्मियों में दूरी बनाए रखें। इसमें 360 से ज्यादा कैलोरी होती है। इससे आप एनर्जी की कमी महसूस करेंगे। इसकी बजाए ताजा फल या टमाटर, कच्चा आम आदि की चटनी का सेवन कर सकते हैं। कुछ सॉस में बहुत ज्यादा मोनोसोडियम ग्लूटेमेट और नमक होता है, जिसका अधिक सेवन स्वास्थ्य के लिये हानिकारक होता है।

आइसक्रीम और कोल्ड ड्रिंक्स


यह शरीर को तत्काल प्रभाव से गर्म करने वाले पदार्थ हैं। हीट से राहत मिलने की बजाए इनसे पेट में ज्यादा गर्मी पैदा होती है। चाय और काॅफी भी गर्मी करते हैं। कैफीन और दूसरे पेय पदार्थ जिनमें शुगर की अधिकता होती है, वास्तव में डीहाइड्रेट करते हैं। बहुत ज्यादा मीठा जूस पीने से हाइड्रेशन में मदद नहीं मिलती है।

ज्यादा नमक


ज्यादा नमक वाला खाना ब्लड प्रेशर पर प्रभाव डालता है। हाई प्रोटीन खाने का सेवन कम करना चाहिये और जरूरी हो तो ऐसे खाने के साथ पाँच से छह गिलास पानी प्रतिदिन पीना चाहिये।

डाइट में ये हो शामिल
दही और फल


सुबह के नाश्ते के लिये यह अच्छा विकल्प है। ज्यादा पानी की मात्रा वाले फल शरीर का फ्लूड मेंटेन रखने में मदद करते हैं, जो पसीने के साथ लगातार कम होता रहता है। दही स्वास्थ्य के लिये लाभदायक बैक्टीरिया लैक्टोबेसिलस एसिडेफिलस को प्रमोट करता है। यह बैक्टीरिया फूड प्वाइजनिंग से बचाता है जो गर्मियों में काफी होने की आशंका रहती है।

सब्जियाँ


कार्बोहाइड्रेट युक्त खाना गर्मी में एनर्जी लेवल मेंटेन रखने में मदद करता है। थोड़ा-थोड़ा कार्बोहाइड्रेट युक्त खाना ब्लड शुगर और एनर्जी लेवल बनाए रखता है। इसमें बेक किया बीन, चावल, दही, दूध और फल होता है।

खीरा


इसमें 95 प्रतिशत पानी, कैल्शियम, मैग्नीशियम, सोडियम और पोटैशियम जैसे पोषक तत्व होते हैं। शरीर में पानी की मात्रा बनाए रखने के साथ ही यह स्किन के लिये भी अच्छा होता है। सलाद और जूस दोनों तौर पर इसका सेवन किया जा सकता है।

तरबूज


विटामिन सी से भरपूर एंटीअॉक्सिडेंट गुण वाले तरबूज में 92 प्रतिशत पानी होता है। साथ ही विटामिन ए, बी6 और सी भी होता है।

स्ट्रॉबेरी


92 प्रतिशत पानी और पोटेशियम से भरपूर इस फल को कच्चा खाने के अलावा जूस के तौर पर भी सेवन पर सकते हैं।

पालक


फाइबर और दिमाग के लिये जरूरी फोलेट का मुख्य स्रोत पालक है। एक कटोरा कच्चे पालक की पत्तियों में रोजाना की जरूरत का 15 प्रतिशत विटामिन ई होता है। यह महत्त्वपूर्ण एंटिआॅक्सिडेंट भी है।

इनका भी रखें ख्याल


हल्का खाना खाएँ और फलों का जूस पीएँ। सुबह का नाश्ता या खाना स्किप न करें। कम कैलोरी वाला, लेकिन न्यूट्रीशियस खाना खाएँ। पानी के साथ नींबू पानी, छाछ, नारियल पानी आदि भी पीएँ। रोजाना अपनी डाइट में दो मौसमी फल और हरी सब्जी को शामिल करें। फलों का सेवन मिल्कशेक और स्मूदी के तौर पर किया जा सकता है। साथ ही सब्जी को सलाद या पैन रोस्ट कर भी खाया जा सकता है। गर्मियों में भी प्रोटीन युक्त डाइट का सेवन करें लेकिन उचित मात्रा में। गर्मियों में बालों को एक्सट्रा केयर करने की जरूरत होती है ऐसे में प्रोटीन युक्त डाइट फायदेमंद होेगा।

More From Author

Related Articles (Topic wise)

Related Articles (District wise)

About the author

नया ताजा