वन्‍य जीवों के टकराव से निपटने की रणनीतियाँ नाकाम, कम नहीं हो रहा नुकसान

Submitted by Hindi on Fri, 06/30/2017 - 09:10
Source
इंडिया साइंस वायर, 29 जून, 2017

अध्‍ययनकर्ताओं के मुताबिक ग्रामीण परिवार विभिन्‍न तकनीकों का उपयोग वन्‍य जीवों से अपनी फसलों, मवेशियों और संपत्ति को बचाने के लिये करते हैं। कर्नाटक एवं मध्‍य प्रदेश के अभ्‍यारण्‍यों के आस-पास रहने वाले लोग वन्‍य जीवों से बचाव के लिये रात में निगरानी, डराने के लिये यंत्र का उपयोग और बाड़ लगाने जैसे तरीकों का उपयोग प्रमुखता से करते हैं।नई दिल्ली, 29 जून (इंडिया साइंस वायर) : जंगली जीवों के इंसानों से टकराव को लेकर किए गए एक देशव्‍यापी अध्‍ययन के मुताबिक वन्‍य जीवों के हमलों से निपटने की मौजूदा रणनीतियों के बावजूद फसलों, मवेशियों और जान-माल के नुकसान को कम नहीं किया जा सका है। भारतीय शोधकर्ताओं द्वारा किए गए एक अध्‍ययन के मुताबिक वन्‍य जीवों से मनुष्य‍ के टकराव से होने वाले नुकसान को कम करने के लिये इस समस्‍या से निपटने की प्रचलित रणनीतियों की समीक्षा करने की जरूरत है।

अध्‍ययनकर्ताओं के अनुसार देश भर में 32 वन्‍य जीवों की प्रजातियाँ लोगों के जान-माल को गंभीर नुकसान पहुँचा रही हैं, जिसे देखते हुए इंसान एवं वन्‍य जीवों के बढ़ते टकराव की घटनाओं को रोका जाना जरूरी है। वर्ष 2011 से 2014 के दौरान पश्चिमी, मध्‍य एवं दक्षिण भारत के 11 वन्‍य जीव अभ्‍यारण्‍यों के आस-पास मौजूद 2,855 गाँवों के 5,196 परिवारों के वन्‍य जीवों से टकराव एवं उससे बचाव के पैटर्न का विश्‍लेषण करने के बाद अध्‍ययनकर्ता इस नतीजे पर पहुँचे हैं। इस अध्‍ययन के नतीजे ह्यूमन डाइमेंशन्‍स ऑफ वाइल्‍ड लाइफ नामक शोध-पत्रिका में प्रकाशित किए गए हैं।

अध्‍ययन में शामिल 71 प्रतिशत परिवारों ने माना है कि जंगली जानवरों के कारण उनकी फसलों को नुकसान पहुँचा है, जबकि 17 प्रतिशत परिवारों के मुताबिक वन्‍य जीवों ने उनके मवेशियों को अपना शिकार बनाकर उन्‍हें नुकसान पहुँचाया है। तीन प्रतिशत परिवार ऐसे भी हैं, जिन्‍हें जंगली जानवरों के हमले में घायल होने से लेकर मौत की त्रासदी से भी गुजरना पड़ा है।

अध्‍ययन में शामिल 11 अभ्‍यारण्‍यों में से चार अभ्‍यारण्‍य जयसमंद, कुंभलगढ़, फुलवारी की नाल और सीतामाता उत्‍तर-पश्चिमी भारत, ताडोबा अंधेरी एवं कान्‍हा समेत दो अभ्‍यारण्‍य मध्‍य भारत और बाकी के पाँच अभ्‍यारण्‍य काली, भद्रा, बिलीगिरी रंगास्‍वामी मंदिर, बंदीपुर एवं नागरहोले पश्चिमी घाट में मौजूद हैं।

अध्‍ययनकर्ताओं की टीम में बंगलुरु स्थित सेंटर फॉर वाइल्‍ड-लाइफ स्‍टडीज से जुड़ी संरक्षणवादी वैज्ञानिक डॉ. कृति करंत और साहिला कुदालकर शामिल थीं। डॉ. कृति कारंत न्‍यूयॉर्क स्थित वाइल्‍ड-लाइफ कन्‍जर्वेशन सोसाइटी और अमेरिका के निकोलस स्‍कूल ऑफ एन्‍वायरन्मेंट से भी जुड़ी हैं।

अध्‍ययनकर्ताओं के अनुसार वन्‍य जीवों एवं इंसानों के साथ होने वाले टकराव को कम करने के लिये उपयुक्‍त नीतियाँ बनाने में यह अध्‍ययन मददगार साबित हो सकता है। शोधकर्ताओं के अनुसार इस समस्‍या की रोकथाम के लिये प्रभावी तकनीकों की पहचान के अलावा मुआवजे से संबंधित मौजूदा योजनाओं के सुदृढ़ीकरण और स्थानीय समुदायों, सरकार एवं संरक्षणवादी लोगों से आपसी बातचीत करना जरूरी है।

डॉ. साहिला कुदालकर के अनुसार ‘‘अत्‍यधिक गरीबी एवं सरकारी मुआवजे के बारे में जानकारी के अभाव के कारण वन्‍य जीवों के हमले से प्रभावित लोगों की जीविका पर सबसे बुरा असर पड़ता है।’’

इस अध्‍ययन के मुताबिक वन्‍य जीवों के कारण लोगों को औसतन 12,599 रुपये मूल्‍य की फसलों एवं 2,883 रुपये मूल्‍य के म‍वेशियों का नुकसान प्रतिवर्ष उठाना पड़ता है। इस तरह का नुकसान खेती एवं पशुपालन पर आश्रित भारत की ग्रामीण अर्थव्‍यवस्‍था का एक बड़ा हिस्‍सा है, जहाँ बहुसंख्‍य आबादी की आमदनी बेहद कम है।

डॉ. कारंत के अनुसार ‘‘वन्‍य जीवों से इंसानों के टकराव के समाधान के लिये लोगों और संगठनों द्वारा संरक्षण नीतियों एवं निवेश के लक्ष्यों की समीक्षा करने की आवश्यकता है। इस समस्‍या के बेहतर समाधान के लिये पूर्व चेतावनी तंत्र की स्‍थापना, मुआवजा एवं बीमा प्रक्रिया को दुरुस्‍त करने की जरूरत है।’’

अध्‍ययनकर्ताओं के मुताबिक ग्रामीण परिवार विभिन्‍न तकनीकों का उपयोग वन्‍य जीवों से अपनी फसलों, मवेशियों और संपत्ति को बचाने के लिये करते हैं। कर्नाटक एवं मध्‍य प्रदेश के अभ्‍यारण्‍यों के आस-पास रहने वाले लोग वन्‍य जीवों से बचाव के लिये रात में निगरानी, डराने के लिये यंत्र का उपयोग और बाड़ लगाने जैसे तरीकों का उपयोग प्रमुखता से करते हैं।

इन दोनों राज्‍यों में वन्‍य जीवों के कारण होने वाले नुकसान की घटनाएँ सबसे अधिक दर्ज की गई हैं। जाहिर है, इस तरह की तकनीकें वन्‍य जीवों के उपद्रव से होने वाले नुकसान से बचाव के लिये प्रभावी नहीं रही हैं। देश के अन्‍य हिस्‍सों के मुकाबले इन राज्‍यों में नुकसान की भरपाई के लिये मुआवजा भी अधिक दिया जाता है। इसके विपरीत राजस्‍थान में वन्‍य जीवों से फसलों एवं संपत्ति के बचाव के प्रयास सबसे कम किए जाते हैं। (इंडिया साइंस वायर)

Twitter : @usm_1984


TAGS

human-wildlife conflict, wildlife reserve, crop loss, livestock loss, wildlife attack


Disqus Comment

More From Author

Related Articles (Topic wise)

Related Articles (District wise)

About the author

नया ताजा