72 फीसदी क्षेत्र में 13 फीट तक नीचे गया जलस्तर

Submitted by Hindi on Mon, 12/25/2017 - 11:14
Printer Friendly, PDF & Email
Source
राजस्थान पत्रिका, 25 दिसम्बर, 2017

भोपाल। मध्य प्रदेश में भूजल की स्थिति गम्भीर होती जा रही है। पिछले एक साल में 72 फीसदी क्षेत्र में भूजल स्तर 2 से 4 मीटर अर्थात 13 फीट तक नीचे चला गया है। इससे इन क्षेत्रों को आने वाली गर्मियों में पानी के संकट से जूझना पड़ेगा।

जल संकटमध्य प्रदेश में जलस्तर की यह हकीकत सेंट्रल ग्राउंड वाटर बोर्ड नॉर्थ सेंट्रल रीजन द्वारा नवम्बर 2017 में कराए गए सर्वे में सामने आई है। इस बार कम बारिश होने के कारण जलस्तर में गिरावट की स्थिति बनी है।

प्रदेश के 11 जिलों में सबसे ज्यादा स्थिति खराब है। यहाँ पर जलस्तर 4 मीटर से अधिक घटा है। मध्य प्रदेश के उत्तरी, पूर्वी और उत्तर-पूर्वी जिलों में स्थिति गम्भीर है। प्रदेश के केवल 21 फीसदी क्षेत्र में जलस्तर बढ़ा है।

बोर्ड के वैज्ञानिक डॉ. सुभाष सिंह के अनुसार सर्वे के लिये बोर्ड द्वारा पूरे प्रदेश में चिन्हित 1204 कुओं और 325 बोरवेल में लगाए गए पीजोमीटर का जलस्तर जाँचा जाता है। नवम्बर माह में सर्वे के बाद दिसम्बर में इसकी रिपोर्ट केन्द्रीय जल संसाधन मंत्रालय और मध्य प्रदेश सरकार को भेज दी गई है।

उत्तरी क्षेत्र में सबसे ज्यादा स्थिति खराब


रिपोर्ट के अनुसार पिछले एक साल में प्रदेश के उत्तरी क्षेत्र में सबसे ज्यादा स्थिति खराब हुई है। मई 2017 और नवम्बर 2017 की रिपोर्ट की तुलना करने पर उत्तरी क्षेत्र में 9 प्रतिशत क्षेत्र में 2 मीटर तक जलस्तर गिरा और चार फीसदी क्षेत्र में 2 मीटर से ज्यादा गिरावट दर्ज हुई है। हालाँकि भोपाल में स्थिति सन्तोषजनक है। यहाँ पर 68 फीसदी क्षेत्र में जलस्तर 2 मीटर तक नीचे गया है। शेष 32 प्रतिशत क्षेत्र में जलस्तर बढ़ा है।

नवम्बर 2016 से नवम्बर 2017 के बीच यह आया अन्तर


1. 72.50 प्रतिशत प्रदेश के कुओं में जलस्तर में गिरावट दर्ज हुई।
2. 27.50 प्रतिशत केवल कुओं में जलस्तर बढ़ा हुआ पाया गया।

2 मीटर तक जलस्तर गिरा- 42.24 फीसदी कुओं में


1. 2-4 मीटर तक गिरावट- 19.46 फीसदी कुओं में
2. 04 मीटर से अधिक गिरावट- 10.80 फीसदी कुओं में

इन जिलों में 4 मीटर से ज्यादा गिरा जलस्तर


देवास, धार, शाजापुर, राजगढ़, शिवपुरी, ग्वालियर, मुरैना, छतरपुर, रीवा, सतना, उमरिया

इन जिलों में बढ़ा है जलस्तर


खरगोन, खंडवा, हरदा, बैतूल, सिवनी, नरसिंहपुर, छिंदवाड़ा, बालाघाट और सागर।

 

90 फीसदी से ज्यादा क्षेत्र में जलस्तर गिरा

उमरिया

100

रीवा, सीधी

96.97

सतना

93.75

ग्वालियर, विदिशा

93.33

छतरपुर

92.11

टीकमगढ़

91.67

 


Related Articles (Topic wise)

Related Articles (District wise)

About the author

नया ताजा