उमंग एप (UMANG APP)

Submitted by Hindi on Sun, 12/31/2017 - 13:15
Source
कुरुक्षेत्र, अगस्त 2017

उमंग (यानी यूनिफाइड मोबाइल एप्लीकेशन फॉर न्यू-एज गवर्नेंस अर्थात नए युग के शासन के लिये एकीकृत मोबाइल एप्लीकेशन) का उद्देश्य ई-गवर्नेंस को ‘मोबाइल प्रथम’ बनाना है। इसका विकास इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय तथा राष्ट्रीय ई-गवर्नेंस डिवीजन द्वारा किया गया है। यह एक विकासमान मंच है, जो भारत के नागरिकों को अखिल भारतीय ई-गवर्नेंस सेवाएँ प्रदान करने के लिये तैयार किया गया है। इन सेवाओं में केन्द्रीय, राज्य, स्थानीय निकायों और सरकार की एजेंसियों की सेवाएँ शामिल हैं, जिनके लिये एप, वेब, एसएमएस और आईवीआर चैनलों के जरिए एक्सेस प्रदान की जाती है।

इस एप की प्रमुख विशेषताएँ इस प्रकार हैं :-

यूनिफाइड प्लेटफॉर्म : यह सभी सरकारी विभागों और उनकी सेवाओं को एकल मंच पर लाता है ताकि नागरिकों को बेहतर और आसानी से सेवाएँ प्रदान की जा सकें।

मोबाइल प्रथम कार्यनीति : यह सभी सरकारी सेवाओं को मोबाइल प्रथम कार्यनीति के साथ जोड़ता है ताकि मोबाइल रखने की प्रवृत्ति का लाभ उठाया जा सके।

डिजिटल इंडिया सेवाओं के साथ एकीकरण : यह आधार, डिजी-लॉकर और पे-जीओवी जैसी अन्य डिजिटल इंडिया सेवाओं के साथ निर्बाध एकीकरण प्रदान करता है। कोई भी ऐसी नई सेवा इस प्लेटफॉर्म के साथ स्वतः जुड़ जाएगी।

एक समान अनुभव : इसका डिजाइन यह बात ध्यान में रखकर तैयार किया गया है कि इससे नागरिकों को सभी सरकारी सेवाओं को आसानी से खोजने, डाउनलोड करने, उन तक पहुँच कायम करने और उनका उपयोग करने में आसानी रहे।

सुरक्षित और सुगम : यह सेवा पहुँच के लिये आधार और अन्य प्रमाणीकरण व्यवस्थाओं से जुड़ी है। संवेदनशील प्रोफाइल डाटा एक्रिप्टिड फ़ॉर्मेट में सेव होता है और ऐसी सूचना को कोई अवांछित व्यक्ति नहीं देख सकता।

इस एप के जरिए निम्नांकित सेवाएँ उपलब्ध हैं :

सीबीएसई : केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड से जुड़े सभी विद्यार्थी अपने परीक्षा केन्द्रों का पता लगा सकते हैं और अपने परीक्षा परिणाम देख सकते हैं।

एनसीईआरटी : इसके जरिए विद्यार्थी, शिक्षक, अभिभावक और स्कूल एनसीईआरटी द्वारा ऑनलाइन और ऑफलाइन मोड में उपलब्ध कराई गई विषय-वस्तु को श्रेणीवार और विषयवार देख सकते हैं।

एआईसीटीई : नागरिक एआईसीटीई द्वारा अनुमोदित संस्थानों और पाठ्यक्रमों की तलाश कर सकते हैं।

मृदा स्वास्थ्य कार्ड : एसएचसी यानी सॉयल हेल्थ कार्ड फसलवार पोषक तत्वों और उर्वरकों की अनुशंसा करने में मदद करता है। इससे अलग-अलग खेत के लिये किसानों को उर्वरकों की मात्रा का आकलन करने में मदद मिलती है ताकि पैदावार में सुधार किया जा सके। नागरिक उमंग में इस एप्लीकेशन का इस्तेमाल करते हुए अपना मृदा स्वास्थ्य कार्ड देख सकते हैं।

पीएमकेवीवाई : प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना (पीएमकेवीवाई) का उद्देश्य बड़ी संख्या में भारतीय युवाओं को उद्योग के लिये प्रासंगिक कौशल प्रशिक्षण प्रदान करना है। इससे उन्हें बेहतर आजीविका प्राप्त करने में मदद की जा सकती है। नागरिक पीएमकेवीवाई के अन्तर्गत एक उम्मीदवार के रूप में आवेदन कर सकते हैं और अपने आवेदन की स्थिति देख सकते हैं।

एमओएचयूपीए : आवास और शहरी गरीबी उपशमन मंत्रालय एक ऐसी एजेंसी है, जो शहरी गरीबी उपशमन, आवास और रोजगार कार्यक्रमों के संचालन के लिये जिम्मेदार है। उमंग में इस एप्लीकेशन का इस्तेमाल करके नागरिक पीएमएवाई कार्यक्रम के लिये आवेदन कर सकते हैं।

फसल बीमा : फसल बीमा ओला वृष्टि, सूखा और बाढ़ जैसी प्राकृतिक आपदाओं से होने वाली हानि की भरपाई करने में मदद करता है। इतना ही नहीं, कृषि जिंसों के मूल्यों में गिरावट से होने वाली राजस्व की हानि की भरपाई भी इसके जरिए की जाती है।

ओआरएस : ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन सिस्टम (ओआरएस) के जरिए देशभर में विभिन्न अस्पतालों को जोड़ा गया है ताकि नागरिक नियुक्तियाँ बुक/रद्द कर सकें तथा प्रयोगशाला और रक्त उपलब्धता की रिपोर्टों को ऑनलाइन देख सकें।

Disqus Comment