समाज को पानी से जोड़ना ही होगा - ललित मोहन शर्मा

Submitted by admin on Wed, 03/24/2010 - 12:18
Printer Friendly, PDF & Email

जल और समाजजल और समाज

विश्व जल दिवस के अवसर पर विशेष रेडियो श्रृंखला “जल है तो कल है” इंडिया वाटर पोर्टल प्रस्तुत कर रहा है। यह कार्यक्रम वन वर्ल्ड साउथ इंडिया के सहयोग से प्रस्तुत किया जा रहा है। 20 मार्च को प्रसारित कार्यक्रम के हमारे मेहमान ललित मोहन शर्मा रहे। ललित जी सहगल फाउंडेशन के ‘Institute of rural research and development ’ से जुड़े वॉटर मैनेजमेंट एक्सपर्ट हैं। आप की शिक्षा आईआईटी दिल्ली से हुई है। आप वायर जैसे प्रतिष्ठित कंपनी में भी काम कर चुके हैं।
 

यह कार्यक्रम एआईआर एफएम रेनबो इंडिया (102.6 मेगाहर्टज) पर रोजाना 18-23 मार्च, 2010 तक समय 3:45- 4:00 शाम को आप सुन सकते हैं।

कार्यक्रम आप यहां से डाउनलोड कर सकते हैं

मीडिया में मेवात जिले के करहेणा गांव की चर्चा काफी जोर शोर से हुई है। सहगल फाउन्डेशन ने वहां काफी सूझ-बूझ भरा प्रयास वहां किया था। बहां के ज्यादातर पानी के श्रोत सूख गये थे। और पानी में खारेपन की शिकायत बहुत थी। समस्या से निपटने के लिए आपने जल प्रबंधन के पारंपरिक तरीके इस्तेमाल किया था।

विश्व जल दिवस के अवसर पर सहगल फाउन्डेशन ने जलयात्रा भी निकाली थी।

इन सबके बारे में आप उनका उत्तर सुन सकते हैं। सुनें उनसे बातचीत
 

More From Author

Related Articles (Topic wise)

Related Articles (District wise)

About the author

मीनाक्षी अरोरामीनाक्षी अरोराराजनीति शास्त्र से एम.ए.एमफिल के अलावा आपने वकालत की डिग्री भी हासिल की है। पर्या्वरणीय मुद्दों पर रूचि होने के कारण आपने न केवल अच्छे लेखन का कार्य किया है बल्कि फील्ड में कार्य करने वाली संस्थाओं, युवाओं और समुदायों को पानी पर ज्ञान वितरित करने और प्रशिक्षण कार्यशालाएं आयोजित करने का कार्य भी समय-समय पर करके समाज को जागरूक करने का कार्य कर रही हैं।

नया ताजा