पोषण और आमदनी का जरिया बनी सब्जी प्रजातियाँ

Submitted by Hindi on Fri, 04/06/2018 - 17:39
Source
इंडिया साइंस वायर, 06 अप्रैल, 2018


झारखंड की सब्जियाँझारखंड की सब्जियाँ गरीब और पिछड़ा माने जाने वाले झारखंड जैसे राज्यों के जनजातीय लोग कई ऐसी सब्जियों की प्रजातियों का उपभोग अपने भोजन में करते हैं, जिनके बारे में देश के अन्य हिस्सों के लोगों को जानकारी तक नहीं है।

भारतीय शोधकर्ताओं ने झारखंड के स्थानीय आदिवासियों द्वारा उपयोग की जाने वाली ऐसी पत्तेदार सब्जियों की 20 प्रजातियों की पहचान की है, जो पौष्टिक गुणों से युक्त होने के साथ-साथ भोजन में विविधता को बढ़ावा दे सकती हैं। पोषण एवं खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित करने में भी सब्जियों की ये स्थानीय प्रजातियाँ मददगार हो सकती हैं।

सब्जियों की इन प्रजातियों में शामिल लाल गंधारी, हरी गंधारी, कलमी, बथुआ, पोई, बेंग, मुचरी, कोईनार, मुंगा, सनई, सुनसुनिया, फुटकल, गिरहुल, चकोर, कटई/सरला, कांडा और मत्था इत्यादि झारखंड के आदिवासियों के भोजन का प्रमुख हिस्सा हैं। जनजातीय लोगों द्वारा भोजन में सबसे अधिक उपभोग लाल गंधारी, हरा गंधारी और कलमी का होता है। वहीं, गिरहुल का उपभोग सबसे कम होता है।

अध्ययनकर्ताओं ने राँची, गुमला, खूंटी, लोहरदगा, पश्चिमी सिंहभूमि, रामगढ़ और हजारीबाग समेत झारखंड के सात जिलों के हाट (बाजारों) में सर्वेक्षण कर वहाँ उपलब्ध विभिन्न मौसमी सब्जियों की प्रजातियों के नमूने एकत्रित किए हैं। इन सब्जियों में मौजूद पोषक तत्वों, जैसे- विटामिन-सी, कैल्शियम, फॉस्फोरस, मैग्नीशियम, पोटैशियम, सोडियम और सल्फर, आयरन, जिंक, कॉपर एवं मैगनीज, कैरोटेनॉयड्स और एंटी ऑक्सीडेंट गुणों का पता लगाने के लिये नमूनों का जैव-रासायनिक विश्लेषण किया गया है।

विटामिन, खनिज और एंटीऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर जनजातीय इलाकों में पायी जाने वाली ये पत्तेदार सब्जियाँ स्थानीय आदिवासियों के भोजन का अहम हिस्सा होती हैं। इनमें प्रचुर मात्रा में कैल्शियम, मैग्नीशियम, आयरन, पोटैशियम जैसे खनिज तथा विटामिन पाये गये हैं। इन सब्जियों में फाइबर की उच्च मात्रा होती है, जबकि कार्बोहाइड्रेट एवं वसा का स्तर बेहद कम पाया गया है।

अध्ययन के अनुसार “इन सब्जियों की उपयोगिता के बावजूद इन्हें गरीबों एवं पिछड़े लोगों का भोजन माना जाता है और व्यापक रूप से कृषि चक्र में ये सब्जियाँ शामिल नहीं हैं। जबकि, सब्जियों की ये प्रजातियाँ खाद्य सुरक्षा, पोषण, स्वास्थ्य देखभाल और आमदनी का जरिया बन सकती हैं। एक खास बात यह है कि बेहद कम संसाधनों में इनकी खेती की जा सकती है।”

बरसात एवं गर्मी के मौसम में विशेष रूप से जनजातीय समुदाय के लोग खाने योग्य विभिन्न प्रकार के पौधे अपने आसपास के कृषि, गैर-कृषि एवं वन्य क्षेत्रों से एकत्रित करके सब्जी के रूप में उपयोग करते हैं। इन सब्जियों को विभिन्न वनस्पतियों, जैसे- झाड़ियों, वृक्षों, लताओं, शाक या फिर औषधीय पौधों से प्राप्त किया जाता है।

सब्जियों को साग के रूप में पकाकर, कच्चा या फिर सुखाकर खाया जाता है। सुखाकर सब्जियों का भण्डारण भी किया जाता है, ताकि पूरे साल उनका भोजन के रूप में उपभोग किया जा सके। अलग-अलग स्थानों पर विभिन्न मौसमों में भिन्न प्रकार की सब्जियाँ उपयोग की जाती हैं। इनकी पत्तियों, टहनियों और फूलों को मसालों अथवा मसालों के बिना पकाकर एवं कच्चा खाया जाता है।

भारतीय कृषि अनुसन्धान परिषद के पटना एवं राँची स्थित पूर्वी अनुसन्धान परिसर के शोधकर्ताओं द्वारा किया गया यह अध्ययन शोध पत्रिका करंट साइंस में प्रकाशित किया गया है। अध्ययनकर्ताओं में अनुराधा श्रीवास्तव, आर.एस. पैन और बी.पी. भट्ट शामिल थे।

 

 

 

TAGS

ICAR-Research complex for eastern region in Hindi, Underutilized leafy vegetables in Hindi, IARI in Hindi, Antioxident in Hindi, nutritional potential of vegetables in Hindi

 

 

 

Disqus Comment

More From Author

Related Articles (Topic wise)

Related Articles (District wise)

About the author

नया ताजा