आँकड़ों का संकट

Submitted by editorial on Sat, 06/09/2018 - 15:33
Printer Friendly, PDF & Email
Source
डाउन टू अर्थ, मई, 2018

 

उपग्रह तकनीकी तीव्र गति से विकसित हो रही है। मुझे लगता है कि संस्थाओं को जितना सम्भव हो सके आँकड़ों को वृहत तौर पर सबके लिये उपलब्ध करवाते हुए विकास का लाभ उठाने के तरीके ईजाद करने होंगे। अब उपग्रह पहले से अधिक आँकड़े एकत्र कर रहे हैं। लैंडसेट 8 ने अपने आरम्भिक दो वर्षों में ही इतने आँकड़े एकत्र कर लिये जितने लैंडसेट 4 और 5 ने अपने पूरे 32 वर्षों के जीवनकाल में किये।

वैज्ञानिकों और नीति-निर्माताओं को जलवायु परिवर्तन पर अपनी समझ बढ़ाने और विचार प्रस्तुत करने के लिये उपग्रहों से प्राप्त आँकड़ों की जरूरत होती है। इन उपग्रहों में से आधे से अधिक के आँकड़ों के निर्बाध इस्तेमाल पर पाबन्दी है, जबकि इसे पूरी तरह से उपलब्ध करवाया जाना चाहिए।

जब सरकारों द्वारा आँकड़ों के उपयोग पर इस तरह पाबन्दी लगाई जाती है कि कौन उसका इस्तेमाल करे या फिर जनता द्वारा उसका किस तरह से इस्तेमाल किया जाना चाहिए या पुनर्वितरित किया जाये तो इस तरह विज्ञान का विकास अवरुद्ध होता है। इसी कारण एक अमेरिकी जलवायु वित्त पोषण संस्था खतरे में है। अब पहले से भी अधिक आवश्यकता है कि उपलब्ध आँकड़ों का शोधार्थियों और अन्य लोगों द्वारा पूरी तरीके से इस्तेमाल को सुनिश्चित किया जाये।

आखिर ऐसा क्यों है कि कुछ राष्ट्र उपग्रह से प्राप्त आँकड़ों पर पाबन्दी लगाते हैं, जबकि अन्य इसकी खुली छूट देते हैं? मेरी किताब ‘ओपन स्पेस’ में ऐतिहासिक मामलों के अध्ययन की एक पूरी शृंखला व राष्ट्रीय कार्य प्रणालियों के वृहत सर्वेक्षण द्वारा यह साबित करने का प्रयास किया गया है कि किस तरह आर्थिक हित व एजेंसी की प्राथमिकताएँ यह तय करती हैं कि राष्ट्र उपलब्ध आँकड़ों का इस्तेमाल किस तरह करे।

आँकड़ों का मूल्य

उपग्रहों द्वारा महासागर, उत्तर ध्रुवीय महासागर व अन्य फैली हुई आबादी वाले क्षेत्रों से व्यापक रूप में आँकड़े एकत्र किये जाते हैं जो मनुष्य के लिये जुटा पाना कठिन है। उपग्रह बिना बाधा के आँकड़े एकत्र कर सकते हैं, जो जलवायु परिवर्तन पर हो रहे शोध में मदद करते हैं। अमेरिकी-जर्मन ग्रेस सैटेलाइट मिशन से प्राप्त आँकड़ों का इस्तेमाल कर वैज्ञानिक पता लगाते हैं कि उत्तर ध्रुवीय व दक्षिण ध्रुव पर मौजूद भूमि बर्फ का द्रव्यमान कितना है। ग्रेस द्वारा पिछले 15 वर्षों से लगातार आँकड़ों के संग्रहण द्वारा यह निष्कर्ष निकाल पाना सम्भव हो सका कि वर्ष 2002 से अंटार्कटिका और ग्रीनलैंड में विद्यमान भूमि बर्फ की परतों के द्रव्यमान में भारी गिरावट आई है। यही नहीं साल 2009 से इसमें ज्यादा तेजी से गिरावट दर्ज की गई है।

उपग्रहों के द्वारा बहुमूल्य आँकड़े एकत्र किये जाते हैं, ये महँगे भी होते हैं। प्रति मिशन 100 मिलियन अमेरिकी डॉलर से लेकर 1 बिलियन अमेरिकी डॉलर तक का खर्च आता है। आमतौर पर इन्हें 3 वर्ष से लेकर 5 वर्ष तक की अवधि के लिये तैयार किया जाता है, पर ये प्रायः अनुमानित जीवन से भी अधिक काम करते हैं।

अधिकतर राष्ट्र अपने खर्चों के भुगतान के लिये एकत्र किये गये आँकड़ों को बेचते हैं या फिर इसे व्यवसायीकृत करते हैं। यूएस नेशनल ओसियनिक एंड एटमॉस्फेरिक एडमिनिस्ट्रेशन (US national oceanic and atmospheric administration) और द यूरोपियन स्पेस एजेंसी (The European space agency) जैसी संस्थाएँ उपग्रहों से प्राप्त आँकड़ों को आसानी से उपलब्ध करवाती हैं, जबकि इन्होंने अपने मिशन के शुरुआती दौर में आँकड़े बेचे थे। नासा द्वारा 1970 के आरम्भ में विकसित किया गया यूएस लैंडसेट प्रोग्राम वर्ष 1980 में एक निजी संस्था में तब्दील कर दिया गया था, जो बाद में सरकारी नियंत्रण में पुनः लाया गया।

कुछ अन्य मामलों में संस्थाएँ कुछ आँकड़ों को सभी के लिये सुलभ करवाने के लिये प्राथमिकताएँ तय करती हैं। जैसे वर्ष 2016 में 35 से अधिक राष्ट्र पृथ्वी परीक्षण उपग्रह कार्यक्रम के विकास या कार्यान्वयन में भागीदारी कर रहे हैं। इजिप्ट और इंडोनेशिया जैसे देशों में स्पेस कार्यक्रम आरम्भिक दौर में है। इन देशों ने साधारण उपग्रहों के विकास पर ध्यान दिया है, जिससे उनके अभियन्ताओं को व्यावहारिक अनुभव प्राप्त हो सके।

जैसा कि इन कार्यक्रमों का उद्देश्य क्षमता विकसित करना और नई तकनीक का प्रदर्शन करना अधिक होता है न कि आँकड़ों का वितरण या उपयोग। आँकड़े एकत्र करने की व्यवस्थाओं को सार्थक रूप में वित्त पोषण नहीं मिल पाता। ये संस्थाएँ डाटा पोर्टल व अन्य व्यवस्थाओं के विकास का खर्च वहन नहीं कर सकती, जिससे आँकड़े पूर्णरूपेण सुगम रूप से उपयोग के लिये उपलब्ध करवाये जा सकें। यही नहीं वे भूलवश यह भी सोचती हैं कि उपग्रहों से प्राप्त इन परीक्षण सम्बन्धी आँकड़ों की माँग कम है।

यदि वैज्ञानिक चाहते हैं कि ये राष्ट्र अपने उपग्रहों से प्राप्त आँकड़ों को ज्यादा-से-ज्यादा सुलभ उपलब्ध करवाने के लिये प्रोत्साहित हो, तो उन्हें उपरोक्त दोनों मसलों पर काम करना होगा।

आँकड़ों की सुलभता को प्रोत्साहन

देखा जाए तो एक उपयोगकर्ता को आँकड़े उपलब्ध करवाने से अन्य लोगों के लिये उपलब्ध आँकड़ों में कमी नहीं हो जाती, जबकि व्यापक तौर पर आँकड़े वितरित करने से समाज के विकास में योगदान बढ़ता है। जितना ही उपलब्ध आँकड़ों का उपयोग होगा उतना ही हम नये शोध और उत्पादों से लाभान्वित होंगे।

मैंने अपने शोध में पाया कि आँकड़ों को सहज रूप से उपलब्ध करवाने से यह सुनिश्चित किया जा सकता है कि अधिकतम संख्या में लोगों तक इसकी सहज पहुँच होगी और उपयोग में लाया जा सकेगा। यूएस जियोलॉजिकल सर्वे ने वर्ष 2001 में 25,000 लैंडसेट चित्रों की बिक्री की, जो कि उस समय एक रिकॉर्ड था। उसके बाद वर्ष 2008 में लैंडसेट आँकड़ों को पूरी तरह से सहज रूप से उपलब्ध करवा दिया गया। इस संस्था ने उसके बाद वाले वर्ष में एक मिलियन से ज्यादा लैंडसेट चित्र वितरित किये। जिन राष्ट्रों को ऐसा लगता है कि उनके आँकड़ों की माँग कम है या फिर उनके पास आँकड़े वितरित करने की व्यवस्था बनाने के लिये निवेश के संसाधनों की कमी है, इस ओर प्रोत्साहित किया जा सकता है। शोधकर्ता और अन्य प्रयोगकर्ता समूहों द्वारा इन आँकड़ों के सम्भावित इस्तेमाल के प्रति जागरुकता अभियान चलाया जाना चाहिए। इसके साथ ही उनके द्वारा सरकारों को इन तक पहुँच और उपयोग के प्रति स्पष्ट रुख से परिचित करवाना चाहिए। अन्तरराज्यीय संस्थाएँ जैसे ग्रुप ऑन अर्थ ऑब्जर्वेशन इन प्रयासों में इस तरह मदद दे सकती हैं, जैसे वे शोध और उपयोगकर्ता समुदायों को सम्बन्धित सरकार के नीति-निर्माताओं से आपस में मिलवाएँ। अन्तरराष्ट्रीय संस्थाएँ आँकड़ों को साझा करने की भावना को इस तरह प्रोत्साहित कर सकती हैं कि वे वैश्विक स्तर पर राष्ट्रों के आँकड़े एक-दूसरे से साझा करें। वे तकनीकी व कर्मचारियों और माल व्यवस्था की मदद से आँकड़ों के पोर्टल स्थापित करने में या पहले से स्थापित आँकड़ों के पोर्टल में बाहरी आँकड़ों को सुरक्षित रखने जैसे कार्य करके छोटे मिशन पर होने वाले संसाधन निवेश को घटाने में मदद कर सकती हैं।

भविष्य के लिये वादा

उपग्रह तकनीकी तीव्र गति से विकसित हो रही है। मुझे लगता है कि संस्थाओं को जितना सम्भव हो सके आँकड़ों को वृहत तौर पर सबके लिये उपलब्ध करवाते हुए विकास का लाभ उठाने के तरीके ईजाद करने होंगे। अब उपग्रह पहले से अधिक आँकड़े एकत्र कर रहे हैं। लैंडसेट 8 ने अपने आरम्भिक दो वर्षों में ही इतने आँकड़े एकत्र कर लिये जितने लैंडसेट 4 और 5 ने अपने पूरे 32 वर्षों के जीवनकाल में किये। इस समय लैंडसेट अपने लेखागार में प्रतिदिन एक टेराबाइट की दर से बढ़ोत्तरी दर्ज कर रहा है।

इस तरह एकत्र हो रहे असंख्य आँकड़ों से आशाजनक सम्भावनाएँ पैदा हो रही हैं लेकिन इन आँकड़ों तक पहुँच के लिये नई संस्थाओं की आवश्यकता होगी। इस समस्या का समाधान संस्थाएँ क्लाउड टेक्नोलॉजी अपनाकर कर रही हैं पर फिर भी बहुत सी संस्थाएँ अब भी लागत व्यय से जूझ रही हैं। क्या संस्थाओं को अपने आँकड़े सुरक्षित रखने के लिये व्यावसायिक क्लाउड सेवाएँ अपनाने पर व्यय करना चाहिए या अपनी स्वयं की व्यवस्था बनानी चाहिए? इस तरह आँकड़ों के विश्लेषण कार्य जारी रखने के लिये इन क्लाउड संसाधनों के लिये कौन खर्च वहन करेगा-संस्थाएँ या उपयोगकर्ता? उपग्रह से प्राप्त आँकड़े विस्तृत क्षेत्र जैसे जलवायु परिवर्तन, मौसम, प्राकृतिक आपदाएँ, कृषि विकास इत्यादि में बहुमूल्य योगदान प्रदान कर सकते हैं, लेकिन तभी जब उपयोगकर्ता तक इसकी सुलभ उपलब्धता हो।

(लेखिका जॉर्जिया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में सहायक प्रोफेसर हैं। लेख द कन्वरसेशन से विशेष समझौते के तहत प्रकाशित)

 

 

 

 

TAGS

satellite images in Hindi, data collection in Hindi, open space in Hindi, American German Grace Satellite Mission in Hindi, Antarctica in Hindi, Greenland in Hindi, US national oceanic and atmospheric administration in Hindi,The European space agency in Hindi

 

 

 

Related Articles (Topic wise)

Related Articles (District wise)

About the author

नया ताजा