जल को सहेजें वरना जल युद्ध में बदल सकता है जल संकट

Submitted by HindiWater on Wed, 07/03/2019 - 15:29
Printer Friendly, PDF & Email
Source
दैनिक जागरण, 3 जुलाई 2019

पानी भरने के लिए टैंकर के सामने लगी लोगों की भीड़।पानी भरने के लिए टैंकर के सामने लगी लोगों की भीड़।

इन कहावतों को हम सब अक्सर ही सुनते हैं, ‘‘जल ही जीवन है’’, ‘‘बिन पानी सब सून।’’ इन कहावतों का आशय यह है कि पृथ्वी पर जीवन का आधार यहां मौजूद जल ही है। इसके अभाव में पूरी धरती एक रेगिस्तान में तब्दील हो जाएगी। हम भाग्यशाली हैं कि इस ब्रह्मांड में पृथ्वी ही एक मात्र ऐसा ग्रह है, जो जल संपदा से परिपूर्ण है, लेकिन हम इंसानों की नासमझी के कारण यह जलसंपदा दिनोंदिन न सिर्फ कम होती जा रही है बल्कि प्रदूषित भी होती जा रही है। इस संपदा पर आज संकट के बादल मंडरा रहे हैं। चूँकि जल पर जीवन निर्भर है इसलिए यह कह सकते हैं कि इसके साथ हमारा जीवन भी संकट ग्रस्त होता जा रहा है। यह खतरा दिन-प्रतिदिन गहराता जा रहा है और भविष्य में इसके और भी गहराने के आसार दिख रहे हैं। समय रहते इससे निजात पाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने मन की बात कार्यक्रम में जल संरक्षण को एक जन आंदोलन बनाने का सुझाव दिया है। पानी की यह समस्या जलवायु परिवर्तन के प्रभाव के चलते और गहरा गई है। प्रतिवर्ष प्रायः 1 जून को केरल में मानसून का प्रवेश हो जाता था, पर इस बार अल नीनो प्रभाव के चलते उसने 8 जून को देश में प्रवेश किया। यह विलंब क्यों ? मानसून में इस देरी की एक वजह बढ़ता प्रदूषण और इसके चलते व जलवायु परिवर्तन भी है।

एक समय हिमालय पर बरगद, पाकड़, जामुन, महुआ आदि फलदार और जड़दार पेड़ होते थे, जो अपनी जड़ों से मिट्टी को बांधे रहते थे। वर्षा के समय इन्हीं वृक्षों की जड़ों के कारण बारिश का पानी हिमालय में रुका रहता था और फिर धीरे-धीरे कर रिस्ते हुए नदियों में बहता रहता था, लेकिन अंग्रेजों ने रेलवे की पटरी के लिए वैसे वृक्षों को हिमालय में विकसित किया, जो रेलवे की पटरी के लिए काम तो आते थे, पर उनकी छाया के नीचे घास भी पैदा नहीं होती थी। 

देश में जल के गहराते संकट को देखते हुए नरेंद्र मोदी सरकार ने ‘‘जल शक्ति मंत्रालय’’ का गठन किया है। भाजपा ने अपने संकल्प पत्र में भी ग्राम स्वराज्य के तहत यह घोषणा की है कि वह 2024 तक सभी घरों में शौचालय के साथ ही प्रत्येक घर को नल से जल की आपूर्ति सुनिश्चित करेगी। सवाल यह उठता है कि घरों में जल की आपूर्ति के लिए वह जल कहां से लाएगी ? क्या घरों में जलापूर्ति के लिए सरकार भी बोरिंग कर भूमिगत जल का ही उपयोग करने वाली है ? यह सवाल इसलिए क्योंकि देश के कुछ हिस्सों में भूमिगत जल का स्तर विगत चार दशक में 20 से 50 फीट तक नीचे चला गया है। देश के कई ऐसे क्षेत्र हैं जहां अप्रैल आते आते ताल-तलैया के साथ हैंडपंप भी सूखते जा रहे हैं। इसके तात्कालिक उपाय के रूप में राज्यों की सरकारें हैंडपंप की गहराई बढ़ाती जा रही है। पर चूंकि भूगर्भ जल तेजी से नीचे जा रहा है अतः पेयजल का संकट दिन-प्रतिदिन गहराता जा रहा है। देखा जाए तो तीन तरफ से समुद्र और उत्तर में हिमालय से घिरे राष्ट्र के समक्ष आज जो जल संकट पैदा हुआ है, वह हमारी अपनी देन है। वास्तव में हमने जल संरक्षण के अपने पारंपरिक तौर तरीकों को भुला दिया है। गांवों देहातों में आज भी है कहावत प्रचलित है, ‘‘ऊपर का जल ऊपर के लिए और नीचे का जल पीने के लिए’’। अर्थात दैनिक नित्यकर्म जैसे कि शौच, स्नान, कपड़े धोने, पशुओं और कृषि कार्य हेतु वर्षा के जल का उपयोग किया जाता था और खाना बनाने और पीने के लिए भूमिगत जल का, जो कुओं से निकाला जाता था। वर्षा जल के संग्रह के लिए बावड़ी, तालाब आदि थे, जिनकी देखभाल की जवाबदेही सभी की थी। हिमालय से निकलने वाली नदियों में भी साल भर शुद्ध जल का प्रभाव पर्याप्त मात्रा में रहता था।

एक समय हिमालय पर बरगद, पाकड़, जामुन, महुआ आदि फलदार और जड़दार पेड़ होते थे, जो अपनी जड़ों से मिट्टी को बांधे रहते थे। वर्षा के समय इन्हीं वृक्षों की जड़ों के कारण बारिश का पानी हिमालय में रुका रहता था और फिर धीरे-धीरे कर रिस्ते हुए नदियों में बहता रहता था, लेकिन अंग्रेजों ने रेलवे की पटरी के लिए वैसे वृक्षों को हिमालय में विकसित किया, जो रेलवे की पटरी के लिए काम तो आते थे, पर उनकी छाया के नीचे घास भी पैदा नहीं होती थी। हमारी उपेक्षा और वनों की अंधाधुंध कटाई से हिमालय में धीरे-धीरे जड़दार वृक्ष खत्म हो गए। जिसका परिणाम हमारे सामने है। वर्षा के समय जल के साथ ही हिमालय से मिट्टी और गाद के कारण नदियों में सिल्ट की समस्या पैदा हो रही है। नदियों में जल प्रवाह और जल की मात्रा में तेजी से कमी आ गई है। जल प्रवाह घटने और नगरीय संस्कृति के प्रभाव में सीवरेज और गंदे जल को प्रवाहित करने से नदियां इतनी प्रदूषित हो गई हैं कि मनुष्य की बात तो छोड़ ही दीजिए, पशु-पक्षी भी उस जल का उपयोग नहीं करते। जल संकट का दूसरा सबसे बड़ा कारण है आधुनिकता और सुविधा युक्त हमारी जीवन शैली। एक व्यक्ति शौच और लघुशंका के लिए जब-जब शौचालय जाता है, तब-तब फ्लश चलाता है। इस दौरान वह लगभग 4 से 5 लीटर शुद्ध पीने के पानी को गंदे नाले में बहा देता है। प्रति व्यक्ति यह बर्बादी कम से कम 30 से 35 लीटर प्रतिदिन तो है ही। पहले नदी या तालाब में स्नान करने के साथ ही साथ वहां कपड़े भी धो लिए जाते थे, लेकिन  आजकल घरों में वॉशिंग मशीन आ गई है। वाशिंग मशीन में कितने जल का इस्तेमाल होता है इसका कोई हिसाब नहीं है। पेयजल के लिए घरों में लगी ‘आरओ’ मशीन एक लीटर पानी साफ करती है, पर आधा लीटर बर्बाद करती है। देश में उत्पन्न जल संकट का एक और बड़ा कारण है बोरिंग। आज गांव से लेकर शहरों तक बोरिंग के माध्यम से भूमिगत जल का तेजी से दोहन हो रहा है। सरकारें भी कृषि कार्य के लिए किसानों को बोरिंग पर सब्सिडी दे रही हैं। बोरिंग के कारण घटते भूमिगत जलस्तर का प्रभाव पेयजल के लिए लगाए गए हैंड पंप और कुओं पर पड़ रहा है। हालांकि इधर के वर्षों में भूमिगत जल को रिचार्ज करने और अपशिष्ट जल के पुनप्र्रयोग पर ध्यान दिया जा रहा है पर समस्या के समाधान की दृष्टि से यह ‘‘ऊंट के मुंह में जीरा’’ के समान है। जल संरक्षण के लिए सरकार को सबसे पहले बोरिंग के उपयोग के बारे में कोई नीतिगत निर्णय लेना होगा। कृषि के लिए नहर, तालाब या अन्य विकल्पों की तलाश करने के साथ ही दैनिक जीवन में आए परिवर्तन के कारण बर्बाद हो रहे जल के पुनरउपयोग की योजना को कड़ाई से लागू करना होगा। वरना यह संकट जल्दी ही जल युद्ध का रूप अख्तियार कर सकता है।

 

TAGS

jal shakti mantralaya in hindi, what is jal shakti mantralaya, how jal shakti mantralaya do work, water crisis in india essay, water crisis in india facts, water scarcity, what are the main causes of water scarcity, water in english, essay on water, essay on water in hinid, importance of water, water information, water pollution, water in hindi, water wikipedia, water movie, water introduction, environment in english, what is environment answer, environment wikipedia, types of environment, importance of environment, environment essay, environment introduction, components of environment, plantation, plantation agriculture in hindi, plantation meaning in hindi, tree plantation project, importance of plantation, PM modi mann ki baat, pm modi, modi, narendra modi, mann ki baat on water crisis.

 

Related Articles (Topic wise)

Related Articles (District wise)

About the author

नया ताजा