नहीं तोड़ूँगा अनशन

Submitted by editorial on Sun, 07/01/2018 - 18:46
Source
इण्डिया वाटर पोर्टल (हिन्दी)


स्वामी ज्ञानस्वरूप सानंदस्वामी ज्ञानस्वरूप सानंदगंगा की रक्षा के लिये अपने प्राण न्यौछावर कर देने की प्रतिज्ञा ले चुके स्वामी ज्ञान स्वरुप सानंद ने रविवार को एक बार फिर अपनी माँगों के न पूरा होने तक अनशन जारी रखने की बात कही है। यह उन्होंने केन्द्रीय मंत्री पेयजल एवं स्वच्छता विभाग, उमा भारती द्वारा भेजे गये पत्र के जवाब में कहा है। उमा भारती ने पत्र लिखकर स्वामी सानंद से अनशन खत्म करने की गुजारिश की है।

पत्र में उन्होंने कहा है कि गंगा का संरक्षण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ड्रीम प्रोजेक्ट है और सरकार इसके प्रति गंभीर है। उमा भारती ने सरकार द्वारा गंगा के संरक्षण के लिये किये जा रहे कार्यों का हवाला देते हुए स्वामी सानंद से अनशन खत्म कर देने का आग्रह किया है। लेकिन स्वामी सानंद ने अपने द्वारा प्रधानमंत्री को पूर्व में लिखे गए पत्रों का हवाला देकर उमा भारती के इस प्रस्ताव को नकार दिया। उन्होंने उमा भारती को इस बावत एक पत्र भी लिखा है।

गौरतलब है कि स्वामी सानंद 22 जून से हरिद्वार के मातृ सदन में गंगा के संरक्षण की मांग को लेकर अनशन पर हैं। रविवार को उनके अनशन का दसवाँ दिन था। उमा भारती दूसरी केंद्रीय मंत्री हैं जिन्होंने स्वामी सानंद से अनशन खत्म करने का आग्रह किया है। इनके ठीक एक दिन पहले केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी भी गंगा के उत्थान के लिए सरकार द्वारा किये जा रहे कार्यों का हवाला देकर स्वामी जी से अनशन समाप्त करने का आग्रह चुके हैं।

उमा भारती के पत्र को पढ़ने के लिये अटैचमेंट देखें।

स्वामी जी के अनशन से जुड़ी न्यूज को पढ़ने के लिये क्लिक करें

 

 

गंगापुत्र ने प्राण की आहूति का लिया संकल्प

सरकार की गंगा भक्ति एक पाखण्ड

सानंद ने गडकरी के अनुरोध को ठुकराया 

बन्द करो गंगा पर बाँधों का निर्माण - स्वामी सानंद

सरकार नहीं चाहती गंगा को बचाना : स्वामी सानंद

मोदी जी स्वयं हस्ताक्षरित पत्र भेजें तभी टूटेगा ये अनशन : स्वामी सानंद

स्वामी सानंद को जबरन अस्पताल पहुँचाया

नहीं हुई वार्ता

अनशन के 30 दिन हुए पूरे

प्रशासन ने सानंद को मातृ सदन पहुँचाया

Disqus Comment