टिहरी का बमराड़ी गांव बांज के जंगल से लहलहा रहा है 

Submitted by UrbanWater on Fri, 06/14/2019 - 14:38
Printer Friendly, PDF & Email
Source
दैनिक जागरण, देहरादून, 14 जून 2019

बमराड़ी गांव का जंगल।बमराड़ी गांव का जंगल।

पीढ़ियों से जंगल का संरक्षण कर रहे हैं टिहरी के बमराड़ी गांव के लोग, आज तक नहीं लगी इस जंगल में कभी भी आग सोच सामूहिक होने के साथ यदि सकारात्मक भी हो तो वह भविष्य की पीढ़ी के लिए मार्गदर्शक का काम करती है। इसका उदाहरण है टिहरी जिले का बमराड़ी गांव, जहां पीढ़ी दर पीढ़ी पनपाये बांज (ओक) के जंगल का ग्रामीण न केवल संरक्षण कर रहे हैं। बल्कि उनके प्रयासों से आज तक इस जंगल में कभी आग भी नहीं लगी। यह हरा-भरा जंगल आज ग्रामीणों की जरूरतों को भी पूरा कर रहा है। 

थौलधार विकासखंड के सुदूरवर्ती बमराड़ी गांव की पांच सौ की आबादी आज भी बुजुर्गों के तय किए नियमों का प्राण प्रण से पालन करती है। लगभग छह दशक पूर्व तत्कालीन ग्राम प्रधान विद्यादत्त भट्ट के नेतृत्व में गामीणों ने ग्राम समाज की लगभग 200 नाली भूमि पर बांज के पौधों का रोपण करना प्रारंभ किया था। धीरे-धीरे ये पौधे वृक्ष बने और बांज का हरा भरा जंगल लहलहाने लगा। तब जंगल के दोहन के लिए ग्रामीणों की ओर से सख्त नियम कायदे तय किए गए। इसके तहत वर्ष भर में सिर्फ दो माह ही बांज की पत्तियों को काटने की अनुमति दी जाती है। पत्तियां काटकर लाने वालों की गांव में बाकायदा जांच होती है, ताकि पता चल सके कि किसी ने टहनियां तो नहीं काटी हैं। 

ग्रामीण बुझाते हैं आग

आसपास के जंगलों में आग लगने की सूचना पर ग्रामीण इस जंगल के चारों ओर मानव श्रृंखला बनाकर ढाल के रूप में खड़े हो जाते हैं। नई पीढ़ी ने जंगल के प्रति आस्था बढ़ाने के लिए गांव व जंगल की सीमा के बीच एक दशक पूर्व त्रिदेव मंदिर का निर्माण भी किया है। इस मंदिर का अब जीर्णोद्धार कर नया रूप दे दिया गया है। 

प्रवासियों का भी जंगल से गहरा लगाव

गांव के जयपाल कोटवाल, क्षेत्र पंचायत सदस्य ओम प्रकाश भट्ट, पूर्व क्षेत्र पंचायत सदस्य शंभूप्रसाद सकलानी, रमेश भट्ट आदि का कहना है कि गांव की आत्मा इसी जंगल में बसती है। इसी लगाव के कारण प्रवासी भी पूरी तरह गांव से जुड़े हुए हैं। टीएचडीसी (टिहरी हाइड्रो डेवलपमेंट कारपोरेशन) में डीजीएम चंदन सिंह राणा बताते हैं कि बुजुर्गों के प्रयासों से बना यह जंगल उन्हें हमेशा अपनी ओर आकर्षित करता है। इसलिए वह बार-बार गांव आते रहते हैं। कहते हैं, इस जंगल के तीन तरफ चीड़ का बोलबाला रहा है।

गांव में नहीं हुआ कभी पानी का संकट

ग्राम पंचायत बमराड़ी की प्रधान रूपी देवी बताती हैं कि बुजुर्गों के बनाए गए नियमों को और सख्त किया गया है, ताकि जंगल को काई किसी भी तरह का नुकसान न पहुंचा सके। ग्रामीणों की सहभागिता से ही यह जंगल आज हरा भरा है। प्राकृतिक स्रोतों के रिचार्ज होने से गांव में कभी पीने के पानी का संकट भी खड़ा नहीं हुआ। 

tihari.jpg82.95 KB

Related Articles (Topic wise)

Related Articles (District wise)

About the author

नया ताजा