इंजेक्शन पद्धति से सूख चुके हैंडपंपों को किया जा रहा रिचार्ज

Submitted by UrbanWater on Fri, 07/19/2019 - 12:53
Source
दैनिक जागरण, 19 जुलाई 2019

देशभर में सूखे हैंडपंपों को मुंह चिढ़ाते हुए देखा जा सकता है।देशभर में सूखे हैंडपंपों को मुंह चिढ़ाते हुए देखा जा सकता है।

भूजल स्तर घटने के कारण सूख चुके हैंडपंपों से एक बूंद पानी नहीं निकलता। देशभर में ऐसे सूखे हैंडपंपों को मुंह चिढ़ाते हुए देखा जा सकता है। लेकिन आपसे यदि कहा जाए कि यही हैंडपंप धरती को लाखों लीटर पानी लौटा सकते हैं, तो सुनकर अचंभा होगा। श्योपुर, मध्यप्रदेश के आदिवासी विकास खंड कराहल के चार गांवों में ऐसा होते हुए देखा जा सकता है। इन चारों गांवों के 11 सूखे हैंडपंप और दो कुएं जमीन के अंदर बारिश और गांव से उपयोग के बाद निकलने वाले दूषित पानी को फिल्टर करके जमीन के अंदर पहुंचा रहे हैं।

इसका नतीजा यह हुआ है कि क्षेत्र का भूजल स्तर लौट आया। गांव में जो हैंडपंप और कुएं सूखे पड़े थे, उन्होंने पानी देना शुरू कर दिया। दरअसल, आदिवासी बहुल ग्रामीण क्षेत्रों के विकास के लिए काम करने वाले श्योपुर के गांधी सेवा आश्रम ने जर्मनी की संस्था जीआइजेड और हैदराबाद एफप्रो संस्था के साथ मिलकर सबसे पहले 2016 में यह प्रयोग कराहल के डाबली,  अजनोई, झरेर और बनार गांव में किया। यह गांव इसलिए चुने गए क्योंकि यहां के अधिकांश हैंडपंप सूख चुके थे। इन गांवों में अंधाधुंध बोर इस तरह हुए थे कि दो बीधा खेत में आधा दर्जन खेत बोर थे।

नतीजतन गांवों का भूजल स्तर गर्त में जा समाया था। गांव के सभी जलस्रोत सूख गए।  इधर, पिछले कुछ सालों से हो रहे इस प्रयोग का असर यह हुआ कि बारिश के सीजन के बाद अजनोई, डाबली, झरेर और बनार गांव की बस्तियों के आसपास के वह सूखे हैंडपंप पानी देने लगे जो दस साल से सूखे पड़े थे।

सूखे हैंडपंप को जलस्रोत रीचार्ज यूनिट बनाया जा रहा है।सूखे हैंडपंप को जलस्रोत रीचार्ज यूनिट बनाया जा रहा है।

इंजेक्शन पद्धति से पहुंचाया पानी

इस पद्धति को इंजेक्शन पद्धति कहा जाता है। जर्मनी की संस्था ने श्योपुर से पहले इसका सफल प्रयोग गुजरात और राजस्थान के सूखे इलाकों में किया था। इस पद्धति के तहत हैंडपंप के चारों ओर करीब 10 फीट गहरा गडढा खोदा जाता है। हैंडपंप के केसिंग पाइप में जगह-जगह एक से डेढ़ इंच व्यास के 1200 से 1500 छेद किए जाते हैं। इसी पाइप के जरिए पानी जमीन में जाता है। इससे पहले पानी को साफ करने के लिए गडढे में फिल्टर प्लांट भी बनाया जाता है। इस फिल्टर प्लांट में बोल्डर, गिट्टी, रेत और कोयले जैसी चीजें परत जमाई जाती हैं। इनसे छनने के बाद ही बारिश का पानी हैंडपंप के छेदयुक्त पाइप तक पहुंचता है। पाइप पर भी जालीदार फिल्टर लगाया जाता है। इस तरह बेहद कारगर रेनवाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम तैयार हो जाता है।

सूखे हैंडपंप को जलस्रोत रीचार्ज यूनिट बनाने में करीब 45 हजार रुपये का खर्च आया है, लेकिन इसका फायदा बहुत बड़ा है। अब यह खराब हैंडपंप एक साल में साढ़े तीन से चार लाख लीटर पानी जमीन के अंदर पहुंचा रहा है। सरकार रिकार्ड के अनुसार एक सामान्य हैंडपंप से हर साल 3 लाख 60 हजार लीटर तक पानी निकाला जाता है। यानी खराब हैंडपंप उतना ही पानी जमीन में वापस भेज रहा है, जितना एक सही हैंडपंप जमीन से खींच रहा है। जीआइजेड संस्था के सोशल साइंटिस्ट सत्यनारायण घोष कहते हैं, इसे इंजेक्शन पद्धति कहते हैं। इसके तहत वर्षा जल और उपयोग में लाए जा चुके पानी को फिल्टर कर जमीन के अंदर पहुंचाया जाता है। एक सूखा हैंडपंप इतना पानी जमीन को लौटाता है, जितना दूसरा हैंडपंप जमीन से खींच लेता है।                                                                                                                                                                                                                                           

shyopur.jpg72.69 KB
Disqus Comment

Related Articles (Topic wise)

Related Articles (District wise)

About the author

नया ताजा