2.5 एकड़ जमीन से दस-बारह लाख रु. की सालाना आमदनी!

वेब/संगठन: 
bhartiyapaksha.com
Author: 
विनय कुमार
हरियाणा के सोनीपत जिले का अकबरपुर बरोटा गांव। यहां आने के पहले आपके मस्तिष्क में गांव और खेती का कोई और चित्र भले ही हो, परंतु यहां आते ही खेत, खेती एवं किसान के बारे में आपकी धारणा पूरी तरह बदल जाएगी। इस गांव में स्थित है श्री रमेश डागर का माडल कृषि फार्म जो उनके अथक प्रयासों एवं प्रयोगधर्मिता की कहानी खुद सुनाता प्रतीत होता है। उनकी किसानी के कई ऐसे पहलू हैं, जिनके बारे में आम किसान सोचता ही नहीं। आइए जानते हैं, ऐसे कुछ पहलुओं के बारे में उन्हीं के शब्दों में…

प्रश्न : रमेशजी आज आप हर दृष्टि से एक सफल किसान हैं। हम आपके शुरुआती दिनों के बारे में जानना चाहेंगे।

रमेश डागर : बात सन् 1970 की है, घर की परिस्थितियों के कारण मुझे मैट्रिक स्तर पर ही पढ़ाई छोड़कर खेती में लगना पड़ा। तब मेरे पास केवल 16 एकड़ जमीन थी। शुरू में मैं भी वैसे ही खेती करता था जैसे बाकी लोग किया करते थे। मैंने पहले-पहले बाजरे की फसल लगाई थी, फसल अच्छी हुई, लाभ भी हुआ। फिर गेहूं की फसल लगाई, जिसमें खर-पतवार इतना अधिक हो गया कि नुकसान उठाना पड़ा। कुल मिलाकर मैं खेती के अपने तरीके से संतुष्ट नहीं था, इसलिए मैं कुछ अलग करना चाहता था, ताकि मैं भी समृध्दि के रास्ते पर आगे बढ़ सकूं। अंत में मैं इस निष्कर्ष पर पहुंचा कि मुझे अपने तौर-तरीके में बदलाव लाना होगा।

प्रश्न : आपने अपने तौर-तरीकों में क्या बदलाव किए और उनका क्या परिणाम निकला?

रमेश डागर : मैंने महसूस किया कि किसानों को फसलों के चयन में समझ-बूझ के साथ काम लेना चाहिए। मैं प्राय: कुछ किसानों को ट्रेन से सब्जी ले जाते हुए देखता था और उनसे रोज की बिक्री के बारे में पूछता था। उनसे मिली जानकारी ने मुझे सब्जी की खेती करने की प्रेरणा दी। सन् 1970 में मैंने पहली बार टिन्डे की फसल लगाई, जिसमें मुझे बाजरे और गेहूं से तीन गुना ज्यादा आमदनी हुई। सब्जीमंडी में मैंने एक बार कुछ ऐसी सब्जियां देखीं जो हमारे देश में नहीं बल्कि विदेशों में पैदा होती हैं। इनका भाव भी बहुत अधिक था। इनके बारे में मैंने कई स्रोतों से जानकारी इकट्ठी की और फिर सन् 1980 में उनकी खेती शुरू कर दी। सब्जियों की खेती से मेरी आमदनी काफी बढ़ गई।
इसी दौरान बाजार में फूलों की विशेष मांग को देखते हुए प्रयोग के तौर पर मैंने फूलों की भी खेती शुरू की, जिससे मुझे सबसे ज्यादा आमदनी हुई। सन् 1987-88में मैंने बेबीकार्न की खेती की। उस समय इसकी कीमत 400-500 रुपए प्रति किलो होने के कारण मुझे काफी लाभ हुआ। आज केवल सोनीपत जिले में ही बेबीकार्न की खेती 1600 एकड़ में हो रही है। फूल और सब्जियों की खेती से हुई आमदनी से मैंने सुख-समृध्दि के साधनों के साथ-साथ और खेत भी खरीदे। मेरे पास आज 122 एकड़ जमीन है।

प्रश्न : फसलों के चयन में सावधानी के साथ-साथ क्या आपने खेती के तौर-तरीकों में भी बदलाव किए हैं?

रमेश डागर :
हां किए हैं। मैं अपने खेतों में रासायनिक खाद (उर्वरक) का बिल्कुल इस्तेमाल नहीं करता। खाद के तौर पर मैं केंचुआ खाद व गोबर खाद का ही इस्तेमाल करता हूं। तथाकथित हरित क्रांति के नाम पर किसानों को जिस तरह से रासायनिक खाद का अधिक से अधिक इस्तेमाल करने के लिए प्रेरित किया जा रहा है, मुझे उस पर सख्त एतराज है।

प्रश्न : आपके राज्य में तो हरित क्रांति बहुत सफल रही है। यहां के किसानों ने काफी प्रगति भी की है। आप इससे असंतुष्ट क्यों हैं?

रमेश डागर :
पहली बार जब मैंने अपने खेत की मिट्टी की जांच करवाई तो पता चला कि रासायनिक खाद के इस्तेमाल का जमीन पर कितना बुरा प्रभाव पड़ता है। यदि रासायनिक खाद का इसी तरह इस्तेमाल होता रहा तो आने वाले 50-60 वर्षों में हमारी जमीनें बंजर हो जाएंगी। आर्थिक रूप से भी रासायनिक खाद का इस्तेमाल किसान के हित में नहीं रहा। हरित क्रांति से किसानों के खर्चे तो बढ़ गए पर आमदनी कम होती गई। जहां पहले एक कट्ठे यूरिया से काम चल जाता था, वहीं आज पांच कट्ठा लगता है। इससे किसान कर्जदार होता जा रहा है।

प्रश्न : हरित क्रांति के नाम पर होने वाली इस क्षति को रोकने के लिए आपने क्या पहल की?

रमेश डागर :
जमीन की उर्वरता बनाए रखने के लिए मैंने कई प्रयोग किए और किसान-क्लब बना कर अन्य किसान भाइयों से भी विचार-विमर्श किया। हमने पाया कि खेती की अपनी पुरानी पध्दति को विज्ञान के साथ जोड़कर एक नया रास्ता ढूंढा जा सकता है। और यह रास्ता हमने जैविक कृषि के रूप में विकसित कर लिया है।

प्रश्न : आप एक प्रयोगधर्मी किसान हैं। आपने लीक से हटकर कई ऐसे सफल प्रयोग किए हैं, जिनसे भारत का किसान प्रेरणा ले सकता है। हम आपके ऐसे कुछ प्रयोगों के बारे में विस्तार से जानना चाहेंगे।

रमेश डागर :
जैविक आधार पर की जाने वाली बहुआयामी खेती में ही मेरी सफलता का राज छिपा है। किस मौसम में कौन सी फसल की खेती करनी है, यह तय करने के पहले मैं जमीन की गुणवत्ता और पानी की उपलब्धता के साथ-साथ बाजार की मांग को भी हमेशा ध्यान में रखता हूं। मैं जिस तरह से खेती करता हूं, उसके कुछ खास पहलू इस प्रकार हैं :

केंचुआ खाद :

केंचुआ किसान के सबसे अच्छे मित्रें में से एक है। मैं अपने खेतों में केंचुआ खाद का खूब प्रयोग करता हूं। एक किलो केंचुआ वर्ष भर में 50-60 किलो केंचुआ पैदा कर सकता है। केंचुआ खाद बनाने में खेती के सारे बेकार पदार्थों, जैसे डंठल, सड़ी घास, भूसा, गोबर, चारा आदि का प्रयोग हो जाता है। सब मिलाकर केंचुए से 60-70 दिनों में खाद तैयार हो जाती है। इस खाद की प्रति एकड़ खपत यूरिया की अपेक्षा एक चौथाई है। इसके प्रयोग से मिट्टी को नुकसान भी नहीं पहुंचता है। फसल की उत्पादकता भी 20-30 प्रतिशत बढ़ जाती है। केंचुआ खाद बनाने पर यदि किसान ध्यान दें तो वे अपने खेतों में प्रयोग करने के बाद इसे बेच भी सकते हैं। यह किसान भाईयों के लिए आमदनी का एक अतिरिक्त स्रोत भी हो सकता है।

बायो गैस :

मैं बायोगैस का इतना अधिक उत्पादन कर लेता हूं कि इससे इंजन चलाने और अन्य जरूरतें पूरी करने के बाद भी गैस बच जाती है। बची हुई गैस मैं अपने मजदूरों में बांट देता हूं। इससे उनके भी ईंधन का काम चल जाता है। बायोगैस का मैंने एक परिवर्तित माडल तैयार किया है जिसमें प्रति घन मीटर की लागत 5000 रुपए की बजाय 1000 रफपए हो जाती है। मेरे इस माडल में गैस पलांट की मरम्मत का खर्चा भी न के बराबर है।

मशरूम खेती :

मैं मशरूम की कई फसलें लेता हूं। जिन किसान भाइयों के यहां मार्केट नजदीक नहीं है, उन्हें डिंगरी (ड्राई मशरूम) की फसल लेनी चाहिए। आज पूरी दुनिया में डिंगरी का 80 हजार करोड़ का बाजार है। जहां धान की फसल होती है, वहां इसकी खेती की संभावनाएं सबसे अधिक होती हैं क्योंकि इसकी खेती में पुआल का विशेष रूप से प्रयोग होता है। फसल लेने के बाद बेकार बचे हुए पदार्थों को मैं केंचुआ खाद में बदल कर 60-70 दिनों में वापस खेतों में पहुंचा देता हूं।

तालाब एवं मछली पालन :

खेत के सबसे नीचे कोने को और गहरा करके मैंने तालाब बना दिया है, जिसमें बरसात का सारा पानी इकट्ठा होता है और डेरी का सारा व्यर्थ पानी भी चला जाता है। डेरी के पानी में मिला गोबर आदि मछलियों का भोजन बन जाता है। इससे उनका विकास दोगुना हो जाता है। मछलीपालन के अलावा तालाब में कमल ककड़ी, मखाना आदि भी उगाता हूं।

बहुफसलीय खेती :

मैं एक साथ तीन से चार फसल लेता हूं। ऐसा करते समय मैं समय, तापमान और मेल का विशेष ध्यान रखता हूं। उदाहरण स्वरूप सितंबर माह के अंत में मूली की बुवाई हो जाती है जिसके साथ गेंदा फूल भी लगा देते हैं। मूली को अक्टूबर में निकाल लेते हैं और नवंबर के शुरूआत में पालक या तोरी आदि लगा देते हैं जिसकी कटाई दिसंबर में हो जाती है। वहीं फूलों से आमदनी जनवरी से शुरू हो जाती है।

गुलाब एवं स्टीवीया :

स्टीवीया एक छोटा सा पौधा है जिससे निकलने वाला रस चीनी से 300 गुना ज्यादा मीठा होता है। इसका प्रयोग मधुमेह के मरीज भी कर सकते हैं। मैंने इसकी खेती से प्रति एकड़ लाखों रुपए की कमाई की है। एक विशेष प्रकार के महारानी प्रजाति के गुलाब की खेती से भी मैंने काफी लाभ कमाया है। इस गुलाब से निकलने वाले तेल की कीमत अंतरराष्ट्रीय बाजार में 4 लाख रुपए प्रति लीटर है। एक एकड़ में उत्पादित गुलाब से लगभग 800 ग्राम तेल निकाला जा सकता है।

केले की खेती :

केले की खेती से जमीन में केंचुओं की संख्या बहुत ज्यादा हो जाती है। केला एक ऐसा पौधा है जो खराब एवं पथरीली जमीन को भी कोमल मिट्टी में तब्दील कर देता है। इसके प्रभाव से किसी भी फसल की उत्पादकता 25 से 30 प्रतिशत बढ़ जाती है। केले की जैविक खेती करने से पौधे सामान्य से ज्यादा ऊंचाई के होते हैं। इसकी खेती से लगभग 25 से 30 हजार रुपए प्रति एकड़ की आमदनी हो जाती है। गर्मी में केलों के बीच में ठंडक रहती है इसलिए इसमें फूलों की भी खेती हो जाती है, जिससे 15-20 हजार रुपए की अतिरिक्त आमदनी हो जाती है। गर्मी के दिनों में मधुमक्खी के बक्सों को रखने के लिए भी यह सबसे सुरक्षित स्थान होता है।

वृक्षारोपण :

खेतों की मेड़ों पर मैंने पापुलर आदि के पेड़ लगा रखे हैं जिससे 7 से 8 वर्षों में प्रति एकड़ 70 से 80 हजार रुपए की आमदनी हो जाती है। इन वृक्षों से खेतों को नुकसान भी नहीं होता और पर्यावरण भी ठीक रहता है।

मधुमक्खी पालन :

मधुमक्खी से भरे एक बक्से की कीमत लगभग चार हजार रुपए होती है। मेरी खेती में मधुमक्खियों की विशेष भूमिका है। वैसे भूमिहीन किसान भाइयों के लिए भी मधुमक्खी पालन एक अच्छा काम है। शहद उत्पादन के अलावा भी इनके कई फायदे हैं। फूलों की पैदावार में इनसे 30 से 40 प्रतिशत और तिलहन-दलहन की पैदावार में लगभग 10 से 20 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हो जाती है। बेहतर परागण के कारण फसलें भी एक ही समय पर पकती हैं। इस क्षेत्र में खादी ग्रामोद्योग एवं कई अन्य संस्थाएं सहायता कर रही हैं।

प्रश्न : आपने एक माडल तैयार किया है जिसमें सिर्फ 2.5 एकड़ जमीन से दस-बारह लाख रुपए प्रतिवर्ष की आमदनी हो सकती है और साथ ही कई लोगों को रोजगार भी मिल जाता है। इस बारे में जरा विस्तार से बताएं।

रमेश डागर :
मैंने 2.5 एकड़ में छ: परियोजनाएं चला रखी हैं जिसका संक्षिप्त विवरण इस प्रकार है :

मधुमक्खी पालन :

मधुमक्खियों के 150 बक्सों से हम शुरुआत करते हैं। एक ही साल में इनकी संख्या दोगुनी हो जाती है। इससे साल में 5-6 लाख की आमदनी हो जाती है।

केंचुआ खाद:

इसे बेचकर मैं 3-4 लाख रुपए की आमदनी कर लेता हूं।

मशरूम खेती:

इससे मुझे प्रतिवर्ष 3-4 लाख रुपए मिल जाते हैं।

डेरी:

एक छोटी सी डेरी से लगभग 60-70 हजार की सीधी आय होती है।

मछली पालन :

इससे भी लगभग 15-20 हजार रुपए मिल जाते हैं।

ग्रीन हाउस :

इसमें लगी फसल से एक-डेढ़ लाख रुपए आ जाते हैं।

प्रश्न : आप किसान भाइयों के लिए क्या संदेश देना चाहेंगे?

रमेश डागर :
समझदार किसान तो वो है जो पहले मार्केट देखे, फिर मिट्टी की जांच कराए, तापमान का ख्याल रखे और अच्छे बीज का चयन करे। किसान भाइयों को जैविक खेती ही करनी चाहिए, मवेशी रखनी चाहिए, बायोगैस तथा वर्मी कम्पोस्ट तैयार करना चाहिए। 365 दिन में 300 दिन कैसे काम करें, प्रत्येक किसान को इसकी चिन्ता करनी चाहिए। हमें एक-दो फसलें ही नहीं बल्कि एक-दूसरे पर आश्रित खेती की बहुआयामी व्यवस्था विकसित करनी चाहिए। इस संबंध में किसी प्रकार की जानकारी के लिए किसान मुझसे जब चाहें संपर्क कर सकते हैं।
मेरा पता है :
डागर कृषि फार्म, ग्राम व पोस्ट – अकबरपुर बरोटा,
जिला-सोनीपत, हरियाणा, पिन-131003

elovera

Kon kharidega.?

Farming knowledge

Hello sir mujhe alovera aur tulsi ki kheti ke baare me janna hai.https://www.indianmarketer.in/marketing-kya-hai/

Alovera farm

Aloe Vera ki kheti Kaise ki jaye aur uske liye kitne Bigha Zameen ki jarurat hoti hai aur iss mein kitne paise lagte hain aur isme kitna munafa hota hai mujhe uski Jankari chahiye
dhanyavad

Good Content

Hivery Nice Post <a href="https://downloadmoviesinfullhd.blogspot.com/2018/04/padmaavat-2018-full-movie-download-hd.html">Padmaavat Full Movie Download HD</a><a href="https://downloadmoviesinfullhd.blogspot.com/">Hindi Movies Download</a><a href="https://downloadmoviesinfullhd.blogspot.com/">Latest Movies Download</a><a href="https://downloadmoviesinfullhd.blogspot.com/">bollywood movies download</a><a href="https://downloadmoviesinfullhd.blogspot.com/">hindi movie hd</a>

madad chahiya

muze kheti karne ke liye sarkar se sahyog rashi  chahiye 

Sir muge aadunik tareka sa

Sir muge aadunik tareka sa krushi karni ha
Muge bataye ki ma barsat ma kon si fasal ya sabji sa adhik munafa kma saku.
Plese call me.

Village + post bhadwa, tah manasa, distric neemuch, mp.

एलोवेरा के पौधे

नमस्कार दोस्तों,,,, एलोवेरा के उच्च स्तरीय बार्ब्डेन्सीश मिलर प्रजाति के अच्छी लंबाई के पौधों के लिये हमें नीचे दिये इस नंबर पर सम्पर्क कर सकते हो।
95498 62965
पवन कुमार

Neasy

Mai apna field mein brichhropan careful karta hu

Kheti krna hai

मुझे अलोएवेरा की खेती के बारे में जानकारी चाहिए मुझे खेती करना है।

alovera

alovera plants

Alovera ki kheti

Sir mujhe alovera ki kheti karni hai to please iske baare maien puri jankari de
Contact/whatsapp no 8398910930

Mulethi Farming

I want to do Mulethi farming. Please give me detailed information and how can we sale after farming. My whatsapp no. is 8744861140.   

Alovera ki kheti

एलोवेरा की खेती की
डायरेक्ट किशान से ले पूरी जानकारी
8824126835
लगाने से लेकर कटाई ओर प्लांट्स खरीदने और बेचने की पूरी जानकारी। कोनसी नस्ल अच्छी रहती ह ओर कहा बेचना ह 8824126835
बीज कहा मिलेंगे

पूरी जानकारी प्राप्त करे 8824126835

Alovera ki khati

Jankari

Alovera ki khati

Jankari

Alovera

Hm alovera ki gheti karna chah rahe hme puri imformation chahiye, plant kaha se buy kare aur ise kaha sell kare etc

Elovira Kheti ki jaankari

me bhilwara rajasthn ka hu muje elovira ki kheti k baare me jaankari chahiye. 9602386489 

nagdi sabji &gulab ke bare me jankari chaiye ji

sir muze nagdi fasal jaise pyaz mirz tamatar farrash or gulab ke bare me jankari chaiye 

kisani

nice

Alovera plantation

एलोवेरा से रिलेटेड किसी भी तरह की जानकारी के लिए संपर्क करे-8824126835

हम आपको उपलब्ध कराएंगे बेस्ट क़्वालिटी की एलोवेरा के प्लांट्स वो भी कम rate मे।

हमारे यहाँ हर size के प्लांट्स provide किये जाते है

Contact no-8824126835

Alovera

Need more information on alvera farming

alovera plantation

Dear Sir, please contact with me ,we want a alovera plantation   Regards SHAILENDRA9891282668 

Alovera plantation

intrested in Alovera plantation

Aswagandha planning

Aswagandha 4 beeghey mein lgane kee proces s fayde aur lagt kitnee AA sktee hai

Contact for buying alovera

Contact for buying alovera plants

Connector service

My Name is Anshul jain
Agar kisi bhi contract farming karvane wali company ko kisano se contact karna hai to email or call me

rose shellout process

Dear sir,mene rose ko polyhouse me lgaye.isko bechne k sources kya kya h? or kha kha..me ujjain city se hu..thanks

Aloevera kheti

श्रीमान जी मुझे आपका aloe vera farming in hindi की जानकारी बहुत अच्छी लगी. क्या एप कुछ कंपनियों के मोबाइल नंबर प्रदान कर सकते है जो एलोवेरा खरीदते हो.

Aloevera farming

नमस्कार कुलदीप जी
एलोवेरा के संबंधित अगर कुछ भी आपको जानकारी चाहिए कहां से खरीदना है कहां बेचना है कैसे प्लांट लगवाने हैं ! या फिर इसकी कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग करना चाहते हैं तो शीघ्र संपर्क करें
8383985003

ALOVERA

SAR AAP HAME ALOVERA PLANT KI KHETI KARNE KI JANKARI DIJIYE

सब्जी लगाने के लिए सलाह

श्रीमान जी,           मेरा नाम विकास है ओर मै महेन्द्रगढ हरियाणा का रहने वाला हूँ। मेरे पास एक एकड़ जमीन है मै उस पर सब्जी की खेती करना चहाता हू। क्या आप मेरे को किस समय पर कोन सी सब्जी लगानी है और किस तरीके से लगानी है बताने का कष्ट करेगे

तुलसी की खेती करने की जानकारी

नमस्कार मेरा नाम नवीन कौशिक है।
मैं हरियाणा मैं पलवल जिले के मंडकोल गांव का रहने वाला हूँ और मैं तुलसी की खेती करना चाहता हूँ पर मुझ को इस के बारे मैं कोई जानकारी नही है।
क्या कोई ऐसा रास्ता है जिससे मैं तुलसी की खेती के बारे मैं अच्छी तरह से जानकारी प्राप्त कर सकूं जैसे कोई टैनिंग देने वाला इस कि जानकारी दे सके ।
अगर कोई भाई मेरी मदद कर सके तो मुझ को मेरे मोबाइल नंबर (# 8397907067) पर सम्पर्क करें ।

धन्यवाद ।।।

REQUIREMENT OF ALOVERA PLANT

REQUIREMENT OF ALOVERA PLANT 

Aloevera farming

Hello Mr Vinod Kumar
If you wanted to know about Aloe Vera plantation! We provide best quality plants of aloe vera. We also do contract farming of aloe vera with buyback agreement! For further information contact 8383985003

alovera

गवार पाठा (ऐलोविरा) कि खेती का 1बिघा का हिशाब 1 बिघा मे 2×2 फिट 7000पौधे लगते ह जिसकी लागत 4 रूपये पर पौधा (पौधा गाडी भाडा टेकटर व लगाई समेत) हइस प्रकार 7000×4=28000 किसान का खर्च होगागवार पाठा को महिने मे 2बार पानी पिलाया जाता है यह किसी भी समय लगाया जा सकता हेलगाने के 10'11 महिने बाद पौधा तेयार हो जाता है उसके बाद पतियों कि कटाई होगी गिली पति हम आपके खेत से हम 4 रुपये किलो से खरीदेगे ऐक पौधे के पतियों का वजन 4से8 किलो हो जाता है उस प्रकार 1बिघा मे 7000 पौधे (7000×4kg=28000kg) हो जाता है 28000×4=112000 रुपये कि कमाई होगी उसके बाद 5 6 महिने मे कटाई होती रहेगी यह क्रम 5 साल तक चलता रहेगा for more you can contact meपूनियाँ हरबल मोलासर(नागौर) 9057691324pooniaherbles@gmail.comWe are supplier of aloevera leaf and pulps.We have good 8 years experience in this field.We will arrange good price and regularly items because of we have our own plant in 1000 acre.If your company want to deal We can supply 5-10/tone per day or more as you desire.Excellent PackingFor Good Price please send us your order, We'll try to give you unbelievable price.As your company required you can send me quantity order.Warms & Regards Punia Herbal9057691324E-mail – pooniaherbles@gmail.com

madhumakkhi palan

madhumakkhi ki kheti kaise kare . please help me. thanx sir

Alovera farming

Sir me mp k. Ujjain district me rhta hu aur me alovera ki kheti Krna chahta hu mujhe uska beej kha se kis kimat pe milega aur me apni fasal ko kha sell kr slings plz guidance me

Aloevera farming

नमस्कार जितेंद्र जी !
अगर आप एलोवेरा लगाने की इच्छुक हैं तो आप मुझसे संपर्क कर सकते हैं l हमारी कंपनी कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग के अंतर्गत एलोवेरा लगवाती है जिसका हम buy back एग्रीमेंट में किसान के साथ करते हैं l ज्यादा जानकारी के लिए संपर्क करें 8383985003

MUSHROOM

MUJHE MERE GHAR-H.No.-7D, NEW PARVATINAGAR, NEW SHIVPURI COLONY, AZAD CHOWK, RUSTAMPUR, GORAKHPUR (U.P) MOB-9451473248 MEN KARNA HAI MUSHROOM KI KHETI SIR PLEASE SAMPARK KAREN

MUSHROOM KI KHETI

MUJHE MERE GHAR-H.No.-7D, NEW PARVATINAGAR, NEW SHIVPURI COLONY, AZAD CHOWK, RUSTAMPUR, GORAKHPUR (U.P.) MOB-9451473248 MEN KARNA HAI MUSHROOM KI KHETI SIR PLEASE SAMPARK KAREN

kheti

Sir main aapse baat krna chahta hu
Plzz sir ya to aap apna calling nmbr de do ya mere phone pr call kr lo.
Plzz I request for u.

kheti

Sir ye mera calling and watsaap nmbr h
Plzzz sir calling me

know how to increase my income.in kheti

Kheti ke liye kisses samprak Karen

Farming

Mare Tulsi ni kheti karvi che to Tena kharid and vachan ni mahiti aapso.

satawar ki kheti

m satawar ki kheti karna chata hu ye kaise hoti h
or kon se mahine se suru ki jaati h
plz mujhe jarur bataye

satawar ki kheti

m satawar ki kheti karna chata hu ye kaise hoti h
or kon se mahine se suru ki jaati h
plz mujhe jarur bataye

Aloevera plantation

Namaskar Sir, main uttrakhand, Pithoragarh district ka rahnewala hoon. main aloevera plantation ki kheti karna cahta hoon. kirpiya mujhe disha nirdesh dijiye.  saath he mujhe mushroom kheti ki bhi jankari dene ka kast karen. dhaniyad ji

Aloevera farming

नमस्कार!
अगर आप एलोवेरा लगाने की इच्छुक हैं तो आप मुझसे संपर्क कर सकते हैं l हमारी कंपनी कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग के अंतर्गत एलोवेरा लगवाती है जिसका हम buy back एग्रीमेंट में किसान के साथ करते हैं l ज्यादा जानकारी के लिए संपर्क करें 8383985003

For alovera

Respected sir
Mujhe bhi apne kheto me contract farming alovera ki karni hai mere pass 1hactre zameen hai me udme alovera karna chata hu please contact me

want to know about alovera farming and how we parches and seles

ghg

Post new comment

The content of this field is kept private and will not be shown publicly.
  • Web page addresses and e-mail addresses turn into links automatically.
  • Allowed HTML tags: <a> <em> <strong> <cite> <code> <ul> <ol> <li> <dl> <dt> <dd>
  • Lines and paragraphs break automatically.

More information about formatting options

CAPTCHA
यह सवाल इस परीक्षण के लिए है कि क्या आप एक इंसान हैं या मशीनी स्वचालित स्पैम प्रस्तुतियाँ डालने वाली चीज
इस सरल गणितीय समस्या का समाधान करें. जैसे- उदाहरण 1+ 3= 4 और अपना पोस्ट करें
2 + 0 =
Solve this simple math problem and enter the result. E.g. for 1+3, enter 4.