Latest

2.5 एकड़ जमीन से दस-बारह लाख रु. की सालाना आमदनी!

वेब/संगठन: 
bhartiyapaksha.com
Author: 
विनय कुमार
हरियाणा के सोनीपत जिले का अकबरपुर बरोटा गांव। यहां आने के पहले आपके मस्तिष्क में गांव और खेती का कोई और चित्र भले ही हो, परंतु यहां आते ही खेत, खेती एवं किसान के बारे में आपकी धारणा पूरी तरह बदल जाएगी। इस गांव में स्थित है श्री रमेश डागर का माडल कृषि फार्म जो उनके अथक प्रयासों एवं प्रयोगधर्मिता की कहानी खुद सुनाता प्रतीत होता है। उनकी किसानी के कई ऐसे पहलू हैं, जिनके बारे में आम किसान सोचता ही नहीं। आइए जानते हैं, ऐसे कुछ पहलुओं के बारे में उन्हीं के शब्दों में…

प्रश्न : रमेशजी आज आप हर दृष्टि से एक सफल किसान हैं। हम आपके शुरुआती दिनों के बारे में जानना चाहेंगे।

रमेश डागर : बात सन् 1970 की है, घर की परिस्थितियों के कारण मुझे मैट्रिक स्तर पर ही पढ़ाई छोड़कर खेती में लगना पड़ा। तब मेरे पास केवल 16 एकड़ जमीन थी। शुरू में मैं भी वैसे ही खेती करता था जैसे बाकी लोग किया करते थे। मैंने पहले-पहले बाजरे की फसल लगाई थी, फसल अच्छी हुई, लाभ भी हुआ। फिर गेहूं की फसल लगाई, जिसमें खर-पतवार इतना अधिक हो गया कि नुकसान उठाना पड़ा। कुल मिलाकर मैं खेती के अपने तरीके से संतुष्ट नहीं था, इसलिए मैं कुछ अलग करना चाहता था, ताकि मैं भी समृध्दि के रास्ते पर आगे बढ़ सकूं। अंत में मैं इस निष्कर्ष पर पहुंचा कि मुझे अपने तौर-तरीके में बदलाव लाना होगा।

प्रश्न : आपने अपने तौर-तरीकों में क्या बदलाव किए और उनका क्या परिणाम निकला?

रमेश डागर : मैंने महसूस किया कि किसानों को फसलों के चयन में समझ-बूझ के साथ काम लेना चाहिए। मैं प्राय: कुछ किसानों को ट्रेन से सब्जी ले जाते हुए देखता था और उनसे रोज की बिक्री के बारे में पूछता था। उनसे मिली जानकारी ने मुझे सब्जी की खेती करने की प्रेरणा दी। सन् 1970 में मैंने पहली बार टिन्डे की फसल लगाई, जिसमें मुझे बाजरे और गेहूं से तीन गुना ज्यादा आमदनी हुई। सब्जीमंडी में मैंने एक बार कुछ ऐसी सब्जियां देखीं जो हमारे देश में नहीं बल्कि विदेशों में पैदा होती हैं। इनका भाव भी बहुत अधिक था। इनके बारे में मैंने कई स्रोतों से जानकारी इकट्ठी की और फिर सन् 1980 में उनकी खेती शुरू कर दी। सब्जियों की खेती से मेरी आमदनी काफी बढ़ गई।
इसी दौरान बाजार में फूलों की विशेष मांग को देखते हुए प्रयोग के तौर पर मैंने फूलों की भी खेती शुरू की, जिससे मुझे सबसे ज्यादा आमदनी हुई। सन् 1987-88में मैंने बेबीकार्न की खेती की। उस समय इसकी कीमत 400-500 रुपए प्रति किलो होने के कारण मुझे काफी लाभ हुआ। आज केवल सोनीपत जिले में ही बेबीकार्न की खेती 1600 एकड़ में हो रही है। फूल और सब्जियों की खेती से हुई आमदनी से मैंने सुख-समृध्दि के साधनों के साथ-साथ और खेत भी खरीदे। मेरे पास आज 122 एकड़ जमीन है।

प्रश्न : फसलों के चयन में सावधानी के साथ-साथ क्या आपने खेती के तौर-तरीकों में भी बदलाव किए हैं?

रमेश डागर :
हां किए हैं। मैं अपने खेतों में रासायनिक खाद (उर्वरक) का बिल्कुल इस्तेमाल नहीं करता। खाद के तौर पर मैं केंचुआ खाद व गोबर खाद का ही इस्तेमाल करता हूं। तथाकथित हरित क्रांति के नाम पर किसानों को जिस तरह से रासायनिक खाद का अधिक से अधिक इस्तेमाल करने के लिए प्रेरित किया जा रहा है, मुझे उस पर सख्त एतराज है।

प्रश्न : आपके राज्य में तो हरित क्रांति बहुत सफल रही है। यहां के किसानों ने काफी प्रगति भी की है। आप इससे असंतुष्ट क्यों हैं?

रमेश डागर :
पहली बार जब मैंने अपने खेत की मिट्टी की जांच करवाई तो पता चला कि रासायनिक खाद के इस्तेमाल का जमीन पर कितना बुरा प्रभाव पड़ता है। यदि रासायनिक खाद का इसी तरह इस्तेमाल होता रहा तो आने वाले 50-60 वर्षों में हमारी जमीनें बंजर हो जाएंगी। आर्थिक रूप से भी रासायनिक खाद का इस्तेमाल किसान के हित में नहीं रहा। हरित क्रांति से किसानों के खर्चे तो बढ़ गए पर आमदनी कम होती गई। जहां पहले एक कट्ठे यूरिया से काम चल जाता था, वहीं आज पांच कट्ठा लगता है। इससे किसान कर्जदार होता जा रहा है।

प्रश्न : हरित क्रांति के नाम पर होने वाली इस क्षति को रोकने के लिए आपने क्या पहल की?

रमेश डागर :
जमीन की उर्वरता बनाए रखने के लिए मैंने कई प्रयोग किए और किसान-क्लब बना कर अन्य किसान भाइयों से भी विचार-विमर्श किया। हमने पाया कि खेती की अपनी पुरानी पध्दति को विज्ञान के साथ जोड़कर एक नया रास्ता ढूंढा जा सकता है। और यह रास्ता हमने जैविक कृषि के रूप में विकसित कर लिया है।

प्रश्न : आप एक प्रयोगधर्मी किसान हैं। आपने लीक से हटकर कई ऐसे सफल प्रयोग किए हैं, जिनसे भारत का किसान प्रेरणा ले सकता है। हम आपके ऐसे कुछ प्रयोगों के बारे में विस्तार से जानना चाहेंगे।

रमेश डागर :
जैविक आधार पर की जाने वाली बहुआयामी खेती में ही मेरी सफलता का राज छिपा है। किस मौसम में कौन सी फसल की खेती करनी है, यह तय करने के पहले मैं जमीन की गुणवत्ता और पानी की उपलब्धता के साथ-साथ बाजार की मांग को भी हमेशा ध्यान में रखता हूं। मैं जिस तरह से खेती करता हूं, उसके कुछ खास पहलू इस प्रकार हैं :

केंचुआ खाद :

केंचुआ किसान के सबसे अच्छे मित्रें में से एक है। मैं अपने खेतों में केंचुआ खाद का खूब प्रयोग करता हूं। एक किलो केंचुआ वर्ष भर में 50-60 किलो केंचुआ पैदा कर सकता है। केंचुआ खाद बनाने में खेती के सारे बेकार पदार्थों, जैसे डंठल, सड़ी घास, भूसा, गोबर, चारा आदि का प्रयोग हो जाता है। सब मिलाकर केंचुए से 60-70 दिनों में खाद तैयार हो जाती है। इस खाद की प्रति एकड़ खपत यूरिया की अपेक्षा एक चौथाई है। इसके प्रयोग से मिट्टी को नुकसान भी नहीं पहुंचता है। फसल की उत्पादकता भी 20-30 प्रतिशत बढ़ जाती है। केंचुआ खाद बनाने पर यदि किसान ध्यान दें तो वे अपने खेतों में प्रयोग करने के बाद इसे बेच भी सकते हैं। यह किसान भाईयों के लिए आमदनी का एक अतिरिक्त स्रोत भी हो सकता है।

बायो गैस :

मैं बायोगैस का इतना अधिक उत्पादन कर लेता हूं कि इससे इंजन चलाने और अन्य जरूरतें पूरी करने के बाद भी गैस बच जाती है। बची हुई गैस मैं अपने मजदूरों में बांट देता हूं। इससे उनके भी ईंधन का काम चल जाता है। बायोगैस का मैंने एक परिवर्तित माडल तैयार किया है जिसमें प्रति घन मीटर की लागत 5000 रुपए की बजाय 1000 रफपए हो जाती है। मेरे इस माडल में गैस पलांट की मरम्मत का खर्चा भी न के बराबर है।

मशरूम खेती :

मैं मशरूम की कई फसलें लेता हूं। जिन किसान भाइयों के यहां मार्केट नजदीक नहीं है, उन्हें डिंगरी (ड्राई मशरूम) की फसल लेनी चाहिए। आज पूरी दुनिया में डिंगरी का 80 हजार करोड़ का बाजार है। जहां धान की फसल होती है, वहां इसकी खेती की संभावनाएं सबसे अधिक होती हैं क्योंकि इसकी खेती में पुआल का विशेष रूप से प्रयोग होता है। फसल लेने के बाद बेकार बचे हुए पदार्थों को मैं केंचुआ खाद में बदल कर 60-70 दिनों में वापस खेतों में पहुंचा देता हूं।

तालाब एवं मछली पालन :

खेत के सबसे नीचे कोने को और गहरा करके मैंने तालाब बना दिया है, जिसमें बरसात का सारा पानी इकट्ठा होता है और डेरी का सारा व्यर्थ पानी भी चला जाता है। डेरी के पानी में मिला गोबर आदि मछलियों का भोजन बन जाता है। इससे उनका विकास दोगुना हो जाता है। मछलीपालन के अलावा तालाब में कमल ककड़ी, मखाना आदि भी उगाता हूं।

बहुफसलीय खेती :

मैं एक साथ तीन से चार फसल लेता हूं। ऐसा करते समय मैं समय, तापमान और मेल का विशेष ध्यान रखता हूं। उदाहरण स्वरूप सितंबर माह के अंत में मूली की बुवाई हो जाती है जिसके साथ गेंदा फूल भी लगा देते हैं। मूली को अक्टूबर में निकाल लेते हैं और नवंबर के शुरूआत में पालक या तोरी आदि लगा देते हैं जिसकी कटाई दिसंबर में हो जाती है। वहीं फूलों से आमदनी जनवरी से शुरू हो जाती है।

गुलाब एवं स्टीवीया :

स्टीवीया एक छोटा सा पौधा है जिससे निकलने वाला रस चीनी से 300 गुना ज्यादा मीठा होता है। इसका प्रयोग मधुमेह के मरीज भी कर सकते हैं। मैंने इसकी खेती से प्रति एकड़ लाखों रुपए की कमाई की है। एक विशेष प्रकार के महारानी प्रजाति के गुलाब की खेती से भी मैंने काफी लाभ कमाया है। इस गुलाब से निकलने वाले तेल की कीमत अंतरराष्ट्रीय बाजार में 4 लाख रुपए प्रति लीटर है। एक एकड़ में उत्पादित गुलाब से लगभग 800 ग्राम तेल निकाला जा सकता है।

केले की खेती :

केले की खेती से जमीन में केंचुओं की संख्या बहुत ज्यादा हो जाती है। केला एक ऐसा पौधा है जो खराब एवं पथरीली जमीन को भी कोमल मिट्टी में तब्दील कर देता है। इसके प्रभाव से किसी भी फसल की उत्पादकता 25 से 30 प्रतिशत बढ़ जाती है। केले की जैविक खेती करने से पौधे सामान्य से ज्यादा ऊंचाई के होते हैं। इसकी खेती से लगभग 25 से 30 हजार रुपए प्रति एकड़ की आमदनी हो जाती है। गर्मी में केलों के बीच में ठंडक रहती है इसलिए इसमें फूलों की भी खेती हो जाती है, जिससे 15-20 हजार रुपए की अतिरिक्त आमदनी हो जाती है। गर्मी के दिनों में मधुमक्खी के बक्सों को रखने के लिए भी यह सबसे सुरक्षित स्थान होता है।

वृक्षारोपण :

खेतों की मेड़ों पर मैंने पापुलर आदि के पेड़ लगा रखे हैं जिससे 7 से 8 वर्षों में प्रति एकड़ 70 से 80 हजार रुपए की आमदनी हो जाती है। इन वृक्षों से खेतों को नुकसान भी नहीं होता और पर्यावरण भी ठीक रहता है।

मधुमक्खी पालन :

मधुमक्खी से भरे एक बक्से की कीमत लगभग चार हजार रुपए होती है। मेरी खेती में मधुमक्खियों की विशेष भूमिका है। वैसे भूमिहीन किसान भाइयों के लिए भी मधुमक्खी पालन एक अच्छा काम है। शहद उत्पादन के अलावा भी इनके कई फायदे हैं। फूलों की पैदावार में इनसे 30 से 40 प्रतिशत और तिलहन-दलहन की पैदावार में लगभग 10 से 20 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हो जाती है। बेहतर परागण के कारण फसलें भी एक ही समय पर पकती हैं। इस क्षेत्र में खादी ग्रामोद्योग एवं कई अन्य संस्थाएं सहायता कर रही हैं।

प्रश्न : आपने एक माडल तैयार किया है जिसमें सिर्फ 2.5 एकड़ जमीन से दस-बारह लाख रुपए प्रतिवर्ष की आमदनी हो सकती है और साथ ही कई लोगों को रोजगार भी मिल जाता है। इस बारे में जरा विस्तार से बताएं।

रमेश डागर :
मैंने 2.5 एकड़ में छ: परियोजनाएं चला रखी हैं जिसका संक्षिप्त विवरण इस प्रकार है :

मधुमक्खी पालन :

मधुमक्खियों के 150 बक्सों से हम शुरुआत करते हैं। एक ही साल में इनकी संख्या दोगुनी हो जाती है। इससे साल में 5-6 लाख की आमदनी हो जाती है।

केंचुआ खाद:

इसे बेचकर मैं 3-4 लाख रुपए की आमदनी कर लेता हूं।

मशरूम खेती:

इससे मुझे प्रतिवर्ष 3-4 लाख रुपए मिल जाते हैं।

डेरी:

एक छोटी सी डेरी से लगभग 60-70 हजार की सीधी आय होती है।

मछली पालन :

इससे भी लगभग 15-20 हजार रुपए मिल जाते हैं।

ग्रीन हाउस :

इसमें लगी फसल से एक-डेढ़ लाख रुपए आ जाते हैं।

प्रश्न : आप किसान भाइयों के लिए क्या संदेश देना चाहेंगे?

रमेश डागर :
समझदार किसान तो वो है जो पहले मार्केट देखे, फिर मिट्टी की जांच कराए, तापमान का ख्याल रखे और अच्छे बीज का चयन करे। किसान भाइयों को जैविक खेती ही करनी चाहिए, मवेशी रखनी चाहिए, बायोगैस तथा वर्मी कम्पोस्ट तैयार करना चाहिए। 365 दिन में 300 दिन कैसे काम करें, प्रत्येक किसान को इसकी चिन्ता करनी चाहिए। हमें एक-दो फसलें ही नहीं बल्कि एक-दूसरे पर आश्रित खेती की बहुआयामी व्यवस्था विकसित करनी चाहिए। इस संबंध में किसी प्रकार की जानकारी के लिए किसान मुझसे जब चाहें संपर्क कर सकते हैं।
मेरा पता है :
डागर कृषि फार्म, ग्राम व पोस्ट – अकबरपुर बरोटा,
जिला-सोनीपत, हरियाणा, पिन-131003

Alovera farming

How we do alovera farming

Khit

My name is ashwani singh
Vill_ Bansgaon word no 7
Distt-gorakhpur (up)
Mobil-8299520295
Sir ham alvor ki khit karna hai
Plz help me

Alovera

I want information for alovera farming

aloevera 8

gujrat wale contect me aloevera k liye 9106491664

aloevera 8

gujrat wale contect me aloevera k liye 9106491664

New karshi ....tarike

Hello sir muje falon ki kheti karni h

gulab ki kheti

gulab ki kheti kse ki jaati h or kitne podhe lgte h 1 akd jmeen m laagat kitni aati h or kmaai kitni hoti h or मछली पालन ke kuch ache treeke

PHoole ki kheti

Please sir contact this number

Tulsi ka kheti ka tarika

Dear sir. Please send contect number

tulsi

Tullich ki kheti

Kesm ki jankari

मेरे पास 2 एकड़ जमीन है मुझे 0.5 एकड़ में केसम की खेति करनी है मुझे केसम के बारे में जानकारी चाहिए धन्येवाद

Alovera farming

i want some information alovera farming plant purcahse place, fertilizer and market sellling place and other farming information.

Aloe Vera se kamai

√•  RMD Herbles  लाया है| एलोविरा बिजनस का कम्पलीट सुझाव

       √•  किसान हो या प्रोपर्टी डीलर , 
केवल आप के पास जमीन है| तो आप कमा सकते है| अच्छा पैसा

ज्यादा जानकारी के लिए निचे पढ़िए

Aloevera plant in low price for good income

RMD Herbles लाया है| एलोविरा बिजनस का कम्पलीट सुझाव
किसान हो या प्रोपर्टी डीलर ,
केवल आप के पास जमीन है| तो आप कमा सकते है| अच्छा पैसा ज्यादा जानकारी के लिए निचे पढ़िए
गवार पाठा (ऐलोविरा) कि खेती का 1बिघा का हिशाब
1 बिघा मे 2×2 फिट 7000पौधे लगते है|
जिसकी लागत 4 रूपये पर पौधा (पौधा, गाडी भाडा ,टेकटर व लगाई ये सब खर्चा हमारा है)
इस प्रकार 7000×4=28000 किसान का खर्च होगा
गवार पाठा को महिने मे 2बार पानी पिलाया जाता है यह किसी भी समय लगाया जा सकता हे
लगाने के 10'11 महिने बाद पौधा तैयार हो जाता है
उसके बाद पतियों कि कटाई होगी गिली पतियॉ हम आपके खेत से हम 4 रुपये किलो से खरीदेगे ऐक पौधे के पतियों का वजन 4से8 किलो हो जाता है
उस प्रकार 1बिघा मे 7000 पौधे (7000×4kg=28000kg) हो जाता है 28000×4=112000 रुपये कि कमाई होगी
उसके बाद 5 6 महिने मे कटाई होती रहेगी यह क्रम 5 साल तक चलता रहेगा
अगर सही मायने मे देखे तो ये बिजनस पार्ट टाइम भी कर सकते है|
for more you can contact me
RMD हर्बल & पूनिया हर्बल
(MOB. 9828137450)
(MOB. 8440088143)
rmd.herbles@gmail.com
puniaherbal@gmail.com
We are supplier of aloevera leaf and pulps.
We have good 8 years experience in this field.
We will arrange good price and regularly items because of we have our own plant in 1000 acre.
If your company want to deal We can supply 5-10/tone per day or more as you desire.
Excellent Packing
For Good Price please send us your order, We'll try to give you unbelievable price.
As your company required you can send me quantity order.
Warms & Regards
RMD Herbles & Punia Herbal
+919828137450
+918440088143
E-mail - aloevera@puniaherbal.com

aloevera

sir. mera name thavar taya kochra hai mera add. vill. motakapaya, tehsil. mundra, distric. kutch, gujarat, 370415, mere pas 4acar kheti hai, ap mere se aloevera ki kheti ke liye jankary leni hai apse sir. to pls mera cont. no 9428506346, whatsapp no.9909571394 hai     

alovera

May interested hu
9993872845

Kheti

Mere pas 2 bigha jamin he Jo UTTAR PRADESH ke SHULTANPUR our MILE me me mbai me rahta hu paisa Kam he KRIPYA koi upay bataye ta ki me Gav me hi ta jau

alovera ki kheti ke bare me

Sir mere pass 18 bigha jammen h jo saharanpur up 247340 me h jisme SE 5 bigha me m alovera lagvana chahta hu to AP help krege sir plz reply

I want aleovera farming in my land 22 bhiga

B I U

Aloevera plant in low price for good income

RMD हर्बल लाया है एलोविरा बिजनस का कम्पलीट सुझाव
किसान हो या प्रोपर्टी डीलर
केवल आप के पास जमीन है तो आप कमा सकते है अच्छा पैसा
M-9828137450
W-8440088143
Email-ID - rmd.herbles@gmail.com

Aloevera Farming

Contact me with your full detail.I will give you profitable project of Aloevera cultivation.

Contract farming of Aloe Vera

Please give me information regarding Contract Farming of Aloe Vera

I have 20 bigha land at Main Ajmer road,Jaipur

I have 20 bigha land at main ajmer road,jaipur (35Km from Jaipur) with very good water facility (well) and space house for farmer who can take care farming. I want to give this land on lease for allovera or other medicine plant  please contact me at my mob. 9314790938

Hii I am interested to take

Hii

I am interested to take your land on lease for aloevera farming

Call me 9636505618

aloe vera agriculture

Suggest me to how to plant and where we bye seed of aloe vera thanks

Aloevera Farming

Contact me with your full detail.I will give you profitable project of Aloevera cultivation.

Agriculture Consultant

You can Contect to me regarding your enquiry.

Alovera farming

I want to start alovera farming. Where we can get there plant to grow.

detail of alovera farming

Dear siri am intrested to farming of alovera & other so please me detai & scope .    RegardsTikam singh87563310179621022430

Aloe vera keti suggtion

  Hi, I am vino kumar prajapati. i want to do aloe vera khaeti. please tell me the process. how to sale it after getting.   Thanks & regards,Vinod kumar 8904043107

query regarding aloevera farming

Dear Sir/Mam, Pls note that my name is Satyanarayan Mali & I am a Engineering student.I can done my b.tech. in 2015. I want to doing the farming of Aloevera.So pls gave me the full details regarding aloevera farming & pls send the estimated cost of aloevera farming in 1 acre or hectare. Also sending the production strength & market of aloevera. Pls also send the processing details of aloevera & its products. Pls send all the details in my e-mail id. Thanks & RegardsSatyanarayan Mali Mo.-9660200935

kheti

K C C banvana h aap koi help karoge meri

Alovera kheti

Sir I want to information about alovera farming
Mu home distric Hoshiarpur. Plz send all information

kheti

Me ganne ki kheti karna chahyta hi my halp 7317660891

एलोवीरा की खेती के क्रम में

नमस्ते सर मेरे पास सर जमीन है और अच्छा पानी है तो मैं उसमें एलोवीरा की खेती करना चाहता हूं तो उससे संबंधित मैं एलोवेरा की खेती के बारे मैं जानना चाहता हूं कि किस तरह से फसल तैयार कर सकता हूं

kheti

jamit hai kheti karna chahta hu  

Aloevera plant in low price for good income

RMD हर्बल लाया है एलोविरा बिजनस का कम्पलीट सुझाव
किसान हो या प्रोपर्टी डीलर
केवल आप के पास जमीन है तो आप कमा सकते है अच्छा पैसा
M-9828137450
W-8440088143

Email-ID - rmd.herbles@gmail.com

how to grow & sell Aloevera

Dear Sir My Name is Rohitashw Gurjar from Alwar ( Rajasthan) Currently I am working with an automobile Industry(Rs.22000/Month) but I am not setisfi with my job so I want to grow up Aloevera in my farm(3 acre) please suggest me for below points:1.from where I can Buy aloevera seeds2.From where I test my sand (mitti)3.where can I sell my ready aloevera Leaf. please revert with positive Best RegardsRohitashw Gurjar9530030385Mail Id: gurjar.rohitashw@gmail.com

doing the formatting in alovera in our field

Sir I'm interesting in tha farmating in alovera .so plz contact me.my area is aligarh diss.iglas tehsil.mohkampur vill.plzz give me some kind of information thanku.

Alovera ke khati karni h

sir  m meerut se hu me Alovera ke khati karna chata hu mari madat kar ye  Rahul Chauhan Mobile No- 8941964061

Aleo vera

Dear sir
I'm interested aleo Vera farming

Aloevera plant in low price for good income

RMD Herbles लाया है| एलोविरा बिजनस का कम्पलीट सुझाव
किसान हो या प्रोपर्टी डीलर ,
केवल आप के पास जमीन है| तो आप कमा सकते है| अच्छा पैसा ज्यादा जानकारी के लिए निचे पढ़िए
गवार पाठा (ऐलोविरा) कि खेती का 1बिघा का हिशाब
1 बिघा मे 2×2 फिट 7000पौधे लगते है|
जिसकी लागत 4 रूपये पर पौधा (पौधा, गाडी भाडा ,टेकटर व लगाई ये सब खर्चा हमारा है)
इस प्रकार 7000×4=28000 किसान का खर्च होगा
गवार पाठा को महिने मे 2बार पानी पिलाया जाता है यह किसी भी समय लगाया जा सकता हे
लगाने के 10'11 महिने बाद पौधा तैयार हो जाता है
उसके बाद पतियों कि कटाई होगी गिली पतियॉ हम आपके खेत से हम 4 रुपये किलो से खरीदेगे ऐक पौधे के पतियों का वजन 4से8 किलो हो जाता है
उस प्रकार 1बिघा मे 7000 पौधे (7000×4kg=28000kg) हो जाता है 28000×4=112000 रुपये कि कमाई होगी
उसके बाद 5 6 महिने मे कटाई होती रहेगी यह क्रम 5 साल तक चलता रहेगा
अगर सही मायने मे देखे तो ये बिजनस पार्ट टाइम भी कर सकते है|
for more you can contact me
RMD हर्बल & पूनिया हर्बल
(MOB. 9828137450)
(MOB. 8440088143)
rmd.herbles@gmail.com
puniaherbal@gmail.com
We are supplier of aloevera leaf and pulps.
We have good 8 years experience in this field.
We will arrange good price and regularly items because of we have our own plant in 1000 acre.
If your company want to deal We can supply 5-10/tone per day or more as you desire.
Excellent Packing
For Good Price please send us your order, We'll try to give you unbelievable price.
As your company required you can send me quantity order.
Warms & Regards
RMD Herbles & Punia Herbal
+919828137450
+918440088143
E-mail - aloevera@puniaherbal.com

Can alovera farming be done

Can alovera farming be done at terrace in delhi city.? Please advice.

aloe vera plant need

mai apane khet me aloe vera ki kheti karna chahata humuje new plant chahiyecontact me 9829411665 

Aloevera plant in low price

RMD Herbles लाया है| एलोविरा बिजनस का कम्पलीट सुझाव

किसान हो या प्रोपर्टी डीलर ,
केवल आप के पास जमीन है| तो आप कमा सकते है| अच्छा पैसा ज्यादा जानकारी के लिए निचे पढ़िए

गवार पाठा (ऐलोविरा) कि खेती का 1बिघा का हिशाब 
1 बिघा मे 2×2 फिट 7000पौधे लगते है|
जिसकी लागत 4 रूपये पर पौधा (पौधा, गाडी भाडा ,टेकटर व लगाई ये सब खर्चा हमारा है)

इस प्रकार 7000×4=28000 किसान का खर्च होगा

गवार पाठा को महिने मे 2बार पानी पिलाया जाता है यह किसी भी समय लगाया जा सकता हे
लगाने के 10'11 महिने बाद पौधा तैयार हो जाता है
उसके बाद पतियों कि कटाई होगी गिली पतियॉ हम आपके खेत से हम 4 रुपये किलो से खरीदेगे ऐक पौधे के पतियों का वजन 4से8 किलो हो जाता है
उस प्रकार 1बिघा मे 7000 पौधे (7000×4kg=28000kg) हो जाता है 28000×4=112000 रुपये कि कमाई होगी 

उसके बाद 5 6 महिने मे कटाई होती रहेगी यह क्रम 5 साल तक चलता रहेगा

अगर सही मायने मे देखे तो ये बिजनस पार्ट टाइम भी कर सकते है|

for more you can contact me

RMD हर्बल & पूनिया हर्बल  

(MOB. 9828137450)
(MOB. 8440088143)

rmd.herbles@gmail.com
puniaherbal@gmail.com

We are supplier of aloevera leaf and pulps.
We have good 8 years experience in this field.
We will arrange good price and regularly items because of we have our own plant in 1000 acre.
If your company want to deal We can supply 5-10/tone per day or more as you desire.
Excellent Packing
For Good Price please send us your order, We'll try to give you unbelievable price.
As your company required you can send me quantity order.

Warms & Regards
RMD Herbles & Punia Herbal

+919828137450
+918440088143

E-mail - aloevera@puniaherbal.com

एलोवेरा की खेती हेतु सुझाव एवं सहायता

मेरे पास 8 एकड़ खेत है लेकिन मै 1 एकड़ से शुरूवात करना चाहता हू। Please आप सहायता कीजिए

एलोवेरा खेती के संबंध में

एलोवेरा की खेती कैसे करें कृपया सुझाव दें ललितपुर उत्तर प्रदेश में हमारी जमीन है 6 एकड़ धन्यवाद

Satawr

Satawer ki khat I ki puri jankari chae?
NAGAUR rsjsthan
Pin341028

How to do Aloevera farming

मै अलोवेरा की खेती के बारे में जानना चाहता हु ,यह खेती कैसे की जाती है इसके लिए कैसा जमीन चाहिए हवामान कैसा चाहिये,पौधा कहाँ से लाये ! 

Aloe Vera farming

Aloevera farming ki jankari
Bharat Singh Saharan
Village Jasania
P. O. Kagdana
Distt.Sirsa
Haryana
Cont.09416471048

Post new comment

The content of this field is kept private and will not be shown publicly.
  • Web page addresses and e-mail addresses turn into links automatically.
  • Allowed HTML tags: <a> <em> <strong> <cite> <code> <ul> <ol> <li> <dl> <dt> <dd>
  • Lines and paragraphs break automatically.

More information about formatting options

CAPTCHA
यह सवाल इस परीक्षण के लिए है कि क्या आप एक इंसान हैं या मशीनी स्वचालित स्पैम प्रस्तुतियाँ डालने वाली चीज
इस सरल गणितीय समस्या का समाधान करें. जैसे- उदाहरण 1+ 3= 4 और अपना पोस्ट करें
9 + 2 =
Solve this simple math problem and enter the result. E.g. for 1+3, enter 4.