Latest

2.5 एकड़ जमीन से दस-बारह लाख रु. की सालाना आमदनी!

वेब/संगठन: 
bhartiyapaksha.com
Author: 
विनय कुमार
हरियाणा के सोनीपत जिले का अकबरपुर बरोटा गांव। यहां आने के पहले आपके मस्तिष्क में गांव और खेती का कोई और चित्र भले ही हो, परंतु यहां आते ही खेत, खेती एवं किसान के बारे में आपकी धारणा पूरी तरह बदल जाएगी। इस गांव में स्थित है श्री रमेश डागर का माडल कृषि फार्म जो उनके अथक प्रयासों एवं प्रयोगधर्मिता की कहानी खुद सुनाता प्रतीत होता है। उनकी किसानी के कई ऐसे पहलू हैं, जिनके बारे में आम किसान सोचता ही नहीं। आइए जानते हैं, ऐसे कुछ पहलुओं के बारे में उन्हीं के शब्दों में…

प्रश्न : रमेशजी आज आप हर दृष्टि से एक सफल किसान हैं। हम आपके शुरुआती दिनों के बारे में जानना चाहेंगे।

रमेश डागर : बात सन् 1970 की है, घर की परिस्थितियों के कारण मुझे मैट्रिक स्तर पर ही पढ़ाई छोड़कर खेती में लगना पड़ा। तब मेरे पास केवल 16 एकड़ जमीन थी। शुरू में मैं भी वैसे ही खेती करता था जैसे बाकी लोग किया करते थे। मैंने पहले-पहले बाजरे की फसल लगाई थी, फसल अच्छी हुई, लाभ भी हुआ। फिर गेहूं की फसल लगाई, जिसमें खर-पतवार इतना अधिक हो गया कि नुकसान उठाना पड़ा। कुल मिलाकर मैं खेती के अपने तरीके से संतुष्ट नहीं था, इसलिए मैं कुछ अलग करना चाहता था, ताकि मैं भी समृध्दि के रास्ते पर आगे बढ़ सकूं। अंत में मैं इस निष्कर्ष पर पहुंचा कि मुझे अपने तौर-तरीके में बदलाव लाना होगा।

प्रश्न : आपने अपने तौर-तरीकों में क्या बदलाव किए और उनका क्या परिणाम निकला?

रमेश डागर : मैंने महसूस किया कि किसानों को फसलों के चयन में समझ-बूझ के साथ काम लेना चाहिए। मैं प्राय: कुछ किसानों को ट्रेन से सब्जी ले जाते हुए देखता था और उनसे रोज की बिक्री के बारे में पूछता था। उनसे मिली जानकारी ने मुझे सब्जी की खेती करने की प्रेरणा दी। सन् 1970 में मैंने पहली बार टिन्डे की फसल लगाई, जिसमें मुझे बाजरे और गेहूं से तीन गुना ज्यादा आमदनी हुई। सब्जीमंडी में मैंने एक बार कुछ ऐसी सब्जियां देखीं जो हमारे देश में नहीं बल्कि विदेशों में पैदा होती हैं। इनका भाव भी बहुत अधिक था। इनके बारे में मैंने कई स्रोतों से जानकारी इकट्ठी की और फिर सन् 1980 में उनकी खेती शुरू कर दी। सब्जियों की खेती से मेरी आमदनी काफी बढ़ गई।
इसी दौरान बाजार में फूलों की विशेष मांग को देखते हुए प्रयोग के तौर पर मैंने फूलों की भी खेती शुरू की, जिससे मुझे सबसे ज्यादा आमदनी हुई। सन् 1987-88में मैंने बेबीकार्न की खेती की। उस समय इसकी कीमत 400-500 रुपए प्रति किलो होने के कारण मुझे काफी लाभ हुआ। आज केवल सोनीपत जिले में ही बेबीकार्न की खेती 1600 एकड़ में हो रही है। फूल और सब्जियों की खेती से हुई आमदनी से मैंने सुख-समृध्दि के साधनों के साथ-साथ और खेत भी खरीदे। मेरे पास आज 122 एकड़ जमीन है।

प्रश्न : फसलों के चयन में सावधानी के साथ-साथ क्या आपने खेती के तौर-तरीकों में भी बदलाव किए हैं?

रमेश डागर :
हां किए हैं। मैं अपने खेतों में रासायनिक खाद (उर्वरक) का बिल्कुल इस्तेमाल नहीं करता। खाद के तौर पर मैं केंचुआ खाद व गोबर खाद का ही इस्तेमाल करता हूं। तथाकथित हरित क्रांति के नाम पर किसानों को जिस तरह से रासायनिक खाद का अधिक से अधिक इस्तेमाल करने के लिए प्रेरित किया जा रहा है, मुझे उस पर सख्त एतराज है।

प्रश्न : आपके राज्य में तो हरित क्रांति बहुत सफल रही है। यहां के किसानों ने काफी प्रगति भी की है। आप इससे असंतुष्ट क्यों हैं?

रमेश डागर :
पहली बार जब मैंने अपने खेत की मिट्टी की जांच करवाई तो पता चला कि रासायनिक खाद के इस्तेमाल का जमीन पर कितना बुरा प्रभाव पड़ता है। यदि रासायनिक खाद का इसी तरह इस्तेमाल होता रहा तो आने वाले 50-60 वर्षों में हमारी जमीनें बंजर हो जाएंगी। आर्थिक रूप से भी रासायनिक खाद का इस्तेमाल किसान के हित में नहीं रहा। हरित क्रांति से किसानों के खर्चे तो बढ़ गए पर आमदनी कम होती गई। जहां पहले एक कट्ठे यूरिया से काम चल जाता था, वहीं आज पांच कट्ठा लगता है। इससे किसान कर्जदार होता जा रहा है।

प्रश्न : हरित क्रांति के नाम पर होने वाली इस क्षति को रोकने के लिए आपने क्या पहल की?

रमेश डागर :
जमीन की उर्वरता बनाए रखने के लिए मैंने कई प्रयोग किए और किसान-क्लब बना कर अन्य किसान भाइयों से भी विचार-विमर्श किया। हमने पाया कि खेती की अपनी पुरानी पध्दति को विज्ञान के साथ जोड़कर एक नया रास्ता ढूंढा जा सकता है। और यह रास्ता हमने जैविक कृषि के रूप में विकसित कर लिया है।

प्रश्न : आप एक प्रयोगधर्मी किसान हैं। आपने लीक से हटकर कई ऐसे सफल प्रयोग किए हैं, जिनसे भारत का किसान प्रेरणा ले सकता है। हम आपके ऐसे कुछ प्रयोगों के बारे में विस्तार से जानना चाहेंगे।

रमेश डागर :
जैविक आधार पर की जाने वाली बहुआयामी खेती में ही मेरी सफलता का राज छिपा है। किस मौसम में कौन सी फसल की खेती करनी है, यह तय करने के पहले मैं जमीन की गुणवत्ता और पानी की उपलब्धता के साथ-साथ बाजार की मांग को भी हमेशा ध्यान में रखता हूं। मैं जिस तरह से खेती करता हूं, उसके कुछ खास पहलू इस प्रकार हैं :

केंचुआ खाद :

केंचुआ किसान के सबसे अच्छे मित्रें में से एक है। मैं अपने खेतों में केंचुआ खाद का खूब प्रयोग करता हूं। एक किलो केंचुआ वर्ष भर में 50-60 किलो केंचुआ पैदा कर सकता है। केंचुआ खाद बनाने में खेती के सारे बेकार पदार्थों, जैसे डंठल, सड़ी घास, भूसा, गोबर, चारा आदि का प्रयोग हो जाता है। सब मिलाकर केंचुए से 60-70 दिनों में खाद तैयार हो जाती है। इस खाद की प्रति एकड़ खपत यूरिया की अपेक्षा एक चौथाई है। इसके प्रयोग से मिट्टी को नुकसान भी नहीं पहुंचता है। फसल की उत्पादकता भी 20-30 प्रतिशत बढ़ जाती है। केंचुआ खाद बनाने पर यदि किसान ध्यान दें तो वे अपने खेतों में प्रयोग करने के बाद इसे बेच भी सकते हैं। यह किसान भाईयों के लिए आमदनी का एक अतिरिक्त स्रोत भी हो सकता है।

बायो गैस :

मैं बायोगैस का इतना अधिक उत्पादन कर लेता हूं कि इससे इंजन चलाने और अन्य जरूरतें पूरी करने के बाद भी गैस बच जाती है। बची हुई गैस मैं अपने मजदूरों में बांट देता हूं। इससे उनके भी ईंधन का काम चल जाता है। बायोगैस का मैंने एक परिवर्तित माडल तैयार किया है जिसमें प्रति घन मीटर की लागत 5000 रुपए की बजाय 1000 रफपए हो जाती है। मेरे इस माडल में गैस पलांट की मरम्मत का खर्चा भी न के बराबर है।

मशरूम खेती :

मैं मशरूम की कई फसलें लेता हूं। जिन किसान भाइयों के यहां मार्केट नजदीक नहीं है, उन्हें डिंगरी (ड्राई मशरूम) की फसल लेनी चाहिए। आज पूरी दुनिया में डिंगरी का 80 हजार करोड़ का बाजार है। जहां धान की फसल होती है, वहां इसकी खेती की संभावनाएं सबसे अधिक होती हैं क्योंकि इसकी खेती में पुआल का विशेष रूप से प्रयोग होता है। फसल लेने के बाद बेकार बचे हुए पदार्थों को मैं केंचुआ खाद में बदल कर 60-70 दिनों में वापस खेतों में पहुंचा देता हूं।

तालाब एवं मछली पालन :

खेत के सबसे नीचे कोने को और गहरा करके मैंने तालाब बना दिया है, जिसमें बरसात का सारा पानी इकट्ठा होता है और डेरी का सारा व्यर्थ पानी भी चला जाता है। डेरी के पानी में मिला गोबर आदि मछलियों का भोजन बन जाता है। इससे उनका विकास दोगुना हो जाता है। मछलीपालन के अलावा तालाब में कमल ककड़ी, मखाना आदि भी उगाता हूं।

बहुफसलीय खेती :

मैं एक साथ तीन से चार फसल लेता हूं। ऐसा करते समय मैं समय, तापमान और मेल का विशेष ध्यान रखता हूं। उदाहरण स्वरूप सितंबर माह के अंत में मूली की बुवाई हो जाती है जिसके साथ गेंदा फूल भी लगा देते हैं। मूली को अक्टूबर में निकाल लेते हैं और नवंबर के शुरूआत में पालक या तोरी आदि लगा देते हैं जिसकी कटाई दिसंबर में हो जाती है। वहीं फूलों से आमदनी जनवरी से शुरू हो जाती है।

गुलाब एवं स्टीवीया :

स्टीवीया एक छोटा सा पौधा है जिससे निकलने वाला रस चीनी से 300 गुना ज्यादा मीठा होता है। इसका प्रयोग मधुमेह के मरीज भी कर सकते हैं। मैंने इसकी खेती से प्रति एकड़ लाखों रुपए की कमाई की है। एक विशेष प्रकार के महारानी प्रजाति के गुलाब की खेती से भी मैंने काफी लाभ कमाया है। इस गुलाब से निकलने वाले तेल की कीमत अंतरराष्ट्रीय बाजार में 4 लाख रुपए प्रति लीटर है। एक एकड़ में उत्पादित गुलाब से लगभग 800 ग्राम तेल निकाला जा सकता है।

केले की खेती :

केले की खेती से जमीन में केंचुओं की संख्या बहुत ज्यादा हो जाती है। केला एक ऐसा पौधा है जो खराब एवं पथरीली जमीन को भी कोमल मिट्टी में तब्दील कर देता है। इसके प्रभाव से किसी भी फसल की उत्पादकता 25 से 30 प्रतिशत बढ़ जाती है। केले की जैविक खेती करने से पौधे सामान्य से ज्यादा ऊंचाई के होते हैं। इसकी खेती से लगभग 25 से 30 हजार रुपए प्रति एकड़ की आमदनी हो जाती है। गर्मी में केलों के बीच में ठंडक रहती है इसलिए इसमें फूलों की भी खेती हो जाती है, जिससे 15-20 हजार रुपए की अतिरिक्त आमदनी हो जाती है। गर्मी के दिनों में मधुमक्खी के बक्सों को रखने के लिए भी यह सबसे सुरक्षित स्थान होता है।

वृक्षारोपण :

खेतों की मेड़ों पर मैंने पापुलर आदि के पेड़ लगा रखे हैं जिससे 7 से 8 वर्षों में प्रति एकड़ 70 से 80 हजार रुपए की आमदनी हो जाती है। इन वृक्षों से खेतों को नुकसान भी नहीं होता और पर्यावरण भी ठीक रहता है।

मधुमक्खी पालन :

मधुमक्खी से भरे एक बक्से की कीमत लगभग चार हजार रुपए होती है। मेरी खेती में मधुमक्खियों की विशेष भूमिका है। वैसे भूमिहीन किसान भाइयों के लिए भी मधुमक्खी पालन एक अच्छा काम है। शहद उत्पादन के अलावा भी इनके कई फायदे हैं। फूलों की पैदावार में इनसे 30 से 40 प्रतिशत और तिलहन-दलहन की पैदावार में लगभग 10 से 20 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हो जाती है। बेहतर परागण के कारण फसलें भी एक ही समय पर पकती हैं। इस क्षेत्र में खादी ग्रामोद्योग एवं कई अन्य संस्थाएं सहायता कर रही हैं।

प्रश्न : आपने एक माडल तैयार किया है जिसमें सिर्फ 2.5 एकड़ जमीन से दस-बारह लाख रुपए प्रतिवर्ष की आमदनी हो सकती है और साथ ही कई लोगों को रोजगार भी मिल जाता है। इस बारे में जरा विस्तार से बताएं।

रमेश डागर :
मैंने 2.5 एकड़ में छ: परियोजनाएं चला रखी हैं जिसका संक्षिप्त विवरण इस प्रकार है :

मधुमक्खी पालन :

मधुमक्खियों के 150 बक्सों से हम शुरुआत करते हैं। एक ही साल में इनकी संख्या दोगुनी हो जाती है। इससे साल में 5-6 लाख की आमदनी हो जाती है।

केंचुआ खाद:

इसे बेचकर मैं 3-4 लाख रुपए की आमदनी कर लेता हूं।

मशरूम खेती:

इससे मुझे प्रतिवर्ष 3-4 लाख रुपए मिल जाते हैं।

डेरी:

एक छोटी सी डेरी से लगभग 60-70 हजार की सीधी आय होती है।

मछली पालन :

इससे भी लगभग 15-20 हजार रुपए मिल जाते हैं।

ग्रीन हाउस :

इसमें लगी फसल से एक-डेढ़ लाख रुपए आ जाते हैं।

प्रश्न : आप किसान भाइयों के लिए क्या संदेश देना चाहेंगे?

रमेश डागर :
समझदार किसान तो वो है जो पहले मार्केट देखे, फिर मिट्टी की जांच कराए, तापमान का ख्याल रखे और अच्छे बीज का चयन करे। किसान भाइयों को जैविक खेती ही करनी चाहिए, मवेशी रखनी चाहिए, बायोगैस तथा वर्मी कम्पोस्ट तैयार करना चाहिए। 365 दिन में 300 दिन कैसे काम करें, प्रत्येक किसान को इसकी चिन्ता करनी चाहिए। हमें एक-दो फसलें ही नहीं बल्कि एक-दूसरे पर आश्रित खेती की बहुआयामी व्यवस्था विकसित करनी चाहिए। इस संबंध में किसी प्रकार की जानकारी के लिए किसान मुझसे जब चाहें संपर्क कर सकते हैं।
मेरा पता है :
डागर कृषि फार्म, ग्राम व पोस्ट – अकबरपुर बरोटा,
जिला-सोनीपत, हरियाणा, पिन-131003

Muje aelovira ki kheti ke

Muje aelovira ki kheti ke bare me bataye plz....

Tulsi cultivation

Please guide how to cultivate tulsi

Dairy

Dairy farm kholne ke liy kya government anudan deti hai,, or eske liy training kaha se mile gi....

Aloivera

Sir me rajasthan dist. Dungarpur se me aloivera ki kheti karna chahta hu iski jankari dijiye

Aloivera

Sir me rajasthan dist. Dungarpur se me aloivera ki kheti karna chahta hu iski jankari dijiye

Alovera ke khari karna hi

Dear sir
Mere pass 4 Acer lend hi with tube well & tacket hi but mi job bhe karta hu plz Sykes kijye kya mi alowera ke khate kar sakta hu

Alovera ke khari karna hi

Dear sir
Mere pass 4 Acer lend hi with tube well & tacket hi but mi job bhe karta hu plz Sykes kijye kya mi alowera ke khate kar sakta hu

Aloevera from

Sir me rajasthan dist. Dungarpur se hu me aloivera ki kheti karna chahta hu iske bare me jankari dijiye

kheti

Sir ap muje ye btao ki baby corn ki kheti kesi rhegi sir plz tell me

krishi ki bishesh jankari..

.

kheti se incom badhana

Mai ek shikshit berojgar hu mere pas 5 akad jamin hai mujhe kheti naye tarikese karana hai aur incom bhadhana plz mujhe suggest kare

Ag.consultant,u can solve out

Ag.consultant,u can solve out your problem regarding Ag.Business.

Alovera ki kheti

Alovera ki kheti kaise kare our bij kaha se mile ga our sale kaha hoga please repl

Tanks
Rama patel
Allahabad up 212104

aloevera plant for good income

गवार पाठा (ऐलोविरा) कि खेती का 1बिघा का हिशाब 1 बिघा मे 2×2 फिट 7000पौधे लगते ह जिसकी लागत 4 रूपये पर पौधा (पौधा गाडी भाडा टेकटर व लगाई समेत) ह  इस प्रकार 7000×4=28000 किसान का खर्च होगागवार पाठा को महिने मे 2बार पानी पिलाया जाता है यह किसी भी समय लगाया जा सकता हेलगाने के 10'11 महिने बाद पौधा तेयार हो जाता है उसके बाद पतियों कि कटाई होगी गिली पति हम आपके खेत से हम 4 रुपये किलो से खरीदेगे ऐक पौधे के पतियों का वजन 4से8 किलो हो जाता है उस प्रकार 1बिघा मे 7000 पौधे (7000×4kg=28000kg) हो जाता है 28000×4=112000 रुपये कि कमाई  होगी उसके बाद 5   6 महिने मे कटाई होती रहेगी यह क्रम 5 साल तक चलता रहेगा  for more you can contact me    पूनियाँ हरबल मोलासर(नागौर)       (Mob.9529284646)puniaherbal@gmail.com  We are supplier of aloevera leaf and pulps.               We have good 8 years experience in this field.               We will arrange good price and regularly items because of we have our own plant in 1000 acre.               If your company want to deal We can supply 5-10/tone per day or more as you desire.               Excellent Packing               For Good Price please send us your order, We'll try to give you unbelievable price.               As your company required you can send me quantity order.             Warms & Regards          Punia Herbal         +91 9529284646         +91 8440088143E-mail - aloevera@puniaherbal.com

Aloevera plant in low price for good income

RMD Herbles लाया है| एलोविरा बिजनस का कम्पलीट सुझाव

किसान हो या प्रोपर्टी डीलर ,
केवल आप के पास जमीन है| तो आप कमा सकते है| अच्छा पैसा

ज्यादा जानकारी के लिए निचे पढ़िए

गवार पाठा (ऐलोविरा) कि खेती का 1बिघा का हिशाब 
1 बिघा मे 2×2 फिट 7000पौधे लगते है|
जिसकी लागत 4 रूपये पर पौधा (पौधा, गाडी भाडा ,टेकटर व लगाई ये सब खर्चा हमारा है)

इस प्रकार 7000×4=28000 किसान का खर्च होगा

गवार पाठा को महिने मे 2बार पानी पिलाया जाता है यह किसी भी समय लगाया जा सकता हे
लगाने के 10'11 महिने बाद पौधा तैयार हो जाता है
उसके बाद पतियों कि कटाई होगी गिली पतियॉ हम आपके खेत से हम 4 रुपये किलो से खरीदेगे ऐक पौधे के पतियों का वजन 4से8 किलो हो जाता है
उस प्रकार 1बिघा मे 7000 पौधे (7000×4kg=28000kg) हो जाता है 28000×4=112000 रुपये कि कमाई होगी 

उसके बाद 5 6 महिने मे कटाई होती रहेगी यह क्रम 5 साल तक चलता रहेगा

अगर सही मायने मे देखे तो ये बिजनस पार्ट टाइम भी कर सकते है|

for more you can contact me

RMD हर्बल & पूनिया हर्बल  

(MOB. 9828137450)
(MOB. 8440088143)

rmd.herbles@gmail.com
puniaherbal@gmail.com

We are supplier of aloevera leaf and pulps.
We have good 8 years experience in this field.
We will arrange good price and regularly items because of we have our own plant in 1000 acre.
If your company want to deal We can supply 5-10/tone per day or more as you desire.
Excellent Packing
For Good Price please send us your order, We'll try to give you unbelievable price.
As your company required you can send me quantity order.

Warms & Regards
RMD Herbles & Punia Herbal

+919828137450
+918440088143

E-mail - aloevera@puniaherbal.com

aloevera ki kheti karana chahate hai detail me bataye

 aloevera ki kheti karana chahate hai detail me bataye

aloevera farming and selling

Information about aloevera selling most.

alovera kheti

mai Ganesh yadav mere pas 5 bigha jamin hai mai alovera ki kheti 2 bigha se start karna chahatu hu. please suggest me.

tichar hu agerykalchar ka

                                     G.C.Pawor[akestrim anarji]                                                                                                                                                                                                  samudri vanspati se utpatti ak jevik tatw he..g c pawar ak aadhhunik taknik doara teyar kiya gaya ak kudrti vish rahit predusand mukte utpad he jisme kai prejar ke posad tatw harmonsh .amino.asidas.va anejaims he podho ke sampud vikash ke sadh sadh pedavaar  bhi bharpur dilata he.....1- PODHO DUARA POSHAD TATWO KE GERHAD ME SUDHAR2- JADO KA VIKASH3-PREKASH SANSHLESAD KRIYA ME BADHABA4- MITTI ME SUJHAM JEVIK GTBIDIYO ME VADHABA FASLO KE LIYE BAHUT FAYDA MAND HE ...AOR JANKARY KE LIYE HAME COLL KARE MERA MUBAIL NAMBAR..9889292826 ORAI

alovera ki kheti sambandh me jankari

ऐलो िवरा के बारे में जान कारी छत्तीसगढ सरकार द्वारा िकसानो के िलए नई जानकारी चा िहए

aloe vera ki kheti sambandh me jankari

sir  mai aloe vera ki kheti karna chahta hu muje is kheti ke bare me kuch bhi jankari nahi hai to kya aap muje iske bare me jankari dege  plant kaha se kharidna  tayyar fasal kaha  kaha bechna  is ki sinchi kese karni hai  is ko tayyar ho ne me kitna time lagta hai  

Alovera ki kheti ki jankari

Alovera ki kheti ki puri jankari Kay hi. Yah market mi kasay sell hoga.puri jankari Kay hi.

Aloevera kheti

Sirji,Gujarat she hu. Me alovera ki Kheti 1akre me karna chahta hu. Alovera ka bij aur unhe kaha bechna he.aur kya dam she jayega.

ALOEVERA PLANT FOR GOOD INCOME

गवार पाठा (ऐलोविरा) कि खेती का 1बिघा का हिशाब 1 बिघा मे 2×2 फिट 7000पौधे लगते ह जिसकी लागत 4 रूपये पर पौधा (पौधा गाडी भाडा टेकटर व लगाई समेत) ह  इस प्रकार 7000×4=28000 किसान का खर्च होगागवार पाठा को महिने मे 2बार पानी पिलाया जाता है यह किसी भी समय लगाया जा सकता हेलगाने के 10'11 महिने बाद पौधा तेयार हो जाता है उसके बाद पतियों कि कटाई होगी गिली पति हम आपके खेत से हम 4 रुपये किलो से खरीदेगे ऐक पौधे के पतियों का वजन 4से8 किलो हो जाता है उस प्रकार 1बिघा मे 7000 पौधे (7000×4kg=28000kg) हो जाता है 28000×4=112000 रुपये कि कमाई  होगी उसके बाद 5   6 महिने मे कटाई होती रहेगी यह क्रम 5 साल तक चलता रहेगा  for more you can contact me    पूनियाँ हरबल मोलासर(नागौर)       (Mob.9529284646)puniaherbal@gmail.com  We are supplier of aloevera leaf and pulps.               We have good 8 years experience in this field.               We will arrange good price and regularly items because of we have our own plant in 1000 acre.               If your company want to deal We can supply 5-10/tone per day or more as you desire.               Excellent Packing               For Good Price please send us your order, We'll try to give you unbelievable price.               As your company required you can send me quantity order.             Warms & Regards          Punia Herbal         +91 9529284646         +91 8440088143E-mail - aloevera@puniaherbal.com

Hu mare paas jamin hai.. hum aapko aloe vera ugha ke dene..

Humare paas jamin hai.. hum aapko aloe vera ugha ke dene.. maal taiyaar hote hi hum aapko bech denge.. chalega??

Kheti alovera

Contact me

How to find all over allovera plants & sell it

I am interested in farming of aloe vera and I live shahdol so please tell about places from where i can collect aloe vera plant and where to sell it

alovera enquiry

I want to jnow about alovera farming
And wanna growth in alovera buiseness. give me derail about it please

New farmer

4 ekad jamin me konsi fasal faydemand hai

kheti

Muje aloe vera kheti karni hai podh kha se lani hai jankari de mere pass 5 acar jamin hai

Nimboo ki keti

Dear sir mai nimboo ki keti karna chahta hu please aap muje batayeyi ki kagzi nimboo ki nayi poidh kaha mile GI please reply as soon as posable

Chati

No comment

elovara ki kheti k baare m v podh kaha se milegi

Elovara ki keti kese kare v podh kaha se milegi....kya harayana k sonipat jile m ki ja skti hai.......kaha eski mandi hai .........v eske liye kahi koi kendra hai to bataaoooo

aapka blog bahut hi accha hai

aapka blog bahut hi accha hai aur isme kafi acchi jankari hai.

Mujhse pata karna hai ki

Mujhse pata karna hai ki alevora ki kheti kaise kare.

खेती संबंधी जानकारी बाबत

श्री मान, मैं स्नातकोत्तर बेरोजगार युवा हूं और खेती में कैरियर बनाना चाहता हूं मार्गदर्शन करें।

kheti

no comments

Elovira

Agriculture

masroom ki kheti kaise kare aur kaha sell kare

Masroom ki kheti kB aur kaise kare aur uski sell kha kare

goat palan

Plz provide all information in goat forming and how to get for goat forming subsidies. Thanks & RegardsSuraj Singh9327472949

madhu maki paln

Sir mujhe madhu maki paln ki jankari chaiye income kitni ho to h or sehad ko sale khan karna h

Agriculture

Agriculture job

masroom business

I want cultivation&business of masroom  in greter noida. so  please help me.

Alovera forming

Dear sir,
My name Rajesh Singh we want to information about alovera forming.
My home district is Bhadohi and also provide information where we found raw material.

I am wating for your valuable responce

Thankx & Regard
Rajesh singh

ऐलोवेरा की मंडी और खेती की जानकारी

श्रीमान् जी, मैं एलोवेरा का व्यावसायिक उत्पादन करना चाहता हूँ। कृपया मुझे एलोवेरा पौध की उपलब्धतता एवं इसके मूल्य के बारे में जानकारी प्रदान करें।
धन्यवाद।

krishy

Alovera ka pati ka beche

alovera

my name swarajya .anohar me alovera ki khati karnaa chha yes hu

Aloevera plant in low price for good income

RMD Herbles लाया है| एलोविरा बिजनस का कम्पलीट सुझाव

किसान हो या प्रोपर्टी डीलर ,
केवल आप के पास जमीन है| तो आप कमा सकते है| अच्छा पैसा

ज्यादा जानकारी के लिए निचे पढ़िए

गवार पाठा (ऐलोविरा) कि खेती का 1बिघा का हिशाब 
1 बिघा मे 2×2 फिट 7000पौधे लगते है|
जिसकी लागत 4 रूपये पर पौधा (पौधा, गाडी भाडा ,टेकटर व लगाई ये सब खर्चा हमारा है)

इस प्रकार 7000×4=28000 किसान का खर्च होगा

गवार पाठा को महिने मे 2बार पानी पिलाया जाता है यह किसी भी समय लगाया जा सकता हे
लगाने के 10'11 महिने बाद पौधा तैयार हो जाता है
उसके बाद पतियों कि कटाई होगी गिली पतियॉ हम आपके खेत से हम 4 रुपये किलो से खरीदेगे ऐक पौधे के पतियों का वजन 4से8 किलो हो जाता है
उस प्रकार 1बिघा मे 7000 पौधे (7000×4kg=28000kg) हो जाता है 28000×4=112000 रुपये कि कमाई होगी 

उसके बाद 5 6 महिने मे कटाई होती रहेगी यह क्रम 5 साल तक चलता रहेगा

अगर सही मायने मे देखे तो ये बिजनस पार्ट टाइम भी कर सकते है|

for more you can contact me

RMD हर्बल & पूनिया हर्बल  

(MOB. 9828137450)
(MOB. 8440088143)

rmd.herbles@gmail.com
puniaherbal@gmail.com

We are supplier of aloevera leaf and pulps.
We have good 8 years experience in this field.
We will arrange good price and regularly items because of we have our own plant in 1000 acre.
If your company want to deal We can supply 5-10/tone per day or more as you desire.
Excellent Packing
For Good Price please send us your order, We'll try to give you unbelievable price.
As your company required you can send me quantity order.

Warms & Regards
RMD Herbles & Punia Herbal

+919828137450
+918440088143

E-mail - aloevera@puniaherbal.com

Aloevera plant in low price

Hello sir ,

App is number par contact kar sakte h
aap ko complete jankari mil jayegi
WO bhi kam she kam price me or bina kahi Jane k pura plant teyar kar k denge ek h jagah par

Contact me on

Punia Herbal
Warm Regards

9529284646

Aloevera plant in low price

Hello sir ,

App is number par contact kar sakte h aap ko complete jankari mil jayegi
WO bhi kam she kam price me or bina kahi Jane k pura plant teyar kar k denge ek h jagah par

Contact me on

Punia Herbal
Warm Regards

9529284646

Post new comment

The content of this field is kept private and will not be shown publicly.
  • Web page addresses and e-mail addresses turn into links automatically.
  • Allowed HTML tags: <a> <em> <strong> <cite> <code> <ul> <ol> <li> <dl> <dt> <dd>
  • Lines and paragraphs break automatically.

More information about formatting options

CAPTCHA
यह सवाल इस परीक्षण के लिए है कि क्या आप एक इंसान हैं या मशीनी स्वचालित स्पैम प्रस्तुतियाँ डालने वाली चीज
इस सरल गणितीय समस्या का समाधान करें. जैसे- उदाहरण 1+ 3= 4 और अपना पोस्ट करें
3 + 9 =
Solve this simple math problem and enter the result. E.g. for 1+3, enter 4.