Latest

2.5 एकड़ जमीन से दस-बारह लाख रु. की सालाना आमदनी!

वेब/संगठन: 
bhartiyapaksha.com
Author: 
विनय कुमार
हरियाणा के सोनीपत जिले का अकबरपुर बरोटा गांव। यहां आने के पहले आपके मस्तिष्क में गांव और खेती का कोई और चित्र भले ही हो, परंतु यहां आते ही खेत, खेती एवं किसान के बारे में आपकी धारणा पूरी तरह बदल जाएगी। इस गांव में स्थित है श्री रमेश डागर का माडल कृषि फार्म जो उनके अथक प्रयासों एवं प्रयोगधर्मिता की कहानी खुद सुनाता प्रतीत होता है। उनकी किसानी के कई ऐसे पहलू हैं, जिनके बारे में आम किसान सोचता ही नहीं। आइए जानते हैं, ऐसे कुछ पहलुओं के बारे में उन्हीं के शब्दों में…

प्रश्न : रमेशजी आज आप हर दृष्टि से एक सफल किसान हैं। हम आपके शुरुआती दिनों के बारे में जानना चाहेंगे।

रमेश डागर : बात सन् 1970 की है, घर की परिस्थितियों के कारण मुझे मैट्रिक स्तर पर ही पढ़ाई छोड़कर खेती में लगना पड़ा। तब मेरे पास केवल 16 एकड़ जमीन थी। शुरू में मैं भी वैसे ही खेती करता था जैसे बाकी लोग किया करते थे। मैंने पहले-पहले बाजरे की फसल लगाई थी, फसल अच्छी हुई, लाभ भी हुआ। फिर गेहूं की फसल लगाई, जिसमें खर-पतवार इतना अधिक हो गया कि नुकसान उठाना पड़ा। कुल मिलाकर मैं खेती के अपने तरीके से संतुष्ट नहीं था, इसलिए मैं कुछ अलग करना चाहता था, ताकि मैं भी समृध्दि के रास्ते पर आगे बढ़ सकूं। अंत में मैं इस निष्कर्ष पर पहुंचा कि मुझे अपने तौर-तरीके में बदलाव लाना होगा।

प्रश्न : आपने अपने तौर-तरीकों में क्या बदलाव किए और उनका क्या परिणाम निकला?

रमेश डागर : मैंने महसूस किया कि किसानों को फसलों के चयन में समझ-बूझ के साथ काम लेना चाहिए। मैं प्राय: कुछ किसानों को ट्रेन से सब्जी ले जाते हुए देखता था और उनसे रोज की बिक्री के बारे में पूछता था। उनसे मिली जानकारी ने मुझे सब्जी की खेती करने की प्रेरणा दी। सन् 1970 में मैंने पहली बार टिन्डे की फसल लगाई, जिसमें मुझे बाजरे और गेहूं से तीन गुना ज्यादा आमदनी हुई। सब्जीमंडी में मैंने एक बार कुछ ऐसी सब्जियां देखीं जो हमारे देश में नहीं बल्कि विदेशों में पैदा होती हैं। इनका भाव भी बहुत अधिक था। इनके बारे में मैंने कई स्रोतों से जानकारी इकट्ठी की और फिर सन् 1980 में उनकी खेती शुरू कर दी। सब्जियों की खेती से मेरी आमदनी काफी बढ़ गई।
इसी दौरान बाजार में फूलों की विशेष मांग को देखते हुए प्रयोग के तौर पर मैंने फूलों की भी खेती शुरू की, जिससे मुझे सबसे ज्यादा आमदनी हुई। सन् 1987-88में मैंने बेबीकार्न की खेती की। उस समय इसकी कीमत 400-500 रुपए प्रति किलो होने के कारण मुझे काफी लाभ हुआ। आज केवल सोनीपत जिले में ही बेबीकार्न की खेती 1600 एकड़ में हो रही है। फूल और सब्जियों की खेती से हुई आमदनी से मैंने सुख-समृध्दि के साधनों के साथ-साथ और खेत भी खरीदे। मेरे पास आज 122 एकड़ जमीन है।

प्रश्न : फसलों के चयन में सावधानी के साथ-साथ क्या आपने खेती के तौर-तरीकों में भी बदलाव किए हैं?

रमेश डागर :
हां किए हैं। मैं अपने खेतों में रासायनिक खाद (उर्वरक) का बिल्कुल इस्तेमाल नहीं करता। खाद के तौर पर मैं केंचुआ खाद व गोबर खाद का ही इस्तेमाल करता हूं। तथाकथित हरित क्रांति के नाम पर किसानों को जिस तरह से रासायनिक खाद का अधिक से अधिक इस्तेमाल करने के लिए प्रेरित किया जा रहा है, मुझे उस पर सख्त एतराज है।

प्रश्न : आपके राज्य में तो हरित क्रांति बहुत सफल रही है। यहां के किसानों ने काफी प्रगति भी की है। आप इससे असंतुष्ट क्यों हैं?

रमेश डागर :
पहली बार जब मैंने अपने खेत की मिट्टी की जांच करवाई तो पता चला कि रासायनिक खाद के इस्तेमाल का जमीन पर कितना बुरा प्रभाव पड़ता है। यदि रासायनिक खाद का इसी तरह इस्तेमाल होता रहा तो आने वाले 50-60 वर्षों में हमारी जमीनें बंजर हो जाएंगी। आर्थिक रूप से भी रासायनिक खाद का इस्तेमाल किसान के हित में नहीं रहा। हरित क्रांति से किसानों के खर्चे तो बढ़ गए पर आमदनी कम होती गई। जहां पहले एक कट्ठे यूरिया से काम चल जाता था, वहीं आज पांच कट्ठा लगता है। इससे किसान कर्जदार होता जा रहा है।

प्रश्न : हरित क्रांति के नाम पर होने वाली इस क्षति को रोकने के लिए आपने क्या पहल की?

रमेश डागर :
जमीन की उर्वरता बनाए रखने के लिए मैंने कई प्रयोग किए और किसान-क्लब बना कर अन्य किसान भाइयों से भी विचार-विमर्श किया। हमने पाया कि खेती की अपनी पुरानी पध्दति को विज्ञान के साथ जोड़कर एक नया रास्ता ढूंढा जा सकता है। और यह रास्ता हमने जैविक कृषि के रूप में विकसित कर लिया है।

प्रश्न : आप एक प्रयोगधर्मी किसान हैं। आपने लीक से हटकर कई ऐसे सफल प्रयोग किए हैं, जिनसे भारत का किसान प्रेरणा ले सकता है। हम आपके ऐसे कुछ प्रयोगों के बारे में विस्तार से जानना चाहेंगे।

रमेश डागर :
जैविक आधार पर की जाने वाली बहुआयामी खेती में ही मेरी सफलता का राज छिपा है। किस मौसम में कौन सी फसल की खेती करनी है, यह तय करने के पहले मैं जमीन की गुणवत्ता और पानी की उपलब्धता के साथ-साथ बाजार की मांग को भी हमेशा ध्यान में रखता हूं। मैं जिस तरह से खेती करता हूं, उसके कुछ खास पहलू इस प्रकार हैं :

केंचुआ खाद :

केंचुआ किसान के सबसे अच्छे मित्रें में से एक है। मैं अपने खेतों में केंचुआ खाद का खूब प्रयोग करता हूं। एक किलो केंचुआ वर्ष भर में 50-60 किलो केंचुआ पैदा कर सकता है। केंचुआ खाद बनाने में खेती के सारे बेकार पदार्थों, जैसे डंठल, सड़ी घास, भूसा, गोबर, चारा आदि का प्रयोग हो जाता है। सब मिलाकर केंचुए से 60-70 दिनों में खाद तैयार हो जाती है। इस खाद की प्रति एकड़ खपत यूरिया की अपेक्षा एक चौथाई है। इसके प्रयोग से मिट्टी को नुकसान भी नहीं पहुंचता है। फसल की उत्पादकता भी 20-30 प्रतिशत बढ़ जाती है। केंचुआ खाद बनाने पर यदि किसान ध्यान दें तो वे अपने खेतों में प्रयोग करने के बाद इसे बेच भी सकते हैं। यह किसान भाईयों के लिए आमदनी का एक अतिरिक्त स्रोत भी हो सकता है।

बायो गैस :

मैं बायोगैस का इतना अधिक उत्पादन कर लेता हूं कि इससे इंजन चलाने और अन्य जरूरतें पूरी करने के बाद भी गैस बच जाती है। बची हुई गैस मैं अपने मजदूरों में बांट देता हूं। इससे उनके भी ईंधन का काम चल जाता है। बायोगैस का मैंने एक परिवर्तित माडल तैयार किया है जिसमें प्रति घन मीटर की लागत 5000 रुपए की बजाय 1000 रफपए हो जाती है। मेरे इस माडल में गैस पलांट की मरम्मत का खर्चा भी न के बराबर है।

मशरूम खेती :

मैं मशरूम की कई फसलें लेता हूं। जिन किसान भाइयों के यहां मार्केट नजदीक नहीं है, उन्हें डिंगरी (ड्राई मशरूम) की फसल लेनी चाहिए। आज पूरी दुनिया में डिंगरी का 80 हजार करोड़ का बाजार है। जहां धान की फसल होती है, वहां इसकी खेती की संभावनाएं सबसे अधिक होती हैं क्योंकि इसकी खेती में पुआल का विशेष रूप से प्रयोग होता है। फसल लेने के बाद बेकार बचे हुए पदार्थों को मैं केंचुआ खाद में बदल कर 60-70 दिनों में वापस खेतों में पहुंचा देता हूं।

तालाब एवं मछली पालन :

खेत के सबसे नीचे कोने को और गहरा करके मैंने तालाब बना दिया है, जिसमें बरसात का सारा पानी इकट्ठा होता है और डेरी का सारा व्यर्थ पानी भी चला जाता है। डेरी के पानी में मिला गोबर आदि मछलियों का भोजन बन जाता है। इससे उनका विकास दोगुना हो जाता है। मछलीपालन के अलावा तालाब में कमल ककड़ी, मखाना आदि भी उगाता हूं।

बहुफसलीय खेती :

मैं एक साथ तीन से चार फसल लेता हूं। ऐसा करते समय मैं समय, तापमान और मेल का विशेष ध्यान रखता हूं। उदाहरण स्वरूप सितंबर माह के अंत में मूली की बुवाई हो जाती है जिसके साथ गेंदा फूल भी लगा देते हैं। मूली को अक्टूबर में निकाल लेते हैं और नवंबर के शुरूआत में पालक या तोरी आदि लगा देते हैं जिसकी कटाई दिसंबर में हो जाती है। वहीं फूलों से आमदनी जनवरी से शुरू हो जाती है।

गुलाब एवं स्टीवीया :

स्टीवीया एक छोटा सा पौधा है जिससे निकलने वाला रस चीनी से 300 गुना ज्यादा मीठा होता है। इसका प्रयोग मधुमेह के मरीज भी कर सकते हैं। मैंने इसकी खेती से प्रति एकड़ लाखों रुपए की कमाई की है। एक विशेष प्रकार के महारानी प्रजाति के गुलाब की खेती से भी मैंने काफी लाभ कमाया है। इस गुलाब से निकलने वाले तेल की कीमत अंतरराष्ट्रीय बाजार में 4 लाख रुपए प्रति लीटर है। एक एकड़ में उत्पादित गुलाब से लगभग 800 ग्राम तेल निकाला जा सकता है।

केले की खेती :

केले की खेती से जमीन में केंचुओं की संख्या बहुत ज्यादा हो जाती है। केला एक ऐसा पौधा है जो खराब एवं पथरीली जमीन को भी कोमल मिट्टी में तब्दील कर देता है। इसके प्रभाव से किसी भी फसल की उत्पादकता 25 से 30 प्रतिशत बढ़ जाती है। केले की जैविक खेती करने से पौधे सामान्य से ज्यादा ऊंचाई के होते हैं। इसकी खेती से लगभग 25 से 30 हजार रुपए प्रति एकड़ की आमदनी हो जाती है। गर्मी में केलों के बीच में ठंडक रहती है इसलिए इसमें फूलों की भी खेती हो जाती है, जिससे 15-20 हजार रुपए की अतिरिक्त आमदनी हो जाती है। गर्मी के दिनों में मधुमक्खी के बक्सों को रखने के लिए भी यह सबसे सुरक्षित स्थान होता है।

वृक्षारोपण :

खेतों की मेड़ों पर मैंने पापुलर आदि के पेड़ लगा रखे हैं जिससे 7 से 8 वर्षों में प्रति एकड़ 70 से 80 हजार रुपए की आमदनी हो जाती है। इन वृक्षों से खेतों को नुकसान भी नहीं होता और पर्यावरण भी ठीक रहता है।

मधुमक्खी पालन :

मधुमक्खी से भरे एक बक्से की कीमत लगभग चार हजार रुपए होती है। मेरी खेती में मधुमक्खियों की विशेष भूमिका है। वैसे भूमिहीन किसान भाइयों के लिए भी मधुमक्खी पालन एक अच्छा काम है। शहद उत्पादन के अलावा भी इनके कई फायदे हैं। फूलों की पैदावार में इनसे 30 से 40 प्रतिशत और तिलहन-दलहन की पैदावार में लगभग 10 से 20 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हो जाती है। बेहतर परागण के कारण फसलें भी एक ही समय पर पकती हैं। इस क्षेत्र में खादी ग्रामोद्योग एवं कई अन्य संस्थाएं सहायता कर रही हैं।

प्रश्न : आपने एक माडल तैयार किया है जिसमें सिर्फ 2.5 एकड़ जमीन से दस-बारह लाख रुपए प्रतिवर्ष की आमदनी हो सकती है और साथ ही कई लोगों को रोजगार भी मिल जाता है। इस बारे में जरा विस्तार से बताएं।

रमेश डागर :
मैंने 2.5 एकड़ में छ: परियोजनाएं चला रखी हैं जिसका संक्षिप्त विवरण इस प्रकार है :

मधुमक्खी पालन :

मधुमक्खियों के 150 बक्सों से हम शुरुआत करते हैं। एक ही साल में इनकी संख्या दोगुनी हो जाती है। इससे साल में 5-6 लाख की आमदनी हो जाती है।

केंचुआ खाद:

इसे बेचकर मैं 3-4 लाख रुपए की आमदनी कर लेता हूं।

मशरूम खेती:

इससे मुझे प्रतिवर्ष 3-4 लाख रुपए मिल जाते हैं।

डेरी:

एक छोटी सी डेरी से लगभग 60-70 हजार की सीधी आय होती है।

मछली पालन :

इससे भी लगभग 15-20 हजार रुपए मिल जाते हैं।

ग्रीन हाउस :

इसमें लगी फसल से एक-डेढ़ लाख रुपए आ जाते हैं।

प्रश्न : आप किसान भाइयों के लिए क्या संदेश देना चाहेंगे?

रमेश डागर :
समझदार किसान तो वो है जो पहले मार्केट देखे, फिर मिट्टी की जांच कराए, तापमान का ख्याल रखे और अच्छे बीज का चयन करे। किसान भाइयों को जैविक खेती ही करनी चाहिए, मवेशी रखनी चाहिए, बायोगैस तथा वर्मी कम्पोस्ट तैयार करना चाहिए। 365 दिन में 300 दिन कैसे काम करें, प्रत्येक किसान को इसकी चिन्ता करनी चाहिए। हमें एक-दो फसलें ही नहीं बल्कि एक-दूसरे पर आश्रित खेती की बहुआयामी व्यवस्था विकसित करनी चाहिए। इस संबंध में किसी प्रकार की जानकारी के लिए किसान मुझसे जब चाहें संपर्क कर सकते हैं।
मेरा पता है :
डागर कृषि फार्म, ग्राम व पोस्ट – अकबरपुर बरोटा,
जिला-सोनीपत, हरियाणा, पिन-131003

rai udayog

Sir .
Me rai (hari sbji )ki kheti krna chahta hu ..iske liye kitna kharch hoga aur kya kya shadan chahiye..sath hi ye v btayega ki kon se mahine se sbji ugayi jaye

एलोवेरा उत्पादन एवं विक्रय के संबंध में जानकारी

श्रीमान् जी, मैं एलोवेरा का व्यावसायिक उत्पादन करना चाहता हूँ। कृपया मुझे एलोवेरा पौध की उपलब्धतता एवं इसके मूल्य के बारे में जानकारी प्रदान करें।
धन्यवाद।

aloe vera kheti

Mujhe aloe vera ki kheti karna chatahu mujhe lon chahiye

Aloe vera

Please sends detail

aloveera kab lagaya jaye or plant khan sey liya jaye

alovera ke plant khan sey melege

krisi

alovera ki krisi karni hai 

alovera ki kheti

Mai alovera ki kheti krna chahta hu. Kaise our kaha se iski fsl ki bij le au. Our isse mujhe kaise krni h. Koun se month me buayi hoti h. Sb jankari chahie. Our apka mobile number bhi plzz

about allovera farming and about sales

i want to know about allovrea farming.

Aloevera plant in low price

RMD Herbles लाया है| एलोविरा बिजनस का कम्पलीट सुझाव

किसान हो या प्रोपर्टी डीलर ,
केवल आप के पास जमीन है| तो आप कमा सकते है| अच्छा पैसा ज्यादा जानकारी के लिए निचे पढ़िए

गवार पाठा (ऐलोविरा) कि खेती का 1बिघा का हिशाब 
1 बिघा मे 2×2 फिट 7000पौधे लगते है|
जिसकी लागत 4 रूपये पर पौधा (पौधा, गाडी भाडा ,टेकटर व लगाई ये सब खर्चा हमारा है)

इस प्रकार 7000×4=28000 किसान का खर्च होगा

गवार पाठा को महिने मे 2बार पानी पिलाया जाता है यह किसी भी समय लगाया जा सकता हे
लगाने के 10'11 महिने बाद पौधा तैयार हो जाता है
उसके बाद पतियों कि कटाई होगी गिली पतियॉ हम आपके खेत से हम 4 रुपये किलो से खरीदेगे ऐक पौधे के पतियों का वजन 4से8 किलो हो जाता है
उस प्रकार 1बिघा मे 7000 पौधे (7000×4kg=28000kg) हो जाता है 28000×4=112000 रुपये कि कमाई होगी 

उसके बाद 5 6 महिने मे कटाई होती रहेगी यह क्रम 5 साल तक चलता रहेगा

अगर सही मायने मे देखे तो ये बिजनस पार्ट टाइम भी कर सकते है|

for more you can contact me

RMD हर्बल & पूनिया हर्बल  

(MOB. 9828137450)
(MOB. 8440088143)

rmd.herbles@gmail.com
puniaherbal@gmail.com

We are supplier of aloevera leaf and pulps.
We have good 8 years experience in this field.
We will arrange good price and regularly items because of we have our own plant in 1000 acre.
If your company want to deal We can supply 5-10/tone per day or more as you desire.
Excellent Packing
For Good Price please send us your order, We'll try to give you unbelievable price.
As your company required you can send me quantity order.

Warms & Regards
RMD Herbles & Punia Herbal

+919828137450
+918440088143

E-mail - aloevera@puniaherbal.com

Sale company list

I am a Farmer in budaun (u.p) so please Sand to me allovera project company in India

Alovera ki kheti karna chahta hu puri jankari chahiye

Me Ram sharma Village+post palson govardhan mathura uttar pradesh se hu me alovera ki kheti karni hai muje iski jankari chahiye kis moosam me hoga podha kaha se milega alovera ka kaha iski sell hogi kise isko sell kare plz bta ye

Alovera ki kheti karna chahta hu puri jankari chahiye

Me Ram sharma Village+post palson govardhan mathura uttar pradesh se hu me alovera ki kheti karni hai muje iski jankari chahiye kis moosam me hoga podha kaha se milega alovera ka kaha iski sell hogi kise isko sell kare plz bta ye

Sir Myself vikas pandey from

Sir
Myself vikas pandey from sultanpur uttar pradesh se hu
Sir main alovera ki kheti karna chahta hu iske bare mein kuch bataye
Iski kheti kab,kaise,mitti kaisi chahiye sale kaha hoga etc..

Sir Myself vikas pandey from

Sir
Myself vikas pandey from sultanpur uttar pradesh se hu
Sir main alovera ki kheti karna chahta hu iske bare mein kuch bataye
Iski kheti kab,kaise,mitti kaisi chahiye sale kaha hoga etc..

Bee box start

Dear Sir,
I am jitendra patel from Ratlam (MP) . I had 10 bigha of beautiful agriculture firm of vagitable cultivation near village. I want to setup bee box in my area. But not getting any valid information & help to start urgently Pls help. My mob no - 09907898026
Mail ID - jitendra5390@gmail.com

masroom ki kheti

sir mai masroom ki kheti karna chahta hu mujhe masroom ka beej kaha se mile ga aur kheti karne ke tarika ke visay me bhi jankari chahiye dhanyavad

फूल

मुझे फूलो की खेती की जानकारी चाहिये

kheti ki jankari

Me papita ki kheti karna chahta hu

kisani

Kya our kab lagana chahiye jo ki fayada ho ske.

Water harvesting

Sir please tell me about waterharvesig and how to I am starting,have a need any licences???

Dear sir please tell me about

Dear sir
please tell me about farming of tulsi and mashroom in detail

Aloe Vera ki kheti kaise ki jayi

Muze alive Vera ki kheti karne me interest
He to so use pliz Help kare

alovera ki khayti

Sir Mirche ki kheti karta hu achar wala par o avi acha market nahi hai ab m soch raha hu ki alovera ka kheti karu mere pass kuch alover ka poutha v hai jo bahut ache hai swasth hai per agar mujhe ap ka help mil jaye to m ise our vistar se kar pau (plz sir) moble no.8564919821 plz call me sir ya koi jankar agent ka number de de m un se jankari le saku plz sir

alovera

Knowledgea about aLbera production

Alovera farming

 sir mai alovera ki kheti karna chahata hu lekin eski jankaro kaisi hashil karu aur iska market value kya hai pzl sir  information  

alvira ki kethi ke bare me jankari

sir me ek berojgar hu muze alvira ki kheti karneki jankari chahiye or use kaha bechate hai us ke bareme jadse jada jankari chahiye me nagpur me rahata hu plz sir aap meri madat kare

thank you

aloevera ki Keith Karin chahta hi

Aloevera ki kheti karni ha kahan sampark karni . Sambhar up

alovira ki kheti karna chahta hu,iske liye kaha sampark kare ,sa

uprokt vishay ke sandarbh me mai janna chahta hu ki alovira ki khetike liye{1} sarkari agencise kon se hai.kishan ko kya ..kya suvidha milti hai[2}alovira ki kheti karne ke liye bij  kaha se milega[3]fasal tayyar hone pr market kaha hai ,jaha kishan taiyar fasal ko aasan tarike se bech sake/kripya puri jankari hindi me dene ka kasht kare                dhanybad

Alovera ki Information

Dear Sir          Muje Allovera ki kheti ke bare me jankari chaiye kirpa batane ka cast kare  Ravinder SinghVillage KurdiDistt BaghpatUttar Pradesh8171998874

Alovera ki kheti ke vae me

alovra ki kheti karna chahta hu ......1akad mekatni lagat aaye gi tha alovea tyar hone pr eska vikkray prise kya hoga...!!!

allovera and tulsi

मै अलोवेरा की खेती के बारे में जनना चाहता हु ,यह खेती कैसे की जाती है इसके लिए कैसा जमीन चाहिए ,पौधा कहाँ से लाये

bee palan

Sir ji muje bee. Paln karna h to muje eske liye kya kara hoga or kitna kharcha aayega or kitni aamdani hogi please help me

Madhumakhi Palan

Sir mene aapki bate padi mujhe bahut acchi lga. sir me b madhumakhi palan karna cahta hu eske liye mujhe kya krna hoga plz give me some suggestion. 

kheti me labh kaise mile

sinchit me is time kon sa gehu boya jaye.

kheti me labh kaise mile

sinchit me is time kon sa gehu boya jaye.

Gende ki kheti

Hi

Gulab ki kheti

Contect no. Please

money

My dear
Mere pyare dosto agar apke pas paisa hai to mai aoko 50,000 ka 6 month me 55,000 yani 5000 ka munafa de Santa hu . mera number has 9406209942
Rajput khad bij dawa bhandar & jamin kharid beach

elaychi ki kheti chahta hu

Dear sir,
I am sushil verma. Village. Moujgarh, teh. Mandi dabwali,
Disst. Sirsa, haryana, pin. 125104, sir ji ma elaychi ki kheti karna chahta hu eski kheti ke bare me ma achhi tarh janta hu orapp ka sahyog chahiye

Sir ma carpenter Hu or mane south me work Kiya ha esliye jankari ha or es kheti se 15 se18 lakh ki par akred ki aamdani ho jati ha
Con. 9416172109

tulsi kheti

Sir
Me ek yuwa kishan hu mujhe tulsi ki kheti karni.
Tulsi kheti ke bad mal kaha besenge.
Bataye.

parwal ka paudha

Mujhe parwal ki kheti karna hai lekin parwal ka paudha mere pas nahi hai paudha kaha milta hai mai nahi janta hu. Jo v jankari ho plz mujhe de mai paudha kharidna chahta hu.

mahiti

Dear sar. Mere pas 2 ekar jamin he usme jun se October ta hi pani rahta he me usme kis chij ki kheti karu to muje fayda ho plz jankari dijiye may mo no. 9998421555 thanks for u

tulsi ka market

Mujhe tulsi ke khate ke bare batyae mobile.nomber aapna batyea mujhe ples caal kegye hum aap se baat karna chate hai sar ples call bac my no.8936062325
Begusarai .bihar se mai bol reaha hu

tulsi ka market

Mujhe tulsi ke khate ke bare batyae mobile.nomber aapna batyea mujhe ples caal kegye hum aap se baat karna chate hai sar ples call bac my no.8936062325
Begusarai .bihar se mai bol reaha hu

Dairy farm

Me apna dairy farm khola chata hu. Iske liye mujhe aap sab ki raay chahiye.kaise kholo farm

Dairy farm

Me apna dairy farm khola chata hu. Iske liye mujhe aap sab ki raay chahiye.kaise kholo farm

dairy farm mai b kholna chahta hu

Bhot achcha kaam hai dairy ka

तुलशी की खेती करने के उपाये

सर मेने 2 हेक्टेयर में मक्का बोया था परंतु अभी उस पर 1 बोरा मक्का भी नहीं हुआ है इसलिए में उस जगह में तुलसी की खेती करना चाहता हूँ कृपया आप मुझे सलाह दे और साथ में ये भी जानकारी चाहिये की उस फसल कहा बेचना होगा जी धन्यवाद्

tulshi

Tulshi khati kashai kare

Alovera farming

sir mai alovera ki kheti karna chahata hu lekin eski jankaro kaisi hashil karu aur iska market value kya hai 

Post new comment

The content of this field is kept private and will not be shown publicly.
  • Web page addresses and e-mail addresses turn into links automatically.
  • Allowed HTML tags: <a> <em> <strong> <cite> <code> <ul> <ol> <li> <dl> <dt> <dd>
  • Lines and paragraphs break automatically.

More information about formatting options

CAPTCHA
यह सवाल इस परीक्षण के लिए है कि क्या आप एक इंसान हैं या मशीनी स्वचालित स्पैम प्रस्तुतियाँ डालने वाली चीज
इस सरल गणितीय समस्या का समाधान करें. जैसे- उदाहरण 1+ 3= 4 और अपना पोस्ट करें
16 + 1 =
Solve this simple math problem and enter the result. E.g. for 1+3, enter 4.