नया ताजा

पसंदीदा आलेख

आगामी कार्यक्रम

खासम-खास

Submitted by HindiWater on Sat, 09/19/2020 - 17:44
अनुपम मिश्र

आज भी खरे है तालाब अनुपम मिश्र की बहुचर्चित पुस्तक - 02 अध्याय नींव से शिखर तक रमाकान्त राय के संगीतमय अंदाज में

Content

Submitted by UrbanWater on Mon, 07/27/2020 - 09:13
Source:
तालाब, फोटो: needpix.com
परम्परागत (प्राचीन) तालाबों के उपयोग का लक्ष्य, जन सहभागिता के माध्यम से उपलब्ध पानी की हर बूँद का अनुकरणीय उपयोग करना है। अर्थात आम सहमति से, समानता के आधार पर अधिक से अधिक स्टेक होल्डर्स के बीच, तालाब के पानी का न्यायोचित बंटवारा करना है। उनकी अपेक्षाओं और आवंटन के अनुरूप, उसे, वितरित करने की नीति को विकसित करना है। तदोपरान्त उस पर अमल करना है। उसे जन हितैषी भी बनाना भी है। पारदर्शी जनसहभागिता की मदद से इसे हासिल करना संभव है।
Submitted by HindiWater on Sun, 07/26/2020 - 22:08
Source:
भारत के लिए चुनौती बनती मौसमी घटनाएं
वनों के कटान, विभिन्न मानवीय गतिविधियों और अधिक कार्बन उत्सर्जन के कारण विश्वभर में जलवायु परिवर्तन तेजी से बढ़ रहा है। जिस कारण असमय बारिश और बर्फबारी देखने को मिलती है। उपजाऊ जमीन बंजर होती जा रही है, तो वहीं अतिवृष्टि के कारण हर साल बाढ़ आती है।
Submitted by UrbanWater on Sat, 07/25/2020 - 15:13
Source:
नदी चेतना यात्रा कमला बालान के किनारे
उल्लेखनीय है कि पिछले लगभग दो माह से बिहार के कुछ प्रबुद्ध जनों द्वारा प्रदेश की पांच नदियों (भागलपुर में चम्पा, पूर्णिया में साऊरा, चम्पारण में धनौती, रोहतास में काव और नवादा में काव नदी) पर नदी चेतना यात्रा के लिए होमवर्क चल रहा है। यह होमवर्क रोज सबेरे 8.30 पर प्रांरंभ होता है और आधा घंटे से लेकर एक घंटे तक चलता है। इस दौरान सारे लोग नदी पर अपनी समझ को परिमार्जित तथा परिष्कृत करने के साथ-साथ समाज के नदी से सम्बन्ध को समझने का प्रयास करते हैं। पंकज मालवीय जो मूलतः पत्रकार हैं, इस अभियान के संयोजक हैं। यह अभियान पानी रे पानी अभियान जो 2014 से चल रहा है, का हिस्सा है।

प्रयास

Submitted by HindiWater on Tue, 09/22/2020 - 17:33
आजीविका की बदौलत ग्रामीण महिलाओं में सामाजिक बदलाव
मध्यप्रदेश के इंदौर में आजीविका की बदौलत ग्रामीण महिलाओं में सामाजिक बदलाव की सुहानी सूरत देखने को मिल रही है। महिलाओं को संगठित कर राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन उनके हाथों में हुनर सौंप रहा है। उन्हें संसाधन मुहैया करा रहा है। निर्धन परिवारों की महिलाओं के लिए आजीविका नारी सशक्तिकरण की नयी मिसाल बन गई है।

नोटिस बोर्ड

Submitted by HindiWater on Tue, 10/13/2020 - 13:56
Source:
इंडिया रिवर्स वीक
इंडिया रिवर्स वीक ने वर्ष 2020 के लिए भागीरथ प्रयास सम्मान और अनुपम मिश्र मेडल के लिये नामांकन आमंत्रित किये है। भागीरथ प्रयास सम्मान की शुरुआत 2014 में की गई। जिसके जूरी स्वर्गीय श्री रामास्वामी थे
Submitted by HindiWater on Thu, 10/08/2020 - 12:58
Source:
वेबनार
रिवाइटलाइजिंग रेनफेड एग्रीकल्चर नेटवर्क (RRAN) और पीपल साइंस इंस्टिट्यूट (PSI)  हिमांचल प्रदेश के जमीनी अनुभव पर आधारित हिमालयन एरिया में स्प्रिंग शेड मैनेजमेंट पर एक वेबिनार आयोजित कर रहा है। 
Submitted by HindiWater on Wed, 09/30/2020 - 10:41
Source:
पानी रे पानी
कला प्रतियोगिता के नियम 1) इसके दो आयु वर्ग होंगे : . 5 से 8 वर्ष . 9 से 14 वर्ष

Latest

खासम-खास

आज भी खरे है तालाब-अध्याय 2 नींव से शिखर तक संगीतमय वाचन

Submitted by HindiWater on Sat, 09/19/2020 - 17:44
Author
इंडिया वाटर पोर्टल (हिंदी)
aaj-bhi-khare-hai-talab-adhyay-2-neev-se-shikhar-tak-sangitamay-vachan
Source
रमाकांत राय
अनुपम मिश्र

आज भी खरे है तालाब अनुपम मिश्र की बहुचर्चित पुस्तक - 02 अध्याय नींव से शिखर तक रमाकान्त राय के संगीतमय अंदाज में

Content

परम्परागत तालाबों के उपयोग हेतु जन सहभागिता

Submitted by UrbanWater on Mon, 07/27/2020 - 09:13
Author
कृष्ण गोपाल 'व्यास’
paramparagat-talabon-kay-upayog-hetu-jan-sahabhagita
तालाब, फोटो: needpix.com
परम्परागत (प्राचीन) तालाबों के उपयोग का लक्ष्य, जन सहभागिता के माध्यम से उपलब्ध पानी की हर बूँद का अनुकरणीय उपयोग करना है। अर्थात आम सहमति से, समानता के आधार पर अधिक से अधिक स्टेक होल्डर्स के बीच, तालाब के पानी का न्यायोचित बंटवारा करना है। उनकी अपेक्षाओं और आवंटन के अनुरूप, उसे, वितरित करने की नीति को विकसित करना है। तदोपरान्त उस पर अमल करना है। उसे जन हितैषी भी बनाना भी है। पारदर्शी जनसहभागिता की मदद से इसे हासिल करना संभव है।

भारत के लिए चुनौती बनती मौसमी घटनाएं

Submitted by HindiWater on Sun, 07/26/2020 - 22:08
bharat-ke-liye-chunauti-banti-mausami-ghatnayen
भारत के लिए चुनौती बनती मौसमी घटनाएं
वनों के कटान, विभिन्न मानवीय गतिविधियों और अधिक कार्बन उत्सर्जन के कारण विश्वभर में जलवायु परिवर्तन तेजी से बढ़ रहा है। जिस कारण असमय बारिश और बर्फबारी देखने को मिलती है। उपजाऊ जमीन बंजर होती जा रही है, तो वहीं अतिवृष्टि के कारण हर साल बाढ़ आती है।

कस्तूरी सी है नदी चेतना यात्रा

Submitted by UrbanWater on Sat, 07/25/2020 - 15:13
Author
कृष्ण गोपाल 'व्यास'
kasturi-see-hai-nadi-chetna-yatra
नदी चेतना यात्रा कमला बालान के किनारे
उल्लेखनीय है कि पिछले लगभग दो माह से बिहार के कुछ प्रबुद्ध जनों द्वारा प्रदेश की पांच नदियों (भागलपुर में चम्पा, पूर्णिया में साऊरा, चम्पारण में धनौती, रोहतास में काव और नवादा में काव नदी) पर नदी चेतना यात्रा के लिए होमवर्क चल रहा है। यह होमवर्क रोज सबेरे 8.30 पर प्रांरंभ होता है और आधा घंटे से लेकर एक घंटे तक चलता है। इस दौरान सारे लोग नदी पर अपनी समझ को परिमार्जित तथा परिष्कृत करने के साथ-साथ समाज के नदी से सम्बन्ध को समझने का प्रयास करते हैं। पंकज मालवीय जो मूलतः पत्रकार हैं, इस अभियान के संयोजक हैं। यह अभियान पानी रे पानी अभियान जो 2014 से चल रहा है, का हिस्सा है।

प्रयास

आजीविका की बदौलत सामाजिक बदलाव

Submitted by HindiWater on Tue, 09/22/2020 - 17:33
ajivika-key-badoulat-samajik-badlav
आजीविका की बदौलत ग्रामीण महिलाओं में सामाजिक बदलाव
मध्यप्रदेश के इंदौर में आजीविका की बदौलत ग्रामीण महिलाओं में सामाजिक बदलाव की सुहानी सूरत देखने को मिल रही है। महिलाओं को संगठित कर राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन उनके हाथों में हुनर सौंप रहा है। उन्हें संसाधन मुहैया करा रहा है। निर्धन परिवारों की महिलाओं के लिए आजीविका नारी सशक्तिकरण की नयी मिसाल बन गई है।

नोटिस बोर्ड

भागीरथ प्रयास सम्मान  2020 के लिए नामांकन आमंत्रित 

Submitted by HindiWater on Tue, 10/13/2020 - 13:56
indiya-rivers-vik-ney-bhagidrath-prayas-samman-2020-kay-liye-namankan-amantrit-kiye-hai
इंडिया रिवर्स वीक
इंडिया रिवर्स वीक ने वर्ष 2020 के लिए भागीरथ प्रयास सम्मान और अनुपम मिश्र मेडल के लिये नामांकन आमंत्रित किये है। भागीरथ प्रयास सम्मान की शुरुआत 2014 में की गई। जिसके जूरी स्वर्गीय श्री रामास्वामी थे

हिमालयन एरिया में स्प्रिंग शेड मैनेजमेंट पर वेबिनार

Submitted by HindiWater on Thu, 10/08/2020 - 12:58
himalyan-aria-mein-spring-shade-management-par-webnar
वेबनार
रिवाइटलाइजिंग रेनफेड एग्रीकल्चर नेटवर्क (RRAN) और पीपल साइंस इंस्टिट्यूट (PSI)  हिमांचल प्रदेश के जमीनी अनुभव पर आधारित हिमालयन एरिया में स्प्रिंग शेड मैनेजमेंट पर एक वेबिनार आयोजित कर रहा है। 

पानी रे पानीअभियान के तहत गांधी जयंती के अवसर पर आयोजित कला प्रतियोगिता

Submitted by HindiWater on Wed, 09/30/2020 - 10:41
pani-ray-paniabhiyan-kay-tahat-gandhi-jayanti-kay-avsar-par-ayojit-kala-pratiyogita
पानी रे पानी
कला प्रतियोगिता के नियम 1) इसके दो आयु वर्ग होंगे : . 5 से 8 वर्ष . 9 से 14 वर्ष

Upcoming Event

Popular Articles