अब रूठा बलियानाला

Submitted by RuralWater on Thu, 02/20/2020 - 10:41
Source
नैनीताल एक धरोहर

17 अगस्त, 1898 को बलियानाले के भू-स्खलन ने तबाही मचा दी। बलियानाले से लगे कैलाखान और दुर्गापुर क्षेत्र की पहाड़ियों में हुए भू-स्खलनों ने बलियानाले के पानी के बहाव को अवरुद्ध कर दिया। भू-स्खलन सेना के कब्रिस्तान से शुरू हुआ। भू-स्खलन की वजह से बलियानाले में मोटापनी के पास तीन झीलें बन गई। जब ये झील टूटी तो इनमें जमा पानी और गाद ने ब्रेबरी क्षेत्र में कहर बरपा दिया। ब्रेबरी स्थित नैनीताल ब्रेबरी कम्पनी की शराब फैक्ट्री के आस-पास के घर और नगर पालिका की टोल चौकी इस भू-स्खलन की भेंट चढ़ गए। इस भू-स्खलन ने हिन्दुस्तानियों समेत नैनीताल ब्रेबरी कम्पनी के यूरोपियन सहायक मिस्टर बीछे को लील लिया। हादसे में दुर्गापुर और नैनीताल घोड़ा सड़क को भी नुकसान पहुँचा।

बलियानाले में भू-स्खलन की सूचना मिलते ही नॉर्थ वेस्टर्न प्रोविंसेस एण्ड अवध के लेफ्टिनेंट गवर्नर, कुमाऊँ के कमिश्नर, डिप्टी कमिश्नर और अभियंताओं का कदल मौके पर पहुँच गया। भू-स्खलन के बाद इस क्षेत्र के सभी घर खाली करा लिए गए। लेफ्टिनेंट गवर्नर के आदेश पर इस भू-स्खलन जाँच के लिए मिस्टर जे.एस.ब्रेसफोर्ड की अध्यक्षता में तीन सदस्यीय जाँच कमेटी बना दी गई। मिस्टर एफ.बी.हेन्सलोव और मिस्टर एल.एस.सीमॉन जाँच कमेटी के सदस्य बनाए गए। कमेटी ने अपनी जाँच रिपोर्ट में बलियानाले की सतह को पक्का करने, सुरक्षा दीवारों के निर्माण और झील के पानी के निकास के लिए वैकल्पिक मार्ग खोजने आदि सुझाव दिए।

इसी साल बलियानाले के भू-स्खलन की जाँच भारत के भू-वैज्ञानिक सर्वेक्षण के अधीक्षक मिस्टर सी.एस.मिडिलमिस को सौंप दी गई। उन्होंने बलियानाले के भू-स्खलन पर 18 नवम्बर, 1898 को अपनी विस्तृत जाँच रिपोर्ट सरकार को सौंपी। मिस्टर सी.एस.मिडिलमिस की इस जाँच रिपोर्ट का हिन्दी भाषानुवाद निम्न प्रकार हैः-

 कैलाखान भू-स्खलन की जाँच आख्या

17 अगस्त 1898, नैनीताल

1. उपरोक्त विषय पर मेरी प्रारम्भिक आख्या जो उत्तर, पश्चिम प्रान्त और अवध के शासन को मैंने मुख्य आंकलन के बाद भेजी। मेरे नैनीताल में कुछ समय रहने के बाद यह आख्या मेरे द्वारा स्वयं देखी गई और रखी गई।

2.17 अगस्त को दोपहर बाद कैलाखान पहाड़ी से बलियानाले की ओर बहुत बड़ी मात्रा में पहाड़ी का मलबा ब्रेबरी की ओर गिरा। इसने बलियानाले की तल को भर दिया। इसने दुर्गापुर और मोटा पानी में तीन तालाब बना दिए। यद्यपि यह लम्बे समय तक नहीं रहे, फिर भी इसने ब्रेबरी और दुर्गापुर से नैनीताल के पैदल मार्ग को रोक दिया। ब्रेबरी के पास एक बनिये की दुकान और टोलघर को तोड़ दिया। ब्रेबरी के पास कुछ मकानों को जहाँ बीयर और आसुत व्हिस्की ले जाने वाले 27 भारतीयों और ब्रेबरी के यूरोपियन सहायक मिस्टर बैच्ची को मार दिया।

कुछ प्रत्यक्षदर्शियों द्वारा बताया गया कि यह भू-स्खलन बड़ी तेजी से एक साथ तेज आवाज के साथ गिरा, लेकिन देखने वालो ने इससे पहले के भूस्खलन के क्षण को नहीं देखा।

करीब 4.00 बजे इस विपदा की खबर नैनीताल पहुँची। तब सभी सम्बन्धित अधिकारी, लेफ्टिनेंट गवर्नर (मिस्टर लान्ची), कुमाऊँ कमिश्नर, डिप्टी कमिश्नर नैनीताल और इंजीनियर्स ने घटना स्थल का दौरा किया। भू-स्खलन और पानी की निकासी के बारे में आंकलन किया।

बाद के आंकलन से मालूम हुआ कि पहले छोटे भू-कटाव हुए, फिर मुख्य भू-स्खलन हुआ। 10 अगस्त को ही बलियानाले के ऊपर ब्रेबरी के पास 1891 में बने झूला पुल के ऊपर की पहाड़ियों में झुकाव आ गया था। 15 अगस्त को ही दो छोटे भू-कटाव पहाड़ी से गिरे, जैसा लेफ्टिनेंट कुकसेनक, आर.ई.ने मुझसे कहा और पहाड़ी के मध्य से निकलते पानी के स्रोतों को दिखाया। मुख्य भू-स्खलन के बाद 17 अगस्त की रात बलियानाले में तीन नए तालाब बन गए, जो बाद में रिसाव के कारण और भर जाने पर पानी निकल जाने के बाद बिना निचले हिस्सों के नुकसान पहुँचाए खाली हो गए।888 इतना सब देखने के बाद मैं अपने आंकलन में मुख्य स्थल पर स्थिति के लिए चीफ इंजीनियर मिस्टर ओल्डिंग, सुपरिटेंडेंट इंजीनियर लेफ्टिनेंट कर्नल पुलफोर्ड, आर.ई.और अधिशासी अभियन्ता, कुमाऊँ डिवीजन मिस्टर पोलव्हील और अन्य लोगों को धन्यवाद देता हूँ।

3. भू-स्खलन के बाद मैंने उस स्थान के नक्शे, चित्र और रेखा चित्र बनाए। यह शिखर में एक त्रिभुजाकार आकार का दिखाई दे रहा था। इस भू-स्खलन की मोटाई करीब 200 फीट और ऊपरी सतह से नीचे नाले के पास तक आया था। इसका क्षेत्रफल करीब 1/9 वर्ग मील था। यह सन् 1880 में नैनीताल में आए भू-स्खलन से बड़ा दिखाई दे रहा है। यह ऊपर ठोस पहाड़ी से निकलकर नीचे बहते हुए गीली अवस्था में है। यह 1893 में आए गोहना भू-स्खलन से छोटा है।

4. भू-स्खलन का ऊपरी हिस्सा जो पहाड़ी से अलग हुआ, वहाँ 45 डिग्री से 48 डिग्री के ढलान पर है। वहाँ कुछ और भू-स्खलन के हिस्से हैं। यह पहाड़ी के शिखर से 100 फीट ऊँचाई पर 50-60 फीट का हिस्सा है।

5. भू-स्खलन की लम्बाई करीब 300 गज और 37 डिग्री से 32 डिग्री के ढलाव पर है। ऊपर की अपेक्षा नीचे का हिस्सा एकदम फैला हुआ है। एक स्थान पर 150 गज की दूरी पर जंगल अभी भी खड़ा है। ऊपर के भू-स्खलन और नीचे फैले मलबे के बीच कोई लाइन नहीं है।

6. मलबे का विखराव तली में 15 डिग्री से कम होकर अन्त में 5 डिग्री पर खत्म हो गया। जब यहबलियानाले के पास जाकर उसे और अन्य गधेरों को रोक गया बलियानाला अब नए स्थान से बह रहा है। जैसा 23 अगस्त के नक्शे में जो अधिशासी अभियंता ने बनाया, जो 60-100 फीट गहराई पर है। यह कुछ हफ्ते बाद के चित्रों और नक्शों में बनाया गया। वहाँ औसत गहराई 50 फीट दिखाई गई।

यह सभी बिखराव जंगल के नीचे छोटे टुकड़ों में और झरने के नीचे छोटे और महीन परतों में फैल गया। यह सभी बिखराव काले रंग की मिट्टी का है। बलियानाले में यह मलबा तीन सप्ताह बाद छोटी-छोटी धाराओं में स्लेटी रंग और फिर मटमैले रंग का हो गया। वहाँ मलवे के कुछ हिस्से और टूटे हुए पेड़ों के टुकड़े पड़े हैं। मैं सोचता हूँ वहाँ जंगल कम था। बलियानाले के मलबे के दाहिनी ओर की पहाड़ी सीधे ब्रेबरी तक आई है। इस ओर कुछ मकान पहाड़ी काट-काट कर बने हैं। मलबे का निचला हिस्सा किसी पुराने ग्लेशियर के मलबे के समान है। दाहिने किनारे का ढलान 38 डिग्री से 40 डिग्री का है। नीचे तली में इसका बहाव बहुत कम है। पश्चिमी किनारे में इसकी मोटाई करीब 20 से 50 फीट है। मिस्टर ई.आई.मार्डन, डिप्टी कमिश्नर, नैनीताल ने कमिश्नर को लिखे पत्र में कहा नीचे जाने पर मलबा पूरे बलियानाले में भरा हुआ है।

7. अगर नक्शे और रेखाचित्र को देखा जाए तो मैंने एक अलग से कटाव स्थल को देखा। यह हिस्सा कमजोर और टूटने की स्थिति में है। यह पहाड़ी की दोनों ओर करीब 1/6 वर्ग मील का क्षेत्रफल था। पुराने भू-कटाव और इस कटाव के कारण पैदल रास्ता बन्द हो गया। यह कैलाखान पहाड़ी के दक्षिण मेंहै। यह बैलगाड़ी के टेडे-मेढ़े रास्ते आलूखेत से ब्रेबरी तक गया है। कुछ छोटे कटाव भी देखे जा सकते हैं। यह समुद्र के किनारे के चट्टानों के सीधे कटाव जैसे हैं। यहाँ पड़ी सभी दरारें ग्लेशियरों के ऊपर पड़ी दरारें जैसी हैं। पी.डब्ल्यू.डी द्वारा अध्ययन से पता चला कि यह उसी तरह की दरारें बनीं हैं, जैसे ग्लेशियर, की बनती हैं। जिसमें पहाड़ी की मिट्टी खिसकने से सीधे नीचे गिरती हैं। 1 सितम्बर से 12 सितम्बर तक बैलगाड़ी रोड़ के रास्ते में 8 उर्ध्वाधर गति समान निम्न प्रकार थी।

 

क्रम सं

फीट

इंच

1

5

21/2

2

2

51/2

3

3

7’’

4

0

71/4

5

2

01/2

6

4

61/2

7

3

61/4

8

3

01/4

 

अब इस भू-स्खलन के कारणों को जानना आवश्यक है। इसके दो कारण हो सकते हैं। एक यह 1880 के भू-स्खलन की तरह हो सकता है, जिसमें यह एक भिन्न-भिन्न पत्थर के टुकड़ों से बने हों। दूर से देखने पर यह पृथ्वी की मिट्टी की और टुकड़े की तरह दिखते हैं। लेकिन नीचे जाने पर बहुत बड़े टुकड़ों में दिखाई देते हैं और इतने बड़े ठोस कि उपयोग में नहीं लाए जा सकते हैं।

इसी तरह यदि टूटे पहाड़ के ऊपरी हिस्से को देखें तो वह छोटे-छोटे टुकड़ों के पत्थर की तरह है। कहीं पर चट्टानों की तरह है। कुछ स्थानों पर यह मलबे के स्रोत बरसात के बाद निकल रहे हैं।

इन दो कारणों को एक साथ देखें तो ऊपर की सतह पानी के साथ मिलकर नीते को बहती है। इस तरह सालों से यह पहाड़ी नीचे को खिसकती रही है, जबकि 37 डिग्री से ऊपर यह शुष्क अवस्था में है। नीचे तल में आकर यह रुक जाती है। इस प्रकार सभी द्रव्यमान नीचे बहकर आ जाता है। पहले तेजी से आता है गुरुत्वाकर्षण के नियम से। इसको हम पानी-पत्थर का भू-स्खलन कह सकते हैं और अन्त में यह क्षैतिज में आकर रुक जाता है।

इस तरह 1880 में आए भू-स्खलन में बहुत अधिक वर्षा इसका कारण रहा। जबकि इस ब्रेबरी में आए भू-स्खलन में वर्षा इस प्रकार आई-

 

वर्षा अगस्त में

इंच में

वर्षा सितम्बर में

इंच में

1

0.69

1

0.44

2

0.18

2

0.94

3

0.18

3

1.52

4

0.08

4

0.72

5

1.58

5

0.93

6

0.31

6

0.48

7

0.19

7

1.75

8

0.00

8

0.12

9

8.86

9

2.00

10

6.34

10

0.16

11

3.57

11

0.12

12

6.57

12

0.33

13

2.13

13

0.51

14

2.56

 

 

15

3.66

 

 

16.

0.21

 

 

17.

2.46

 

 

18

2.18

 

 

19

2.18

 

 

20

2.18

 

 

21

2.18

 

 

22

0.22

 

 

23

0.22

 

 

24

0.22

 

 

25

1.56

 

 

26

2.66

 

 

27

2.66

 

 

28

2.66

 

 

29

2.66

 

 

30

0.00

 

 

31

0.12

 

 

 

इस प्रकार देखा जा सकता है कि 1 अगस्त से 17 अगस्त के बीच 36.37 इंच वर्षा हुई।

9. अगर हम भू-स्खलन के इतिहास को देखें तो यह दो प्रकार का होता है। पहली अवस्था में यह धीरे-धीरे सतह के कई वर्षों की गति के कारण हो सकता है। दूसरी यह बहुत बड़े हिस्से का एक साथ ढलान में पानी की अधिकता के कारण बहाव हो सकता है।

दोनों अवस्थाओं में यह गति चट्टान में उपस्थित पानी पर निर्भर है। साथ ही कुछ भौगोलिक कारण। इसके भी दो सिद्धान्त हैं।

(अ) चट्टान की संरचना।

(ब) चट्टान की दिशा और झुकाव।

1. कैलाखान पहाड़ी की संरचना स्लेटी शृंखला की चिकनी मिट्टी की तरह है। जैसा कि मिस्टर हॉलैण्ड ने कहा। यह स्लेटी पहाड़ी पानी को सोखने के कारण निम्न गुरुत्व की हाइड्रो सिलीकेट बना देती है। प्रारम्भ में यह कीचड़ बना देती है। जिससे पहले पानी निकलता है और अपने झुकाव के कारण यह पानी सोख लेती है। दूसरा स्लेट में रसायनिक परिवर्तन होता है। मिस्टर हॉलैण्ड ने अपनी आख्या में लिखा है कि स्लेट में उपस्थित पायराइड (लौह अयस्क) और हाइड्रो कार्बन लौह अयस्क में स्थित गंधक के साथ हाईड्रोजन मिल कर सलयूरिक अम्ल बना कर बाद में चूने के कार्बोनेट और मैग्नीशियम के साथ सल्फेट्स बनाते हैं जो अपने साथ द्रव्य को बहा देते हैं।

2. स्लेट की दिशा और झुकाव भी इसमें महत्त्वपूर्ण है।888 (अ) इस सतह की प्रारम्भिक तली का झुकाव और कटाव भी महत्त्वपूर्ण है। शेर-का-डांडा का झुकाव सीधी पहाड़ी का है। यह सतह की मिट्टी को पानी के साथ बहा ले जाते हैं। समय के साथ यह सतह चौड़ी हो जीती है।

(कैलाखान की पहाड़ी में यह सभी अवस्थाएँ हैं, जो भारी वर्षा के कारण बह जाती है।)

 इस प्रकार पहाड़ी ढलान की सभी भौगोलिक अवस्थाएँ भू-स्खलन केक अनूकुल हैं। पहली पहाड़ी का नीते को गति, जो उसमें बड़ी दरारें पैदा करता है और फिर पहाड़ी का पानी जो बहाव में सहायता प्रदान करता है।

10. भू-स्खलन अकस्मात एक साथ आ जाता है। बिना किसी जानकारी के। इस सभी के बारे में उन इंजीनियरों ने, जिन्होंने इसके पास नैनीताल की पहाड़ी का अध्ययन किया, इस पहाड़ी को भी अस्थिर करार दिया।

21 सितम्बर, 1889 को मिस्टर आर.डी.ओल्डहम ने लिखा है मैंने टेड़े-मेड़े बैल गाड़ी के पहाड़ी रास्ते का अध्ययन किया है। मैं इस निष्कर्ष में पहुँचा हूँ कि 4-6 मील के पत्थरों में नैनीताल रोड में अकस्मात भू-स्खलन आ सकता है. पहाड़ी बहुत खतरनाक है। स्लेटें बाहर को आ रही हैं, जो सीधे बलियानाले को जा सकती हैं। पश्चिमी किनारे के चौथे और पाँचवे माईल स्टोन तथा सभी टेड़े-मेड़े रास्तों, जो पाँचवे और छठे माईल स्टोन में हैं, मौत को बुलावा है।

मैंने नैनीताल के भौगोलिक नक्शे में लिखा है यह चट्टान इस लाइन के इतने नजदीक है, जो छोटे-छोटे टुकड़ों और पाउडर में मिल जाएगा। यह पानी द्वारा कीचड़ बालू में बदल जाएगा। यह बगल में आए नैनीताल के भू-स्खलन की तरह है। इस बात के गवाह मैदान के नीचे कार्ट रोड के पास बलिक हाउस के हैं। समगलर रौक के पास चूने के पत्थरों से भू-स्खलन आया मन्दिर के पास, जो 1889 में आया, इसको देखते हुए इंजीनियरों एवं भू-गर्भ शास्त्री ने सुरक्षा के निर्देश दिए। जिसे नैनीताल के अधिकारियों ने सराहा और माना। लेकिन यह दूर से दिखने वाले चट्टानी टुकड़े हैं। जैसा नैनीताल में 1880 में आए भू-स्खलन से हुआ। फिर भी किसी ने नहीं सोचा की बलियानाले के पास और पुल रोड पर बनिये की दुकान, टोल घर और ब्रेबरी खतरे में है। लेकिन मैं आश्चर्य चकित हूँ। पब्लिक रोड, टोलगेट और दुकान, जो प्राइवेट है, असुरक्षित है।

1880 में नैनीताल में आए भू-स्खलन को क्या दिल से लिया गया (1) जैसा अनुमान था अगर कैलाखान में भू-स्खलन आया तो यह एक साथ बहुत तीव्रता से आएगा। (2) यह चारों ओर फैल जाएगा। बड़ी पहाड़ी नीचे आ जाएगी। जैसा मिस्टर मिस्टर एच.सी.कोनिबीयरे, सी.एस.ने कहा 1880 स्लिप के लिए लिखा है- आधे मिनट से भी कम समय में आखिरी पत्थर तालाब में आ गिरा। उन्होंने आर.एन.चैनी का लेख भी लिखा कि यह 8 सेकेंट से भी कम समय में हो गया। जिसमें 151 लोग तुरन्त ही मारे गए।

यहाँ मैं, 1880 में आए पुराने भू-स्खलन और इस वर्ष आए कैलाखान की तुलना करूँ। यह भी बहुत दूर तक बिखर गया। जैसा 1880 में आए भू-स्खलन में था। 1880 में भू-स्खलन के शिखर में पुराने असेम्बली रुम्स के पास 17 डिग्री का ढलान था। कैलाखान भू-स्खलन में ब्रेबरी के शिखर पर 19 डिग्री का ढलान था।

11. तुरन्त ही भू-स्खलन के स्थान को खतरनाक और टूटने वाला बताया। यह हल्की और तेज वर्षा में लगातार पहाड़ी के नीचे आने वाला हो गया। धीरे-धीरे लेकिन अवश्य ही सतह पर दरारें आएँगी और समय के साथ वे चौड़ी और गहरी हो जाएँगी। इधर-उधर का जंगल का हिस्सा बरसात के पानी के बाद ही ठीक होगा। अगली मानसून और आगे जब छिद्रों से नीचे जाएगा और अगले भू-स्खलन की तैयारी करेगा। इस भू-स्खलन का उत्तरी हिस्सा एक साथ या धीरे-धीरे नीचे गिर कर बलियानाले को रोक सकता है। जबकि दक्षिणी हिस्सा ब्रेबरी, टोंगा रेस्टोरेन्ट और साथ के हिस्सों को तोड़ सकता है। जबकि यह नीचे घाटी में डगलसडेल और अन्य की जायजाद को प्रभावित कर सकता है। ऐसे मैं सोचता हूँ। यह अस्थिर है।

12. यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि इतने सुझाव भी इस भू-स्खलन के लिए काफी नही हैं। सभी नाप-जोख भी किसी समय सम्पत्ति को नष्ट कर सकती है।

13. प्रश्न उठता है कि अब क्या किया जाए। मैं केवल स्वयं महसूस करता हूँ, यहाँ एक सलाह देता हूँ, एक सावधानी रखी जाए। मैं, पहाड़ी को शेर-का-डांडा की पहाड़ी की तरह ही देखने रहने की सलाह देता हूँ। यह समय-समय पर लगातार हमेशा होना चाहिए। अधिक वर्षा में और अधिक गति में देखा जाए। इस सभी का लेखा-जोखा देख कर रखा जाए, चाहे वह क्षैतिज में हिले या उर्ध्वाधर नीचे को गिरे।

मैं फिर सलाह देता हूँ कि इस सब का एक नक्शा दरारों का भी रखा जाए। इस सब का सावधानी पूर्वक जाड़ों में भी समय-समय पर अध्ययन किया जाए।

14. भविष्य में भी इस पहाड़ी को भारी वर्षा में देखते रहने की सलाह देता हूँ। यह बिखरी पहाड़ी धीरे-धीरे पूरी होगी और बिना नुकसान के छोटे-छोटे टुकड़े नीचे गिरेंगे। सावधानी पूर्वक निरीक्षण से -यह पहाड़ी जल्दी ही स्थिर हो जाएगी।

दिनकाँक 18.11.1898

सी.एस.मिडिलमिल

अधीक्षक, भारतीय भू-वैज्ञानिक सर्वेक्षण।

Disqus Comment