बाँहों वाली नदी

Submitted by admin on Mon, 09/16/2013 - 15:05
Source
काव्य संचय- (कविता नदी)
जैसे लहरों की हजार बाँहें खोल
मिलने को आती नदी
वापस लौट गई हो
पराए फूलों की घाटी में
मुड़कर डूब गई हो!
कितना दुखदाई है

किसी भी चीज का
मिलते-मिलते खो जाना
कैसा होता है
अपनी हर बात का
नहीं हुआ हो जाना!

Disqus Comment