एमडी पेयजल निगम पर घोटाले के आरोप

Submitted by UrbanWater on Fri, 03/20/2020 - 10:44
Source
राष्ट्रीय सहारा, 20 मार्च, 2020

 पेयजल निगम पेयजल निगम

गुड़गांव निवासी एक व्यक्ति मुकेश सिन्हा ने देहरादून पेयजल निगम एमडी पर भ्रष्टाचार और घोटाले के आरोप लगाए हैं। सिन्हा ने आरोपों की सत्यता के लिए तमाम अभिलेख शपथपत्र के साथ नैनीताल उच्च न्यायालय में पेश कर दिए हैं। इसमें नमामि गंगे प्रोजेक्ट में घोटाला कर करोड़ों की सम्पत्ति हासिल कर अपनी पत्नी और पुत्र के नाम से भी दो कम्पनियां बनाए जाने की जानकारी दी गई है। सिन्हा ने बताया कि एमडी पेयजल निगम भजन सिंह ने नमामि गंगे योजना के तहत कई सरकारी योजनाओं में भ्रष्टाचार किया है। उन्होंने भजन सिंह की नियुक्ति निरस्त करने और पूरे मामले की सीबीआई से जांच कराने की मांग की है। याचिकाकर्ता का कहना है कि पूर्व पेयजल मंत्री स्व. प्रकाश पंत द्वारा राज्य के मुख्यमंत्री को पत्र लिखक कहा था कि इसकी जांच कराई जाए। इसमें अब तक जांच नहीं कराई गई। उन्होंने एमडी पेयजल पर आरोप लगाया कि उन्होंने नियम विरुद्ध तरीके से चेहतों को टेंडर आवंटित किए हैं। इसमें सरकार को राजस्व की हानि हुई है। याचिकाकर्ता ने एमडी द्वारा नमामि गंगे प्रोजेक्ट के अयोग्य लोगों और स्वयं के हितों के तहत दिए गए ठेकों की जांच भी कराने की मांग की है।

ऋषिकेश साईं मन्दिर हटाने का आदेश

नैनीताल उच्च न्यायालय ऋषिकेश में सार्वजनिक भूमि पर बनाए गए साईं मन्दिर को दो माह में हाटने के आदेश जारी कर दिए हैं। इस आदेश के बाद प्रशासन के सामने साईं मन्दिर को ध्वस्त करने के अलावा और कोई विकल्प नहीं है। बृहस्पतिवार को यह आदेश ऋषिकेश साईं सेवा समिति के मन्दिर हटाने के प्रशासनिक नोटिस पर रोक लगाने की याचिका की सुनवाई करते हुए मुख्य न्यायाधीश रमेश रंगनाथन व न्यायमूर्ति आरसी खुल्बे की संयुक्त खंडपीठ ने जारी किया। उल्लेखनीय है कि उच्चतम न्यायालय के 29 सितम्बर, 2009 के आदेश के आलोक में चार मार्च, 2020 को उच्च न्यायालय ने सार्वजनिक भूमि पर बनाए गए अवैध मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा व चर्च को 23 मार्च तक हटाने के आदेश जारी किए थे। साथ ही इसी तिथि में प्रशासन को कार्रवाई रिपोर्ट पेश करने के निर्देश दिए हैं।

Disqus Comment