ग्लोबल ग्रीन्स द्वारा सरस्वती घाट पर मनाई गई ‘यमुना जयंती’

Submitted by Hindi on Thu, 04/05/2012 - 15:11
Source
ग्लोबल ग्रीन्स, 28 मार्च 2012
ग्लोबल ग्रीन्स द्वारा आयोजित यमुना जयंती में उपस्थित लोगग्लोबल ग्रीन्स द्वारा आयोजित यमुना जयंती में उपस्थित लोगदेश भर की पवित्र नदियों के संरक्षण के लिए प्रयासरत “ग्लोबल ग्रीन्स” ने अपनी सहयोगी संस्थाओं के सहयोग एवं त्रिवेणी आरती के प्रमुख पुजारी एस.के. मालवीय के नेतृत्व में दिनांक 28 मार्च को माँ यमुना जयंती के अवसर पर एक कार्यक्रम का आयोजन किया। जिसमें यमुना मां की पूजन-अर्चन एवं आरती की गई। इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में मण्डलायुक्त श्रीयुत मुकेश मेश्राम जी शामिल हुए। उन्होंने यमुना संरक्षण के लिए सभी की भागीदारी तय करने की बात की और यह भी कहा कि गंगा के समान ही यमुना में जो प्रदूषण बढ़ रहा है उसे समाज व सरकार मिलकर ही दूर कर सकते हैं। बाद में उन्होंने यमुना आरती भी की।

पॉलीथिन के विकल्प स्वरूप “ग्लोबल ग्रीन्स” द्वारा जूट के बनाए हुए बैग जिन्हें श्रीयुत गोविन्द सक्सेना के सौजन्य से उपलब्ध कराया गया है को मण्डलायुक्त ने अपने कर कमलों से वितरित कर शुभारंभ किया। “ग्लोबल ग्रीन्स” के अध्यक्ष मनोज श्रीवास्तव ने बताया जैसे कि गंगा दशहरा पर गंगा जयंती मनाई जाती है वैसे ही इस वर्ष 28 मार्च को पूरे देश में यमुना भक्त माँ यमुना की जयंती मनाएंगे एवं यमुना के सम्मान को बचाने के लिए, यमुना नदी के प्रदूषण को दूर करने का प्रयास करेंगे। इस दिन संकल्प लिया जाएगा कि सामूहिक रूप से कैसे सभी नदियों के संरक्षण का प्रयास हो। अगले वर्ष 2013 में कुम्भ के शुरू होने से पूर्व विभिन्न जनजागरूकता अभियान एवं विभिन्न आयोजन किए जाएंगे।

यमुना जयंती के अवसर पर यमुना आरती करते यमुनाभक्तयमुना जयंती के अवसर पर यमुना आरती करते यमुनाभक्तइस अवसर पर गंगा एक्शन परिवार के प्रमुख स्वामी चिदानंद सरस्वती ने अपनी तरफ से सभी को यमुना जयंती की शुभकामनाएं प्रेषित की और यह भी बताया कि 08-09 अप्रैल को ऋषिकेश में यमुना कांफ्रेंस की जा रही है जिसमें यमुना संरक्षण के लिए विस्तृत परियोजना यमुनोत्री से इलाहाबाद तक बनाई जाएगी। यमुना के लिए अलग से प्राधिकरण बनाने की बात एवं इलाहाबाद में यमुना के क्षेत्र को पर्यटन के क्षेत्र के रूप में जोड़ने के आदि प्रमुख मुद्दे रखे जाएंगे। यमुना में प्रदूषण दूर करने के लिए विसर्जन के वैकल्पिक स्वरूप को भी अपनाने का प्रयास किया जाएगा। संजय पुरूषार्थी ने बताया कि गंगा, यमुना एवं संगम के महत्व को लेकर नदी पर्व एवं विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रम वर्ष भर होंगे।

इस वर्ष ग्रीन कुम्भ एवं संगम को विशेष महत्व दिया जाएगा एवं गंगा के साथ-साथ यमुना क्षेत्रों को भी विकसित किया जाएगा। इस कार्य में गंगा एक्शन परिवार के साथ मिलकर “ग्लोबल ग्रीन्स” एक प्रभावी कदम उठाएगा जिसमें उसके साथ विभिन्न सहयोगी संस्थाएं- ईजी ऑर्गनाइजेशन, जगतकला वेलफेयर, शाण्डिल्य एजूकेशनल सोसायटी, स्नेह संस्था, आर्दश विद्यालय समिति, बायोवेद शोध संस्थान, स्नेह वेलफेयर समिति, मानसी, इलाहाबाद वूमेन्स वेलफेयर कल्चरर सोसायटी, ला. शास्त्री जन विचार संस्थान, गंगा सेवा समिति आदि संस्थाएं सहयोगी निभाएंगी।

Disqus Comment