ई-कोलाई बैक्टीरिया की होगी जांच

Submitted by Hindi on Fri, 04/27/2012 - 12:18
Source
अमर उजाला, 26 मार्च 2012
दिल्ली जैसे शहरों में पीने के पानी में सीवर के गंदे पानी के मिलने से ये खतरनाक बैक्टीरिया उत्पन्न हो रही हैं जिससे लोगों के पेट के भीतर ई-कोलाई बैक्टीरिया जहर रहा है, जो पेट की खराबी, हड्डियों को गलाने का बड़ा कारक माना जाता है। दिल्ली के 20 जगहों के नमूनों के साथ अब हरियाणा राज्य के फरीदाबाद शहर में इस खतरनाक बैक्टीरिया का असर अब साफ दिख रहा है।

फरीदाबाद। शहर में किसी जगह पर जमा सामान्य या सीवर के पानी की निकासी नहीं होना आसपास के इलाकों के लिए मुसीबत पैदा कर सकता है। जमा पानी सिर्फ लोगों के आवागमन में ही परेशानी नहीं पैदा करता, बल्कि लोगों के पेट के भीतर ई-कोलाई बैक्टीरिया जैसा जहर भी घोल रहा है, जो पेट की खराबी एवं हड्डियों को गलाने का बड़ा कारक बताया गया है। फोर्स एनजीओ द्वारा दिल्ली में की गई जांच में ऐसा मामला सामने आया है। गंदगी के कारण भूजल में सबसे खतरनाक बैक्टीरिया ई-कोलाई पनप रहा है।

एनजीओ द्वारा दिल्ली में 20 जगहों पर पानी की गुणवत्ता की जांच की गई, जहां पर अधिक गंदगी में पानी जमा होता है वहां जांच में पाया गया है कि ई-कोलाई बैक्टीरिया काफी तेजी से पनप रहा है। इस बैक्टीरिया की एक प्रतिशत मात्रा भी व्यक्ति के सेहत के लिए खतरनाक साबित होती है। दिल्ली के पानी में इस तरह के खतरनाक बैक्टीरिया को देखते हुए अब केंद्रीय भू-जल बोर्ड इस एनजीओ के साथ मिलकर इस औद्योगिक शहर में भी जांच करेगा।

फोर्स एनजीओ की प्रेसिडेंट ज्योति शर्मा का कहना है कि दिल्ली की तरह फरीदाबाद में इस बैक्टीरिया के होने की पूरी संभावना है। उनकी टीम फरीदाबाद में जगह-जगह जाकर भूजल की जांच करेगी। केंद्रीय भूजल बोर्ड के क्षेत्रीय निदेशक एके भाटिया का कहना है कि पानी के अंदर इतने खतरनाक बैक्टीरिया का मिलना चिंता की बात है।

कैसे घुलता है भूजल में ई-कोलाई


ई-कोलाई बैक्टीरियाई-कोलाई बैक्टीरियाकई इलाकों में खुले में कूड़ा कचरा पड़ा रहता है। बारिश के दिनों में कूडे़ की गंदगी पानी में मिलकर जमीन में रिसती है। इसके अलावा सीवर के पानी की निकासी न होने के कारण कई दिन तक गंदगी पड़ी रहती है। इस पानी के धीरे धीरे जमीन में रिसने से भूजल में यह बैक्टीरिया पहुंच जाता है। रिपोर्ट के मुताबिक यह बैक्टीरिया पानी में घुलने वाला सबसे खतरनाक बैक्टीरिया है। क्योंकि इसके घुलते ही पानी एकदम काला पड़ जाता है।

कितना खतरनाक होता है बैक्टीरिया


बीके अस्पताल के फिजिशियन विनय गुप्ता के अनुसार, यह बैक्टीरिया पेट के लिए सबसे खतरनाक साबित होता है। ऐसे बैक्टीरिया युक्त पानी को पीने से पेट में कई तरह के खतरनाक रोग उत्पन होते हैं। उल्टी, दस्त, सीने में दर्द जैसी खतरनाक बीमारियां आम हैं। इसके शरीर के अंदर जाने से धीरे-धीरे व्यक्ति खाना पचना बंद हो जाता है। वह कूपोषण का शिकार हो जाता है।

Disqus Comment