किसान सम्बन्धी कहावतें

Submitted by Hindi on Mon, 03/22/2010 - 12:41
Author
घाघ और भड्डरी

असाढ़ मास जो गँवही कीन।
ताकी खेती होवै हीन।।


शब्दार्थ- गँवही-गमन, मेहमानी।

भावार्थ- यदि किसान आषाढ़ मास में मेहमानी करता फिरता है तो उसकी खेती कमजोर या नष्ट हो जाती है क्योंकि यह समय खेती के काम के लिए उपयुक्त होता है।

Disqus Comment