संकट में गंगा मैया

Submitted by Hindi on Sat, 06/18/2011 - 12:59
Source
स्टार न्यूज, 17 जून 2011


गंगा का पानी पीने क्या डुबकी लगाने लायक भी नहीं बचा है। खेती भी नहीं की जा सकती। पवित्रता की मिसाल कहे जाने वाली गंगा नदी गंदगी, कचरे और मल ढोते-ढोते अपनी पवित्रता खोती जा रही है। शोध के अनुसार गंगा नदी में जीवाणु पनप रहे हैं, ई-कोलाई जैसे घातक बैक्टीरिया की मात्रा बढ़ रही है और पानी जहरीला हो चुका है। सीवर के पानी को बिना ट्रीटमेंट के बहाए जाने का सिलसिला अब भी जारी है जिससे हमारी गंगा मैया अब खतरे में हैं।
 

इस खबर के स्रोत का लिंक:
Disqus Comment