तो क्या दिल्ली में यमुना आती ही नहीं है

Submitted by Hindi on Tue, 03/12/2013 - 09:53
Source
नेशनल दुनिया, 09 मार्च 2013

यमुना का सारा पानी रोक लिया जाता है हथिनीकुंड बैराज पर


यह हाल रहता है यमुना तट कायह हाल रहता है यमुना तट कादिल्ली में जो यमुना बहकर आ रही है वास्तव में वह यमुना का असली रूप है ही नहीं। हथिनीकुंड बैराज से पानीपत तक करीब 100 किलोमीटर के हिस्से में यमुना बिल्कुल सूखी है। यहां पर यमुना में बहता है तो आसपास के नालों से छोड़ा गया थोड़ा बहुत गंदा पानी। यमुना में साफ पानी पश्चिमी यमुना नहर से छोड़ा जाता है। जिसे ड्रेन नंबर-2 कहा जाता है। इस नहर से यमुना में साफ पानी डाला जाता है। जो बहकर दिल्ली पहुँचता है। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक हथिनीकुंड बैराज पर यमुना के पानी को पूरी तरह रोक लिया जाता है। वहां से इसे खेती के इस्तेमाल के लिए नहरों के माध्यम से छोड़ा जाता है। इसके अलावा हथिनीकुंड बैराज से निकलने वाली नहरों से ही हरियाणा के शहरों की पानी की जरूरतें पूरी की जाती हैं। दिल्ली में जो यमुना बहकर आती है वह वास्तव में सीधे नहीं आती है।

हथिनीकुंड बैराज से पानीपत तक यमुना है बिल्कुल सूखी


यमुना में जो पानी आता है वह एक नहर से पानीपत से यमुना में छोड़ा जाता है। दिल्ली में घुसने के बाद यह पानी भी मैला हो जाता है। वजीराबाद से आगे आते ही यमुना नाला बन जाती है। वजीराबाद बैराज से पहले ही जलबोर्ड पीने के लिए यमुना से पानी ले लेता है। यमुना में दिल्ली से 70 फीसदी प्रदूषण जाता है। वजीराबाद से आगे आते ही यमुना इतनी गंदी है कि उसमें एक भी जलचर नही है। यमुना को लेकर दिल्ली के लोगों ने अपनी आवाज़ बुलंद कर दी है। एक नजर इन लोगों पर जो यमुना को बनाना चाहते हैं साफ।

यमुना को साफ करने के लिए केंद्र से पैसा मिल सकता है, लेकिन इसकी सफाई पर तो राज्यों को ध्यान देना होगा। सबसे पहले तो दिल्ली में जैसे पॉलीथिन का इस्तेमाल पूरी तरह बंद किया गया है। इसी तरह सख़्ती से यमुना में गंदा पानी डालने की मनाही होनी चाहिए।
(अंकित शर्मा, वकील)

मुझे लगता है कि यमुना को साफ करने के लिए सिर्फ दावों से काम नहीं चलेगा। यमुना को साफ करने के लिए सख़्ती से कानून बनाना होगा। यमुना में गंदे पानी को बिना ट्रीटमेंट किए डाले जाने पर पूरी तरह पाबंदी लगानी होगी। तभी जाकर यमुना कुछ साफ हो पाएगी।
(डॉ. सुनीता भाटिया)

यमुना को साफ करने के लिए सबसे पहले यमुना में डाले जाने वाली पूजा सामग्री, पॉलीथिन व कूड़ा करकट के अलावा गंदे पानी पर पूरी तरह पाबंदी लगानी होगी। जिसके लिए लोगों को जागरुक होना होगा। साथ ही सरकार को भी इसके लिए सख़्ती करनी होगी। तभी जाकर यमुना साफ हो पाएगी।
(प्रवीण बंसल, वकील)

यमुना तभी साफ हो सकती है जब सभी लोग चाहें और इसके लिए सरकार पर दबाव बनाए। केंद्र सरकार यह तय करे कि इतने समय में यमुना बिल्कुल साफ हो जानी चाहिए। योजनाएं बनती हैं, पैसे खर्च होते हैं फिर यह हाल क्यों। बिना सख़्ती के यमुना को कभी निर्मल नहीं बनाया जा सकता है।
(सचिन मलहोत्रा, व्यवसायी)
Disqus Comment