प्रवासी पक्षियों से चहचहा उठा पक्षी विहार

ओखला पक्षी विहार में पिछले साल के मुकाबले इस बार प्रवासी पक्षियों की संख्या तकरीबन दोगुना बढ़ी है। बॉम्बे नेचुरल सोसाइटी ने सोमवार को पक्षियों की गणना की। इस दौरान यहाँ 57 प्रजातियों के पक्षी देखे गये। जिनकी संख्या 15386 रही। विगत वर्ष यह संख्या महज 8000 थी। वहीं, कई साल बाद ग्रेटर स्केप ओखला पक्षी विहार में दिखाई दिया है। प्रवासी पक्षियों की बढ़ रही संख्या को पक्षी और पर्यावरण प्रेमी भविष्य के लिये अच्छा संकेत मान रहे हैं।

ओखला बर्ड सेंचुरीयमुना नदी के नजदीक ओखला पक्षी विहार इन दिनों प्रवासी पक्षियों से चहचहा रहा है। यहाँ अधिकांश पक्षी साइबेरिया और हिमालय क्षेत्रों से प्रवास करने आये हैं। जिनके जनवरी के आखिर से लौटने का सिलसिला शुरू होने की उम्मीद है। पक्षियों को देखने के लिये पक्षी विहार में सुबह और शाम काफी संख्या में लोग पहुँच रहे हैं। सोमवार को बॉम्बे नेचुरल सोसाइटी ने प्रवासी पक्षियों की गणना का काम किया। डॉ. सिया कामद की निगरानी में सुबह 8 से दोपहर 2 बजे तक गणना की गई। कुल 57 प्रजातियों के पक्षियों में सबसे ज्यादा संख्या कॉमन कूट की रही।

इसके अलावा नॉर्दर्न शोबलर, ब्राउन हेडेल गुल, ब्रान शैलो, बार हेडेड गूज, ग्रेड कॉमनेंट के अलावा विभिन्न प्रजातियों के पक्षी हैं। विशेषज्ञों ने बताया कि कई साल बाद ग्रेटर स्केप यहाँ दिखाई दिया है। हालाँकि ग्रेटर स्केप आमतौर पर जापान, उत्तरी अमेरिका और यूरोप में प्रवास करता है। यह कई सालों बाद यहाँ दिखाई दिया है। ओखला पक्षी विहार के रेंजर ईश्वर चंद के मुताबिक अन्य प्रजातियों के पक्षियों के प्रवास लायक माहौल बनाने के लिये पक्षी विहार प्रबन्धन काम कर रहा है।

Posted by
Get the latest news on water, straight to your inbox
Subscribe Now
Continue reading